DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, May 31, 2016

बेसिक शिक्षा मंत्री के आश्वासन उपरांत अंतर्जनपदीय शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने प्रमुख सचिव, बेसिक से की मुलाकात, जारी किया प्रेस नोट

बेसिक शिक्षा मंत्री  के आश्वाशन उपरांत अंतर्जनपदीय शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने प्रमुख सचिव, बेसिक से की मुलाकात, जारी किया प्रेस नोट

250 करोड़ के किताबों की छपाई के टेंडर का मामला, बेसिक शिक्षा विभाग अब कर सकेगा छपाई का टेंडर, हाईकोर्ट का निर्देश : पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाने वाले कागज का हो इस्तेमाल

250 करोड़ के किताबों की छपाई के टेंडर का मामला, बेसिक शिक्षा विभाग अब कर सकेगा छपाई का टेंडर, हाईकोर्ट का निर्देश : पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाने वाले कागज का हो इस्तेमाल

गोंडा : जिलाधिकारी के निर्देश के क्रम में बीएसए ने समस्त खंड शिक्षा अधिकारी को किया निर्देशित, अवकाश में भी प्रत्येक दिवस संचालित होगा एमडीएम, रिपोर्ट प्रत्येक सोमवार को कार्यालय में करना होगा प्रस्तुत

जिलाधिकारी के निर्देश के क्रम में बीएसए ने समस्त खंड शिक्षा अधिकारी को किया निर्देशित, अवकाश में भी प्रत्येक दिवस संचालित होगा एमडीएम, रिपोर्ट प्रत्येक सोमवार को कार्यालय में करना होगा प्रस्तुत

गोरखपुर : श्री अरविंदो सोसाइटी द्वारा शिक्षकों ZIIEI के अन्तर्गत एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने के सम्बन्ध में बीएसए ने जारी किये तिथिवार/ ब्लाकवार निर्देश

श्री अरविंदो सोसाइटी द्वारा शिक्षकों ZIIEI के अन्तर्गत एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने के सम्बन्ध में बीएसए ने जारी किये तिथिवार/ ब्लाकवार निर्देश

गोरखपुर :छात्रों के साथ गुरु जी को भी देनी होगी परीक्षा, होगा मूल्यांकन, शिक्षा की गुणवत्ता के लिए अब गुरुजी का भी होगा टेस्ट,

बेसिक व माध्यमिक स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता के लिए अब गुरुजी का भी टेस्ट होगा। परीक्षा में टॉप करने वाले शिक्षकों की ग्रेडिंग के हिसाब से सूची तैयार होगी। स्कूल की कक्षाओं में  इन शिक्षकों का  फोटो व नाम लगाया जाएगा। इस परीक्षा में फेल होने वाले शिक्षको को छह माह बाद फिर टेस्ट देना होगा। अफसरों के मुताबिक जुलाई से इस योजना पर अमल शुरू हो जाएगा।   

नई व्यवस्था में छात्रों के साथ अब गुरुजी लोगों को भी अपने विषय पर पकड़ बनानी होगी। नहीं तो वह विभागीय टेस्ट में फेल हो सकते हैं। टेस्ट लेने के पहले अधिकारियों को स्कूलवार बच्चों से एक-एक विषय के बारे में पूछा जाएगा। जिस विषय में जो बच्चा कमजोर मिलेगा या फिर वो कहेगा कि इस विषय के अध्यापक पढ़ाते ही नहीं है। उन लोगों की सूची तैयार की जाएगी। जो पास होगा उनकी ग्रेडिंग तैयार की जाएगी।

जालौन : जिलाधिकारी द्वारा दिए गए आदेश के क्रम में ग्रीष्मावकाश विद्यालयों मध्यान्ह भोजन योजना का सुचारू संचालन एवं सही रिपोर्ट उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में आदेश जारी

जिलाधिकारी द्वारा दिए गए आदेश के क्रम  में ग्रीष्मावकाश विद्यालयों मध्यान्ह भोजन योजना का सुचारू संचालन एवं सही रिपोर्ट उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में आदेश जारी

