DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, July 20, 2017

गोरखपुर : विषय विशेषज्ञ शिक्षकों का नहीं होगा समायोजन, समायोजन के लिए भेजी गई छात्र संख्या में भारी गड़बड़ी, 15 जुलाई तक बढ़ गए 27 हजार छात्र


18 तक होना था सरप्लस शिक्षकों का समायोजन

बेसिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा शिक्षकों को सरप्लस बनकर भुगतना पड़ रहा है। प्रधानाध्यापकों द्वारा अप्रैल महीने में भेजी गई छात्रों की सूची में बीआरसी पर हेरफेर कर दी गई। कहीं छात्रसंख्या घटा दी गई तो कहीं बढ़ा दी गई। इसकी वजह से कई शिक्षकों का नाम समायोजन की सूची में शामिल हो गया है। सूची जारी होने के बाद जिले के करीब 400 से अधिक विद्यालयों के शिक्षकों ने आपत्ति दर्ज कराई है। शासन ने पहली बार अप्रैल की छात्र संख्या के आधार पर समायोजन कराने का निर्णय लिया। इसके लिए छात्र संख्या के आधार पर सरप्लस शिक्षकों की सूची तैयार की गई। अप्रैल में विद्यालयों ने जो छात्र संख्या अपने-अपने बीआरसी केन्द्रों पर भेजी थी उसमें हेरफेर कर दी गई। कुछ बीईओ द्वारा अधिकतर विद्यालयों की छात्र संख्या घटा-बढ़ा दी गई। जिन विद्यालयों में छात्रों की संख्या ज्यादा है और घटाकर सूची भेजी गई वहां के शिक्षक सरप्लस सूची में आ गए। जहां पर छात्रसंख्या कम रही और बढ़ाकर भेजी गई वहां शिक्षक इस सूची से बाहर हो गए। खोराबार ब्लाक के झरवां प्राथमिक विद्यालय में छात्र संख्या 194 थी। समायोजन में इस विद्यालय में मात्र 94 छात्र संख्या दिखाई गई। प्राथमिक विद्यालय रामपुर नवीन 155 की जगह 113 दिखा दिया गया। प्राथमिक विद्यालय करपुरा में 133 की जगह 75 दिखा दिया गया है। इसी प्रकार से कई अन्य विद्यालयों से भेजी गई छात्र संख्या की गड़बड़ी सामने आई है।
शासन ने सभी जिलों के बेसिक शिक्षाधिकारियों को सरप्लस शिक्षकों के समायोजन की अंतिम तिथि 18 जुलाई तक निर्धारित की थी। मगर जिले में अभी तक समायोजन में हुई गड़बड़ी सुधारी तक नहीं जा सकी है। अंतिम तिथि बीत जाने के बाद शिक्षा विभाग समायोजन नहीं कर सका है।
एक तरफ शासन अप्रैल माह के छात्र संख्या के आधार पर सरप्लस शिक्षकों का समायोजन करने का मन बना रही है। वहीं दूसरी तरफ गर्मी की छुट्टी के बाद खुले स्कूलों में नामांकन का कार्य शुरू हुआ। 15 जुलाई तक जिले पर विद्यालयों से भेजी गई छात्रों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। 2900 परिषदीय स्कूलों में 27 हजार छात्रों का नया नामांकन हुआ है।
शासन ने अपने समायोजन के नियमों बदलाव करते हुए नया आदेश जारी किया है। इसमें जूनियर विद्यालयों में तैनात विषय विशेषज्ञ शिक्षकों को समायोजन की सूची से बाहर कर दिया गया है। अब गणित, विज्ञान और अंग्रेजी के शिक्षक आपत्ति पत्र दर्ज कराकर समायोजन सूची से अपना नाम निकलवा सकते हैं।
शासन के नियम के अनुसार ही समायोजन किया जाएगा। शिक्षकों द्वारा दर्ज कराई गई आपत्तियों की जांच कराई जा रही है। संशोधन सूची के आधार पर ही समायोजन होगा। 18 जुलाई को अंतिम तिथि थी। उच्चधिकारियों से बात कर समायोजन का कार्य किया जाएगा।महेन्द्र नाथ त्रिपाठी, प्रभारी बीएसए

No comments:
Write comments