DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, July 27, 2017

पूरे प्रदेश में जारी है शिक्षा मित्रों का प्रदर्शन, अनेक स्थानों पर हुआ पथराव और तोड़फोड़, बदायूँ में शिक्षामित्र ने जहर खाकर दी जान, गोरखपुर में पुलिस ने किया लाठीचार्ज, कई गिरफ्तार

सालों की उम्मीद कोर्ट के एक फैसले पर झटके से टूट जाने पर शिक्षामित्रों का धैर्य जवाब दे गया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से यूपी में नाराज शिक्षा मित्रों का विरोध जारी है। गुरुवार को भी हजारों शिक्षामित्र स्कूल से निकलकर सड़क पर उतर पड़े। समायोजन रद्द होने के बाद शिक्षामित्रों ने आंदोलन का बिगुल फूंका और एमजी रोड पर पैदल मार्च किया। प्रदेश के कई जिलों में शिक्षामित्रों ने सरकारी संपत्ति को तोड़ फोड़ की है।
शिक्षामित्र ने जहर खाकर दी जान
बदायूं में समायोजन रद होने के फैसले से आहत शिक्षामित्र ने जहरीला प्रदार्थ खा लिया। जिससे उसकी बरेली के एक अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। समायोजन रद होने के फैसले से फैसले के बाद से आहत उसावां क्षेत्र के रतिनगला के प्राथमिक विद्यालय में तैनात शिक्षामित्र हरेश यादव ने विषाक्त पदार्थ खा लिया। हालत गंभीर होने पर उसे बरेली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। सूचना मिलतेही परिवार में कोहराम मच गया। परिवारजन बिना पोस्टमार्टम कराए शव को घर ले आए और गंगा किनारे अंतिम संस्कार के लिए ले गए। शिक्षामित्र के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए संघ के पदाधिकार गांव पहुंचे और घटना पर शोक जताया। हालांकि इस घटना की प्रशासन ने जानकारी होने से अभी तक इंकार किया है।

वहीं मथुरा में शिक्षामित्रों की निराशा अब आक्रोश में बदलती जा रही है। गुरुवार को दूसरे दिन भी वे सड़क पर उतरे और ऊर्जा मंत्री की आवासीय कालोनी राधा वैली व सांसद के कार्यालय के बाहर धरना दिया। इस दौरान एक महिला शिक्षामित्र बेहोश हो गई। संतोषजनक निदान न मिलने पर शिक्षामित्रों ने कुछ भी कर गुजरने का ऐलान किया है। शिक्षामित्रों के दोनों गुट गुरुवार को समूह में एकत्रित होकर सड़क पर निकले। जिलाध्यक्ष खेम सिंह चौधरी के नेतृत्व में उप्र प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के बैनर तले शिक्षामित्रों का बड़ा समूह ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के राधा वैली स्थित आवास पहुंच गया। इसकी सूचना पर पुलिस बल ने कालोनी का गेट लगा दिया। शिक्षामित्र नारेबाजी करते हुए आवास के बाहर ही धरने पर बैठ गए।
मुरादाबाद, गोरखपुर, आगरा, बरेली हर जिले में शिक्षा मित्र सड़कों पर उतरे, स्कूलों में ताला लगा दिया। विरोध के दौरान कई शिक्षा मित्र सड़क पर गिरकर बेहोश हो गए। सरकार और कोर्ट से न्याय की गुहार के लिए जमकर नारेबाजी हुई। कलेक्ट्रेट में सीएम के नाम एसीएम तृतीय को ज्ञापन दिया। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ और आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के बैनल तले शिक्षामित्रों ने पहले डाइट परिसर में बुधवार को बैठक का आयोजन किया।
वाटर कैनन से 15 मिनट तक पानी की बौछार और 5 मिनट तक लाठी चार्ज का समाना करने के बाद प्रदर्शनकारी शिक्षा मित्रों के पांव उखड़ गए हैं। पुलिस ने गोरखनाथ मंदिर की ओर बढ़ रहे प्रदर्शनकारियों को पीछे लौटने पर मजबूर कर दिया है।
प्रदर्शनकारी महिलाएं और पुरुष वापस गोलघर कालीमंदिर के पास तकरीबन हजार की संख्या में बैठे हैं। इस कारण सड़क पर आवागमन बाधित है। यहां भी भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद है।
धर्मशाला पुल के नीचे शिक्षा मित्रों को रोकने के लिए आईजी मोहित कुमार की अगुवाई में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने शिक्षा मित्र पर वाटर कैनन की बौछार कराई। इस दौरान कई महिला शिक्षा मित्र चोटिल भी हो गई। हालांकि शिक्षा मित्र पानी की बौछार के बीच भी जमे हुए थे। हालांकि उनमें घबराहट साफ झलक रही थी। 
गोरखनाथ मंदिर की ओर कूच कर रही महिला शिक्षा मित्रों ने वाटर कैनन के इस्तेमाल के बाद स्वयं को दीवार की तरह खड़ा कर लिया है। पुरुष शिक्षा मित्र पीछे हो गए हैं। महिला शिक्षा मित्र आगे खड़ी हैं। हालांकि वाटर कैनन के इस्तेमाल ने महिला शिक्षा मित्रों की हालत खराब कर दी है। प्रदर्शन में शामिल महिला शिक्षा मित्रों के अभिभावक उनकी स्थिति देख परेशान हैं।
50 की संख्या में प्रदर्शनकारी शिक्षा मित्र महिला-पुरुष हिरासत में 