एटा : उपजिलाधिकारी ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को बीएलओ में लगाये गए कर्मचारियों को सामग्री रिसीव करने हेतु लिखा पत्र

उपजिलाधिकारी ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को बीएलओ में लगाये गए कर्मचारियों को सामग्री रिसीव करने हेतु लिखा पत्र

संतकबीरनगर : सत्यापन के आभाव में नही लग पा रहा वेतन, शिक्षक परेशान

परिषदीय विद्यालयों में मौलिक नियुक्ति पाए अनेक शिक्षकों का वेतन नहीं लग सका है। मूल वेतन न लगने से शिक्षकों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है।शैक्षिक योग्यताओं के सत्यापन की रफ्तार मंद होने से वेतन के लिए चक्कर काट रहे हैं। प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनाती शिक्षकों की मौलिक नियुक्ति के बाद सत्यापन कराने की प्रक्रिया पूरी कराई जाती है। हाईस्कूल, इंटरमीडिएट, स्नातक, बीएड, बीटीसी आदि शैक्षिक योग्यताओं का संबंधित बोर्ड व संस्थान से सत्यापन पूरी कराकर मूल वेतन बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा जारी कर भुगतान की संस्तुति दी जाती है। सत्यापन पूरा न होने से अनेक शिक्षक मूल वेतन से वंचित है। कई शिक्षक डिस्पैच नंबर लेकर बोर्ड तक का चक्कर काट रहें है।

रायबरेली : जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) में 14 वर्षों से संबद्ध चल रहे शिक्षक, एडी बेसिक ने जारी किये आदेश : जुलाई से पहले समाप्त होगा संबद्धीकरण

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) में 14 वर्षों से संबद्ध चल रहे शिक्षकों का संबद्धीकरण समाप्त करने की एडी बेसिक लखनऊ मंडल महेंद्र सिंह राणा ने कहीं। क्योंकि शिक्षा निदेशक (बेसिक) दिनेश बाबू शर्मा द्वारा जारी किए गए आदेश का पालन किया जाएगा। डायट में संबद्ध शिक्षकों का संबद्धीकरण समाप्त करने की प्रक्रिया शीघ्र गतिमान की जाएगी। वहीं संबद्धीकरण के दौरान शिक्षकों को पदोन्नति कैसे मिली आगे चलकर इसकी भी जांच करायी जाएगी। डायट में विगत कई वर्षों से प्रवक्ताओं की कमी चल रही है। जिस पर अलग-अलग विकास खंडों के शिक्षकों को डायट में प्रशिक्षण के लिए संबद्ध कर लिया गया। जिसके चलते करीब 12 वर्ष पहले राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद उप्र (एससीइआरटी) और पूर्व जिलाधिकारी के अनुमोदन पर डायट में नौ शिक्षकों को संबद्ध किया गया। संबद्धीकरण अवधि के दौरान शिक्षकों को पदोन्नति भी मिली, लेकिन उन्होंने स्कूलों में कभी भी ककहरा तक नहीं पढ़ाया। जनपद में संबद्धीकरण का खेल सामने आने पर शिक्षा निदेशक (बेसिक) दिनेश बाबू शर्मा ने एक पत्र जारी कर कहा कि शिक्षकों का संबद्धीकरण समाप्त कर उन्हें उनके मूल विद्यालय भेजा जाए। उधर, बीइओ द्वारा संबद्धीकरण समाप्त कर मूल स्कूल में ज्वाइन करने का पत्र थमा दिया गया और जिसने ज्वाइन नहीं किया उसका वेतन रोक दिया गया। डायट प्राचार्या रेखा दिवाकर ने वर्षों पहले एससीइआरटी व पूर्व डीएम के अनुमोदन पत्र का हवाला देते हुए वेतन बहाल करवा दिया गया। 1कैसे चयनित हुए नाम डायट में बीटीसी और विशिष्ट बीटीसी के अभ्र्यिथयों को प्रशिक्षण देने के लिए अलग-अलग विकास खंड से इन शिक्षकों का चयन कैसे किया गया। अब सवाल ये है कि इनमें से कुछ शिक्षक ऐसे भी है, जिन्हे परिषदीय स्कूलों में नौकरी मिलने के कुछ वर्ष बाद डायट में संबद्ध कर दिया गया। ऐस में डायट में मिलने वाले प्रशिक्षण की गुणवत्ता पर प्रश्न चिंह लग सकता है। ये शिक्षक है संबद्ध1 अभिषेक श्रीवास्तव 10 अगस्त 20071आरएन सिंह आठ जुलाई 20081अभिषेक द्विवेदी 11 जुलाई 20081सूर्य प्रकाश 15 दिसंबर 20081मुदिता बाजपेयी छह फरवरी 20021चंदना गोस्वामी सात सितंबर 20061राजेंद्र वर्मा 17 जुलाई 20081आशुतोष तिवारी 08 दिसंबर 200816जब डायट में हुए थे संबद्ध तब शिक्षकों का था शुरूआती दौरसंबद्धीकरण समाप्त करने की प्रक्रिया तेज होगी।

