DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, October 14, 2017

टीईटी परीक्षा से पहले ही स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) ने साल्वर गैंग का भंडाफोड़ करते हुए दो ऑपरेटर को किया गिरफ्तार, कान में इयरप्लग के जरिये कराते थे नकल

■ एसटीएफ ने दो ऑपरेटर दबोचे, इलेक्ट्रानिक डिवाइस बरामद
■ व्यापमं घोटाले का अभियुक्त सरगना,
■ तलाश में जुटी एसटीएफएसटीएफ के हत्थे चढ़े टीईटी पेपर साल्व करने वाले आरोपी
■ ओएमआर में गलत सूचना अंकन पर मूल्यांकन नहीं

इलाहाबाद : अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) से पहले स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) ने साल्वर गैंग का भंडाफोड़ करते हुए दो ऑपरेटर को गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ की लखनऊ टीम ने बहरिया डिहवा निवासी संदीप पटेल पुत्र ओमकार नाथ व मऊआइमा किराव के रहने वाले शिवजी पटेल पुत्र राम अभिलाष को जार्जटाउन थाना क्षेत्र के हासिमपुर चौराहे से पकड़ा। इनके कब्जे से तीन मोबाइल, 31 इलेक्ट्रानिक डिवाइस, 25 डिवाइस स्टीकर, 28 ब्लूटूथ डिवाइस, सात सिम और करीब 10 हजार रुपये बरामद हुए हैं।

एसटीएफ के एडिशनल एसपी लखनऊ त्रिवेणी सिंह ने बताया कि गिरोह का सरगना इलाहाबाद के ही सुरेंद्र पाल व केएल पटेल हैं, जो विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में धोखाधड़ी करके अवैध वसूली करते हैं। उन्होंने बताया कि केएल पटेल मध्य प्रदेश के चर्चित व्यापमं घोटाले में भी जेल जा चुका है। गिरफ्त में आए अभियुक्तों से पूछताछ में यह भी पता चला है कि डिवाइस की सप्लाई करने वाला गैंग दिल्ली का है, जिसके बारे में एसटीएफ जानकारी जुटा रही है। साथ ही गिरोह में शामिल अन्य युवकों की तलाश में छापेमारी कर रही है। टीईटी परीक्षा 15 अक्टूबर को होनी है और उससे पहले ही एसटीएफ ने परीक्षा को प्रभावित करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ कर दिया।

अभ्यर्थियों की रख लेते हैं मार्कशीट : एडिशनल एसपी ने बताया कि गिरोह के सदस्य काफी शातिर हैं। वह परीक्षार्थियों को उत्तीर्ण कराने का प्रलोभन देते हैं और उनसे पैसा लेने के बजाए ओरिजनल मार्कशीट अपने पास रख लेते हैं। फिर परीक्षा पास करने के बाद उनसे पैसा वसूलते हैं। उन्होंने बताया कि साल्वर परीक्षा के दौरान स्पाई डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही कान में इयर प्लग यानी वायरलेस इयरफोन का इस्तेमाल करते हैं, जो आवाज नहीं करता है। परीक्षा शुरू होते ऑपरेटर व साल्वर के इलेक्ट्रानिक उपकरण कनेक्ट हो जाते हैं। इसके बाद दो घंटे का पेपर 15 से 20 मिनट में हल कर देते हैं।

No comments:
Write comments