DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, October 31, 2015

फतेहपुर : यू-डायस प्रशिक्षण हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण के सम्बन्ध में बीएसए फतेहपुर द्वारा जारी विज्ञप्ति

फतेहपुर : यू-डायस प्रशिक्षण हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण के सम्बन्ध में बीएसए फतेहपुर द्वारा जारी विज्ञप्ति

लखनऊ : डायट प्राचार्य ने 31 अक्टूबर तक बीटीसी अभ्यर्थियों को उपस्थिति दर्ज कराने के दिए निर्देश

डायट में करीब 1550 निजी बीटीसी कॉलेजों की सीटें हैं। यह सीटें अभ्यर्थियों को एलॉट की जा चुकी हैं। लेकिन ज्यादातर अभ्यर्थी अपना आवंटित कॉलेज बदलना चाहते हैं। इसलिए इन दिनों अभ्यर्थी किसी ने किसी की सिफारिश के साथ डायट कार्यालय में चक्कर लगा रहे हैं। शुक्रवार को भी कई अभ्यर्थी यही काम लेकर डायट पहुंचे। 
खबर साभार : डीएनए

बिजनौर : मिड डे मील का बकाया बन सकता है प्रधानी की राह में रोड़ा

बिजनौर : मिड डे मील का बकाया बन सकता है प्रधानी की राह में रोड़ा

उन्नाव : 469 प्रशिक्षुओं ने कराई काउंसलिंग, जमा किये गए अभिलेख

उन्नाव : 469 प्रशिक्षुओं ने कराई काउंसलिंग, जमा किये गए अभिलेख 

आगरा : बीएसए ऑफिस में लेन देन के चक्कर में भिड़े बाबू, हुआ हंगामा

आगरा : बीएसए ऑफिस में लेन देन के चक्कर में भिड़े बाबू, हुआ हंगामा

मैनपुरी : फर्जी डिग्री वाले 80 शिक्षकों की नौकरी पर ख़तरा, कार्यवाही की तैयारी

मैनपुरी : फर्जी डिग्री वाले 80 शिक्षकों की नौकरी पर ख़तरा, कार्यवाही की तैयारी 

बदायूं : जूनियर में ज्वाइन करने की वजह से 171 प्रशिक्षु मौलिक नियुक्ति प्रक्रिया से हुए बाहर

बदायूं : जूनियर में ज्वाइन करने की वजह से 171 प्रशिक्षु मौलिक नियुक्ति प्रक्रिया से हुए बाहर

बुलंदशहर : बीएसए ने रोका 100 शिक्षकों का वेतन, प्राइमरी से जूनियर जाने पर वेतन हुआ बाधित, जताया आक्रोश

बुलंदशहर : बीएसए ने रोका 100 शिक्षकों का वेतन, प्राइमरी से जूनियर जाने पर  वेतन हुआ बाधित, जताया आक्रोश

मैनपुरी : तीसरे सेमेस्टर के बीटीसी प्रशिक्षणार्थी हैं परेशान, अब तक परीक्षा का कोई नहीं आया शेड्यूल

मैनपुरी : तीसरे सेमेस्टर के बीटीसी प्रशिक्षणार्थी हैं परेशान, अब तक परीक्षा का कोई नहीं आया शेड्यूल

लखनऊ : स्कूल जाने से पहले बच्चे के आंखों की जांच जरूरी, नई दिल्ली से आई आंखों की विशेषज्ञ डॉ. अनीता पांडा ने दी जानकारी


लखनऊ (डीएनएन)। शायद बहुत लोग बच्चे को स्कूल भेजने से पहले बच्चे के आंखों की जांच नहीं कराते होंगे। ऐसा न करना बच्चे के आंखों के लिए नुकसानदेह होता है। ऐसा न करके लोग बच्चे को भैंगा रोग की गिरफ्त में डालते हैं। यह रोग बच्चों की आंखों को धीरे-धीरे छिनने लगता है। इस पर सभी अभिभावक को ध्यान देने की जरूरत है। यह   नई दिल्ली से आई आंखों की विशेषज्ञ डॉ. अनीता पांडा ने दी। वह एसोसिएशन ऑफ कम्यूनिटी ऑप्थलमॉलोजिस्ट ऑफ इंडिया के तत्वावधान में आयोजित छठें वार्षिक समारोह को संबोधित कर रही थीं। इस चार दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन केजीएमयू के साइटिफिक कंवेंशन सेंटर में किया गया है।

