DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, July 30, 2017

सहारनपुर : शिक्षामित्र रहे न शिक्षक, गुस्से में बिगड़ रहे बोल, खूनी तो कोई बना रहा आतंकी


⚫शिक्षामित्र रहे न शिक्षक
⚫धरने से ठप हो रहे बेरीबाग स्थित दोनों स्कूल
⚫बिगड़ रहे बोल, खूनी तो कोई बना रहा आतंकी

समायोजन के दौरान शिक्षामित्रों ने शिक्षामित्र पद से इस्तीफा दे दिया था और सहायक शिक्षक पद पर नई तैनाती की। अब शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द कर दिया गया है। ऐसे में समायोजित किए गए शिक्षक न शिक्षक रहे और न ही शिक्षामित्र। शिक्षामित्रों को किस पद व वेतन पर वापस स्कूल में भेजा जाए, इस संबंध में भी स्थिति साफ नहीं की गई। बीएसए को भी जानकारी नहीं है।
शिक्षामित्र बेरीबाग स्थित बीएसए कार्यालय में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इससे कार्यालय का तो कार्य प्रभावित हो ही रहा है साथ में कार्यालय परिसर स्थित प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में भी शिक्षण कार्य ठप हो रहा है। शिक्षक और बच्चे स्कूल तो पहुंच रहे हैं, मगर स्पीकर के शोर में बच्चे पढ़ नहीं पा रहे।
सहारनपुर हमारे संवाददाताजिले में शिक्षा का माहौल खराब हो रहा है। जिन कंधों पर समाज का भविष्य बनाने की जिम्मेदारी है, उन्हीं के बोल बिगड़ते जा रहे हैं। समायोजन रद्द होने पर शिक्षामित्र धरने के दौरान उग्र भाषा का प्रयोग कर रहे हैं। अब छापेमारी के विरोध में मान्यता प्राप्त स्कूलों के शिक्षकों ने खूनी बनने की बात कही है। अपनी-अपनी मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन में शामिल जिले के शिक्षक उग्र भाषा का खुलकर प्रयोग कर रहे हैं। अच्छी शिक्षा प्रदान करके युवा वर्ग को शिक्षित और अनुसाशित करने वाले शिक्षकों के बोल बिगड़ चुके हैं। शिक्षामित्रों के धरने के दौरान एक शिक्षक ने बच्चों को आतंकी और उग्रवादी बनाने की बात कही तो छापेमारी के विरोध में शनिवार को डीआईओएस कार्यालय पहुंचे। मान्यता प्राप्त शिक्षकों ने खूनी बनने की बात कही। हाल ही में डीआईओएस ने चार स्कूलों में छापेमारी की। स्कूलों में अवैध कक्षाओं का संचालन होता मिला तो एक-एक लाख रुपये जुर्माना और स्कूलों की मान्यता रद्द करने के निर्देश दिए गए। इससे नाराज शिक्षकों ने शनिवार को डीआईओएस कार्यालय का घेराव किया। एक बाबू के निधन के कारण कोई नहीं मिला। प्रदेश अध्यक्ष अशोक मलिक ने कहा कि बिना नोटिस के छापेमारी की तो अधिकारियों को स्कूल में घुसने नहीं दिया जाएगा। शिक्षकों की जीविका छीनी गई तो स्कूल संचालक खूनी बन जाएंगे। डीआईओएस द्वितीय के कार्यालय पहुंचने पर उन्हें 16 सूत्रीय ज्ञापन सौंपा गया। शिक्षकों ने दो अगस्त को दोबारा घेराव की चेतावनी दी है। सुशील रोहिला, बीएन पांडेय, धन्नंजय शर्मा रहे।
शनिवार को सहारनपुर में बेरीबाग स्थित बीएसए कार्यालय पर धरना देते शिक्षामित्र।

No comments:
Write comments