DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, June 14, 2017

पीलीभीत : कोषाधिकारी से अभद्रता पर शिक्षकों के खिलाफ बलवे और SC/ST एक्ट की धाराओं में मुकदमा, शिक्षकों का भी धरना शुरू, मामला परिषदीय बनाम राजकीय बनने के आसार

पीलीभीत। कोषागार के लेखाकार भरतवीर की तहरीर उमेश गंगवार, चंद्रमोहन गंगवार व पवन सिन्हा के अलावा करीब 20 से 25 शिक्षकों के खिलाफ एससीएसटीएक्ट सहित अन्य धाराओं में कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई है। वेतन को लेकर बेसिक शिक्षकों और वरिष्ठ कोषाधिकारियों में विवाद छिड़ गया था। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर गम्भीर आरोप लगाए। दोनों पक्षों ने संबंधित अधिकारियों से मामले की शिकायत की। सीओ सिटी निशांक शर्मा ने भी दोनों पक्षों का समझौता करने का काफी प्रयास किया, लेकिन प्रयास असफल रहा। इधर डीएम के निर्देश के बाद कोतवाली पुलिस को शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ी। आरोप है कि शिक्षकों ने गाली-गलौज के साथ जाति सूचक शब्दों का प्रयोग किया था।
पीलीभीत हिन्दुस्तान संवादवेतन विवाद के बाद कोषागार कर्मचारियों और शिक्षकों के बीच चल रही आर-पार की लड़ाई में मंगलवार को कोषाधिकारी पक्ष शिक्षकों पर भारी पड़ गया। कोषागार कर्मचारियों ने सुबह डीएम की परमिशन के बाद धरना समाप्त किया और शाम को कोषाधिकारी की ओर से कोतवाली में तीन शिक्षकों के खिलाफ हरिजन एक्ट में रिपोर्ट दर्ज करा दी गई।वेतन को लेकर कई बार हंगामा कर चुके शिक्षकों को शनिवार को कलक्ट्रेट में मुख्य कोषाधिकारी कार्यालय में घुस कर हंगामा करना भारी पड़ गया। इस विवाद में कोषाधिकारी ने शिक्षकों पर अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने और अभद्रता करने का आरोप लगाया। कोषागार कर्मचारियों को भी अपने अधिकारी का इस तरह अपमान नागवार गुजरा। उन्होंने अभद्रता करने वाले शिक्षकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की डीएम से अनुमति मांगी थी। इसको लेकर कोषागारी कर्मचारियों ने अपना सरकारी कामकाज छोड़कर कार्यालय के बाहर ही धरना शुरू कर दिया था। मंगलवार को सुबह कोषागार कर्मचारी डीएम से मिले और उन्हें पूरी बात बताई। इसके बाद डीएम ने शिक्षकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने के आदेश कर दिए। आदेश होने के बाद इन कर्मचारियों ने अपना धरना समाप्त कर दिया। शाम को कोषागार कर्मचारी टीओ के साथ कोतवाली पहुंचे और वहां टीओ की ओर से तीन शिक्षकों के खिलाफ हरिजन एक्ट में रिपोर्ट दर्ज करा दी। रिपोर्ट दर्ज होने की खबर से शिक्षकों में भी हड़कंप मच गया। इसके बाद शिक्षक भी टीओ के खिलाफ अपनी तहरीर लेकर कोतवाली पहुंचे और कोतवाल को तहरीर सौंपकर उनसे एफआईआर दर्ज कराने की अपील की।






No comments:
Write comments