DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, June 24, 2017

योग व छात्रों के ‘संयोग’ में अफसर बने बाधा, कक्षा 11 व 12 में शिक्षकों की पदावनति आदेश से पेंच

⚫ कक्षा 9 व 10 का जिम्मा शारीरिक शिक्षकों को सौंपने की तैयारी शुरू नौ दिन बाद शुरू होगा नया शैक्षिक सत्र



इलाहाबाद : यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम में योग को इस साल विस्तार मिला है। कक्षा नौ से लेकर 12 तक पढ़ाई का पूरा खाका पिछले महीनों में खींचा जा चुका है। नया शैक्षिक सत्र नौ दिन बाद शुरू हो रहा है, लेकिन अब तक यह तय नहीं हो सका है आखिर योग का छात्रों से ‘संयोग’ यानी पढ़ाई कराएगा कौन? शारीरिक शिक्षकों को पदावनति करने की नोटिस दी जा चुकी है, ऐसे में कक्षा 11 व 12 में प्रशिक्षण व पढ़ाई कराने का पेंच फंस गया है। 




माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड में योग की पढ़ाई पहले से चल रही है। इस साल प्रदेश में भाजपा के सत्ता में आने के बाद योग को पाठ्यक्रम में विस्तार देने का आदेश हुआ। परिषद ने पतंजलि योग पीठ हरिद्वार से प्रशिक्षकों को बुलाकर नए सिरे से कक्षा नौ से लेकर 12 तक की कक्षाओं में योग की पढ़ाई को विस्तार दिया। पहले इन कक्षाओं की लिखित परीक्षा में पांच से छह के प्रश्न पूछे जाते थे और इतने ही अंकों की प्रायोगिक परीक्षा होती थी। अब इसे बढ़ाकर 20-20 अंक लिखित व प्रायोगिक दोनों परीक्षाओं में कर दिया गया है। नए पाठ्यक्रम का गजट हो चुका है और वह विद्यालयों में भेजा जा रहा है। अब तक शारीरिक शिक्षक ही सामान्य योग की शिक्षा देते आए हैं लेकिन, योग को विस्तार मिलने के बाद पढ़ाई और प्रशिक्षण दोनों कठिन हो गया है। इसके लिए योग शिक्षकों की जरूरत है, लेकिन उसका इंतजाम नहीं किया गया है। पिछले महीने सभी जिलों में शारीरिक शिक्षकों को ही पांच दिन का योग का विशेष प्रशिक्षण दिया गया है, ताकि जुलाई से पढ़ाई शुरू हो सके। इससे कक्षा नौ व 10 में पढ़ाने का तो इंतजाम हो गया है लेकिन, कक्षा 11 व 12 की समस्या ज्यों की त्यों है। 




असल में 2006 के शासनादेश के तहत उन शारीरिक शिक्षकों को प्रवक्ता पद पर पदोन्नत कर दिया गया, जिनकी सेवा दस वर्ष की पूरी हो चुकी थी। इससे यह पदोन्नत शिक्षक कक्षा 11 व 12 में पढ़ाने के अर्ह हो गए लेकिन, माध्यमिक शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा ने छह अक्टूबर, 2015 को आदेश दिया कि 1996 के पहले के वही शिक्षक पदोन्नत होंगे जिनका ग्रेड पे 1600-2600 रहा हो। इसके बाद पदोन्नत शिक्षकों को पदावनत करने की नोटिस जारी हुईं। हालांकि कई शिक्षक हाईकोर्ट से स्थगनादेश ले आए हैं, उन्हें एलटी ग्रेड शिक्षक ही माना जा रहा है। ऐसे में इंटर स्तर की कक्षाओं में योग पढ़ाने की विकट समस्या खड़ी हो गई है। विभागीय अफसर नये सत्र में योग की पढ़ाई को लेकर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।



No comments:
Write comments