महराजगंज : ग्रीष्मकालीन अवकाश में एमडीएम के सम्बन्ध में डीएम ने अन्य सभी अवकाशों में भी एमडीएम वितरण का दिया निर्देश

महराजगंज : ग्रीष्मकालीन अवकाश में एमडीएम के सम्बन्ध में डीएम ने अन्य सभी अवकाशों में भी एमडीएम वितरण का दिया निर्देश।

मैनपुरी : नियुक्ति में फर्जीवाड़ा, खुलासे के बाद अपनी गर्दन बचाने में लगे अधिकारी, बिना सत्यापन शिक्षकों को जारी कर दिया वेतन

आठ माह पहले हुई शिक्षकों की नियुक्त में जिले में बड़े पैमाने पर खेल हुआ। शिक्षकों ने प्रमाण पत्र फर्जी लगा दिए, वहीं विभाग ने भी आंख मूंदकर काम किया। प्रमाण पत्रों का सत्यापन कराए बिना ही बेसिक शिक्षा विभाग ने लाखों रुपये का वेतन बांट दिया। शिक्षकों के खाते में आठ माह का वेतन पहुंच गया। अब जांच में 11 शिक्षकों के दस्तावेज फर्जी मिले तो खलबली मच गई है। विभागीय अधिकारी वेतन देने के मामले में खुद को बचाने में जुटे हैं। 1 सितंबर 2015 में जिले में दो बार 29 हजार और 72 हजार शिक्षकों की नियुक्ति के प्रक्रिया में जिले में गणित और विज्ञान के 333 शिक्षकों की नियुक्तियां की गई थीं। तब जिला बेसिक शिक्षाधिकारी हरकेश यादव थे। इनमें टेट (शिक्षक पात्रता परीक्षा) का प्रमाण पत्र भी शिक्षकों ने लगाया था। शासनादेश के मुताबिक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र जारी होने से पहले टेट प्रमाण पत्र का सत्यापन कराना चाहिए था। विभागीय अफसरों ने ये मुनासिब नहीं समझा। विभाग ने केवल इंटरमीडिएट और स्नातक के प्रमाण पत्रों का सत्यान कराकर ही शिक्षकों को वेतन देना शुरू कर दिया। 22 सितंबर 2015 से इन शिक्षकों को अब तक का वेतन दिया जा चुका है। अब जब कई शिक्षकों के टेट के प्रमाण पत्र फर्जी होने की भनक लगी, तो आनन-फानन में सत्यापन कराकर जांच शुरू कराई गई। जांच में भी 11 शिक्षकों के प्रमाण पत्र फर्जी साबित हुए। बाकी की जांच चल रही है। हालांकि अधिकारी अभी किसी शिक्षक के नाम का खुलासा नहीं कर रहे हैं। उधर, जांच शुरू होते ही किशनी क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालय बसैत में तैनात शिक्षक राजकुमार ने इस्तीफा दे दिया। इनका भी प्रमाण पत्र फर्जी था। राजकुमार को आठ माह का वेतन भी मिल चुका है। अब जब फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है तो अधिकारी अपनी गर्दन बचाने में जुटे हैं। बगैर सत्यापन कराए वेतन देने पर एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।
क्या कहते हैं अधिकारी वेतन लगाने की संस्तुति बीएसए द्वारा की जाती है। उसके बाद ही हम कार्रवाई करते हैं। टेट प्रमाण पत्र का डाटा ऑनलाइन है। इसका सत्यापन करने के बाद ही नियुक्ति पत्र जारी होना चाहिए था। हमें बीएसए ने वेतन देने की संस्तुति की, तो हमने वेतन जारी कर दिया।शीलेंद्र यादव, वित्त एवं लेखाधिकारी। जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच प्रक्रिया तेजी से चल रही है। दो दिन के अंदर फर्जी शिक्षकों का खुलासा हो जाएगा। जो भी फर्जी होंगे उनके विरुद्ध कार्रवाई होगी

