DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, August 31, 2017

रामपुर : राशन विक्रेता द्वारा दी गयी शिक्षकों को जान से मारने की धमकी, शिक्षकों से अवैध वसूली का कर रहा था प्रयास, प्रा0शि0संघ ने दी चेतावनी

स्वार हिन्दुस्तान संवाद क्षेत्र के पदमपुर के राशन विक्रेता ने प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों से कथित अवैध वसूली को लेकर विद्यालय में उत्पात मचाया तथा उनसे अभद्रता की। भयभीत शिक्षकों ने घटना की तहरीर एसडीएम और पुलिस को देदी है। इसके अलावा विभागीय अधिकारियों को भी अवगत करा दिया गया है।पदमपुर स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय और प्राथमिक विद्यालय एक ही परिसर में हैं। आरोप है कि बुधवार को जब विद्यालय में शिक्षण कार्य चल रहा था तब गांव का राशन विक्रेता जगदीश वहां आया और स्वयं को एक चैनल का पत्रकार बताते हुए धमकाया कि विद्यालय समय से नहीं आते हो इस लिए उसे महीना पैसा चाहिए। शिक्षकों ने प्रतिवाद किया तो गाली गलौच शुरु कर दी तथा उत्पात मचाना शुरु कर दिया। हंगामे के चलते छात्र-छात्रओं में भी भय उत्पन्न हो गया। आरोप है कि आरोपी ने विद्यालय की वीडियो बनाकर शिकायत करने की धमकी दी। पूर्व माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक प्रेम प्रकाश गुप्ता, सहायक अध्यापक पंकज कुमार और प्राथमिक विद्यालय के सहायक अध्यापक एस सिंह ने घटना की तहरीर एसडीएम को दी है ।

पदमपुर के परिषदीय शिक्षकों से हुई अभद्रता से प्राथमिक शिक्षक संघ भी आहत है। महामंत्री तहसीन आलम ने कहा है कि आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है तब प्राथमिक शिक्षक संघ और पूर्व माध्यमिक शिक्षक संघ अगला कदम उठाने पर विचार करेगा।

शिक्षकों से जबरन अवैध वसूली और अभद्रता किए जाने का मामला सामने आया है। शिक्षक भयभीत हैं। इस संबंध में आारोपी के खिलाफ कार्रवाई कराने के लिए एसडीएम और संबंधित थाना पुलिस से आग्रह किया जाएगा ताकि शिक्षण कार्य में कोई व्यवधान उत्पन्न न हो सके। -त्रिलोकी नाथ, खंड शिक्षा अधिकारी

रामपुर : अब सिफारिश पर नहीं मिलेगा शिक्षकों को पुरस्कार, बीएसए ने पुरस्कार हेतु विद्यालयों में प्रदर्शन को बनाया आधार

रामपुर निज संवाददाताप्राइमरी शिक्षकों को इस बार सिफारिश से सम्मान नहीं मिलेगा। अब उन्हें अपना काम दिखाना होगा, तभी सम्मान पा सकेंगे। शिक्षक दिवस पर हर साल उंगली उठती रही हैं। अधिकतर शिक्षकों को सिफारिश के आधार पर सम्मसान मिल जाता है। कोई खंड शिक्षाधिकारी का करीबी होता है तो कोई शिक्षक संघ के आधार पर सम्मान पा लेता है, जिनका काम से लेनादेना नहीं होता है, लेकिन इस बार बीएसए सर्वदानंद ने कुछ मानक तय कर दिए हैं। उन्हीं के आधार पर सम्मान दिया जाएगा, जिसमें स्कूल में बच्चों की छात्रसंख्या, ठहराव, नामांकन, किताबों का वितरण, ड्रेस का वितरण, शिक्षण कार्य, नवाचार का विवरण आदि को आधार बनाया गया है। शिक्षक का काम बेहतर होगा, तभी शिक्षक दिवस पर पांच सितंबर को सम्मान मिल सकेगा। इसका आंकलन शुरू कर दिया गया है। बीएसए सर्वदानंद ने बताया कि बच्चों से स्वच्छ भारत, पेंटिंग आदि विषयों पर कार्यक्रम भी कराए जा रहे हैं।

रामपुर : इंटर कॉलेज में नहीं जा सकेंगे बेसिक के शिक्षक, सरप्लस शिक्षक न होने से बीएसए में किया आवेदन फॉरवर्ड करने से इंकार

रामपुर निज संवाददाता जनपद के ढाई सौ प्राइमरी शिक्षक माध्यमिक शिक्षा विभाग में नहीं जा सकेंगे। जिला बेसिक शिक्षाधिकारी ने उनके आवेदन फावर्ड करने से इंकार कर दिया है। विभाग में पहले से ही शिक्षकों की कमी बनी है। शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द होने से विभाग में शिक्षकों की कमी हो गई है। दो हजार शिक्षामित्र अब शिक्षक नहीं रहे हैं। इसलिए विभाग में शिक्षकों को टोटा है। अब बेसिक शिक्षा विभाग अपने शिक्षक माध्यमिक शिक्षा विभाग को नहीं देगा। हालांकि इसकी सूची तैयारी की जा रही थी। ऐसे शिक्षकों की सूची तैयार की गई थी, जिनकी संख्या 249 है। वे कई रोज से आवेदन करने के लिए भागदौड़ भी कर रहे हैं, जिसके बाद खंड शिक्षाधिकारियों से आवेदन फारवर्ड कराया है, लेकिन वे अब बीएसए कार्यालय में आकर अटक गए हैं। बीएसए ने आवेदन फारवर्ड करने से साफ इंकार कर दिया है। इससे शिक्षकों के सामने समस्या खड़ी हो गई है। वे इसके लिए प्रयास कर रहे हैं।

बरेली : बेसिक शिक्षा विभाग ने शासन की मंशा पर फेरा पानी, नहीं तैयार हुई ड्राप आउट बच्चों की सूची, देरी होने पर यूपी बोर्ड में नहीं होगा नामांकन

