DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, April 10, 2017

रामपुर : शिक्षक ने रेलवे ट्रैक पर दी जान, पिता ने सरकारी कार्य की वजह से तनाव को बताया वजह

सरकारी कार्य से तनाव की वजह नहीं उतर रही गले1रामपुर : प्राइमरी स्कूल के शिक्षक द्वारा आत्महत्या करने की वजह मृतक के पिता ने सरकारी कार्य की वजह से तनाव बताई। पुलिस को लिखा-पढ़ी में भी यही वजह लिखकर दी है। हालांकि आत्महत्या का यह कारण किसी के गले नहीं उतर रहा। सरकारी शिक्षक की नौकरी को आसान माना जाता है। शिक्षक की ड्यूटी सिर्फ पांच घंटे की होती है। चर्चा में यह भी बात सामने आई थी कि हाल ही में टीजीटी का पेपर था, जो विनोद को देना था, लेकिन वह किसी कारण से पेपर नहीं दे पाया था। इससे वह तनाव में था। पुलिस ने जब उसका शव रेलवे ट्रैक से बरामद किया था, तब वह लोअर पहने था। पैरों में चप्पल थी, जो घटना के बाद भी ज्यों की त्यों पैरों में ही थी। पुलिस का मानना है कि गर्दन का धड़ से अलग होना और बाकी शरीर में कहीं चोट का निशान न होना आत्महत्या की ओर इशारा कर रहा है। हालांकि आत्महत्या की सही वजह उसकी मौत के साथ ही चली गई। पुलिस को कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला।

रात से गायब था, हापुड़ का रहने वाला विनोद कुमार शादीपुर मिलक गांव के प्राइमरी स्कूल में सहायक अध्यापक
जागरण संवाददाता, रामपुर : प्राइमरी स्कूल के शिक्षक ने रेलवे ट्रैक पर लेटकर अपनी जान दे दी। उसके द्वारा आत्महत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी। हालांकि मृतक के परिजनों ने काम के तनाव को आत्महत्या की वजह माना। परिजन बिना किसी कार्रवाई के शव ले गए। मृतक मूल रूप से हापुड़ के लज्जापुरी का 33 वर्षीय विनोद कुमार पुत्र तेजपाल सिंह था। वह शादीपुर मिलक गांव के प्राइमरी स्कूल में सहायक अध्यापक था। उसने किराये पर रफत कालोनी ज्वालानगर में कमरा ले रखा था। रविवार को सुबह उसका शव रेलवे ट्रैक पर ग्राम कल्याणपुर पट्टी गांव के पास मिला। सूचना पर शहजादनगर पुलिस वहां पहुंची। शिक्षक का सिर धड़ से अलग था। पुलिस का अनुमान है कि आत्महत्या के लिए वह पटरी पर सिर रखकर लेट गया। ट्रेन उसकी गर्दन को धड़ से अलग करती हुई गुजर गई। मृतक लोअर पहने था और पैरों में चप्पल थी। पहले तो पुलिस ने मृतक को आसपास के गांव का मानकर ग्रामीणों से शिनाख्त कराने का प्रयास किया। शिनाख्त न होने पर शव जिला अस्पताल मोर्चरी में भिजवा दिया। अपराह्न में मृतक के परिजन तलाश करते हुए शहजादनगर थाने पहुंच गए। दरअसल, मृतक जिस किराये के कमरे में रहता था, उसके मकान मालिक ने परिजनों को फोन पर उसके गायब होने की सूचना दी थी। वह शनिवार शाम से गायब था। रात भर कमरे पर नहीं आया था। परिजन यहां पहुंचे। उसकी तलाश में थानों और अस्पताल के चक्कर काट रहे थे। किसी ने लावारिश शव के मोर्चरी में होने की सूचना दी थी, जिसकी शिनाख्त शिक्षक के पिता ने की। शहजादनगर थाना प्रभारी अजय कुमार ने बताया कि परिजनों ने पुलिस कार्रवाई से इन्कार कर दिया। हालांकि पोस्टमार्टम कराने के बाद ही शव परिजनों को सौंपा गया

No comments:
Write comments