बल प्रयोग के दौरान प्रदर्शन कर रही शिक्षा मित्र महिला और पुरुषों को पुलिस ने हिरासत में लिया। उन्हें पुलिस की गाड़ियो में डाल कर अन्यत्र ले जाया गया।
प्रदर्शन में शामिल कई महिलाओं ने पुरुष पुलिस कर्मियों पर दुर्व्यवहार करने का भी आरोप लगाया। उनका कहना था कि महिला पुलिस के बजाए पुरुष पुलिसकर्मी उन्हें जबरन हाथ लगा रहे थे।





गोरखपुर के नगर निगम कार्यालय परिसर स्थित रानी लक्ष्मी बाई पार्क में सैकड़ों की संख्या में एकत्र शिक्षा मित्रों को गोरखनाथ मंदिर कूच करने से पुलिस रोक रही है। यदि यहां से निकल प्रदर्शनकारी धर्मशाला पुल के पास पहुंचे तो पुलिस को उन्हें संभालाना मुश्किल हो जाएगा। इसलिए पार्क का द्वार बंद कर पुलिस इन्हें किसी भी हालत में यही रोकने की कोशिश कर रही है। 
प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियां तोड़ी

शिक्षा मित्रों की भीड़ हिंसक होने लगी है। रोडवेज और भाजपा का झंड़ा लगी गाड़ियों को उन्होंने निशाना बनाया है। हालांकि प्रदर्शन में शामिल कुछ लोग ऐसा करने से रोक भी रहे हैं। आरटीओ दरफ्तर के पास भाजपा का झंड़ा लगी एक गाड़ी का शीशा तोड़ दिया बल्कि विरोध करने पर गाड़ी में सवार लोगों से भी मारपीट की गई।
व्यापारियों ने बंद की दुकानें
धर्मशाला बाजार में व्यापारियों के प्रदर्शन देखते हुए अपनी दुकानें बंद कर ली हैं। भारी मात्रा में महिला और पुरुष पुलिस कर्मियों के साथ बड़ी संख्या में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंच गए हैं। जिलाधिकारी राजीव रौतेला भी मौके पर हैं। 

साभार : लाइव हिन्दुस्तान डॉट कॉम


No comments:
Write comments