DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, August 8, 2017

यूपी बोर्ड परीक्षा में मूलभूत सुविधाओं से लैस स्कूल ही बनेंगे केंद्र, बोर्ड ने मानकों की जांच के लिए दिए निर्देश

जागरण संवाददाता,लखनऊ : वर्ष 2018 में यूपी बोर्ड परीक्षाओं के केंद्र निर्धारण में सेटिंग गेटिंग का खेल नहीं हो सकेगा। सिर्फ उन्हीं स्कूलों को परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा जहां सीसीटीवी कैमरे, फर्नीचर व बिजली समेत अन्य मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा ने जिला विद्यालय निरीक्षकों को सख्त दिशा निर्देश जारी किए हैं।


बीते वर्ष में हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाओं के दौरान केंद्रों पर काफी अनियमितताएं सामने आती रही हैं। सीसीटीवी न होने से परीक्षा केंद्र संदिग्ध भूमिका में भी सामने आए तो वहीं फर्नीचर न होने से परीक्षार्थियों को परेशानी का सामना भी करना पड़ता रहा है। परीक्षा से पूर्व हर बार बोर्ड द्वारा निर्देश भी जारी किए जाते रहे हैं, लेकिन निर्देशों को अमली जामा पहनाने में जमकर लापरवाही बरती जाती। इस बार भी परीक्षा की सुचिता बनाए रखने के मकसद से माध्यमिक शिक्षा परिषद ने सख्ती से मानकों की जांच करने के निर्देश दिए हैं। डीआइओएस को विद्यालयों की जांच रिपोर्ट 15 सितंबर तक परिषद को भेजे जाने को कहा गया है।


केंद्र बनने के मानक
विद्यालय में अग्निशमन उपकरण, विद्यालय के चारों ओर सुरक्षित चार दीवारी, विद्यालय का मुख्य सड़क मार्ग से जुड़ा होना, विद्यालय में बिजली की समुचित व्यवस्था होना, परीक्षा काल के दौरान जनरेटर की व्यवस्था होना, सीसीटीवी कैमरा, पेयजल व शौचालय होना, स्कूल द्वारा बोर्ड की वेबसाइट पर आवश्यक सूचना अपलोड करना अथवा बोर्ड को सूचनाएं भेजने के लिए कंप्यूटर का होना अनिवार्य है।

No comments:
Write comments