DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, March 7, 2018

रिवाइज्ड व्यावसायिक शिक्षा योजना को सफल बनाने को नियमावली बदली, नए सत्र से हाईस्कूल व इंटर में पांच नए वैकल्पिक विषय

इन विषयों की होगी पढ़ाई और परीक्षा

इलाहाबाद : अकादमिक पढ़ाई के साथ ही छात्र-छात्रओं को हुनरमंद बनाने की बड़ी पहल हुई है। यूपी बोर्ड की ओर से संचालित प्रदेश भर के 26 हजार से अधिक कालेजों में नए सत्र से पांच नए वैकल्पिक विषयों की पढ़ाई शुरू होगी। शासन ने बोर्ड के प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए विनिमय संशोधन को मंजूरी दे दी है। अब बोर्ड प्रशासन इसकी हाईस्कूल व इंटर के साथ पढ़ाई कराकर परीक्षाएं भी कराएगा।

माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड में हाईस्कूल व इंटर के छात्र-छात्रएं अभी तक ऐसे विषय लेकर पढ़ाई करते रहे हैं, जो एकेडमिक महत्व के रहे हैं। अप्रैल से शुरू होने वाले नए शैक्षिक सत्र में यूपी बोर्ड छात्र-छात्रओं के लिए हुनरमंद बनने का द्वार भी खोलने जा रहा है। शासन से विनिमय संशोधन की मंजूरी मिल गई है। इससे व्यावसायिक पढ़ाई वैकल्पिक विषय के रूप में करने का मार्ग प्रशस्त हुआ है।

■ प्रदेश के कुछ कालेजों में चल रही थी पढ़ाई : केंद्र सरकार की यह योजना पिछले कुछ वर्षो से प्रदेश के चुनिंदा यानी करीब 100 राजकीय कालेजों में चल रही थी। जिसमें पहले चार विषय हेल्थ केयर को छोड़कर पढ़ाए जा रहे थे। बाद में आटोमोबाइल की जगह हेल्थ केयर को जोड़ा गया। इन विषयों की परीक्षा भी आंतरिक मूल्यांकन के जरिए कराई जा रही थी। यह योजना राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान का हिस्सा बनकर रह गई थी। अब यूपी बोर्ड में यह विषय जुड़ने से आम छात्र-छात्रओं को लाभ मिल सकेगा।

इलाहाबाद : अकादमिक पढ़ाई के साथ ही छात्र-छात्रओं को हुनरमंद बनाने की बड़ी पहल हुई है। यूपी बोर्ड की ओर से संचालित प्रदेश भर के 26 हजार से अधिक कालेजों में नए सत्र से पांच नए वैकल्पिक विषयों की पढ़ाई शुरू होगी। शासन ने बोर्ड के प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए विनिमय संशोधन को मंजूरी दे दी है। अब बोर्ड प्रशासन इसकी हाईस्कूल व इंटर के साथ पढ़ाई कराकर परीक्षाएं भी कराएगा।

No comments:
Write comments