DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, June 12, 2017

मैनपुरी : स्कूल पर नजर रखेगा टास्कफोर्स, नए सत्र को लेकर असमंजस में निजी संस्थान डीएलएड 2016 में नई मान्यता वाले कॉलेजों को शामिल करने को लेकर नहीं दिखी एकराय


प्रशिक्षण
स्कूल चलो अभियान से बढ़ेगी छात्र संख्या
नए सत्र में दो वर्षीय डीएलएड के संचालन को लेकर नई मान्यता वाले निजी संस्थानों में असमंजस का माहौल है। सीटों में इजाफे को लेकर अब तक स्पष्ट निर्देश न मिलने से अभ्यर्थियों को बीते सत्र की सीटों पर ही प्रवेश लेना होगा।

बेसिक टीचर सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम को नए सत्र में डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन का नाम दिया गया है। सत्र 2016 में डीएलएड के पाठ्यक्रम को संचालित करने के लिए 40 से ज्यादा निजी संस्थानों की मान्यता को शासन ने मंजूरी दी है। इन संस्थानों में 30 मई के बाद मान्यता संबंधी कार्रवाई पूरा होने के चलते नए सत्र में डीएलएड के संचालन को लेकर असमंजस की स्थिति है। शासन ने इन नए कॉलेजों को डीएलएड के नए सत्र के संचालन को मंजूरी देने में अब तक स्पष्ट रूख स्पष्ट न करने से अभ्यर्थियों का खासा नुकसान होगा। ऐसी स्थिति में बीटीसी सत्र 2015 के लिए स्वीकृत सीटों पर ही अभ्यर्थियों को प्रवेश के लिए दावेदारी करनी होगी।

परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने डीएलएड सत्र 2016 की प्रक्रिया में शामिल होने जा रहे कॉलेजों का संख्यात्मक ब्योरा अब तक डायट को मुहैया नहीं कराया है। कॉलेजों में स्वीकृत सीटों की जानकारी मिलने के बाद ही नए सत्र में जिले में कुल सीटों की संख्या सामने आ पाएगी। डायट प्राचार्य नरेंद्र पाल सिंह, प्रवक्ता आरेंद्र चौहान ने बताया कि इस संबंध में जल्द ही शासन से जानकारी जुटाकर स्थिति साफ की जाएगी। नए संस्थानों में स्वीकृत सीटों का ब्योरा भी शासन से मांगा जाएगा।

स्कूल पर नजर रखेगा टास्कफोर्स: परिषदीय स्कूलों में शैक्षिक उन्नयन और व्यवस्थाओं में सुधार के लिए टास्कफोर्स का गठन किया जाएगा। टास्कफोर्स में शामिल जिम्मेदारों को मासिक स्कूल निरीक्षण का लक्ष्य तय किया गया है। जिला और तहसील स्तर पर टास्कफोर्स का गठन किया जाएगा।

बेसिक शिक्षा विभाग के अधीन संचालित हो रहे प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों में शैक्षिक गतिविधियों के कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की समीक्षा और व्यवस्थाओं के अनुश्रवण को लेकर टास्कफोर्स में शामिल अधिकारियों को जवाबदेह बनाया जाएगा। स्कूलों में निरीक्षण के साथ-साथ व्यवस्थाओं में सुधार को लेकर टास्कफोर्स में शामिल अधिकारी प्रयास करेंगे।

शासन ने जिला व तहसील स्तर पर टास्कफोर्स के गठन के लिए अधिकारियों को नामित करने की व्यवस्था की है। जिला स्तरीय टास्कफोर्स में डीएम अध्यक्ष और सीडीओ, डीआइओएस, डीपीओ, बीएसए, डीएसओ सहित 10 अधिकारियों को सदस्य का जिम्मा दिया जाएगा। इन सभी को महीने में दो-दो स्कूलों का औसतन निरीक्षण करना होगा। तहसील की टास्कफोर्स में एसडीएम को अध्यक्ष, बीडीओ, नायब तहसीलदार, खंड शिक्षा अधिकारी, एडीओ पंचायत को सदस्य बनाया जाएगा। दोनों टास्कफोर्स में शामिल अधिकारी निरीक्षण आख्या को तैयार कर राज्य परियोजना निदेशक व सर्वशिक्षा अभियान कार्यालय को रिपोर्ट करेंगे। टास्कफोर्स गठन के बाद स्कूलों की दशा न सुधरने पर अधिकारियों को जिम्मेदार माना जाएगा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रामकरन यादव ने बताया कि जिला- तहसील स्तर पर शैक्षिक अनुश्रवण के लिए टास्कफोर्स के गठन की प्रक्रिया को जल्द पूरा कर लिया जाएगा। टीम में शामिल अधिकारी मासिक निरीक्षण लक्ष्य को पूरा कर रिपोर्ट शासन को करेंगे।