ड्रॉप आउट की सूची तैयार नहीं


जागरण संवाददाता, बरेली : शासन ने भले ही ट्रांजिशन कार्यक्रम शुरू करके ड्रॉप आउट बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने की पहल की हो लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग ने शासन की मंशा पर पानी फेर दिया है। अगस्त बीत चुका है और विभाग ड्रॉप बच्चों की सूची तैयार नहीं कर सका है। आलम यह है कि कमिश्नर के आदेश के बाद भी ट्रांजिशन सॉफ्टवेयर में आठवीं पास व नौवीं कक्षा में प्रवेश ले चुके विद्यार्थियों का अभी विभाग डाटा फीड नहीं कर सका है। 158,743 बच्चे है आठवीं पास : शासन ने आठवीं पास करने के बाद सभी बच्चों को नौवीं कक्षा में प्रवेश कराने के लिए ट्रांजिशन कार्यक्रम शुरू किया। इसकी जिम्मेदारी बेसिक व माध्यमिक शिक्षा विभाग को सौंपी गई है। जनपद में इस वर्ष 58,743 बच्चों ने आठवीं कक्षा पास की है। 52 हजार से अधिक विद्यार्थी नौवीं कक्षा में प्रवेश ले चुके हैं। ट्रांजिशन सॉफ्टवेयर में डाटा फीड करने व ड्रॉप आउट बच्चों की सूची तैयार करने की जिम्मेदारी बेसिक शिक्षा विभाग की है। ड्रॉप आउट बच्चों को प्रवेश दिलाने की जिम्मेदारी माध्यमिक शिक्षा विभाग को उठानी हैं। 1यह है फीडिंग की स्थिति : बेसिक शिक्षा आठवीं पास करने वाले करीब 12,666 विद्यार्थियों का ही डाटा फीड कर पाया है। आठवीं पास करने वाले सभी बच्चों का डाटा विभाग के पास पहले से ही मौजूद है। नौवीं कक्षा में प्रवेश ले चुके 52 हजार से अधिक विद्यार्थियों का डाटा माध्यमिक शिक्षा विभाग उपलब्ध करा चुका है।जागरण संवाददाता, बरेली : शासन ने भले ही ट्रांजिशन कार्यक्रम शुरू करके ड्रॉप आउट बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने की पहल की हो लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग ने शासन की मंशा पर पानी फेर दिया है। अगस्त बीत चुका है और विभाग ड्रॉप बच्चों की सूची तैयार नहीं कर सका है। आलम यह है कि कमिश्नर के आदेश के बाद भी ट्रांजिशन सॉफ्टवेयर में आठवीं पास व नौवीं कक्षा में प्रवेश ले चुके विद्यार्थियों का अभी विभाग डाटा फीड नहीं कर सका है।

गोरखपुर : शिक्षक पात्रता परीक्षा 2017 में प्रतिभाग करने वाले अभ्यर्थियों के लिए डायट एवं बीआरसी पर प्रशिक्षण आयोजन के सम्बन्ध में आदेश जारी, बीईओ एवं टेट पास स0अ0 देंगे प्रशिक्षण

गोरखपुर : शिक्षक पात्रता परीक्षा 2017 में प्रतिभाग करने वाले अभ्यर्थियों के लिए डायट एवं बीआरसी पर प्रशिक्षण आयोजन के सम्बन्ध में आदेश जारी, बीईओ एवं टेट पास स0अ0 देंगे प्रशिक्षण

अलीगढ़ : मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत प्रदेश स्तर से विद्यालय स्तर पर उपलब्ध कराये गए बर्तन तत्काल विद्यालयों हेतु उपलब्ध कराने का आदेश जारी, देखें

अलीगढ़ : मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत प्रदेश स्तर से विद्यालय स्तर पर उपलब्ध कराये गए बर्तन तत्काल विद्यालयों हेतु उपलब्ध कराने का आदेश जारी, देखें


फतेहपुर : शिक्षक दिवस एवं गांधी जयंती पर निबंध और पेंटिंग प्रतियोगिता के आयोजन के संबंध में निर्देश : ब्लॉक स्तर से जनपद स्तर तक का कार्यक्रम जारी

फतेहपुर : शिक्षक दिवस एवं गांधी जयंती पर निबंध और पेंटिंग प्रतियोगिता के आयोजन के संबंध में निर्देश : ब्लॉक स्तर से जनपद स्तर तक का कार्यक्रम जारी।

फतेहपुर : 05 सितम्बर शिक्षक दिवस को विद्यालयों एवं ब्लॉक संसाधन केंद्रों में विभिन्न कार्यक्रमों के साथ 'खेलो फुटबॉल' कार्यक्रम आयोजित कर रिपोर्टिंग करने के निर्देश

फतेहपुर : 05 सितम्बर शिक्षक दिवस को विद्यालयों एवं ब्लॉक संसाधन केंद्रों में विभिन्न कार्यक्रमों के साथ 'खेलो फुटबॉल' कार्यक्रम आयोजित कर रिपोर्टिंग करने के निर्देश।

फतेहपुर : विद्यालयों में बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चलाये जा रहे डिवॉर्मिंग तथा आयरन और फोलिक एसिड की गोलियां खिलाये जाने की साप्ताहिक रूप से आख्या प्रेषण के संबंध में आदेश

फतेहपुर : विद्यालयों में बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चलाये जा रहे डिवॉर्मिंग तथा आयरन और फोलिक एसिड की गोलियां खिलाये जाने की साप्ताहिक रूप से आख्या प्रेषण के संबंध में आदेश।


महराजगंज : जिले के अंदर स्थानांतरण के लिए आनलाइन आवेदनों में से 1215 आवेदन की हार्डकॉपी हुई जमा, 300 से अधिक त्रुटिपूर्ण आवेदनों पर विचार नहीं

महराजगंज : शासन द्वारा परिषदीय विद्यालयों में किए जाने वाले अंतर जनपदीय स्थानांतरण के लिए जिला बेसिक शिक्षा विभाग कार्यालय में कुल 1215 आवेदन जमा हुए हैं। स्थानांतरण के लिए कुल 1230 लोगों ने आनलाइन आवेदन किया था। बीएसए जगदीश प्रसाद शुक्ल ने बताया कि जिले में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय के लिए कुल 700 से अधिक सीटों के लिए आवेदन लिया गया था। आवेदन की अंतिम तिथि 28 अगस्त तक कुल 1230 आवेदन आए। जिनमें से 29 अगस्त की शाम तक 1215 आवेदन की हार्डकापी भी जमा हुई। जिन्होंने कांपी जमा नहीं की है उनके आवेदन पर विचार नहीं होगा। उन्होंने कहा कि सत्यापन में लगभग 300 से अधिक आवेदनों में त्रुटियां पाई गई हैं। जिन आवेदनों में त्रुटि होगी उन पर विचार नहीं किया जाएगा।


