DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, September 16, 2019

बच्चा चोरी की अफवाह में स्कूल नहीं पहुंच रहे बच्चे, अभिभावक भी सहमे

वरिष्ठ संवाददाता,प्रयागराज
Updated: Sun, 15 Sep 2019 08:50 AM IST
अ+ अ-

बच्चा चोरी को लेकर आए दिन लोगों को मारने की घटनाओं ने अभिभावकों के मन में दहशत पैदा कर दी है। इसके चलते सरकारी स्कूलों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति काफी प्रभावित हुई है। ऐसी स्थिति थोड़ी बहुत पूरे उत्तर प्रदेश में है।  प्रयागरात में प्राथमिक विद्यालय करेली बालक की प्रधानाध्यापिका सबीहा फारुकी ने बताया कि बच्चे पकड़े जाने की अफवाह ने स्कूलों की उपस्थिति बहुत काम कर दी है। उनके स्कूल में पंजीकृत 95 बच्चों में से जहां औसतन 75 बच्चे आते थे वहां बहुत बुलाने पर 35 से 40 ही आ रहे हैं। मदारीपुर, साठ फीट रोड, आजाद नगर, बेनीगंज कहीं के बच्चे नहीं आ रहे।

बुलाने जाने पर ही साथ में आते हैं। अलीशा व तौहीद के पिता इज्जतउल्ला ने नाम कटवाने की बात कही है। अभिभावकों का कहना है कि स्कूल का टेम्पो हो तो भेजने की सोचें। सानिया, जोया, जहरा, अमीर हमजा, अनस, अलीशा, तौहीद, अनमोल, पूनम, सुमन, खुशी, अभिषेक, दिलीप समेत दर्जनों बच्चे स्कूल नहीं आ रहे हैं। शनिवार को 38 बच्चे उपस्थित थे। पूर्व माध्यमिक विद्यालय मसिका (संविलियन) चाका में कुल 250 बच्चे नामांकित हैं। बच्चा चोरी के अफवाह से उपस्थिति 70 बच्चों तक आ गयी है।

सहायक अध्यापक श्रीनिवास सिंह एवं अन्तरिक्ष शुक्ला गांव में जब अभिभावकों से मिले तो सारे लोग बच्चा चोरी होने के कारण बच्चों को स्कूल न भेजने की बात कर रहे हैं। इसी प्रकार पूर्व माध्यमिक विद्यालय बालापुर में कुल नामांकित 101 बच्चों में कुल 35 से 40 बच्चे ही उपस्थित होते है। सहायक अध्यापक कुदसिया जमीर एवं पूर्णिमा मिश्रा ने जब गांव में सम्पर्क किया तो पता चला कि लोग बच्चा चोरी होने के डर से अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेज रहे हैं।




No comments:
Write comments