फोटो दिवस पर सक्रिय दिखे शिक्षक: परिषदीय स्कूलों में शिक्षकों की सक्रियता को परखने के लिए रविवार को फोटो दिवस मनाया गया। स्टाफ की मौजूदगी में फोटो और पूरा विवरण का फ्रेम लगाकर शिक्षकों ने शासन की मंशा के अनुरूप कार्यक्रम आयोजित किए।

बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने रविवार को सभी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों में फोटो दिवस मनाने के निर्देश दिए थे। जिले के परिषदीय स्कूलों में फोटो दिवस मनाने के लिए जारी किए गए निर्देश के मुताबिक स्कूलों में पहुंचकर प्रधानाध्यापकों ने पूरा स्टाफ की नियुक्ति तिथि, अन्य सेवा विवरण को अंकित कर फोटो ¨खचवाया। फोटो और विवरण फ्रेम में लगाकर कार्यक्रम की औपचारिकताओं को पूरा किया गया। अधिकारियों ने सक्रियता को परखने के लिए निरीक्षण किया। नगर क्षेत्र में संचालित पूर्व माध्यमिक विद्यालय चौथियाना में प्रधानाध्यापक रंजना मिश्र के निर्देशन में सहायक अध्यापिका अमिता, क्षमा, उर्मिला ने फोटो ¨खचवाया।

वहीं ब्लॉक सुल्तानगंज क्षेत्र के कई परिषदीय स्कूलों में फोटो फ्रेम दिवस पर शिक्षक सक्रिय नजर आए। खंड शिक्षा अधिकारी सर्वेश यादव के नेतृत्व में एबीआरसी राकेश चतुर्वेदी, विजेंद्र सिंह, संजय यादव ने स्कूलों का निरीक्षण किया।

स्कूलों में नौनिहालों के शत-प्रतिशत नामांकन के लिए जुलाई में स्कूल चलो अभियान का शंखनाद होगा। कार्यक्रमों के सहारे स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति को सुधारने का प्रयास किया जाएगा। शैक्षिक सत्र 2017-18 के दूसरे चरण की शुरुआत

जुलाई से हो रही है। सत्र की शुरुआत होते ही शिक्षकों को स्कूल चलो अभियान की सफलता में जुटना होगा। डोर टू डोर जनसंपर्क के साथ ही विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। स्कूल चलो अभियान में विद्यालय के स्टाफ के सहयोग के लिए प्रबंध समिति सदस्य, जनप्रतिनिधियों की जिम्मेदारियां तय की गई हैं। ग्रामीण अंचल में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर अभियान को गति दी जाएगी। स्कूलों में नुक्कड़ नाटक, प्रभातफेरियां, गोष्ठियों का आयोजन कर अभिभावकों को जागरुक किया जाएगा। कार्यक्रमों में अधिकारियों की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए शासन ने हिदायत दी है। जुलाई के शुरुआती दिनों में चलने वाले अभियान की नियमित निगरानी की जाएगी। अधिकारी शिक्षा विभाग से प्रतिदिन होने वाले नामांकन का ब्योरा तलब करेंगे। राज्य परियोजना कार्यालय स्कूल चलो अभियान का शेड्यूल जारी करने के बाद शिक्षकों को लगन के साथ काम करने के निर्देश दिए हैं। जनप्रतिनिधियों, सांसद, विधायक, एमएलसी, ब्लॉक प्रमुख, ग्राम प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत का सहयोग लेकर प्रत्येक कार्य दिवस में स्कूलों में विभिन्न प्रकार के आयोजनों का कार्यक्रम प्रस्तावित किया गया है। बीएसए रामकरन यादव ने बताया कि स्कूल चलो अभियान में छात्रों की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जाएगा।

No comments:
Write comments