बरेली : नौकरी कर रहे 400 शिक्षकों का होगा सत्यापन, आगरा विश्वविध्यालय की डिग्री निरस्त होने की संस्तुति के बाद जांच शुरू

नौकरी कर रहे बरेली के 400 शिक्षकों का होगा सत्यापन

जांच की आंच

सत्र 2004 की 4000 डिग्रियों के निरस्त करने की संस्तुति

जांच शुरू, डायट फरीदपुर ने डाटा खंगालना शुरू किया

जांच की आंच

सत्र 2004 की 4000 डिग्रियों के निरस्त करने की संस्तुति

जांच शुरू, डायट फरीदपुर ने डाटा खंगालना शुरू किया

1.5 से 2 लाख में हुए थे बीएड

1.5 से 2 लाख में हुए थे बीएड

सुभाषनगर के एजेंट ने कमाए थे लाखों

सुभाषनगर के एजेंट ने कमाए थे लाखों


बरेली वरिष्ठ संवाददाता2004 में आगरा यूनिवर्सिटी से बीएड करने के बाद नौकरी पाने वाले करीब 400 अभ्यर्थियों पर तलवार लटक गई है। इनमें से अधिकांश विशिष्ट बीटीसी कर बेसिक शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहे हैं। डायट फरीदपुर ने इनका डाटा खंगालना शुरू कर दिया है।डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा में सत्र 2004-05 में बीएड घोटाला हुआ था। सत्र 2004-05 में विश्वविद्यालय में 8132 छात्रों ने बीएड की परीक्षा दी थी। मगर विश्वविद्यालय के कुछ अधिकारियों और कर्मचारियों ने गोलमाल कर 11132 छात्रों को मार्कशीट जारी की थी। 4000 फर्जी मार्कशीट जारी होने का मामला उछला तो इसकी जांच के लिए हाईकोर्ट ने एसआईटी का गठन करने को कहा था। एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में 4000 मार्कशीट को निरस्त करने की संस्तुति की है। बताया जा रहा है कि बरेली में भी इन मार्कशीट के आधार पर लगभग 400 शिक्षक बेसिक शिक्षा विभाग, माध्यमिक शिक्षा विभाग और निजी स्कूलों में जॉब कर रहे हैं। विश्वविद्यालय अगर इन लोगों की मार्कशीट निरस्त करेगा तो इन सभी की नौकरी जाना भी तय है। वही मामला खुलने के बाद डायट ने भी अपने स्तर से मार्कशीट का सत्यापन शुरू कराए जाने का फैसला किया है।सूची बनवाकर कराएंगे सत्यापन: डायट प्राचार्य डॉ. सुषमा शर्मा ने कहा कि यह बहुत बड़ा गोलमाल है। आगरा यूनिवर्सिटी से सत्र 2004 में बीएड कर डायट में ट्रेनिंग लेने वालों की सूची बनवाई जा रही है। इन सभी का सत्यापन कराया जाएगा।

वर्ष 2004-05 में आगरा में बीएड की डिग्रियां खूब बिकी थी। आलम यह था कि जिसको कही भी बीएड में एडमिशन नहीं मिल रहा था। वो 1.5 से दो लाख रुपये तक खर्च कर आगरा से बीएड कर आया।

वर्ष 2004-05 में आगरा में बीएड की डिग्रियां खूब बिकी थी। आलम यह था कि जिसको कही भी बीएड में एडमिशन नहीं मिल रहा था। वो 1.5 से दो लाख रुपये तक खर्च कर आगरा से बीएड कर आया।

लोगों को आगरा से बीएड करवाने में सुभाषनगर और संजय नगर के एजेंट ने खूब पैसा कमाया था। उस वक्त लोगों को फंसाने के लिए विज्ञापन भी दिया गया था। ऐसे लोग जो नियमित कक्षाएं नहीं करना चाहते थे, उन्होंने जमकर पैसा खर्च किया था। बाद में 80-90 फीसदी नम्बर के लिए भी 20 से 25 हजार रुपये तक खर्च किये गए थे।

लोगों को आगरा से बीएड करवाने में सुभाषनगर और संजय नगर के एजेंट ने खूब पैसा कमाया था। उस वक्त लोगों को फंसाने के लिए विज्ञापन भी दिया गया था। ऐसे लोग जो नियमित कक्षाएं नहीं करना चाहते थे, उन्होंने जमकर पैसा खर्च किया था। बाद में 80-90 फीसदी नम्बर के लिए भी 20 से 25 हजार रुपये तक खर्च किये गए थे।

बाराबंकी : विद्यालयी जमीन पर कब्जे को लेकर ग्रामीण और शिक्षक भिड़े, बुलानी पड़ी पीएसी

बाराबंकी : विद्यालयी जमीन पर कब्जे को लेकर ग्रामीण और शिक्षक भिड़े, बुलानी पड़ी पीएसी।


इलाहाबाद : लंबे समय  से अनुपस्थित चल रहे 32 परिषदीय शिक्षकों को नोटिस, सुसंगत स्पष्टीकरण नहीं मिलने पर होगी बर्खास्तगी

इलाहाबाद : लंबे समय  से अनुपस्थित चल रहे 32 परिषदीय शिक्षकों को नोटिस, सुसंगत स्पष्टीकरण नहीं मिलने पर होगी बर्खास्तगी।


तबादले के लिए सबसे ज्यादा आवेदन इलाहबाद से, आजमगढ़ रहा दूसरे स्थान पर

तबादले के लिए सबसे ज्यादा आवेदन इलाहबाद से, आजमगढ़ रहा दूसरे स्थान पर।


NCERT की किताबें अपने परिसर में बेंच सकेंगे स्कूल, सीबीएसई ने किया अपने सर्कुलर में संशोधन

NCERT की किताबें अपने परिसर में बेंच सकेंगे स्कूल, सीबीएसई ने किया अपने सर्कुलर में संशोधन।


माध्यमिक स्कूलों की कमान संभालेंगे बेसिक शिक्षक, प्रतिनियुक्ति के तहत राजकीय कॉलेजों में रखे जाएंगे शिक्षक

माध्यमिक स्कूलों की कमान संभालेंगे बेसिक शिक्षक, प्रतिनियुक्ति के तहत राजकीय कॉलेजों में रखे जाएंगे शिक्षक।


मोदी सरकार के स्वच्छता और स्टार्टअप जैसे कदमों को अब स्कूलों में भी जाएगा पढ़ाया

मोदी सरकार के स्वच्छता और स्टार्टअप जैसे कदमों को अब स्कूलों में भी जाएगा पढ़ाया।