उन्होंने बताया कि बच्चों को यह बीमारी होने के कारण उसके चश्मे का नंबर हमेशा बढ़ता जाता है। जिसके कारण एक दिन ऐसा आता है जब बच्चे को चश्मे से भी दिखाई नहीं पड़ता है और बच्चों के लिए यह सबसे बड़ा अभिशाप बन जाता है। बच्चों की आंखों के साथ ऐसा न हो इससे बचने के लिए परिजनों को जागरूक होने की जरूरत है। यदि परिजन जागरूक होंगे तभी वह बच्चे को इस रोग से बचा सकते हैं। बच्चों में की आंखों को यह बीमारी बड़ी तेजी से अपने आगोश में लेती जा रही है। पढ़ाई के कारण बच्चे की आंख पर दबाव बढ़ता है, जिसके कारण बच्चे को कम दिखाई देने लगता है। यदि पहले ही जानकारी हो जाए तो उसकी आंखों पर जोर डालने से पहले इसका उपचार कराया जा सकता है। इस बीमारी से ग्रसित मरीज को ऑपरेशन से ठीक किया जा सकता है। चश्मे का लेंस बढ़ने के साथ-साथ बच्चे की आंखें भी टेढ़ी होने लगती है।

खबर साभार : डीएनए


हरदोई : दर्पण दिलाएगा शिक्षकों को समय से वेतन, फेल रहने में मिल सकती है विभागीय अधिकारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि

हरदोई : दर्पण दिलाएगा शिक्षकों को समय से वेतन, फेल रहने में मिल सकती है विभागीय अधिकारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि

अमरोहा : अपाहिजों को पढ़ाने में होंगे निपुण गुरु जी, विकलांगों को शिक्षा देने के लिए किया जाएगा प्रशिक्षित

अमरोहा : अपाहिजों को पढ़ाने में होंगे निपुण गुरु जी, विकलांगों को शिक्षा देने के लिए किया जाएगा प्रशिक्षित

मैनपुरी : बीटीसी प्रवेश 2014 : तीसरे कटऑफ की लिस्ट में अभ्यर्थियों ने नहीं दिखलाया उत्साह

मैनपुरी : बीटीसी प्रवेश 2014 : तीसरे कटऑफ की लिस्ट में अभ्यर्थियों ने नहीं दिखलाया उत्साह

चंदौसी : "बॉस" कहने पर बिफरे बीएसए, शिक्षा मित्रों ने की नारेबाजी

चंदौसी। मतगणना ड्यूटी के द्वितीय प्रशिक्षण के बाद ड्यूटी कार्ड पर बीएसए के हस्ताक्षर कराने गए उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के संभल ब्लाकाध्यक्ष रविन्द्र कुमार खारी ने बीएसए प्रेमचंद्र यादव से "बॉस नमस्ते" कह दिया। फिर क्या था बीएसए भड़क गए। वह किसी तरह शांत हुए तो मुख्य विकास अधिकारी शंकर लाल त्रिपाठी ने दोबारा बुलाकर फटकार लगानी शुरू कर दी। इसकी जानकारी मिलते ही शिक्षा मित्र, समायोजित शिक्षक भी भड़क गए और बीएसए, सीडीओ के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। एडीएम ने किसी तरह आकर समझा बुझाकर शांत किया।
मामला बहजोई में मतगणना कार्मिकों को द्वितीय प्रशिक्षण के समय का है। समायोजित शिक्षकों/शिक्षा मित्रों को ड्यूटी कार्ड दिए गए, जिन पर हस्ताक्षर कराने को सभी बीएसए के पास पहुंचे। रविंद्र कुमार खारी के अभिवादन स्वरूप "बॉस नमस्ते" कहने पर बीएसए प्रेमचंद्र यादव भड़क उठे।
शिक्षा मित्रों की ड्यूटी भी मतगणना में लगाई गई, ड्यूटी कार्ड पर हस्ताक्षर कराने आए रविंद्र खारी ने कुछ ऐसे शब्द बोले जो अच्छे नहीं लगे। शिक्षा मित्रों से मिलकर बातचीत हो गई है। - प्रेमचंद्र यादव बीएसए संभल
-संघ के ब्लाकाध्यक्ष रविंद्र खारी गए थे, उन्होंने "बॉस नमस्ते" बोल दिया, यह तो सामान्य बात है, वहां एडीएम भी आ गए, उनका तो सभी इतना सम्मान करते हैं कि कोई कुछ बोला ही नहीं, बात खत्म हो गई। ~ गिरीश यादव जिलाध्यक्ष उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ, जनपद चंदौली

