DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, December 4, 2017

अब तक जारी परिणामों पर भी आएगी जांच की आंच, यूपीपीएससी से की गईं भर्तियों पर सवाल उठने का सिलसिला अभी भी बरकरार

इलाहाबाद  : उप्र लोक सेवा आयोग ने विगत पांच महीने में जितने भी बैकलॉग के रिजल्ट जारी किए हैं उन पर भी सीबीआइ जांच की आंच आएगी। आयोग ने अधिकतर उन्हीं चयन परीक्षाओं के साक्षात्कार कराने के बाद परिणाम जारी किए हैं जिनके आवेदन सपा शासनकाल में सीधी भर्ती के तहत लिए गए थे।

पूर्व अध्यक्ष अनिल यादव पर अभ्यर्थियों के चयन में धांधली के गंभीर आरोप लगे थे, जबकि जिन प्रतियोगी छात्रों ने भर्तियों की सीबीआइ जांच के लिए जमकर आंदोलन किया था और प्रकरण कोर्ट में ले गए थे उन्हें बैकलॉग के जारी हो रहे परिणामों और अध्यक्ष की कार्यशैली पर भी संदेह है।

गौरतलब है कि उप्र लोक सेवा आयोग से सपा शासन में हुई सभी भर्तियों की जांच का उप्र सरकार ने 19 जुलाई को एलान किया था। इसके साढ़े चार महीने बाद केंद्रीय कार्मिक मंत्रलय ने भर्तियों की सीबीआइ जांच का नोटिफिकेशन पिछले दिनों जारी किया है। रीवर फ्रंट घोटाले की जांच के बाद उप्र लोक सेवा आयोग से हुई भर्तियों की जांच शुरू होनी है। फिलहाल यूपी में प्रशासनिक पदों सहित अन्य विभागीय सेवाओं के अंतर्गत हुई 600 से अधिक भर्तियां जांच के दायरे में प्रथम दृष्टया हैं लेकिन आयोग से सपा शासन के पांच वर्ष के कार्यकाल में अधिकतर चयन सीधी भर्ती के जरिए ही हुए। प्रतियोगी छात्रों ने सीधी भर्ती से चयन प्रक्रिया पर अंगुली उठाते हुए व्यापक रूप से धांधली का आरोप लगाया है।

इस बीच पांच महीने में आयोग ने डिग्री कालेजों व इंटर कालेज में प्रवक्ताओं के सबसे अधिक परिणाम जारी किए। इनके अलावा मुख्य अग्निशमन अधिकारी, अपर निजी सचिव, समीक्षा अधिकारी /सहायक समीक्षा अधिकारी 2014, चिकित्साधिकारी सहित अन्य कई महत्वपूर्ण परीक्षाओं के परिणाम जारी किए हैं। इन सभी के आवेदन सपा शासन में लिए गए थे साक्षात्कार उप्र लोक सेवा आयोग की वर्तमान कमेटी के निर्णय पर हुए। परीक्षाएं सपा शासन से जुड़ी होने के कारण सीबीआइ जांच की आंच इन पर भी पड़नी तय है।

प्रथमदृष्टया इन परीक्षाओं की होगी जांच :
सपा शासन काल में 2011 से 2015 तक पीसीएस परीक्षाओं से ढाई हजार पदों पर भर्तियां हुईं। इसमें 2011 में एसडीएम और डिप्टी एसपी सहित अन्य श्रेणी के 389 पदों पर, 2012 में 345 पदों पर, 2014 में 650 पदों पर, 2014 में 579 और पीसीएस-2015 परीक्षा के तहत 251 पदों पर भर्तियां हुईं। इसके अलावा पांच साल में लोअर सबआर्डिनेट परीक्षा के तहत 4138 पदों पर भर्तियां जांच के दायरे में होंगी।

कृषि तकनीकी सहायक : आयोग ने सपा शासन में कृषि तकनीकी सहायकों की परीक्षाएं कराकर 6628 पदों पर भर्ती की। इसमें ओबीसी के आरक्षित पदों पर लंबा खेल होने की शिकायत हुई थी।

पांच महीने में जारी परिणामों की हो जांच : प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति के मीडिया प्रभारी अवनीश पांडेय ने बताया कि यूपीपीएससी के वर्तमान अध्यक्ष अनिरुद्ध सिंह यादव की शैक्षणिक डिग्रियां संदिग्ध हैं। इनके कार्यकाल में जो भी बैकलॉग के रिजल्ट जारी हुए हैं उनकी शुचिता पर भी संदेह है। इसलिए पूर्व की भर्तियों के अलावा पांच महीने में साक्षात्कार के बाद जो परिणाम जारी किए गए उनकी भी जांच आवश्यक है।

No comments:
Write comments