DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, October 23, 2017

महराजगंज : शबरी संकल्प अभियान को सफल बनाने के लिए 75 सेक्टर प्रभारी और 1030 पर्यवेक्षक रखेंगे 3133 आंगनबाड़ी केंद्रों पर नजर, अभियान के तहत 24, 27 तथा 30 अक्टूबर को आयोजित होगा 'वजन दिवस' कार्यक्रम

महराजगंज : कुपोषण से जंग के लिए चलाए जा रहे शबरी संकल्प अभियान की सफलता के लिए जिले को 75 सेक्टर में बांटा गया और प्रभारी की नियुक्ति की गई है। यह जानकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी अजातशत्रु शाही ने दी। अधिकारी ने बताया कि जिले में 24 अक्टूबर को फरेंदा, नौतनवा, सदर, परतावल, धानी व घुघली ब्लाक के 1513 आंगनबाड़ी केंद्रों पर आयोजित किया जाएगा जबकि 27 अक्टूबर को बृजमनगंज, लक्ष्मीपुर, मिठौरा, सिसवा, निचलौल व पनियरा ब्लाक के 1620 आंगनबाड़ी केंद्रों पर आयोजित होगा। इसके बाद छूटे हुए बच्चों का वजन 30 अक्टूबर को जिले के 3133 आंगनबाड़ी केंद्रों पर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि के सफल क्रियान्वयन के लिए 929 ग्राम सभाओं एवं 101 वाडरें में संचालित 3133 आंगनबाड़ी केंद्रों पर 1030 पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए हैं। ग्राम पंचायतों में कार्यरत अध्यापकों को ग्राम व वार्ड पर्यवेक्षक बनाया गया है। प्रत्येक पर्यवेक्षक को 25 आंगनबाड़ी केंद्रों के पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी सौंपी गई है। । राज्य पोषण मिशन के अंतर्गत गोद लिए गांवों में संबंधित अधिकारी जाएंगे। जिलाधिकारी ने सभी तहसीलों के एसडीएम व ब्लाकों में खंड विकास अधिकारियों को को सफल बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है। वजन के बाद बच्चों की तीन श्रेणियां बनाई जाएंगी। सामान्य, कुपोषित व अति कुपोषित। अति कुपोषित बच्चों को लाल श्रेणी में रखा जाएगा।


No comments:
Write comments