जौनपुर : रैली निकाल किया जागरूक, जिलाधिकारी ने अभिभावकों के साथ किया सम्मेलन, अब हर माह होगा अभिभावक सम्मेलन

जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने महराजगंज विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय सेतापुर में अभिभावकों के साथ सम्मेलन किया। खंड शिक्षा अधिकारी ने बताया कि अभिनव विद्यालय में  मानक बनाया गया है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार हर बच्चों का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया जाएगा तथा जिस बच्चे का रिपोर्ट कार्ड खराब पाया जाता है उसके अभिभावक को अवगत कराया जाएगा। हर माह अभिभावक सम्मेलन भी बुलाया जाएगा। इससे बच्चे की गुणवत्ता के बारे में प्रत्येक माह का उसके अभिभावक को रिपोर्ट मिल सके। खंड शिक्षा अधिकारी गुलाब चंद ने विकासखंड के 10 प्रधान एवं 10 प्रधानाध्यापकों के सहयोग से डेस्क एवं बेंच उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।उधर अभिनव प्राथमिक विद्यालय हरिहरगंज में खंड शिक्षाधिकारी आशीष पांडेय की अध्यक्षता में बैठक हुई। श्री पांडेय ने कहा कि इस विद्यालय को अच्छे कान्वेंट स्कूल की तर्ज पर विकसित किया जाएगा। इससे बच्चों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा दी जा सके। उन्होंने स्कूल में संसाधनों की उपलब्धता की बात रखी। बैठक में एबीआरसी राधेश्याम चौरसिया, डा.ओमप्रकाश गुप्त, उमेश चंद्र दूबे, कैलाश नाथ रजक, तेजबहादुर यादव आदि उपस्थित रहे

हाथरस : बच्चे सीखेंगे पर्यावरण और हरियाली का पाठ, पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस, आठ जून को विश्व समुद्र दिवस के अलावा 17 जून को बंजर जमीन व सूखे से निपटने का मनेगा दिवस

