DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, September 9, 2018

कौशांबी : हाथों-हाथ मांगा नियुक्ति पत्र मिली फोटो कॉपी, डाक से नियुक्ति पत्र भेजने का शिक्षकों ने किया विरोध

हाथों-हाथ मांगा नियुक्ति पत्र मिली फोटो कॉपी

शिक्षकों ने शनिवार को फिर घेरा डीएम का आवास, डाक से नियुक्ति पत्र भेजने का करते रहे सभी विरोध
368
405
19 शिक्षकों की प्रमाण पत्रों पर संदेह, रोका नियुक्ति पत्र

जासं, कौशांबी : 41556 शिक्षकों में से 405 शिक्षकों को कौशांबी में शिक्षक पद पर नियुक्ति किया जाना था। इसके लिए एक सितंबर से ही कार्रवाई चल रही है। कई दिनों से शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच हो रही थी। 19 शिक्षकों के दस्तावेज संदिग्ध मिले हैं। उनको रोकर अन्य शिक्षकों को नियुक्ति पत्र डाक के माध्यम से भेजा जा चुका है। कौशांबी जिले में 405 शिक्षकों को तैनात किया जाना था। इसके लिए अलग-अलग चरणों में 316 व 89 शिक्षकों की सूची जिले में भेजी गई। एक सितंबर से छह सितंबर के मध्य शिक्षकों को काउंसिलिंग व विद्यालय आवंटन की प्रक्रिया चली। इस दौरान केवल 387 शिक्षक ही उपस्थित हुए। 18 शिक्षकों ने जिले में नौकरी करने को लेकर रुचि नहीं दिखाई। पांच सितंबर से ही शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच हो रही थी। विभागीय जांच में 19 शिक्षकों के दस्तावेजों को लेकर अधिकारियों को संदेह हुआ। इसके बाद उनके नियुक्ति पत्र रोक दिया गया। शुक्रवार की रात शेष बचे 368 शिक्षकों को डाक के माध्यम से नियुक्ति पत्र भेजा जा चुका है।

जागरण संवाददाता, कौशांबी : शिक्षक डाक से नियुक्ति पत्र भेजे जाने का विरोध कर रहे हैं। वह हाथों हाथ नियुक्ति पत्र मांग रहे है। मांग को लेकर उन्होंने शनिवार को एक बार फिर डीएम आवास का घेराव किया। वहां से सभी को बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय वापस का दिया गया। शिक्षकों ने डाक से नियुक्ति पत्र मिलने में देरी होने की बात कही और शोर मचाने लगे। इसी दौरान किसी ने दूसरी प्रति देने का विकल्प दिया। जिस पर सभी को नियुक्ति पत्र की फोटो कॉपी उपलब्ध करा दी गई।

काउंसिलिंग व विद्यालय आवंटन के प्रक्रिया के बाद से ही शिक्षक बेसिक शिक्षा अधिकारी पर हाथों हाथ नियुक्ति पत्र दिए जाने का दबाव बना रहे है। अपनी इस मांग को लेकर लगातार तीन दिनों से शिक्षक प्रदर्शन करते आ रहे है। इसके बाद भी नियमों का हवाला देते हुए उनको हाथों हाथ नियुक्ति पत्र नहीं दिया। शनिवार को शिक्षकों ने एक बार फिर नियुक्ति पत्र दिए जाने का दबाव और डीएम आवास का घेराव किया। इस पर सभी को बीएसए कार्यालय भेज दिया गया। वहां उनकों बताया किया कि नियुक्ति पत्र भेजा जा चुका है। ऐसे में दोबारा नियुक्ति पत्र दिया जाना संभव नहीं है। यह नियम के भी विपरीत होगा। बीएसए से वार्ता के बाद फोटो कॉपी दिए जाने पर शिक्षक सहमत हो गए। सभी को बीएसए कार्यालय से नियुक्ति पत्र की फोटो कॉपी उपलब्ध करा दी गई। इसके बाद वह चले गए। बीएसए सत्येंद्र सिंह ने बताया कि फोटो कॉपी उनकी संतुष्टि के लिए दी गई है। बिना मूल प्रति के किसी को विद्यालय में ज्वांइन नहीं कराया जाएगा। पूर्व में कुछ शिक्षकों ने गलत पता दे दिया था। इससे फर्जी शिक्षकों की जांच में समस्या आई थी।

नियुक्ति पत्र नहीं मिलने को लेकर डीएम आवास के सामने प्रदर्शन करते शिक्षकलोगों के भेजे गए नियुक्ति पत्रको कौशांबी में होना था नियुक्तशिक्षकों से काउंसिलिंग के दौरान जो दस्तावेज जमा कराया गया था। उनकी साथ ही साथ जांच भी हो रहे थे। कुछ शिक्षकों के प्रमाण पत्र व अन्य दस्तावेज को लेकर संदेह है। इस लिए उनके नियुक्ति पत्र रोकर अन्य के जारी कर दिया गया है। सभी को शुक्रवार की रात रेलवे डाक घर इलाहाबाद से पोस्ट भी किया जा चुका है। शिक्षकों को सोमवार मंगलवार तक नियुक्ति पत्र मिल जाएगा।

सत्येंद्र सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी

No comments:
Write comments