फैजाबाद : सत्यापन में दो समायोजित शिक्षामित्रों की डिग्री मिली फर्जी, हुए बर्खास्त

फैजाबाद: शिक्षा मित्र से सहायक अध्यापक बनीं दो बेसिक स्कूल की टीचरों की मार्कशीट जांच में फर्जी पाई गई। उनको नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। बीएसए प्रदीप कुमार द्विवेदी के मुताबिक दोनों टीचरों वंदना व मानकुमारी अगांव प्राइमरी स्कूल मिल्कीपुर व भीखापुर प्राइमरी स्कूल बीकापुर में तैनात थीं। उनकी मार्कशीट सम्पूर्णानंद विश्वविद्यालय व अजमेर बोर्ड के नाम से जारी की गई थीं। अन्य प्रकरणों में भी संदिग्ध प्रमाणपत्रों की जांच कराई जा रही है। 

इलाहाबाद : सहायक अध्यापक काउंसलिंग का कटऑफ जारी : 15 हजार भर्ती मामला

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में 15 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए प्रक्रिया चल रही है। इसके लिए 26 अक्तूबर को काउंसिलिंग कराई गई थी। बीएसए ने शुक्रवार को जिले में हुई काउंसिलिंग का कटऑफ जारी किया। पहले चरण की काउंसिलिंग के बाद एसटी श्रेणी की पांच सहित सिर्फ सात सीटें ही खाली रह गई हैं।15 हजार में से 400 सहायक अध्यापकों के पद इलाहाबाद में हैं। 26 अक्तूबर को इन पदों के लिए 797 अभ्यर्थियों ने काउंसिलिंग कराई थी।

बीएसए राजकुमार के मुताबिक सामान्य की 200 सीटें हैं। इसका कटऑफ 73.60 रहा। ओबीसी की 108 सीटें हैं। इस श्रेणी का कटऑफ 71.38 रहा जबकि एससी की 84 सीटों के लिए कटऑफ 65.75 रहा। एसटी की कुल आठ सीटें हैं। इसका कटऑफ 56.75 रहा। आठ में से पांच सीटें खाली रह गई हैं। पूर्व सैनिक की 20 में से एक सीट खाली रह गई है। कटऑफ 58.04 रहा जबकि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कोटे में आठ सीटें हैं। कटऑफ 61.45 रहा। इस श्रेणी की भी एक सीट खाली है। बीएसए ने बताया कि कटऑफ और रिक्तियों के बारे में जानकारी जिले की वेबसाइट पर अपलोड की जा रही है।

इलाहाबाद : अभ्यर्थियों का हुआ बीटीसी से मोहभंग, खोजे नहीं मिल रहे अभ्यर्थी

इलाहाबाद : अभ्यर्थियों का हुआ बीटीसी से मोहभंग, खोजे नहीं मिल रहे अभ्यर्थी

Friday, October 30, 2015

मेरठ : सरदार बल्लभ भाई पटेल के जन्मदिन और इन्दिर गांधी की पुण्य तिथि को मनाये जाने के निर्देश जारी

मेरठ : सरदार बल्लभ  भाई पटेल के जन्मदिन और इन्दिर गांधी की पुण्य तिथि को मनाये जाने के निर्देश जारी

फैजाबाद : परिषदीय विद्यालयों की अर्धवार्षिक परीक्षाओं का कार्यक्रम जारी, 4 नवम्बर से होगी परीक्षाएं शुरू

फैजाबाद : परिषदीय विद्यालयों की अर्धवार्षिक परीक्षाओं का कार्यक्रम जारी, 4 नवम्बर से होगी परीक्षाएं शुरू

महाराजगंज : पूरे उत्साह से लौहपुरुष सरदार पटेल की जयन्ती मनाने के निर्देश जारी, कार्यक्रम का विवरण जारे

