DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, August 10, 2018

फतेहपुर : 300 स्कूलों की छतों से टपक रहा पानी, टपकता पानी देख डीएम ने दिया बीईओ को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश

300 स्कूलों की छतों से टपक रहा पानी

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : जिले के कई परिषदीय स्कूलों के भवन खस्ताहाल हैं। दो दशक पहले की बनी सैकड़ों इमारते ऐसी हैं जो गुणवत्ता के अभाव में टपक रही हैं। निर्माण कराने वालों का अता पता नहीं है जबकि प्रधानाध्यापक की जिम्मेदारी उठाने वाले शिक्षक-शिक्षिकाएं परेशान हो रहे हैं। खासे बजट की जरूरत के चलते इनका मरम्मतीकरण भी नहीं हो पा रहा है। नौनिहालों के जीवन पर आंच न आए इसके लिए इन भवनों के नीचे बच्चों को बैठने की अलबत्ता मनाही कर दी गई है। जिले में 1903 प्राथमिक एवं 747 उच्च प्राथमिक विद्यालय संचालित हो रहे हैं। इन विद्यालयों में करीब 300 ऐसे स्कूल हैं जिनकी छत से पानी टपकता है या फिर सीलन के चलते खतरा प्रतीत हो रहा है। ढकौली न्याय पंचायत के प्राथमिक विद्यालय उमरी प्रथम में बने चार कमरों में तीन कमरे बेहद जर्जर हो गए हैं। कमरे में प्लास्टर नहीं है। मलबे का ढेर लगा है। प्रधानाध्यापिका शालिनी सिंह ने बताया पानी टपकने के चलते बरामदे में बैठाकर शिक्षण कार्य कराया जाता है। इसी ब्लॉक के धनसिंहपुर, चकमीरपुर, बरौंहा, शाह आदि में आ रही दिक्कतों के चलते प्रधानाध्यापकों ने बीइओ से मामले की शिकायत की है। कमोवेश यह समस्या जिले के अन्य ब्लॉकों में है। उधर, डीएम आंजनेय कुमार सिंह ने बेसिक शिक्षा विभाग को जर्जर भवनों को चिह्नित करने के निर्देश दिए हैं।

प्रधान के अधिकार सीज, बीईओ को प्रतिकूल प्रविष्टि

संवाद सहयोगी, ¨बदकी : गांवों में सरकारी जमीनों पर कब्जे, सड़क किनारे पड़ने वाले घूर व स्कूलों की दशा देखने के चल रहे अभियान के तहत गुरुवार को अचानक डीएम आंजनेय कुमार सौंह गांव पहुंच गए। गंदगी से पटा गांव व जगह-जगह पड़े घूर देखकर डीएम का पारा चढ़ गया। उन्होंने प्रधान के अधिकार तत्काल प्रभाव से खत्म करते हुए यहां पर कमेटी गठित करने और स्कूल की छत से टपकता पानी देखकर बीईओ को प्रतिकूल प्रविष्ट देने का निर्देश दिया। उन्होंने स्कूल में बच्चों को पढ़ाया और उनका बौद्धिक स्तर का आंकलन कर यहां पढ़ाई और बेहतर करने का निर्देश दिया। निरीक्षण दौरान पाया गया कि इस पर गांव में विकास काम प्रभावित है। चूंकि प्रधान एक मुकदमें वांछित हैं। डीएम ने मौके पर मौजूद खंड विकास अधिकारी प्रतिभा वर्मा से दो दिन के अंदर गांव में कमेटी बनाकर ग्राम सभा का खाता संचालन कराने के निर्देश दिए, ताकि विकास के रुके काम चालू हो सकें। तालाब व ग्राम सभा की जमीन पर अवैध कब्जों की शिकायत आई तो उन्होंने कहा कि खाद गड्ढे, नाली, चकरोड़, बंजर, पशुचर की जमीन अतिक्रमण कारी स्वयं खाली कर दें। विधायक के गोद लिए विद्यालय का किया निरीक्षण: विधायक करण पटेल द्वारा गोद लिए स्कूल प्राथमिक पाठशाला पहरवापुर के एक कार्यक्रम में डीएम आंजनेय कुमार सिंह ने शिकरत की। स्कूल के बच्चों के कार्यक्रमों की प्रस्तुति, विद्यालय के रख-रखाव, साज-सज्जा देख डीएम ने विद्यालय को बनाने में सहयोग देने वाले सभी लोगों के प्रति आभार जताया।

No comments:
Write comments