2300 सहायक अध्यापकों की नौकरी पर तलवार, बीएड की डिग्री निरस्त होने पर छिन जायेगी नौकरी, ऍफ़आईआर दर्ज होने पर खानी पड़ सकती है जेल की हवा

2300 सहायक अध्यापकों की नौकरी पर तलवार, बीएड की डिग्री निरस्त होने पर छिन जायेगी नौकरी, ऍफ़आईआर दर्ज होने पर खानी पड़ सकती है जेल की हवा

इलाहाबाद : पात्र शिक्षकों को चयन/प्रोन्नत वेतनमान का लाभ प्रदान करने हेतु सम्बन्धित की पत्रावली स्पष्ट आख्या सहित उपलब्ध कराने हेतु समस्त बीईओ को आदेश जारी, देखें

इलाहाबाद : पात्र शिक्षकों को चयन/प्रोन्नत वेतनमान का लाभ प्रदान करने हेतु सम्बन्धित की पत्रावली स्पष्ट आख्या सहित उपलब्ध कराने हेतु समस्त बीईओ को आदेश जारी, देखें

महराजगंज : पिता की डांट और विद्यालय बदलने की चेतावनी से नाराज बालिका चढ़ी 120 फुट ऊंचे मोबाइल टावर पर

महराजगंज : सरकारी स्कूल में नामांकन कराने की पिता की चेतावनी से नाराज एक बालिका गुस्से में 120 फुट ऊंचे टावर पर चढ़ गई। निचलौल थाना क्षेत्र के ग्रामसभा बाली में बुधवार सुबह की इस घटना के बाद परेशान पिता सहित ग्रामीणों ने पुलिस व जिले के अन्य अफसरों को इसकी सूचना दी। मामले की गंभीरता को देखते हुए खुद डीएम व एसपी ने 12 वर्षीय बालिका को सुरक्षित नीचे उतारने की पहल की। आखिरकार पुलिस, फायर ब्रिगेड कर्मियों व टावर एक्सपर्ट के प्रयास के छह घंटे बाद वह नीचे उतारी गई। बाली निवासी रतन राजभर ने गांव के इंग्लिश मीडियम स्कूल में कक्षा चार में अध्ययनरत अपनी बेटी कुसुम के लगातार स्कूल न जाने पर एक दिन पूर्व नाराजगी जताई थी। साथ ही चेतावनी देते हुए कहा था कि रेगुलर स्कूल नहीं गई तो गांव के प्राथमिक विद्यालय में नामांकन करा देंगे। यह बात कुसुम को (12 वर्ष) नागवार लगी।


इलाहाबाद : प्रा0शि0संघ द्वारा परिषदीय शिक्षकों की समस्याओं के निस्तारण हेतु प्रेषित ज्ञापन के प्रत्युत्तर में बीएसए ने वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए संघ पदाधिकारियों को लिखा पत्र, देखें

इलाहाबाद : प्रा0शि0संघ द्वारा परिषदीय शिक्षकों की समस्याओं के निस्तारण हेतु प्रेषित ज्ञापन के प्रत्युत्तर में बीएसए ने वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए संघ पदाधिकारियों को लिखा पत्र, देखें

इलाहाबाद : आज दिनांक 31 अगस्त को होगा परिषदीय विद्यालयों का औचक निरीक्षण, मुख्य विकास अधिकारी द्वारा जारी आदेश देखें

इलाहाबाद : आज दिनांक 31 अगस्त को होगा परिषदीय विद्यालयों का औचक निरीक्षण, मुख्य विकास अधिकारी द्वारा जारी आदेश देखें

रामपुर : स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शिक्षक दिवस के अवसर पर स्वच्छता सम्बन्धी गतिविधियाँ यथा शौचालय मांग पत्र/स्वच्छता रैली/बाल निगरानी समिति के सम्बन्ध में विस्तृत निर्देश जारी, देखें

रामपुर : स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत शिक्षक दिवस के अवसर पर स्वच्छता सम्बन्धी गतिविधियाँ यथा शौचालय मांग पत्र/स्वच्छता रैली/बाल निगरानी समिति के सम्बन्ध में विस्तृत निर्देश जारी, देखें

पीलीभीत : कस्तूरबा विद्यालयों में रिक्त पदों के सापेक्ष निकली विज्ञप्ति, जल्द करें आवेदन

पीलीभीत : कस्तूरबा विद्यालयों में रिक्त पदों के सापेक्ष निकली विज्ञप्ति, जल्द करें आवेदन।


कौशाम्बी में बीएसए की बड़ी लापरवाही हुई उजागर, ऑनलाइन ट्रांसफर के लिए शिक्षकों का डेटा ही नहीं कराया गया अपलोड, सचिव ने दिया 24 घंटे का अल्टीमेटम


■ कौशांबी में बीएसए की लापरवाही उजागर : कौशांबी जिले में परिषदीय स्कूलों में करीब छह हजार शिक्षक हैं, उनका ऑनलाइन आवेदन नहीं हो सका है, उनमें से 422 ने जिले के अंदर तबादला चाहा है।  इसकी शिकायत होने पर परिषद सचिव ने जांच कराई तो सामने आया कि बीएसए ने शिक्षकों का डाटा ही अपलोड नहीं कराया है। सचिव ने 24 घंटे में शिक्षकों का सारा डाटा अपलोड करने व खामियों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं।


मदरसों को देना होगा संपत्ति का हिसाब, राष्ट्रगान की वीडियोग्राफी कराने के बाद योगी सरकार का एक और बड़ा फैसला


★ सरकार ने 15 सितंबर तक शिक्षक, छात्र और जमीन आदि का मांगा ब्योरा
★ जीपीएस से भी कनेक्ट करने की कवायद, पोर्टल पर सूचना न देने वालों पर शिकंजा कसेगा


बरेली : स्वतंत्रता दिवस समारोह और राष्ट्रगान की वीडियोग्राफी कराने के बाद योगी सरकार ने मदरसों को लेकर एक और बड़ा फैसला किया है। 15 सितंबर तक मदरसों में पढ़ने वाले छात्रों, शिक्षक, जमीन आदि का ब्योरा मांगा है। हालांकि, सरकार के इस फैसले पर मदरसा संचालकों ने नाराजगी जतानी शुरू कर दी है।

