DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, November 19, 2017

केंद्र निर्धारण के उठे सवाल पर अब यूपी बोर्ड का ‘डैमेज कंट्रोल, 20 नवम्बर तक आपत्तियाँ लेकर निस्तारण कर 27 तक करना होगा अपलोड

इलाहाबाद : परीक्षा केंद्रों के निर्धारण में जिला विद्यालय निरीक्षकों की मनमानी उनके लिए घातक साबित होगी। शिक्षा माफिया के स्कूलों को केंद्र निर्धारण में राजकीय व अशासकीय कालेजों से अधिक तवज्जो देने की प्रदेश भर से आ रही शिकायतों पर माध्यमिक शिक्षा परिषद उप्र ने अब ‘डैमेज कंट्रोल’ करना शुरू कर दिया है। इंजीनियरों की एक टीम लगाकर साफ्टवेयर में कहीं चूक की संभावना तलाशी जाने लगी है तो वर्षो से केंद्र बन रहे विद्यालयों की छंटनी बिना किसी आधार के करने वाले जिला विद्यालय निरीक्षकों पर बोर्ड की तलवार भी चलेगी। 



परीक्षा केंद्र निर्धारण को लेकर सूबे में तस्वीर इसलिए बदली है क्योंकि जिलों में जिला विद्यालय निरीक्षकों ने अपने कुछ कारिंदों के माध्यम से बोर्ड को डाटा खुद ही मुहैया कराने का प्रचार किया और स्कूल संचालकों की गणोश परिक्रमा करवाकर अपने मकसद में सफल हो गए। यही वजह रही कि प्रदेश भर में 3361 परीक्षा केंद्रों की छंटनी में उन विद्यालयों के भी नाम हैं जिनकी जिलों में अच्छी साख है। यूपी बोर्ड में प्रदेश के कई जिलों से इसकी शिकायतें आनी शुरू हो गई जिस पर बोर्ड ने पहले ही निर्णय लिया कि आपत्तियों का निस्तारण 20 नवंबर तक डीएम स्तर पर उसके बाद नवंबर के अंतिम सप्ताह में यूपी बोर्ड के स्तर पर करके परीक्षा केंद्रों की अंतिम सूची जारी की जाएगी। 



उधर, बोर्ड परीक्षा केंद्रों को लेकर उठे सवालों से बचने के लिए यूपी बोर्ड ने अब ‘डैमेज कंट्रोल’ करना शुरू कर दिया है। सूत्र बताते हैं कि साफ्टवेयर की जांच इंजीनियरों से कराई जा रही है कि कहीं तकनीकी गड़बड़ी से तो ऐसा नहीं हुआ? वहीं बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव कहती हैं कि जिन विद्यालयों के साथ अन्याय हुआ है उसके दोषी जिला विद्यालय निरीक्षकों पर कार्रवाई भी होगी।


No comments:
Write comments