DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, November 24, 2017

आजीवन डिबार कालेज भी बना परीक्षा केंद्र, अब ‘दागी’ कालेजों की जगह अच्छी साख वाले कालेजों को परीक्षा केंद्रों की सूची में शामिल करने की चल रही तैयारी

यूपी बोर्ड की परीक्षा में नकल के सारे रिकॉर्ड तोड़कर आजीवन डिबार हुआ कालेज भी इस बार परीक्षा केंद्रों की सूची में शामिल है। इतना ही नहीं, डिबार हो चुके चार अन्य कालेज भी परीक्षा केंद्र बन गए हैं। ताज्जुब यह है कि इन कालेजों की कंप्यूटर साफ्टवेयर में सूचना दर्ज करते समय जिला विद्यालय निरीक्षक और बोर्ड प्रशासन ने अनदेखी की। इसीलिए यह बड़ी चूक सामने आई है। शासन ने भी जिला विद्यालय निरीक्षकों को सिर्फ हिदायत देकर छोड़ दिया है, किसी पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2018 के लिए इस बार कंप्यूटर के जरिये केंद्रों का निर्धारण हुआ है। इसमें कानपुर के दो ऐसे कालेजों को केंद्र बनाया गया, जिन पर पिछले वर्ष की परीक्षा में नकल कराने पर शिक्षक पर एफआइआर दर्ज हुई व दूसरे कालेज ने बड़ी संख्या में फर्जी छात्र-छात्रओं के प्रवेश पत्र तैयार करके परीक्षा में बैठाया था।

इसी तर्ज पर इलाहाबाद में भी गड़बड़ी सामने आई है यहां का जगपत सिंह सिंगरौरा इंटर कालेज धूमनगंज परीक्षा केंद्र बना है, यह कालेज सामूहिक नकल कराने के आरोप में आजीवन डिबार सूची में दर्ज है। ऐसे ही गोपीनाथ इंटर कालेज धरावल मेजा, बलरामपुर इंटर कालेज बरेठी, चंद्रशेखर इंटर कालेज प्रतापपुर को भी काली सूची में डाला गया था लेकिन, यह कालेज केंद्र बनने में सफल रहे हैं। इलाहाबाद के ही सरयू प्रसाद इंटर कालेज आनापुर में पिछले वर्ष की परीक्षा में एफआइआर तक दर्ज हुई, लेकिन बाद भी कालेज पर अफसरों ने मेहरबानी की है।

बोर्ड सूत्रों की मानें तो अन्य जिलों में भी इस तरह के मामले अब धीरे-धीरे सामने आ रहे हैं। इन गड़बड़ियों से साफ हो गया है कि जिला विद्यालय निरीक्षकों ने साफ्टवेयर में अंक दर्ज करने व केंद्र बनाने में सत्यापन के नाम पर सिर्फ खानापूरी की है।

‘दैनिक जागरण’ ने पिछले दिनों एक के बाद एक प्रकरण प्रमुखता से उजागर किए तो शासन हरकत में आया जरूर लेकिन, जिला विद्यालय निरीक्षकों को अंतिम सूची तक गड़बड़ियां दुरुस्त करने की हिदायत देकर छोड़ दिया। यही नहीं, बोर्ड ने यह गड़बड़ी भी नहीं पकड़ी। अब ‘दागी’ कालेजों की जगह अच्छी साख वाले कालेजों को परीक्षा केंद्रों की सूची में शामिल करने की तैयारी चल रही है।

No comments:
Write comments