DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, November 10, 2017

40 वर्षो के शैक्षिक अभिलेख स्कैन करके किए जाएंगे अपलोड, बड़ी सहूलियत की धीमी रफ्तार


यूपी बोर्ड चला हाईकोर्ट की राह पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के पुराने अभिलेखों को स्कैन करके ऑनलाइन अपलोड किया जा रहा है, उसी राह पर अब यूपी बोर्ड भी चल पड़ा है। यहां ऑनलाइन पंजीकरण व परीक्षा शुल्क जमा कराने के भी निर्देश हुए हैं। उसके लिए भी तैयारियां चल रही हैं, जबकि ऑनलाइन मान्यता के लिए आवेदन करने का कार्य शुरू हो चुका है।

 क्लिक पर वर्षो पुराने शैक्षिक अभिलेख कंप्यूटर या मोबाइल की स्क्रीन पर होंगे। सुनने में भले ही यह सहज लगता है, लेकिन यह काम बहुत बड़ा है। वजह यूपी बोर्ड से हर साल लाखों परीक्षार्थी हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं। उन नये-पुराने सभी के रिकॉर्ड को स्कैन करके वेबसाइट पर अपलोड करना मैराथन प्रक्रिया का हिस्सा है। प्रदेश सरकार के आदेश के बाद भी उसकी रफ्तार बेहद धीमी है। ऐसे में तय समय पर काम पूरा कराना चुनौती भरा है। 1माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड ने तकनीक के साथ कदमताल कर रहा है। कक्षा 9 व 11 के पंजीकरण और 10 व 12 के परीक्षा फार्म ऑनलाइन भरवाने के बाद बोर्ड तेजी से इस दिशा में बढ़ा है। अब तमाम कार्य यहां ऑनलाइन हो रहे हैं। बोर्ड ने 1975 से लेकर अब तक के शैक्षिक रिकॉर्ड को भी ऑनलाइन अपलोड कराने का प्रस्ताव भेजा था। उस पर कुछ माह पहले ही मंजूरी मिल गई है। शासन ने यह कार्य समयबद्ध तरीके से करने के निर्देश दिए हैं। यानी किस वर्ष तक के अभिलेख कब तक ऑनलाइन अपलोड हो इसकी समय सारिणी जारी हुई है। तीन वर्ष के रिकॉर्ड 30 अक्टूबर तक जारी होने थे, लेकिन यह कार्य परीक्षा तैयारियों के कारण पूरा नहीं हो पाया है। 1अभिलेख सत्यापन में होगी सुविधा : इस कार्य का सबसे बड़ा फायदा अभिलेखों के सत्यापन में होगा। नियुक्ति के बाद अफसर अपने कार्यालय में बैठकर ही सत्यापन कर सकेंगे। उन्हें पत्रवली बोर्ड भेजने की जरूरत नहीं होगी। फर्जीवाड़े पर अंकुश लगेगा, क्योंकि पिछले वर्षो में अंक व प्रमाणपत्र में हेराफेरी करके नियुक्तियां होने का मामला सामने आ चुका है। अभ्यर्थियों को भी भागदौड़ से निजात मिलेगी।तीन फेज में पूरा हो काम 1बोर्ड ने यह कार्य दो चरणों में पूरा कराने का प्रस्ताव भेजा था, लेकिन शासन ने इसे बदलकर तीन चरण बना दिए हैं। दूसरा चरण 26 जनवरी 2018 व तीसरा चरण 15 अगस्त, 2018 में पूरा करने का लक्ष्य दिया गया है। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव का कहना है कि अगले माह से इसका असर दिखेगा। हर काम तेजी से हो रहा है। तय समय में कार्य हर हाल में पूरा करेंगे। 1पुराने अभिलेख करने होंगे स्कैन1यूपी बोर्ड ने इधर के करीब 15 वर्षो का काफी हिस्सा ऑनलाइन अपलोड कर रखा है, लेकिन उसे अपडेट किया जाना है। क्योंकि सारे रिकॉर्ड अंक-सहप्रमाणपत्र की तरह नहीं है। वहीं, पुराने रिकॉर्ड स्कैन करके ही अपलोड होंगे। 1990 से पहले के रिकॉर्ड खोजकर अपलोड करने में वक्त लगेगा। इसके लिए विशेषज्ञों का सहारा लिया जाएगा। स्कैनिंग का काम पूरा होने के साथ ही उसे बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा।

No comments:
Write comments