ग्लोबल वार्मिग का असर हमारी जीवन शैली पर पड़ रहा है, जिसके कारण संतुलन बिगड़ता जा रहा है। अब ग्लोबल वार्मिग की समस्या से निपटने के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अपने छात्रों को जागरूक करके समाज को समझाना चाह रहा है, ताकि दूषित होते जा रहे पर्यावरण को समय रहते बचाया जा सके। सीबीएसई स्कूलों में बच्चों के संग गतिविधियां करानी होंगी, जिनकी फोटोग्राफी और वीडियो ग्राफी कराकर सीबीएसई की ई-मेल आइडी पर अपलोड करनी होगी। इन दिवसों में गतिविधिग्लोबल वार्मिग की समस्या के समाधान और बच्चों को प्रकृति से रूबरू कराने के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड छात्रों को जागरूक कर रहा है, ताकि उन्हें पर्यावरण से जुड़ी तमाम जानकारियां हासिल हो सकें। पांच जून को विश्व पर्यावरण दिवस, आठ जून को विश्व समुद्र दिवस के अलावा 17 जून को बंजर जमीन व सूखे से निपटने का दिवस मनाया जाएगा। क्या करेंगे बच्चे क्लास एक से पांच तक के बच्चे स्कूलों में एक क्षेत्र को संवारेंगे। उस जगह ट्री प्लांट के अलावा मौसमी सब्जियां उगानी होंगी। स्कूल या घर पर गड्ढा बनाकर किचन के वेस्ट को डालकर खाद बनाना सीखेंगे। छोटे बर्तनों में चिड़ियों के लिए पानी भरकर रखेंगे तथा उसे समय-समय पर बदलते रहेंगे। क्लास छह से आठ तक के बच्चे विभिन्न चिड़ियों के घोसलों के फोटो एकत्रित करेंगे। जल संचयन करना सीखेंगे। साफ सफाई के पोस्टर बनायेंगे। स्वस्थ समुद्र और स्वस्थ ग्रह पर कक्षा में ग्रुप डिस्कशन साथियों से करेंगे। क्लास नौ से बारह के छात्रों को आर्टिकल लिखने होंगे कि आखिर जल संचयन कैसे किया जाये। जंगलों में आग के ऊपर आर्टिकल लिखकर कम्प्यूटर पर पावर प्वाइंट पर प्रजेंटेशन करना होगा।
शिक्षकों की जिम्मेदारी छात्रों की गतिविधियों पर शिक्षकों की जिम्मेदारी तय की गयी है। क्लासों में शिक्षक अपनी मौजूदगी में यह सब गतिविधि कराएंगे।

हाथरस : बीएसए आफिस से सम्बद्ध शिक्षकों को हटाया, डायट प्राचार्य व लेखाधिकारी को पत्र जारी

बीएसए ने कार्यालय में अटैच शिक्षकों को मूल जगहों पर भेज दिया है। वित्त एवं लेखाधिकारी और डायट को पत्र जारी करके वहां अटैंच शिक्षकों को मूल विद्यालयों में भेजने के लिए कहा है। बीएसए रेखा सुमन ने बीएसए कार्यालय में अटैंच चल रहे शिक्षक राघवेंद्र गुप्ता, अशोक ढाकरा को तत्काल प्रभाव से अपने मूल तैनाती वाली जगह पर भेज दिया है। बीएसए ने एक पत्र जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान और वित्त एवं लेखाधिकारी को लिखा है। यदि उनके कार्यालयों में शिक्षक अटैच हो तो उन्हें तत्काल रिलीव करके मूल विद्यालयों पर भेजा जाये।

गोंडा : प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की संबंद्धता पर विभाग सख्त, अगर सम्बद्धत्ता मिला तो बीएसए को उत्तरदायी मानते हुए होगी कार्रवाही