■ इसलिए आए दायरे में : दरअसल, पिछले दिनों प्रदेश सरकार ने सभी शिक्षण संस्थाओं का पंजीकरण अनिवार्य कर दिया है। उसी के तहत मदरसों को दायरे में लाया गया है। उन्हें भी रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए मदरसा पोर्टल शुरू किया गया है, जिस पर संचालकों को मदरसे की जमीन, भवन, कक्ष, खाली स्थान, पार्क, कंप्यूटर लैब, शिक्षक एवं छात्र संख्या, मान्यता समेत कई बिंदुओं की जानकारी अपलोड करनी होगी। 15 सितंबर तक का समय दिया गया है। निर्धारित समय में पोर्टल पर जानकारी नहीं देने वाले मदरसों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

प्रदेश सरकार ने मंगलवार को इस बाबत सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को जारी कर दिए। फैसले के मुताबिक, ब्योरा अपलोड होने के बाद प्रदेश के सभी मदरसों को ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम (जीपीएस) से भी कनेक्ट किया जाएगा। उसके जरिये मदरसों में शिक्षण कार्यो के साथ अन्य गतिविधियों पर भी निगाह रखने की तैयारी है।

■ हंिदूी में होंगी मदरसों की तख्तियां : मदरसों में शिक्षक, कक्षा और मदरसों के नाम के बोर्ड अभी तक उर्दू और अंग्रेजी में होते थे। हालांकि, कुछ मदरसों में हंिदूी में भी लिखा होता था। अब उनके नाम के बोर्ड से लेकर शिक्षक और कक्षाओं की तख्तियां भी उर्दू के साथ हंिदूी में लिखने का दिया है। 

■ एक महीने में चार फरमान : सरकार मदरसों को लेकर एक महीने में चार फरमान जारी कर चुकी है। सबसे पहले पंद्रह अगस्त को राष्ट्रगान की वीडियोग्राफी, पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन, फिर ऊर्दू के साथ हंिदूी में तख्ती लिखने का और अब संपत्ति का ब्योरा मांगा गया है। मदरसों से संबंधित मिला है। 15 सितंबर तक सभी संचालकों को जानकारी देने को कह दिया गया है। -जगमोहन, अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, बरेली

◆ मदरसों को शक की नजर से देखा जा रहा है। लोकतंत्रिक देश में बार-बार आने वाले फरमान भेदभाव की भावना पैदा कर रहे हैं जो अच्छे समाज के लिए बेहतर नहीं। अगर यह सही सोच है, तो उच्च, माध्यमिक, बेसिक में भी यही तौर तरीके अपनाए जाए। सिर्फ मदरसों के लिए यह ठीक नहीं।  -मौलाना शहाबुद्दीन रजवी, महासचिव, जमात रजा-ए-मुस्तफा

◆ शासन की तरफ से पोर्टल पर मान्यता, जमीन, कक्ष आदि का ब्योरा मांगा गया है। यह जानकारी दी जा रही है। बार-बार आने वाले नए फरमान से काफी परेशानी हो रही है। -सय्यद आसिफ अली, सचिव, मदरसा जामिया रजविया नूरिया, बाकरगंज

◆ विकास के नाम पर लोगों ने वोट दिया। उससे यह सरकार बनी। उस पर ध्यान दिया जाएगा। सभी को बराबर माना जाए। सिर्फ मदरसों के लिए बार-बार कानून बनाना सही नहीं है।  - मुफ्ती सय्यद कफील हाशमी, सदर दारूल इफ्ता, मंजरे इस्लाम दरगाह आला हजरत

एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती के बढ़ाए जाएंगे पद, उप्र लोकसेवा आयोग भर्ती के लिए कराएगा लिखित परीक्षा, नए सिरे से भी मांगे जा सकते हैं आवेदन, चयन में अब नहीं होगा इंटरव्यू

इलाहाबाद : प्रदेश भर के राजकीय हाईस्कूल व इंटरमीडिएट कालेजों में स्नातक शिक्षक यानी एलटी ग्रेड के सारे रिक्त पद भरने की तैयारी है। इसके लिए सभी मंडलों से नए सिरे से अधियाचन मांगा गया है, शिक्षा निदेशालय सभी मंडलों से मिले पदों को आयोग को भेजेगा। उप्र लोकसेवा आयोग इसकी लिखित परीक्षा कराकर चयन करेगा। शासन के हस्तक्षेप के बाद इस पर पहले ही सहमति बन चुकी है।

प्रदेश के राजकीय कालेजों में 9342 एलटी ग्रेड शिक्षकों के पदों पर नियुक्ति के लिए बीते दिसंबर में ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। उस समय सपा सरकार ने नियमावली में बदलाव करके यह भर्ती मंडल से राज्य स्तर पर कराने का निर्णय लिया था। माध्यमिक शिक्षा के अपर निदेशक की अगुवाई में इसके लिए कमेटी का गठन भी हुआ। 26 जनवरी 2017 की मध्यरात्रि तक करीब नौ लाख से अधिक ऑनलाइन हुए थे, हालांकि पहले यह भर्ती मेरिट के आधार पर होनी थी।

मौजूदा भाजपा सरकार ने एलटी ग्रेड शिक्षकों का चयन लिखित परीक्षा से कराने का निर्णय पिछले महीने ही लिया है और कुछ दिन पहले उप्र लोकसेवा आयोग को यह परीक्षा कराने के लिए सहमत भी कर लिया है। शिक्षा निदेशालय से पहले 9342 पदों का अधियाचन आयोग को भेजा गया था, लेकिन इधर शासन के निर्देश पर राजकीय कालेजों में खाली सभी स्नातक शिक्षकों के पदों को भरने के निर्देश हुए हैं।

माध्यमिक शिक्षा के अपर निदेशक रमेश ने सभी संयुक्त शिक्षा निदेशकों को पत्र भेजा है कि वह अपने मंडल के स्कूलों में रिक्त एलटी ग्रेड शिक्षकों के पदों का अधियाचन जल्द निदेशालय भेजे। इसके लिए सभी मंडलों को एक प्रोफार्मा भी भेजा गया है। मार्च में तमाम शिक्षक सेवानिवृत्त हुए हैं ऐसे में शिक्षकों रिक्त पद बढ़ना तय है और अब नए पदों के सापेक्ष ही भर्ती होगी। यही नहीं आयोग इन पदों को भरने के लिए नये सिरे से ऑनलाइन आवेदन भी मांग सकता है, क्योंकि पहले मेरिट के जरिए चयन होना था और अब लिखित परीक्षा होगी। इसमें अभ्यर्थी घट-बढ़ सकते हैं। वैसे भी अभ्यर्थी यह शिकायत करते रहे हैं कि आवेदन के अंतिम दिनों में वेबसाइट ठीक से काम नहीं कर रही थी, इसलिए हजारों अभ्यर्थी दावेदारी नहीं कर सके थे।

