DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, May 8, 2017

महराजगंज : जर्जर विद्यालय भवनों में पढ़ रहे हैं परिषदीय स्कूलों के बच्चे, सैकड़ों बच्चों का जीवन खतरे में

महराजगंज : धानी विकास खंड के विभिन्न विद्यालयों में बने भवन देखरेख व घटिया निर्माण के चलते जर्जर हो चुके हैं। जिससे इसमें पढ़ने वाले सैकड़ों बच्चों का जीवन खतरे में है। शासन द्वारा विभिन्न ग्राम पंचायतों में सर्व शिक्षा अभियान के तहत बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के लिए जगह -जगह स्कूलों की स्थापना कर शिक्षकों की तैनाती तो की गई, लेकिन भ्रष्टाचार के ईंट गारे से बने कई विद्यालय असमय ही खराब हो चले हैं। इन विद्यालयों के भवन साल दो साल बाद ही निष्प्रयोज्य हो गए हैं। विभागीय लापरवाही से इनके भवन प्रभारी मौज काट रहे हैं। जबकि इन भवनों में शिक्षा ग्रहण करने वाले मासूम बच्चे अक्सर तेज आंधी व बरसात के समय भयभीत हो जाते हैं। इतना ही नहीं बच्चों के सुरक्षा के लिए लाखों खर्चा कर बनाई गई चारदीवारी भी ध्वस्त पड़ी है , जिससे विद्यालय परिसर असामाजिक तत्वों के अड्डे बन गया हैं, और तो और इन भवनों में जंगली व छुट्टा जानवरों ने बसेरा बना लिया है। क्षेत्र के बरड़ाड, बैसार, बरगाहपुर, नौसागर पुरंदरपुर में बने कई भवनों के जहां फर्श टूट गई हैं , वहीं दरवाजे, खिड़की, जंगले भी असामाजिक तत्वों द्वारा गायब कर दिए गए हैं।


No comments:
Write comments