प्राइमरी स्कूलों में अब शिक्षकों में अब संबद्धता की जुगाड़बाजी नहीं चल पायेगी। बेसिक शिक्षा निदेशक ने तत्काल प्रभाव से शिक्षकों की संबद्धता समाप्त करने का आदेश दिया है। गर्मी के अवकाश के बाद स्कूल खुलने पर अगर किसी शिक्षक का संबद्धीकरण तैनाती विद्यालय से अलग मिला तो संबंधित जिले के बीएसए को उत्तरदायी मानते हुए कार्रवाई की जाएगी। प्राइमरी स्कूलों में तैनात शिक्षकों ने मनचाहे स्थानों पर काम करने के लिए एक नया तरीका अपनाया। किसी ने आफिसों में संबद्धता करा ली तो किसी ने अपनी पंसद वाले स्कूलों में। कई बार अधिकारियों के निरीक्षण में भी यह मामला सामने आ चुका है। अब बेसिक शिक्षा निदेशक दिनेश बाबू शर्मा ने इस पर कड़ा रूख अख्तियार किया है। शिक्षा निदेशक के आदेश में कहा गया है कि विभिन्न स्नोतों से शासन के संज्ञान में यह बात आई है कि जिलों में शिक्षकों का संबद्धीकरण तैनाती के विद्यालय से अलग विद्यालय या कार्यालयों में किया गया है। यह भी बताया गया कि कई शिक्षकों का संबद्धीकरण अभी भी चल रहा है। इस पर उन्होंने गहरी नाराजगी जताते हुए निर्देश दिया है कि संबंधित शिक्षकों का संबंद्धीकरण अपनी तैनाती विद्यालय से अन्यत्र कहीं न किया जाय। अगर किसी का संबद्धीकरण पहले से किया गया है तो उसे तत्काल समाप्त कर दिया जाय। यह भी निर्देश दिया गया है कि परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों को अपनी तैनाती वाले विद्यालयों से अन्यत्र कहीं भी संबद्ध न किया जाय। शिक्षा निदेशक ने मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक को इस आदेश का पालन कराने का निर्देश दिया है। देवीपाटन मंडल के एडी बेसिक राम शंकर का कहना है कि चारों जिलों के बीएसए को इस आदेश का क्रियान्वयन करके रिपोर्ट देने को कहा गया है। बता दें कि इस आदेश के बाद शिक्षकों में तरह-तरह की चर्चा है। वहीं कुछ अधिकारियों का कहना है कि इस समस्या से कई बार लोगों ने अवगत कराया था।

बुलंदशहर : विद्यालय जीर्णोद्धार के लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी ने 50 हजार रुपए का शासन से की मांग, क्षतिग्रस्त 50 विद्यालयों की सूची बनाकर शासन के लिए भेजी 

बेसिक शिक्षा विभाग के अति जर्जर 50 प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के जीर्णोद्धार के लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी ने 50-50 हजार रुपए की मांग शासन से की है। बजट आने के बाद इन विद्यालयों का जीर्णोद्धार कराया जाएगा। इन विद्यालयों की स्थिति इतनी खराब है कि यह कभी भी गिर सकते हैं और बड़ा हादसा हो सकता है। बच्चों के साथ-साथ शिक्षक भी इन विद्यालयों में आने से डरते हैं। जनपद के बेसिक शिक्षा विभाग के कुछ प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों की स्थिति बहुत ज्यादा खराब है। यह विद्यालय ऐसे हैं जहां बच्चों को बैठाने में भी डर लगता है। छत एकदम क्षतिग्रस्त हैं और बारिश में पानी टपकता है। जिला समन्वयक निर्माण की रिपोर्ट के आदेश पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने शासन से 50 विद्यालयों के लिए 50-50 हजार रुपए की मांग की है, जिससे इन विद्यालयों का जीर्णोंद्धार कराया जा सके। फर्श भी क्षतिग्रस्त है, सीमेंट चटकने लगा है। अभिभावक बच्चों को विद्यालय भेजने में डरते हैं। शिक्षक डर की वजह से स्वयं पढ़ाने में डरते हैं, सर्दियों के समय में तो बच्चों को धूप में बैठाकर पढ़ा लेते हैं, लेकिन गर्मियों में बड़ी दिक्कत होती है और सबसे ज्यादा परेशानी तब होती है जब विद्यालय समय में बारिश आ जाए। बेसिक शिक्षा अधिकारी वेदराम ने क्षतिग्रस्त 50 विद्यालयों की सूची बनाकर शासन के लिए भेजी है और सभी के लिए 50-50 हजार रुपए के बजट की डिमांड की है।

बुलंदशहर : विद्यालयों में शहनाई बजी तो नपेंगे प्रधानाचार्य, विद्यालय में कोचिंग सेंटर और शादी समारोह करने पर की जाएगी कार्रवाई