महाराजगंज : पूरे उत्साह से सरदार पटेल की जयन्ती मनाने के निर्देश जारी, कार्यक्रम का विवरण जारे

संभल : बेसिक शिक्षा मंत्री के समर्थन में आए शिक्षा मित्र, उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ ने शासन से की उनको न हटाने की गुजारिश


बबराला(ब्यूरो)। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ ने यूपी से सरकार से गुजारिश की है कि उनके समायोजन के मामले में खुलकर पैरवी कर रहे बेसिक शिक्षा मंत्री को न हटाया जाए। कस्बा की लेखपाल कालोनी में आयोजित बैठक में शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष ग्रीस यादव ने कहा कि वर्तमान में मानसिक रूप से परेशान हो रहे शिक्षामित्रों को दिलासा के साथ सुप्रीम कोर्ट में पैरवी कर रहे यूपी सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री गोविंद राम चौधरी को यूपी सरकार द्वारा हटाने की चर्चा हो रही है जिससे शिक्षामित्रों के केस में कमजोरी आएगी। शिक्षमित्रों की लड़ाई में शिक्षा मंत्री का पद पर बना रहना अति आवश्यक है। बैठक में शिवराज, ज्ञानचंद्र, सत्यपाल, सुमन, विमलेश, योगेन्द्र प्रताप, प्रियंका, कमलेश, उमा, अरविंद कुमारी आदि रहे।
खबर साभार : अमरउजाला

फतेहपुर : परिषदीय विद्यालयों में 3 नवम्बर से अर्धवार्षिक परीक्षा कराने के निर्देश जारी : परीक्षा कार्यक्रम डाउनलोड करें।

फतेहपुर : परिषदीय विद्यालयों में 3 नवम्बर से अर्धवार्षिक परीक्षा कराने के निर्देश जारी : परीक्षा कार्यक्रम डाउनलोड करें।

फतेहपुर : यू-डायस के एक दिवसीय प्रशिक्षण के सम्वन्ध में बीएसए का सभी खण्ड शिक्षाधिकारियों को कड़े निर्देशों के साथ आदेश जारी

फतेहपुर : यू-डायस के एक दिवसीय प्रशिक्षण के सम्वन्ध में बीएसए का सभी खण्ड शिक्षाधिकारियों को कड़े निर्देशों के साथ आदेश जारी

लखनऊ : शिक्षामित्रों को चार माह से नहीं मिला मानदेय, असमायोजित शिक्षमित्रों ने बीएसए को सौंपा ज्ञापन

लखनऊ। असमायोजित शिक्षमित्रों को करीब चार माह से मानदेय न मिलने से आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। मानदेय संबंधी विभिन्न मांगों को लेकर उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संयुक्तमोर्चा ने गुरुवार को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षा मित्र संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष जगजीवन सिंह यादव ने बताया कि जीवन यापन का कोई दूसरा मार्ग न होने के कारण शिक्षामित्र भुखमरी के कगार पर पहंुच गए हैं। अगर दीपावली से पूर्व उनके मानदेय का भुगतान जल्द नहीं किया गया तो शिक्षक आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। 

गौरतलब है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक लाख 72 हजार शिक्षा मित्रों के शिक्षक पद पर समायोजन को अवैधानिक ठहराकर रद्द कर दिया था। उसके बाद से राजधानी के करीब 1341 व प्रदेश के 35 हजार असमायोजित शिक्षामित्रों को जुलाई से अक्टूबर माह तक वेतन नहीं प्राप्त हुआ है।

खबर साभार : डेली न्यूज एक्टिविस्ट

बाराबंकी : शिक्षामित्र बोले, सर्वोच्च न्यायालय पर पूरा भरोसा,जितेंद्र शाही ने की आत्मघाती कदम ना उठाने की अपील

