DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, September 20, 2017

महराजगंज : बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए 238 परिषदीय विद्यालयों की मरम्मत के लिए लगभग ढाई करोड़ रुपये की है दरकार

महराजगंज : बाढ़ से जिले में क्षतिग्रस्त हुए 238 परिषदीय विद्यालयों के मरम्मत के लिए कुल ढ़ाई करोड़ की दरकार है। बाढ़ में क्षतिग्रस्त हुए 161 प्राथमिक विद्यालय तथा 77 उच्च प्राथमिक विद्यालय की दशा सुधारने का प्रयास किया जाएगा। बाढ़ के पानी की वजह से परिषदीय स्कूलों में फर्श, दीवार तथा अन्य जरूरी सामग्री खराब हो चुकी है। जिले में कुल 2127 परिषदीय प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक स्कूल हैं। अगस्त माह में आई बाढ़ का असर कुल नौ ब्लाक में रहा, मगर इसमें से पनियरा, निचलौल व बृजमनगंज ऐसे ब्लाक रहे जहां ज्यादातर स्कूलों में बाढ़ का पानी लग गया था। लंबे समय तक बाढ़ का पानी लगने की वजह से स्कूलों के फर्श टूट गए तथा दीवार भी खराब हो गए। इस सबके साथ बहुत से स्कूलों में बच्चों के बैठने व पढ़ाने संबंधी सामग्रियां भी खराब हो गईं। कई स्कूलों में तो पानी का स्तर अमना अधिक था कि वहां पर आलमारी के अंदर पानी घुस गया जिससे स्कूल के आवश्यक अभिलेख, उपस्थिति पंजिका तथा अन्य कागजात खराब हो गए। स्कूल स्तर पर हुए नुकसान का आकलन करके खंड शिक्षा अधिकारी ने उसके मरम्मत के लिए बेसिक शिक्षा विभाग को प्रस्ताव भेजा है। बेसिक शिक्षा विभाग ने भी पनियरा, सदर, निचलौल, नौतनवा, लक्ष्मीपुर, फरेंदा,धानी व बृजमनगंज में हुए क्षतिग्रस्त हुए स्कूलों की मरम्मत के लिए शासन को पत्र भेजा है। 

प्राथमिक के लिए 1.79 करोड़ की जरूरत-
 बेसिक शिक्षा विभाग ने जिले में क्षतिग्रस्त हुए 161 प्राथमिक विद्यालयों के मरम्मत के लिए एक करोड़ 79 लाख तथा 77 उच्च प्राथमिक विद्यालयों के निर्माण के लिए 76 लाख की मांग की है। विभागीय जिम्मेदारों का कहना है कि मरम्मत के उपरांत विद्यालयों की समस्या दूर हो जाएगी। 

धन मिलते ही शुरू होगी मरम्मत- बीएसए 
बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश प्रसाद शुक्ल ने कहा कि जिले में क्षतिग्रस्त स्कूलों की मरम्मत के लिए शासन को पत्र भेजा गया है। धन मिलने के उपरांत क्षतिग्रस्त स्कूलों की मरम्मत शुरू कराई जाएगी।’


No comments:
Write comments