■ चयन में साक्षात्कार नहीं : प्रदेश सरकार एलटी ग्रेड शिक्षकों के चयन में साक्षात्कार नहीं कराएगी इसका निर्णय कैबिनेट की बैठक में पहले ही ले लिया गया है। इससे चयन में पारदर्शिता के साथ ही अभ्यर्थी जल्द तैनाती पा सकेंगे। आयोग व निदेशालय में इन पदों को भरने को लेकर तैयारियां तेज हैं।

माध्यमिक स्कूलों में प्रार्थना सभाओं पर रोक, स्वाइन फ्लू से बचाव को एक स्थान पर छात्र-छात्रओं को एकत्रित करने से मनाही

इलाहाबाद : प्रदेश भर के सभी माध्यमिक विद्यालयों में सुबह होने वाली प्रार्थना सभाओं पर रोक लगा दी गई है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा ने यह कदम छात्र-छात्रओं को स्वाइन फ्लू से बचाने के लिए उठाया है। जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश दिया गया है कि स्कूलों में छात्र-छात्रओं को एक स्थान पर एकत्रित न होने दिया जाए और कक्षाएं शुरू होने से पहले शिक्षक सभी बच्चों का परीक्षण करें। इसका तत्काल अनुपालन करने को कहा गया है।

प्रदेश भर में स्वाइन फ्लू की चपेट में बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं। इसमें बच्चों से लेकर बड़े तक शामिल हैं। कुछ जिलों में बीमारी के कारण मौतें भी हुई हैं।  प्रमुख सचिव चिकित्सा ने पिछले दिनों पिछले दिनों माध्यमिक शिक्षा महकमे को स्वाइन फ्लू की रोकथाम व बचाव के संबंध में नियमानुसार कार्यवाही करने का आदेश दिया था। उसी का अनुपालन करते हुए शिक्षा निदेशक माध्यमिक ने अब सभी डीआइओएस को निर्देश दिया है कि वह सभी स्कूलों में सुबह होने वाली प्रार्थना सभाओं को फिलहाल रोक दें। स्कूलों में छात्र-छात्रओं को एक स्थान पर एकत्रित न होने देने का प्रयास किया जाए।

शिक्षक कक्षाएं शुरू होने से पहले बच्चों का परीक्षण करें, यदि किसी छात्र-छात्र में स्वाइन फ्लू का लक्षण दिखे तो उसे तत्काल सात दिन आराम करने के लिए घर भेज दिया जाए। शिक्षक उनके अभिभावकों को भी निर्देश दें कि बच्चों का घर पर ही देखभाल करें। साथ ही यह हिदायत भी दी गई है कि स्कूल प्रबंधन अभिभावकों को बच्चों के चिकित्सा प्रमाणपत्र देने के लिए बाध्य न किया जाए। जिन जिलों में यह समस्या है वहां के डीआइओएस को शासन व शिक्षा निदेशक माध्यमिक कार्यालय तक को अवगत भी कराना होगा।

Wednesday, August 30, 2017

झाँसी : शिक्षकों की लम्बित समस्याओं को लेकर अंतर्जनपदीय शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने बीएसए को सौंपा ज्ञापन, ज्ञापन की प्रति देखें

अंतर्जनपदीय शिक्षक वेलफेयर एशिसियोसन झांसी का एक प्रतिनिधिमंडल संरक्षक प्रदीप शर्मा के नेतृत्व में शिक्षकों की समस्याओं के संबंध में श्रीमान जिला बेसिक शिक्षाधिकारी झांसी से मिलने पहुंचा। बीएसए महोदय के मंत्री जी की मीटिंग में होने के कारण उनसे फ़ोन पर बात हुई और ज्ञापन वरिष्ठ लिपिक संतोष राजपूत को दिया गया । ज्ञापन के मुख्य विंदु इस प्रकार रहे-
1. प्रधानध्यापक प्राथमिक विद्यालय एवं सहायक अध्यापक उच्च प्राथमिक विद्यालय के पदों पर अधिक से अधिक पदोन्नति की जाए जिससे 2012-13 में आये अंतर्जनपदीय शिक्षकों को अधिक से अधिक लाभ हो सके क्योंकि उनका शिक्षण अनुभव 8 से 10 वर्ष का हो चुका है । 
2. जिन अध्यापकों के 10 वर्ष पूर्ण हो चुके है उनका चयन वेतनमान अतिशीघ्र लगाया जाए।
3. शिक्षकों के अवशेष भत्ते शीघ्र निर्गत किये जायें।
प्रतिनिधिमंडल में अभिषेक उपाध्याय , प्रागीलाल राजन , विजय आनंद सिंह, शिवराज खरे, ब्रजेन्द्र आनंद सिंह  , अम्बर दिनकर , नरेंद्र सिंह दांगी, प्रवीण अग्रवाल आदि शिक्षक उपस्थित रहे ।

देवरिया : आकस्मिक अवकाश व विद्यालय संबंधी सुझाव / शिकायत हेतु बीएसए कार्यालय में कंट्रोल रूम की हुई स्थापना , देखें आवश्यक आदेश

देवरिया : आकस्मिक अवकाश व विद्यालय संबंधी सुझाव / शिकायत हेतु बीएसए कार्यालय में कंट्रोल रूम की हुई स्थापना , देखें आवश्यक आदेश

फिरोजाबाद : खेलकूद एवं शारीरिक शिक्षा अनुदेशकों की नियुक्ति के पश्चात जिला/ब्लॉक व्यायाम शिक्षकों को इस दायित्व से कार्यमुक्त करने का आदेश जारी, देखें

फिरोजाबाद : खेलकूद एवं शारीरिक शिक्षा अनुदेशकों की नियुक्ति के पश्चात जिला/ब्लॉक व्यायाम शिक्षकों को इस दायित्व से कार्यमुक्त करने का आदेश जारी, देखें

कुशीनगर : शिक्षामित्र समायोजन निरस्त होने के फैसले की दैनिक समाचार पत्रों द्वारा प्राप्त जानकारी के आधार पर विद्यालय का प्रभार अन्य शिक्षकों को हस्तांतरित कराये जाने का आदेश, देखें

