DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, November 2, 2018

चित्रकूट : भोजन स्कूल में, प्यास बुझाने तालाब जाते बच्चे, सालों से विद्यालय में पेयजल संकट, पांच वर्ष से शिक्षा विभाग सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित

भोजन स्कूल में, प्यास बुझाने तालाब जाते बच्चे


प्राथमिक विद्यालय गहोई पुरवा में सालों से पेयजल संकट , पांच वर्ष से शिक्षा विभाग सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित

अव्यवस्था


संवाद सहयोगी मानिकपुर (चित्रकूट) :जिले की मानिकपुर तहसील का पाठा इलाका अर्से से पेयजल संकट से जूझ रहा है। यहां एक परिषदीय स्कूल के दर्जनों नौनिहाल व शिक्षक भी इससे बेहाल हैं। क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय गहोई पुरवा में मिड डे मील स्कूल परिसर में करने के बाद प्यास बुझाने व बर्तन साफ करने के लिए बच्चों को कुछ दूर स्थित तालाब जाना पड़ता है। हैरत की बात यह है कि पांच साल से व्यवस्था देखने वाले जिम्मेदार सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित हैं। बीएसए ने बताया कि मामला संज्ञान में है। डीएम से अनुरोध करने पर जल निगम को हैंडपंप लगाने निर्देश दिए गए हैं।

मानिकपुर ब्लाक के ग्राम पंचायत चरदहा में गहोई पुरवा में तकरीबन छह साल पहले प्राथमिक विद्यालय भवन निर्माण के साथ पढ़ाई शुरू हुई थी। यहां पर शुरुआत से पेयजल का संकट था। साल दर साल बीतते गए लेकिन अब तक हालात नहीं बदले हैं। ग्रामीणों के मुताबिक विद्यालय में मिड डे मील बनाने के लिए एक किमी दूर से रसोइया पानी लाते हैं।

बच्चे अपने लिए पानी की व्यवस्था खुद करते हैं। रोजाना घरों से बोतल में पानी लेकर जाते हैं। किसी वजह से भूलने पर स्कूल के पास स्थित तालाब एक मात्र सहारा है। तकरीबन 50 बच्चे स्कूल में पंजीकृत हैं। यह प्रतिदिन भोजन करने के बाद पानी पीने, हाथ धोने व बर्तन साफ करने को तालाब जाते हैं। विद्यालय प्रधानाचार्य रणमति सिंह ने बताया कि ग्राम प्रधान समेत विभागीय अफसरों को कई बार जानकारी दी गई पर हल नहीं निकला। बीएसए प्रकाश सिंह ने बताया कि एक माह पहले जिलाधिकारी को जानकारी देकर समाधान कराने का अनुरोध किया था। जल निगम को हैंडपंप लगाने के लिए निर्देश जारी हो चुके हैं। जल्द हैंडपंप लगते ही व्यवस्था दुरुस्त हो जाएगी।

हो सकता बड़ा हादसा: बरसात में तालाब में पानी बढ़ जाता है। किनारे पर फिसल होने से किसी दिन पानी पीने या बर्तन धोते समय बच्चे तालाब में गिर सकते हैं। इससे बड़े हादसे को लेकर इन्कार नहीं किया जा सकता है। गांव के प्रधान और विभागीय अधिकारियों की अनदेखी बरकरार रही तो किसी दिन समस्या तय है। बच्चों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।तालाब में पानी पीने व बर्तन धोने पहुंचे प्राथमिक विद्यालय के बच्चे 

No comments:
Write comments