DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, September 23, 2018

मदरसा : पोर्टल पर मदरसों के पंजीकरण में बड़ा घपला, दो हजार मदरसे डुप्लीकेट, चार हजार मानक नहीं करते पूरा, मदरसा शिक्षा परिषद कराएगा जिलेवार जांच

पोर्टल पर मदरसों के पंजीकरण में बड़ा घपला

गड़बड़ी

शोभित श्रीवास्तव ’ लखनऊ : मदरसा पोर्टल में नया फर्जीवाड़ा सामने आया है। इसमें पंजीकृत करीब दो हजार मदरसे डुप्लीकेट मिले हैं यानि एक ही मदरसे ने पोर्टल पर दो से तीन बार पंजीकरण कर दिया है। जबकि चार हजार मदरसे ऐसे हैं जो मानक पूरा नहीं करते हैं। मदरसा शिक्षा परिषद अब जिलेवार इनकी जांच कराने जा रहा है। साथ ही पोर्टल से डुप्लीकेट मदरसे बाहर किए जाएंगे।

मदरसों का फर्जीवाड़ा रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने मदरसा पोर्टल बनाया है। इसमें मदरसा शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त सभी मदरसों को पंजीकरण कर अपना विवरण फीड करना था। बाद में अफसरों को मदरसों के विवरण डिजिटल सिग्नेचर से लॉक करने थे। कई चरणों में पोर्टल में मदरसों के पंजीकरण के लिए तारीख बढ़ाई गई। इसमें पंजीकरण न कराने वाले मदरसों के छात्रों की परीक्षा भी इस बार बोर्ड ने नहीं ली है। मदरसा पोर्टल की जांच में कई चौकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। प्रदेश में मदरसा शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त मदरसों की संख्या 19,125 है जबकि पोर्टल पर 20,547 मदरसों के पंजीकरण हो चुके हैं। मान्यता से 1422 मदरसे अधिक पंजीकृत हो गए। हालांकि अफसरों के डिजिटल सिग्नेचर से अब तक 13,320 मदरसों के विवरण ही लॉक किए गए हैं यानि मान्यता के अनुसार 5805 मदरसों के विवरण अभी भी लॉक होने को रह गए हैं।

इस तरह खुला मदरसों का फर्जीवाड़ा : प्रदेश सरकार से अनुदान पाने वाले कुल मदरसों की संख्या 560 है जबकि मदरसा पोर्टल पर 611 अनुदानित मदरसों का पंजीकरण हो गया है। खास बात यह है कि जिले के जिम्मेदार अफसरों ने भी 596 मदरसों के विवरण डिजिटल सिग्नेचर के साथ लॉक करते हुए अग्रसारित कर दिए। हालांकि रजिस्ट्रार स्तर से 526 मदरसों के ही विवरण डिजिटल सिग्नेचर के साथ लॉक हुए हैं। इनमें 34 वह मदरसे हैं जो मानक पूरा न करने के कारण अटके हुए हैं।

जांच में सामने आएगा फर्जीवाड़ा : मदरसों की जिलेवार जांच में इनका फर्जीवाड़ा सामने आएगा। सूत्रों के अनुसार, प्रदेश में पंजीकरण 19,125 मदरसों में पांच से छह हजार मदरसे केवल कागजों में संचालित हो रहे हैं। यही कारण है कि मदरसा बोर्ड ने इस बार 13,320 मदरसों के छात्रों की ही परीक्षा कराई तो इसमें वह मदरसे सामने नहीं आए जिनके पास मान्यता तो है लेकिन, पोर्टल में पंजीकरण न होने के कारण उनके यहां परीक्षा नहीं कराई गई।

पोर्टल की जांच में डुप्लीकेट व मानक पूरा न करने वाले मदरसों के विवरण भी मिले हैं। अब इनकी जिलेवार जांच कराई जाएगी। जिलों से रिपोर्ट आने के बाद इन मदरसों को पोर्टल से हटा दिया जाएगा।

एसएन पांडेय, रजिस्ट्रार, उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड

>>दो हजार मदरसे डुप्लीकेट, चार हजार मानक नहीं करते हैं पूरा

>>मदरसा शिक्षा परिषद कराएगा जिलेवार जांच

No comments:
Write comments