कुशीनगर : शिक्षामित्र समायोजन निरस्त होने के फैसले की दैनिक समाचार पत्रों द्वारा प्राप्त जानकारी के आधार पर विद्यालय का प्रभार अन्य शिक्षकों को हस्तांतरित कराये जाने का आदेश, देखें

रायबरेली : बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के अनुरोध पर समस्त परिषदीय अध्यापकों को फोटोयुक्त परिचय पत्र जारी करने हेतु बीएसए ने जारी किया आदेश, देखें

रायबरेली : बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के अनुरोध पर समस्त परिषदीय अध्यापकों को फोटोयुक्त परिचय पत्र जारी करने हेतु बीएसए ने जारी किया आदेश, देखें

शासन द्वारा गठित समिति के साथ हुई बैठक को गाजी और शाही ने बताया सफल, समान कार्य समान वेतन सहमति की ओर बढ़ने का किया दावा

शासन द्वारा गठित समिति के साथ हुई बैठक को  गाजी और शाही ने बताया सफल, समान कार्य समान वेतन सहमति की ओर बढ़ने का किया दावा


शिक्षामित्रों के लिए गठित कमेटी की बैठक खत्म, मानदेय पर नहीं बनी सहमति, लीगल ओपिनियन पर होगा अगली बैठक में विचार।



लखनऊ-शिक्षामित्रों के मामले में गठित समिति की बैठक।

बदायूँ : जिले में बढ़ रहे स्वाइन फ्लू के मामलों के चलते सभी विद्यालयों में प्रार्थना सभाओं पर लगाई गयी रोक, अध्यापक करेंगे बच्चों का परीक्षण, आदेश देखें

बदायूँ : जिले में बढ़ रहे स्वाइन फ्लू के मामलों के चलते सभी विद्यालयों में प्रार्थना सभाओं पर लगाई गयी रोक, अध्यापक करेंगे बच्चों का परीक्षण, आदेश देखें

बरेली : वित्तीय वर्ष 2017-18 में बीआरसी/एनपीआरसी हेतु अवमुक्त की गयी धनराशि का विवरण एवं उसके उपयोग सम्बन्धी निर्देश जारी, देखें

बरेली : वित्तीय वर्ष 2017-18 में बीआरसी/एनपीआरसी हेतु अवमुक्त की गयी धनराशि का विवरण एवं उसके उपयोग सम्बन्धी निर्देश जारी, देखें

रामपुर : शिक्षक दिवस पर विद्यालय एवं बीआरसी पर विभिन्न कार्यक्रम एवं खेलकूद गतिविधियाँ आयोजित करने एवं बीईओ/बीएसए के स्वयं प्रतिभाग करने के आदेश जारी, देखें

रामपुर : शिक्षक दिवस पर विद्यालय एवं बीआरसी पर विभिन्न कार्यक्रम एवं खेलकूद गतिविधियाँ आयोजित करने एवं बीईओ/बीएसए के स्वयं प्रतिभाग करने के आदेश जारी, देखें

महराजगंज : वित्त एवं लेखाधिकारी ने मिठौरा ब्लॉक के शिक्षकों/शिक्षणेत्तर कर्मियों के वित्तीय वर्ष 2011-12 के बकाया बोनस भुगतान के सम्बन्ध में मा0 मुख्यमंत्री जी को पत्र प्रेषित कर सम्बन्धित तथ्य का कराया संज्ञान

महराजगंज : वित्त एवं लेखाधिकारी ने मिठौरा ब्लॉक के शिक्षकों/शिक्षणेत्तर कर्मियों के वित्तीय वर्ष 2011-12 के बकाया बोनस भुगतान के सम्बन्ध में मा0 मुख्यमंत्री जी को पत्र प्रेषित कर सम्बन्धित तथ्य का कराया संज्ञान।

संतकबीर नगर : पदोन्नति की कार्यवाही हेतु तीन वर्ष सेवा पूर्ण कर चुके स0अ0 की सूचना निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने हेतु समस्त बीईओ को आदेश जारी, देखें

संतकबीर नगर : पदोन्नति की कार्यवाही हेतु तीन वर्ष सेवा पूर्ण कर चुके स0अ0 की सूचना निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने हेतु समस्त बीईओ को आदेश जारी, देखें

मेरठ : उ0प्र0 पात्रता परीक्षा 2017 की तैयारी हेतु संचालित होने वाली निःशुल्क मार्गदर्शी कक्षाओं के सम्बन्ध में प्रेस विज्ञप्ति जारी, देखें

मेरठ : उ0प्र0 पात्रता परीक्षा 2017 की तैयारी हेतु संचालित होने वाली निःशुल्क मार्गदर्शी कक्षाओं के सम्बन्ध में प्रेस विज्ञप्ति जारी, देखें

महराजगंज : बीएसए ने परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों/पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों के 10 वर्ष की सेवा के उपरान्त चयन वेतनमान दिये जाने के सम्बन्ध में वित्त एवं लेखाधिकारी को लिखा पत्र

महराजगंज : बीएसए ने परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों/पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों के 10 वर्ष की सेवा के उपरान्त चयन वेतनमान दिये जाने के सम्बन्ध में वित्त एवं लेखाधिकारी को लिखा पत्र।


फतेहपुर : शासन के निर्देशानुसार अशासकीय और सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूल एवं सम्बद्ध प्राइमरी विद्यालय में कार्यरत अध्यापकों को प्रशिक्षित किये जाने हेतु निर्देश

फतेहपुर : शासन के निर्देशानुसार अशासकीय और सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूल एवं सम्बद्ध प्राइमरी विद्यालय में कार्यरत अध्यापकों को प्रशिक्षित किये जाने हेतु निर्देश।


फतेहपुर : एनपीआरसी बनकर सेवाएं दे रहा रिटायर शिक्षक, निरीक्षण और रिपोर्टिंग के साथ विभागीय जिम्मेदारी भी रहे निभा

फतेहपुर : एनपीआरसी बनकर सेवाएं दे रहा रिटायर शिक्षक, निरीक्षण और रिपोर्टिंग के साथ विभागीय जिम्मेदारी भी रहे निभा।


माध्यमिक शिक्षा विभाग में कुर्सी के लिए घमासान शुरू, बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के कई बड़े अधिकारियों की नजर इस कुर्सी पर


लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा विभाग में कुर्सी के लिए घमासान शुरू हो गया है। यह खींचातान डीआईओएस से निदेशक माध्यमिक शिक्षा तक की कुर्सी के लिए है। डीआईओएस लखनऊ के हटने को लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं। वहीं, निदेशक पद के लिए मार मची है। बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के कई बड़े अधिकारियों की नजर इस कुर्सी पर है। फिलहाल मौजूदा शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा काफी मजबूत माने जा रहे हैं।




2012 में तत्कालीन निदेशक संजय मोहन को टीईटी घोटाले का दोषी मानते हुए हटाया गया। वासुदेव यादव को इस पद पर तैनाती को लेकर विवाद खड़े हुए। उन्हें बेसिक और माध्यमिक दोनों ही विभाग के निदेशक पद की जिम्मेदारी दे दी गई। वर्ष 2014 में मंत्री महबूब अली ने अमरनाथ वर्मा को निदेशक बनाने का प्रस्ताव भेजा पर सीएम ने इससे असहमति जताते हुए अवध नरेश शर्मा को तैनात करने का फैसला किया। एक साल बाद ही 2015 में अमरनाथ वर्मा निदेशक पद पर काबिज हुए।




2012 में तत्कालीन निदेशक संजय मोहन को टीईटी घोटाले का दोषी मानते हुए हटाया गया। वासुदेव यादव को इस पद पर तैनाती को लेकर विवाद खड़े हुए। उन्हें बेसिक और माध्यमिक दोनों ही विभाग के निदेशक पद की जिम्मेदारी दे दी गई। वर्ष 2014 में मंत्री महबूब अली ने अमरनाथ वर्मा को निदेशक बनाने का प्रस्ताव भेजा पर सीएम ने इससे असहमति जताते हुए अवध नरेश शर्मा को तैनात करने का फैसला किया। एक साल बाद ही 2015 में अमरनाथ वर्मा निदेशक पद पर काबिज हुए।



जनता के खून पसीने की कमाई के टैक्स से मिलती है सस्ती शिक्षा मानव संसाधन विकास मंत्री ने आईआईटी और आईआईएम सहित केंद्रीय विश्वविद्यालय के नए छात्रों को लिखा पत्र

जनता के खून पसीने की कमाई के टैक्स से मिलती है सस्ती शिक्षा मानव संसाधन विकास मंत्री ने आईआईटी और आईआईएम सहित केंद्रीय विश्वविद्यालय के नए छात्रों को लिखा पत्र।

कुशीनगर : बीआरसी सह-समन्वयक हेतु अर्ह अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा एवं साक्षात्कार कार्यक्रम जारी, विज्ञप्ति देखें

कुशीनगर : बीआरसी सह-समन्वयक हेतु अर्ह अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा एवं साक्षात्कार कार्यक्रम जारी, विज्ञप्ति देखें।

एनसीईआरटी से 70 प्रतिशत सेलेबस ही लेगा यूपी बोर्ड, बदले में पांच प्रतिशत रॉयल्टी लेगी एनसीईआरटी, यूपी में अप्रैल-2018 से लागू होना है नया पाठ्यक्रम


■ एनसीईआरटी से 70 प्रतिशत सेलेबस ही लेगा यूपी बोर्ड,

■ बदले में पांच प्रतिशत रॉयल्टी लेगी एनसीईआरटी

■ यूपी में अप्रैल-2018 से लागू होना है नया पाठ्यक्रम

■  30 प्रतिशत अपने महत्वपूर्ण अंश को बरकरार रखेगा माध्यमिक शिक्षा परिषद

इलाहाबाद। एनसीईआरटी किताबों के मूल्य पर पांच प्रतिशत रॉयल्टी लेगा। यूपी बोर्ड ने पत्र लिखकर इस संबंध में जानकारी चाही थी। जिसके जवाब में एनसीईआरटी ने अपने जवाब में पांच प्रतिशत रॉयल्टी लेने की बात कही है। एनसीईआरटी की किताबों को लागू किए जाने के उद्देश्य से बोर्ड स्तर पर किताबों की समीक्षा कर ली है। जिसे 15 सितंबर तक एनसीईआरटी को भेजेंगे। नीना श्रीवास्तव, सचिव यूपी बोर्ड

इलाहाबाद : अप्रैल 2018 से राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) का सेलेबस उत्तर प्रदेश के तकरीबन 26 हजार स्कूलों में लागू करने जा रहा यूपी बोर्ड अपने पाठ्यक्रम के महत्वपूर्ण अंश को बरकरार रखेगा। बोर्ड ने कक्षा 9 से 12 तक के अपने पाठ्यक्रम की समीक्षा पूरी कर ली है और 15 सितंबर तक एनसीईआरटी से मूल्यांकन के लिए भेजना है।

सूत्रों के अनुसार बोर्ड 70 प्रतिशत सेलेबस ही एनसीईआरटी का लेगा। लगभग 30 प्रतिशत यूपी बोर्ड का महत्वपूर्ण अंश होगा। जैसे यूपी बोर्ड ने 2012 में काउंसिल ऑफ बोर्डस ऑफ स्कूल एजुकेशन इन इंडिया (कोब्से) से अनुमोदित इंटर भौतिक, रसायन, जीव विज्ञान और गणित का सेलेबस लागू किया था। यही सेलेबस सीबीएसई व अन्य बोर्ड में भी लागू है इसलिए में इसमें बहुत अधिक बदलाव की जरूरत नहीं पड़ेगी। अंग्रेजी और संस्कृत व्याकरण भी बोर्ड बरकरार रखना चाह रहा है। समीक्षा करने वाले दोनों विषयों के विशेषज्ञों का मानना है कि यूपी बोर्ड का सेलेबस अधिक बेहतर है जबकि सीबीएसई स्कूलों में चल रहे एनसीईआरटी के सेलेबस में व्याकरण इतने व्यापक स्तर पर नहीं पढ़ाया जाता।

दिसंबर तक हो जाएगा किताबों का प्रकाशन : एनसीईआरटी के विषय विशेषज्ञ 31 अक्तूबर तक यूपी बोर्ड से भेजे गए पाठ्यक्रम की समीक्षा करेंगे जिसके बाद 31 दिसंबर तक किताबों का प्रकाशन होगा। एक अप्रैल 2018 से किताबें प्रचलन में आएंगे। पहले 2018-19 सत्र में कक्षा 9 व 11 और 2019-20 सत्र से कक्षा 10 व 12 में भी इन किताबों से पढ़ाई शुरू होगी।