DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, April 5, 2018

आश्रम पद्धति स्कूलों के लिए मिला पांच करोड़ 50 लाख रुपये का बजट, 45 हजार बच्चों की होगी एक ड्रेस, दो सेट मिलेंगे मुफ्त

अब परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों को बेहतर सुविधा मिलेगी। राजधानी के 50 परिषदीय स्कूलों में से 10 स्कूलों को हाईटेक किया जाएगा। इन स्कूलों में बिजली, पानी, कम्प्यूटर लैब समेत कई सुविधाओं से लैस किया जाएगा। इतना ही नहीं विद्यार्थियों को टीवी पर शैक्षिक कार्यक्रम भी दिखाए जाएंगे। बीएसए प्रवीण मणि त्रिपाठी ने बताया कि चयनित विद्यालयों में कंप्यूटर लैब स्थापित करने का काम किया जा रहा है। जल्द ही बाकी के स्कूलों में भी पूरी तैयारी करके हाईटेक पढ़ाई शुरू करवा ली जाएगी। बता दें कि राजधानी के सांसद और गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सहयोग से इन स्कूलों को हाइटेक किया जा रहा है।

इन स्कूलों का हुआ चयन

जिन दस विद्यालयों को चयनित किया गया है। इनमें प्राथमिक विद्यालय भपटामऊ, प्राथमिक विद्यालय गाजीपुर बस्तौली, प्राथमिक विद्यालय खुर्रमनगर, प्राथमिक विद्यालय बटहा सबौली, प्राथमिक विद्यालय चंदन, पूर्व माध्यमिक विद्यालय नौबस्ता, पूर्व माध्यमिक विद्यालय कन्या चिन्हट और पूर्व माध्यमिक विद्यालय गाजीपुर बस्तौली शामिल हैं।
हाईटेक सुविधाओं से लैस होंगे 10 परिषदीय स्कूल
निदेशक समाज कल्याण के मुताबिक प्रदेश में संचालित 93 में से 45 स्कूलों को सीबीएसई बोर्ड से मान्यता मिल चुकी है। जल्द ही शेष स्कूलों की मान्यता करवाने के प्रयास हो रहे हैं। सीबीएसई पैटर्न जैसी सुविधाएं देने के लिए सभी स्कूलों में कम्यूटर लैब, पानी के लिए आरओ सिस्टम लगाना और जिन स्कूलों में बिजली की समस्या हैं वहां सोलर पैनल लगाने समेत कुछ अन्य जरूरी कामों के लिए शासन को 60 करोड़ रुपयों का प्रस्ताव बनाकर भेजा जा चुका है। बजट आवंटित होते ही ये सभी काम शुरू करवा दिए जाएंगे।
इन कामों के लिए मांगा 60 करोड़ का बजट
संविदा शिक्षक होंगे नियमित जगदीश प्रसाद के मुताबिक आश्रम पद्धति स्कूलों में संविदा पर पढ़ाने वाले शिक्षकों में हर वक्त नौकरी गंवाने का डर बना रहता है। लिहाजा विभाग की कोशिश है कि इन 93 स्कूलों के करीब 750 संविदा शिक्षकों को नियमित कर दिया जाए।

खाली पद आउट सोर्सिंग से भरे जाएंगे: निदेशक समाज कल्याण ने बताया कि राजकीय पद्धति आश्रम स्कूलों में अब भी शिक्षकों की कमी है। इस गैप को पूरा करने के लिए संविदा शिक्षकों की भर्ती पर तो रोक लगी है लेकिन आउट सोर्सिंग से भरे जाने की कवायद शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि 93 स्कूलों में करीब 400 से 500 शिक्षकों की आउट सोर्सिंग से भर्ती किए जाने का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। जल्द से इसे भी प्रमुख सचिव को अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा।• योगेन्द्र अवस्थी, लखनऊ

समाज कल्याण विभाग राजधानी समेत प्रदेश के सभी 93 राजकीय आश्रम पद्धति के विद्यार्थियों को मुफ्त में ड्रेस उपलब्ध करवाएगा। इसके अलावा संविदा पर काम कर रहे शिक्षकों को भी नियमित करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। खाली शिक्षकों के पदों पर आउट सोर्सिंग से पद भरे जाने का मसौदा तैयार किया

गया है।

निदेशक समाज कल्याण विभाग जगदीश प्रसाद ने बुधवार को बताया कि नवोदय स्कूलों की तर्ज पर समाज कल्याण विभाग, राजकीय पद्धति आश्रम स्कूलों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए तमाम प्रयास कर रहा है। राजधानी समेत प्रदेश के 75 जिलों में 93 स्कूल चल रहे हैं। अब तक इन स्कूलों में बच्चों की ड्रेस अलग-अलग हुआ करती थी लेकिन इस वित्तीय वर्ष से सभी स्कूलों की ड्रेस एक जैसी होगी। सभी विद्यार्थियों को दो सेटों में यह ड्रेस मुफ्त दी जाएगी। कक्षा आठ से 12वीं तक के छात्रों को फुल पैंट और फुट शर्ट जबकि जूनियर से लेकर कक्षा सात तक के छात्रों को हाफ पैंट और शर्ट दी जाएगी। इसी तरह से छात्राओं को दो सेट में टॉप और स्कर्ट दी जाएंगी। इसके लिए शासन से पांच करोड़ "50 लाख आवंटित हो चुके हैं। प्रदेश के 93 स्कूलों में 45,570 स्टूडेंट्स पढ़ रहे हैं।


No comments:
Write comments