अब विद्यालयों में शहनाई बजी, बारात लगी या कोचिंग सेंटर चले तो संबंधित प्रधानाचार्यो के खिलाफ कार्रवाई होगी। जिला विद्यालय निरीक्षक ने सभी राजकीय एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों को आदेश दिए हैं कि किसी भी हालत में विद्यालयों के अंदर विवाह समारोह आयोजित नहीं होने देना चाहिए। जिला विद्यालय निरीक्षक रामाज्ञा कुमार ने सभी राजकीय एवं सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों को आदेश जारी किया है कि कोई भी प्रधानाचार्य एवं प्रबंधक विद्यालय के अंदर शादी समारोह एवं कोचिंग सेंटर न चलाएं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में लगातार शिकायतें आ रही हैं कि ग्रामीण क्षेत्रों में चलने वाले विद्यालयों में बारातियों को ठहरने एवं खानपान का इंतजाम किया जा रहा है। इससे विद्यालयों की व्यवस्था खराब असर पड़ता है। शहर के कुछ विद्यालयों में कोचिंग सेंटर चलवाए जा रहे हैं, यह भी आपत्तिजनक है। उन्होंने आदेश दिए हैं कि तत्काल रूप से कोचिंग सेंटर बंद कराए जाएं और शादी या अन्य कोई समारोह के लिए विद्यालयों का इस्तेमाल न किया जाए। उन्होंने सभी विद्यालयों को आदेश में कहा है कि प्रधानाचार्य विद्यालयों की व्यवस्था को सुधारें। यदि कहीं कोई शिकायत मिली तो संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने एडीआइओएस को ऐसे विद्यालयों की मानिटरिंग करने के निर्देश दिए हैं। कहा कि कहीं से सूचना मिले तत्काल उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

देवरिया : बिजली संकट : जनपद के 1230 स्कूलों मे नही पहुंची बिजली , वायरिंग का कोरम पूरा करने वाले अधिकांश स्कूलों में शो पीस बने पंखे व ट्यूबलाइट खा रहे हैं जंग

देवरिया : जनपद के 1230 स्कूलों मे नही पहुंची बिजली , वायरिंग का कोरम पूरा करने वाले अधिकांश स्कूलों में शो पीस बने पंखे व ट्यूबलाइट खा रहे हैं जंग

बाँदा : आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोशिएसन ने बैठक कर की मांग, तृतीय चरण के प्रशिक्षित शिक्षामित्रों का हो समायोजन

आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोशिएसन के तत्वाधान में तृतीय चरण में प्रशिक्षण प्राप्त शिक्षामित्रों ने मुख्यमंत्री से समायोजित किए जाने की मांग की है। जिलाध्यक्ष दिनकर अवस्थी के नेतृत्व में जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में उन्होंने कहा है कि जिले में लगभग 414 शिक्षामित्र तृतीय चरण के दो वर्षीय डीबीटीसी का प्रशिक्षण उत्तीर्ण कर चुके हैं जिनका शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक पद पर समायोजन अवशेष है। बुंदेलखंड जैसे सूखाग्रस्त इलाके में मात्र 3500 रुपए में गुजारा नहीं हो पा रहा है। कहा कि जिस प्रकार से पूरे प्रदेश में लाखों शिक्षामित्रों का समायोजन कर उन्हें रोजगार दिया गया है। इसी प्रकार प्रदेश में अवशेष लगभग 26000 शिक्षामित्रों का भी समायोजन किया जाए। ताकि सभी शिक्षामित्र लाभान्वित हो सकें। ज्ञापन देने वालों में जिला महामंत्री फूल सिंह के अलावा राजनारायण यादव, प्रमोद कुमार, राजकिशोर, रामानुज वर्मा, रामकरण यादव, नंदराम, दुर्गेश, रामदीन, राममिलन, अंजनी सिंह आदि प्रमुख हैं।

बलरामपुर : शिक्षकों के स्थानांतरण पर जताई नाराजगी, डॉयट प्राचार्य से मिलकर की कार्रवाई की मांग