बाराबंकी: आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर असोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र शाही ने गुरुवार को संगठन पदाधिकारियों की नगर में बैठक में कहा कि सर्वोच्च न्यायालय से न्याय का उन्हें पूर्ण भरोसा है। यह भी कहा कि संवर्गकर्मी अवसाद में आत्मघाती कदम कतई न उठाएं। यूपी सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में विशेष याचिका दाखिल की है। इसमें संगठन व सरकार मजबूत पैरवी कर रही है। यह भी कहा कि शिक्षामित्रों का 15 वर्ष पुराना संघर्ष व्यर्थ नहीं जाएगा। इससे पहले शिक्षामित्र संघर्ष मोर्चा के जिलाध्यक्ष संजय शर्मा, उपाध्यक्ष राजवीर सिंह, मंत्री अखिलेश वर्मा, उमेश यादव ने प्रदेश अध्यक्ष का स्वागत किया। बैठक में मो. इरफान, दिनेश वर्मा, चंद्रशेखर, आदिल मुबीन, अजय पाल, विनोद मिश्र, अमित मिश्र, शैलेश शर्मा, विवेक मिश्र, मो. अलीम, दीपमाला सिंह, श्रुति सिंह रहीं।

जनपदवार न्यूज़ अपडेट्स के लिए जनपद के नाम पर क्लिक करें।


  

गोरखपुर : शासन ने पूछा, कितने विद्यालय शिक्षामित्रों के भरोसे, प्राथमिक शिक्षक और विद्यालयों का व्यौरा जुटाने में जुटा विभाग

यह भी जानें :
कुल प्राथमिक विद्यालय 2151
उच्च प्राथमिक विद्यालय 835
लगभग 6500 शिक्षक तैनात
जिले में 2628 शिक्षामित्र तैनात
5000 शिक्षकों की और जरूरत
(सब आंकड़े लगभग में हैं)
गोरखपुर : शासन ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से जनपद के परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों की रिपोर्ट मांगी है। पूछा है कि जिले में कितने प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं, कितने शिक्षक तैनात हैं और कितनी जरूरत है। यही नहीं कितने विद्यालय शिक्षामित्रों के भरोसे चल रहे हैं। शासन का निर्देश मिलते ही गोरखपुर बेसिक शिक्षा विभाग भी सतर्क हो गया है।


खंड शिक्षा अधिकारी संबंधित ब्लाकों में स्कूल और शिक्षकों की गणना में जुट गए हैं। ब्लाकवार रिपोर्ट तैयार हो रही है। बेसिक शिक्षा विभाग के मुताबिक जिले के 19 ब्लाक और नगरीय क्षेत्र के खंड शिक्षा अधिकारी रिपोर्ट तैयार करने के लिए स्कूलों का भ्रमण कर रहे है। तीन ब्लाकों से रिपोर्ट बीएसए दफ्तर आ गई है, जबकि, अन्य ब्लाकों से 3 नवंबर तक हर हाल में उपलब्ध कराने को कहा गया है। विद्यालयों का पूरा व्यौरा तैयार करने के दौरान सहायक अध्यापक पद पर समायोजित शिक्षामित्रों की गणना नहीं हो रही है। सिर्फ यही आंकलन किया जा रहा है कि उनके अलावा कितने और शिक्षक तैनात हैं और शिक्षामित्रों भरोसे कितने विद्यालय संचालित हो रहे हैं। ऐसे में कितने पद रिक्त हो रहे हैं। इसको लेकर शिक्षामित्रों में उहापोह की स्थिति है। वे समझ नहीं पा रहे कि आखिर उनकी गणना क्यों नहीं हो रही। उनका कहना है कि उनसे सहायक अध्यापक के तौर पर सेवा ली जा रही है। रोजाना उपस्थिति भी बन रही है। बावजूद गणना से बाहर रखा जाना समझ से परे है।

जनपदवार न्यूज़ अपडेट्स के लिए जनपद के नाम पर क्लिक करें।


  

वहीं, विभाग के लोगों का कहना है कि यह फरमान सिर्फ नवनियुक्त शिक्षकों की तैनाती के लिए जमीन तैयार करने की कवायद भर है। शासन यह जानने की कोशिश कर रहा है कि शिक्षामित्रों के हटने से किस-किस स्कूल में पठन-पाठन पूरी तहर प्रभावित होगा और कहां आंशिक रुप से। दीपावली के पहले प्रशिक्षु शिक्षकों की तैनाती होनी है। इसके लिए उन स्कूलों का चयन किया जा रहा है, जहां वास्तविक तौर पर शिक्षकों की कमी से बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है। 12 सितंबर को हाईकोर्ट ने सहायक शिक्षक पद पर समायोजित शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द कर दिया। उसके बाद से शिक्षामित्र ही नहीं सरकार भी पशोपेश में हैं।