DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, March 25, 2018

जल्दबाजी से प्रभावित होगा यूपी बोर्ड का रिजल्ट, अप्रैल माह के अंत तक परिणाम जारी कराने की तैयारी

इलाहाबाद : यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल व इंटर परीक्षा का कार्यक्रम और इम्तिहान भले ही तय समय से पहले शुरू करा लिया लेकिन, परीक्षा परिणाम में जल्दबाजी से रिजल्ट प्रभावित होगा। जल्द परिणाम देने में बड़ी संख्या में अपूर्ण रिजल्ट घोषित होते रहे हैं। बोर्ड प्रशासन अप्रैल माह के अंत तक परिणाम जारी कराने की तैयारी कर रहा है।

यूपी बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन बीते 17 मार्च से शुरू है। 248 मूल्यांकन केंद्र बने हैं और वहां करीब एक लाख 46 हजार से अधिक परीक्षकों को नियुक्ति दी गई। पांच करोड़ से अधिक कॉपियों के मूल्यांकन के लिए यह संख्या पर्याप्त है लेकिन, ऐन मौके पर भुगतान को लेकर वित्तविहीन शिक्षकों ने कार्य बहिष्कार कर दिया। इससे शुरुआत के कई जिलों में कार्य प्रभावित हुआ लेकिन, धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है, फिर भी शिक्षकों की कमी है। अब तक दो करोड़ से अधिक कॉपियों का मूल्यांकन हो चुका है लेकिन, यह कार्य 15 दिन में पूरा हो पाने के आसार नहीं है इसीलिए मूल्यांकन की अप्रैल के प्रथम सप्ताह तक बढ़ा दिया गया है।


सामान्य रूप से मूल्यांकन खत्म होने के बाद रिजल्ट तैयार करने में 20 से 25 दिन लगते रहे हैं ऐसे में रिजल्ट अंतिम सप्ताह के पहले आने के आसार नहीं है। जल्दबाजी में परिणाम में अपूर्ण परीक्षार्थियों की संख्या बढ़ सकती है। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव का कहना है कि परिणाम की तारीख अभी तय नहीं है लेकिन, परिणाम देने में ज्यादा देरी नहीं होगी।

No comments:
Write comments