DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, August 10, 2018

फतेहपुर : शून्य से 14 वर्ष के बच्चों की बनाई जाएगी कुण्डली, खण्ड शिक्षा अधिकारियों ने शिक्षकों को सिखाये सर्वे के गुण


शून्य से 14 वर्ष के बच्चों की बनाई जाएगी कुंडली



जागरण संवाददाता, फतेहपुर: जनपद के सभी गांवों व नगर क्षेत्र में बाल गणना कराने के निर्देश दिए गए हैं। जनपद के सभी 13 विकास खंड क्षेत्रों में खंड शिक्षा अधिकारियों ने शिक्षक-शिक्षिकाओं से घर-घर जाकर हाउस होल्ड सर्वे करने के लिए कहा है। शून्य से चौदह वर्ष के बच्चों की पूरी कुंडली तैयार की जाएगी, जिसके अंतर्गत बच्चा कहां पढ़ रहा है, या फिर नहीं आउट आफ स्कूल है तो कारण का भी उल्लेख करना है। 


शनिवार को ब्लाक संसाधन केंद्रों में हुए प्रशिक्षण में खंड शिक्षा अधिकारियों ने शिक्षकों को सर्वे के गुर सिखाए। इस कार्य में ज्यादातर शिक्षक व शिक्षामित्रों का दायित्व सौंपा गया है। बहुआ विकास खंड क्षेत्र के शाह स्थित ब्लाक संसाधन केंद्र में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों के 132 प्रधानाध्यापकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण कराया गया। जिसमें खंड शिक्षा अधिकारी देवेंद्र कुमार वर्मा ने शिक्षा अधिकार अधिनियम के अंतर्गत प्रत्येक बच्चे को शिक्षित करने के लिए शिक्षकों से अपील की। खास करके असेवित बस्तियों में घर-घर जाकर अभिभावकों को शिक्षा का महत्व बताएं व बच्चों को स्कूलों में दाखिला करवाने के लिए प्रेरित करें। बीआरसी राजेश तिवारी, बृजेश पटेल, शशांक सिंह आदि रहे





हाउस होल्ड सर्वे से खोजेंगे स्कूल न जाने वाले बच्चे

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : हर बच्चे को शिक्षा के अधिकार से जोड़ने के लिए गुरुजी हाउस होल्ड सर्वे करेंगे। घर-घर पहुंच कर कुंडी खटखटाएंगे और स्कूल न जाने वाले बच्चों के अभिभावकों को प्रेरित करेंगे। नाम पता दर्ज करते हुए अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने को कहेंगे। बीएसए ने सभी खंड शिक्षाधिकारियों को 20 अगस्त तक इस अभियान को पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

शैक्षिक सत्र 2018-19 में स्कूल न जाने वाले बच्चों की खोज कराने का निर्देश शासन ने दिया है। इस अभियान के तहत 6 से 14 साल के बच्चों पर निगाह टिकाने के निर्देश दिए हैं। जिसमें विद्यालय से बनाई गई कार्ययोजना को बीआरसी में जमा करने के निर्देश दिए हैं। इस कार्ययोजना में किस दिन किस शिक्षक की ड्यूटी कहां पर लगाई गई है इस ब्योरा दर्ज होगा। सर्वे को सफल बनाने के लिए विद्यालय स्तर पर ग्राम शिक्षा समिति की बैठक करानी होगी।

No comments:
Write comments