DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, October 12, 2017

यूपी लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में माइनस मार्किंग, पूरी तैयारी से प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्रों ने फैसले को सराहा

इलाहाबाद : उप्र लोक सेवा आयोग ने प्रतियोगी परीक्षाओं में माइनस मार्किंग यानी प्रश्नों के गलत जवाब देने पर सही जवाब से भी मिलने वाले अंक काट लेने की व्यवस्था का खाका तैयार करके तुक्केबाजों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी है। वहीं, आयोग के इस कदम से उन छात्रों को फायदा होने वाला है जो कड़ी मेहनत से दिन रात पढ़ाई करके परीक्षा में शामिल होते हैं। ऐसे प्रतियोगियों ने आयोग के फैसले को सराहा है।



आयोग ने आगे होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में माइनस मार्किंग करने का फैसला किया है। यह निर्देश अधियाचन में ही जोड़ा जाएगा। यानी परीक्षाओं में किसी प्रश्न का उत्तर ठीक से न आने पर उसका उत्तर देना प्रतियोगियों के लिए नुकसानदायक होगा। एक गलत जवाब देने पर दशमलव दो पांच अंक सही प्रश्नों के एवज में मिले अंकों से काटे जाएंगे। 1आयोग का कहना है कि आगामी परीक्षा में यह व्यवस्था लागू होगी। ऐसी व्यवस्था संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में पहले से लागू है। यूपीपीएससी भी लगभग यूपीएससी के पैटर्न को अपनाने जा रहा है। 



आयोग के इस कदम को सराहते हुए प्रतियोगी छात्र राजू सिंह, प्रतियोगी छात्र मोर्चा के अध्यक्ष शांतनु राय, अजीत सिंह आदि ने कहा है कि सभी आंदोलन अपनी जगह पर हैं लेकिन, आयोग का यह फैसला स्वागत योग्य है। प्रतियोगियों के अनुसार परीक्षाओं में तुक्केबाजी उन छात्रों का नुकसान करती है जो विभिन्न विषयों पर दिन रात अध्ययन करके परीक्षाओं की तैयारी करते हैं। ऐसे छात्र किसी प्रश्न के जवाब पर पूरी तरह विश्वसनीयता न होने के कारण उसे हल करने से बचते हैं, जबकि नकल के बलबूते विभिन्न परीक्षाएं पास कर प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्र बड़ी तेजी से उन प्रश्नों के उत्तर विकल्प को भी भर देते हैं, जिनके जवाब उन्हें नहीं मालूम रहते। 


यानी मसलन तीस प्रश्नों में 27-28 के जवाब भी भर देने पर चार छह में तो उनका तुक्का सही ही बैठ जाता है, जबकि नकलची छात्रों की यह आदत पूरी तैयारी से परीक्षा देने वालों का नुकसान करती है। छात्र कहते हैं कि आयोग के इस फैसले से प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग्य के भरोसे उत्तर विकल्प भरने वाले बाहर हो जाएंगे और मेधावियों को उनका वाजिब हक मिलेगा।


No comments:
Write comments