DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, April 27, 2017

बरेली : नवाचार कार्यक्रम के तहत अच्छे शिक्षक, अच्छा स्कूल, अच्छे छात्र, अच्छा समाज विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन, बच्चों को बेहतर शिक्षा दें शिक्षक : डीएम

बुधवार को विकास खंड आलमपुर जाफराबाद के उच्च एवं प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों के लिए नवाचार कार्यक्रम के तहत अच्छे शिक्षक, अच्छा स्कूल, अच्छे छात्र, अच्छा समाज विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला हुई। मुख्य अतिथि एवं डीएम सुरेंद्र सिंह ने चयनित शिक्षकों के विचारों को सुना और कहा कि शिक्षक अपनी क्षमता का प्रयोग कर सरकारी स्कूलों के बच्चों को निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों से आगे ले जाने के लिए शिक्षा को बेहतर बनाएं।

ब्लॉक सभागार में डीएम ने शिक्षकों से कहा कि वह शिक्षा को बेहतर बनाने की रणनीति बना लें, आप लोगों में क्या जज्बा है, नवाचार के तहत की जाने वाली तैयारी बताएगी। उन्होंने डप्टा श्यामपुर विद्यालय के टीचर जगदीश गुप्ता को जानकारी देने के लिए मंच पर बुलाया, जो घबरा गए। डीएम ने कहा ङिाझक सबसे दुखदाई होती है। मनुष्य को मंच व भीड़ के बीच बेङिाझक होकर बोलना चाहिए।

ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे मंच पर नहीं बोल पाते यह देखने को मिलता है। सरकारी से निजी के बच्चों की एक्टिविटी ठीक होती है। उसी प्रकार से सरकारी स्कूल के बच्चों को भी खेल प्रतियोगिताएं कराने की जरूरत है, जिससे वह भी खुल कर बोल सकें। शिक्षा एक गहना है, जिसे पहन कर ङिाझक नहीं होती। उन्होंने पूर्व माध्यमिक कुसारी की शिक्षिका ऊषा सिंह, पूर्व माध्यमिक विद्यालय धर्मपुर व प्राथमिक विद्यालय अलीनगर के शिक्षक राजेश कुमार आदि से जानकारी की, जिसमें शिक्षकों ने विद्यालयों में हैंडपंप, बाउंड्रीवाल, शौचालय आदि समस्याएं सामने रखीं। मुख्य विकास अधिकारी, शिव सहाय अवस्थी, एसडीएम सत्यम मिश्र, बीएसए चन्दना राम इकबाल मौजूद रहीं। नवाचार को 36 प्राथमिक व 14 उच्च प्राथमिक के टीचरों का चयन नवाचार के लिए दस न्याय पंचायतों के 197 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विधालयों में 36 प्राथमिक व 14 उच्च प्राथमिक स्कूलों के शिक्षक शिक्षकाओं का चयन किया गया है।

पंद्रह दिन में लगें हैंडपंप: डीएम ने 15 दिन के अंदर स्कूलों में हैंडपंप लगवाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों से बाउंड्रीवाल व शौचालयों बनवा दिए जाएंगे।

कमजोर बच्चों पर दें ध्यान : डीएम ने कमजोर बच्चों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। बच्चों को सरल तरीके से गिनती, पहाड़ा, एबीसीडी का ज्ञान देकर उन्हें आगे बढ़ाने का काम करें।

यह भी रहे मौजूद : बीडीओ अनिल कुमार चतुर्वेदी, संयोजक संजय कुमार शुक्ला, राजेश कुमार मिश्र, शिक्षक संघ के केपी यादव, राजेश कुमार शर्मा, अमित रंजन, करुणाकर वर्मा, जगदीश शर्मा आदि रहे।संवाद सूत्र, भमोरा : बुधवार को विकास खंड आलमपुर जाफराबाद के उच्च एवं प्राथमिक स्कूलों के शिक्षकों के लिए नवाचार कार्यक्रम के तहत अच्छे शिक्षक, अच्छा स्कूल, अच्छे छात्र, अच्छा समाज विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला हुई। मुख्य अतिथि एवं डीएम सुरेंद्र सिंह ने चयनित शिक्षकों के विचारों को सुना और कहा कि शिक्षक अपनी क्षमता का प्रयोग कर सरकारी स्कूलों के बच्चों को निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों से आगे ले जाने के लिए शिक्षा को बेहतर बनाएं।

No comments:
Write comments