DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, November 2, 2018

अब मैनेजमेंट कोटा से लिया प्रवेश तो नहीं मिलेगा वजीफा, निदेशक समाज कल्याण विभाग ने जारी किया है निर्देश

अब मैनेजमेंट कोटा से लिया प्रवेश तो नहीं मिलेगा वजीफा

चेतावनी
29

नीरज सिंह’ कौशांबी : छात्रवृत्ति योजना से मैनेजमेंट कोटा व स्पाट सीट पर प्रवेश पाने वालों को अब बाहर का रास्ता दिखाया है। अब इस प्रकार से कालेज में पढ़ाई करने वाले छात्रों को समाज कल्याण विभाग वजीफा नहीं देगा। इसको लेकर निदेशक समाज कल्याण विभाग ने पूरे प्रदेश में रोक लगाने का निर्देश जारी कर दिया है।

शिक्षा विभाग में वजीफे को लेकर लंबा खेल हो रहा था। पूर्व में इस प्रकार की शिकायत शासन स्तर तक पहुंची थी कि तकनीकी शिक्षा से जुड़े कालेजों ने बिना छात्रों के प्रवेश लिए ही वजीफे के लिए फर्जी तरीके से प्रवेश दिया है। इसके माध्मय से वह वजीफे के रूप में मिलने वाली शासन की धनराशि को हजम कर ले रहे थे। अब इस प्रकार के प्रवेश पर शासन ने पूरी तरह से रोक लगाते हुए निर्देश जारी किया है।

>>जिला समाज कल्याण अधिकारी सुधीर कुमार ने बताया कि अक्टूबर को शासनादेश जारी किया है। उन्होंने छात्रवृत्ति योजना में संशोधन किया है। उन्होंने बताया कि अब तक तकनीकी शिक्षा के साथ ही अन्य कोर्सो के लिए छात्रवृत्ति दिए जाने का प्रावधान था। इस नियम को अब बदल दिया गया है। आने वाले सत्र से बिना काउंसिलिंग प्रक्रिया से गुजरने वाले छात्रों को वजीफा नहीं दिया जाएगा। बताया कि वजीफा उन्हीं छात्रों को मिलेगा जिनको काउंसिलिंग प्रक्रिया के बाद प्रवेश दिया गया होगा। यह नियम पूरे जिले में कड़ाई के साथ लागू किया जाएगा। इसकी जानकारी प्रबंध समिति को दे दी गई है।

29 अक्टूबर को जारी किया है शासनादेश’

>>जिला समाज कल्याण अधिकारी ने मैनेजमेंट को दी जानकारी

>>तकनीकी शिक्षा के साथ ही अन्य कोर्सो को मिलती थी छात्रवृत्तिअब तक होता रहा है खेल

मैनेजमेंट कोटे के नाम पर निजी विद्यालय छात्रों के प्रवेश न होने पर ही फर्जी तरीके से प्रवेश दिखाकर छात्रों के नाम का वजीफा हड़प लेते थे। इसको लेकर शासन स्तर पर शिकायत की गई थी। लगातार मिल रही शिकायतों को लेकर शासन ने मैनेजमेंट कोटा व स्पाट सीट से प्रवेश लेने वालों को छात्रवृत्ति देने पर रोक लगा दी है। इस नियम के लागू होने के बाद से फर्जी तरीके से होने वाले नामांकन पर रोक भी लगेगी।

No comments:
Write comments