DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, May 9, 2017

सम्भल : बच्चों के मन से दूर कर रहे गणित विज्ञान का भय, 10 राज्यों के करीब एक हज़ार बच्चों को दे चुके निःशुल्क प्रशिक्षण

सम्भल1कंप्टीशन के दौर में जहां शिक्षक कोचिंग सेंटर खोलने के बाद छात्र छात्रओं से मोटी रकम ऐंठ कर अपना कारोबार चला रहे हैं, वहीं सम्भल के एक शिक्षक यूएसए व फ्रांस के वैज्ञानिकों से प्रशिक्षण प्राप्त कर पांच साल से सरकारी स्कूल के बच्चों को निश्शुल्क गणित व विज्ञान की बारीकियां सिखाकर उनके मन से इनका भय दूर कर रहे हैं। उन्होंने अब तक विभिन्न प्रदेशों में एक हजार से अधिक स्कूलों के बच्चों को प्रशिक्षण दिया है। इसमें सरकारी व प्राइवेट दोनों स्कूल शामिल हैं। इनकी उपलब्धि पर इन्हें कई स्वंयसेवी संस्थाएं व संगठन सम्मानित भी कर चुकी हैं। 1हम बात कर रहे हैं तहसील क्षेत्र के भमौरी पट्टी गांव निवासी राजू सिंह यादव की। मध्यम वर्गीय किसान सियाराम सिंह यादव के घर में जन्म लेने के बाद इन्होंने प्रारंभिक शिक्षा गांव के सरकारी स्कूल से पूरी करने के बाद गणित विषय से एमएससी और बीएड किया। उस दौर में जहां बच्चों को रेडियो पर फिल्मी गाने सुनने का शौक होता था, उस समय में इन्हें विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार द्वारा रेडियो पर आने वाले जीवन एक रूप अनेक कार्यक्रम का शौक था। वर्ष 2003 से वह इस कार्यक्रम को सुनते थे। इसी दौरान उन्होंने अपने विचार लिखने शुरू किए। 1जून 2004 में इनके विचारों के लिए प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया। 2004 में विज्ञान प्रसार के डॉ. निमित कपूर ने इन्हें विज्ञान से जुड़ने के लिए प्रेरित किया। यहीं से उनका कारवां चल पड़ा। 2009 में गुजरात के अहमदाबाद में आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में पुरस्कार दिया गया। 2012 में हुए नेशनल साइंस सेंटर इंदौर मध्यप्रदेश की तरफ से यह यूएसए व फ्रांस गए। वहां के वैज्ञानिकों द्वारा इन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया गया। उसके बाद से उन्होंने विभिन्न प्रदेशों के परिषदीय व मॉडल स्कूलों के साथ ही कालेजों में जाकर विज्ञान की बारीकियां सिखाना शुरू किया। अब तक बिहार, झारखंड, उड़ीसा, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, दिल्ली के एक हजार से अधिक स्कूलों में पहुंचकर बच्चों को निश्शुल्क गणित व विज्ञान की बारीकियां सिखा चुके हैं। इनके द्वारा किए जा रहे कार्यों को देखते हुए वर्ष 2014 में इन्हें उत्तरी भारत के आठ राज्यों का समन्वयक बनाया गया। साथ ही रांची, पुणो, दिल्ली, राजस्थान, जम्मू में आयोजित राष्ट्रीय कार्यक्रमों में देश विदेश के सैकड़ों वैज्ञानिकों के साथ कार्य कर चुके हैं।1साइंस डॉक्यूमेंटरी को मिला है विशेष स्थान : वर्ष 2015 में दिल्ली में जहर एक कहानी वाहन जनित प्रदूषण विषय पर बनाई गई डॉक्यूमेंटरी को देश की सर्वश्रेष्ठ मूवी में शामिल किया गया था। प्रशंसनीय कार्यों के लिए इन्हें पूर्वी जोन भारत का विपनेट समन्वयक नियुक्त किया गया है।धनारी में निजी स्कूल के बच्चों को गणित विज्ञान की शिक्षा देते राजू ’फाइल फोटो’>>दस राज्यों के करीब एक हजार बच्चों को दे चुके हैं निश्शुल्क प्रशिक्षण1’>>कई स्वंयसेवी संस्थाएं कर चुकी हैं सम्मानितराजू सिंह यादव ’ जागरण

No comments:
Write comments