DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, July 11, 2018

यूपी बोर्ड में पुराने रिकॉर्ड नहीं हो पा रहे ऑनलाइन,   पुराने रिकार्ड को स्कैन करने के काम से प्राइवेट एजेंसियों ने मोड़ा मुंह

इलाहाबाद : यूपी बोर्ड ने इधर के वर्षो के अंक सहप्रमाणपत्र ऑनलाइन अपलोड कर दिया है। छात्र-छात्रओं व अभिभावकों को पुराने अंक व प्रमाणपत्रों के लिए दौड़ न लगानी पड़े इस संबंध में आदेश पिछले वर्ष हो चुका है लेकिन, अब तक बोर्ड प्रशासन को यह कार्य पूरा करने वाली संस्था नहीं मिल सकी है। इसलिए प्रक्रिया अधर में अटकी है। 



शासन का निर्देश है कि सभी सरकारी कार्यालय जनहित के कार्य पारदर्शी तरीके से करने के लिए अद्यतन तकनीक का सहारा लें। यूपी बोर्ड को निर्देश है कि मुख्यालय व क्षेत्रीय कार्यालयों में अभिभावक व छात्र-छात्रओं की भीड़ न लगे, बल्कि उनसे जुड़ी सुविधाएं घर-बैठे मुहैया कराई जाए। इधर तमाम छात्र-छात्रएं पिछले वर्षो के अंक व प्रमाणपत्र हासिल करने व उसे दुरुस्त कराने के लिए दौड़ लगा रहे हैं। ऐसे में अपर मुख्य सचिव संजय अग्रवाल ने निर्देश दिया था कि 1975 से लेकर अब तक के सारे अहम रिकॉर्ड वेबसाइट पर अपलोड कर दिए जाएं। इस कदम से उसमें छेड़छाड़ भी नहीं हो सकेगी। 




ज्ञात हो कि 2003 से लेकर 2018 तक के रिकॉर्ड वेबसाइट पर आ चुके हैं। पिछले वर्षो के रिकॉर्ड को स्कैन करके ही अपलोड किया जा सकता है। इसके लिए बोर्ड प्रशासन ने प्रदेश की कई एजेंसियों से संपर्क किया। कुछ संस्थाएं कार्य देखने बोर्ड मुख्यालय तक पहुंची भी लेकिन, सभी ने कार्य करने से इन्कार कर दिया है, क्योंकि पुराने रिकॉर्ड को स्कैन करना बेहद कठिन लग रहा है। यही नहीं इस कार्य में कई करोड़ धन भी खर्च होना है, जब कार्य करने वाली संस्था नहीं मिल रही है तब उसमें खर्च होने वाला प्रस्ताव भी अंतिम रूप नहीं ले पा रहा है। बोर्ड अफसरों की मानें तो अब इस कार्य पूरा करने के लिए दिल्ली की कुछ एजेंसियों से संपर्क किया जा रहा है। अगले कुछ महीनों में यह कार्य आगे बढ़े।



No comments:
Write comments