विशिष्ट बीटीसी शिक्षक वेल्फेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने विभाग द्वारा बिना किसी सूचना के शिक्षकों का गुपचुप तरीके से किए जा रहे स्थानांतरण का विरोध शुरू कर दिया है। संघ के प्रतिनिधियों ने सोमवार को जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य हृदय नरायण त्रिपाठी से मिलकर संबंधित मामले में कार्रवाई किए जाने की मांग की है। साथ ही पदाधिकारियों ने न्यायालय द्वारा निर्देश जारी किए जाने के बाद भी विभाग द्वारा लंबित वर्ष 2004 में बीटीसी का प्रशिक्षण करने वाले शिक्षकों को बकाया मानदेय का भुगतान शीघ्र किए जाने बात भी कही है। प्रदेश अध्यक्ष दिलीप चौहान व जिलाध्यक्ष धर्मेद्र शुक्ला ने कहा कि विभागीय अधिकारियों द्वारा नियमों को ताक पर रखकर कार्य दिया जा रहा है। इस दौरन शिक्षकों ने ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान शिक्षकों को 41 दिन का अवकाश मिलने की बात का हवाला देते हुए इस दौरान स्कूल में मध्याह्न् भोजन बनवाने व अरविंद सोसाइटी द्वारा कराए जाने वाले प्रशिक्षण का विरोध भी किया। अजय प्रसाद ने कहा कि अन्य सभी विभागों में कर्मचारियों को ग्रीष्मकालीन अवकाश के बदले उपार्जित अवकाश मिलता है, लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों के लिए ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। पदाधिकारियों की इन मांगों पर डॉयट प्राचार्य ने आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन दिया है। इस दौरान अरुन तिवारी, अजय प्रसाद गुप्ता, योगेंद्र प्रताप सिंह, सुभाष मिश्र, चंद्रेश व नीरज सहित कई शिक्षक उपस्थित रहे।

बलरामपुर : रविवार को भी स्कूलों में बनेगा एमडीएम, गर्मी के छुट्टी के दौरान प्रशिक्षण की तिथि भी घोषित, एक जून से दस जून तक आयोजित होगा प्रशिक्षण

बीएसए अरुण कुमार ने निर्देश जारी कर गर्मी की छुट्टी के दौरान रविवार को भी स्कूल में एमडीएम बनाने का निर्देश जारी किया है। जिससे सूखा प्रभावित जिले में बच्चों को भूखा न रहना पड़े

जिले के परिषदीय स्कूलों में तैनात प्रधानाध्यापक की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं। गर्मी की छुट्टी के दौरान स्कूल में एमडीएम बनवाने का आदेश जारी होने के बाद अब प्रधानाध्यापकों को इसी अवकाश के दौरान एक दिन का विशेष प्रशिक्षण भी लेना पड़ेगा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अरूण कुमार ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी कर एक से दस जून के माध्यम सभी ब्लॉकों में प्रशिक्षण कार्य पूरा करने का निर्देश दिया है। इस एक दिवसीय प्रशिक्षण में अरविंद सोसाइटी के प्रशिक्षक स्कूल में तैनात प्रधानाध्यापक को बेहतर शिक्षा का महत्व बताएंगे। साथ ही प्राथमिक स्तर पर बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के आसान तरीके भी सिखाएंगे। जिससे शिक्षक स्कूल खुलने के बाद इनका प्रयोग बच्चों को पढ़ाने पर कर सकें। इसमें एक जून को उतरौला, दो को बलरामपुर देहात, तीन को नगर क्षेत्र, चार को शिवपुरा, पांच को तुलसीपुर, छह को पचपेड़वा, सात को गैंसड़ी, आठ को श्रीदत्तगंज, नौ को रेहराबाजार व दस जून को गैंड़ासबुजुर्ग शिक्षा क्षेत्र में स्थित बीआरसी केंद्र पर प्रात: आठ से दोपहर 12 बजे तक प्रशिक्षण कराया जाएगा। इसमें संबंधित क्षेत्र के 100 प्रधानाध्यापक प्रशिक्षण लेंगे।

प्राथमिक विद्यालयों में 3500 सहायक अध्यापकों की नियुक्ति के सम्बन्ध में तृतीय काउन्सलिंग हेतु की जनपदवार रिक्त पदों की सूचियाँ जारी