DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label आगरा. Show all posts
Showing posts with label आगरा. Show all posts

Wednesday, July 1, 2020

आगरा : दो शिक्षकों की दो-दो जिलों में तैनाती, जांच के आदेश

आगरा : दो शिक्षकों की दो-दो जिलों में तैनाती, जांच के आदेश


आगरा। बेसिक शिक्षा विभाग में आगरा में दो ऐसे शिक्षक तैनात मिले हैं जिनकी तैनाती दूसरे जिलों में भी है। जांच में पता चला है कि इनमें से एक मनोज कुमार की तैनाती कासगंज में भी है। संतोष कुमारी की तैनाती कन्नौज में भी है। अनामिका शुक्ला जैसे इस फर्जीवाड़े का पता चलते ही बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार यादव ने जांच के आदेश दिए हैं। 


वित्त एवं लेखाधिकारी पंकज कुमार सिंह ने इन शिक्षकों के बारे में रिपोर्ट बेसिक शिक्षा अधिकारी को दी है। प्रारंभिक तौर पर की गई जांच पड़ताल में मनोज कुमार की तैनाती सैंया ब्लॉक के उच्च प्राथमिक विद्यालय, जाजऊ के सहायक अध्यापक के पद पर होने के साथ कासगंज में भी है। दोनों जगह पर्सनल अकाउंट नंबर (पैन) एक ही दिया गया है हालांकि जन्मतिथि, आधार संख्या, नियुक्ति तिथि और खाता संख्या अलग-अलग हैं। 

आगरा : एसआईटी जांच में फंसे 24 फर्जी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, होगी वेतन रिकवरी

आगरा : एसआईटी जांच में फंसे 24 फर्जी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, होगी वेतन रिकवरी।

आगरा : आगरा में 24 फर्जी शिक्षकों के खिलाफ शाहगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है। मुकदमे में आठ महिला शिक्षिका भी नामजद हैं। सभी के खिलाफ पुख्ता साक्ष्य हैं। एसआईटी ने अपनी जांच में खेल पकड़ा था। इन लोगों की नौकरी फर्जी दस्तावेज पर लगी थी। सभी आरोपित डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के वर्ष 2004-05 सत्र के बीएड परीक्षा चार्ट में हेराफेरी करके नौकरी के लिए पात्र बने थे। अब कानूनी शिकंजे में फंसे हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार ने यह मुकदमा शाहगंज थाने में दर्ज कराया है। दर्ज मुकदमे के अनुसार एक्जीक्यूटिव काउंसिल ने 28 जून 2019 को 3637 फर्जी अभ्यर्थी, 1084 टेंपर्ड अभ्यर्थी, 45 डुप्लीकेट अभ्यर्थियों की सूची विवि की आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड की थी। अखबारों में नोटिस देते हुए इन अभ्यर्थियों से 15 दिन में ऑनलाइन रजिस्टर्ड डाक से उनका पक्ष मांगा था। इनमे सिर्फ 814 ने ही अपना पक्ष भेजा। बाकी 2823 अभ्यर्थियों ने अपना पक्ष नहीं भेजा था। ऐसे अभ्यर्थियों को जिन्होंने जवाब नहीं दिया, विवि फर्जी घोषित कर दिया था। इनमें 24 अभ्यर्थी आगरा के थे। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा विभाग की अध्यक्षता में एसआईटी ने बीएड में फर्जीवाड़े की जांच की थी। जनवरी 2020 में एसआईटी की जांच में फर्जी पाए गए शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए गए थे। उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की कहा गया था। मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक (बेसिक) ने विवि द्वारा उपलब्ध कराई गई हार्ड और सॉफ्ट कापी बेसिक शिक्षा अधिकारी को उपलब्ध कराकर आरोपित शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई को लिखा था। इन फर्जीवाड़ा करने वाले 24 अभ्यर्थियों की 15 मई 2020 में सेवा समाप्त कर दी गयी थीं।





आरोपित शिक्षकों के खिलाफ धोखाधड़ी और कूटरचित दस्तावेज तैयार करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। विवेचना की जा रही है। साक्ष्यों के आधार पर एक-एक करके सभी को गिरफ्तार करके जेल भेजा जाएगा। जो धाराएं हैं उनमें सात साल से अधिक सजा का प्रावधान है। गिरफ्तारी जरूरी है। - बोत्रे रोहन प्रमोद, एसपी सिटी

15 मई को शासन से एफआईआर का आदेश हुआ था। इसके बाद संबंधित ब्लॉक के बीएसए को जिम्मेदारी दी गई थी। किन्हीं कारणवश एफआईआर नहीं हो सकी। जिम्मेदारी बाबुओं को दी, लेकिन फिर भी सभी ब्लॉकों से एफआईआर नहीं हुई। मंगलवार को अपने स्तर से एफआईआर कराई है। जल्द ही रिकवरी की जाएगी। - राजीव कुमार यादव, बेसिक शिक्षा अधिकारी


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, June 25, 2020

आगरा : स्कूलों में आकर डाटा फीड करने का शिक्षकों ने किया विरोध, शिक्षकों ने कहा- फीडिंग का कार्य विभाग का

आगरा : स्कूलों में आकर डाटा फीड करने का शिक्षकों ने किया विरोध, शिक्षकों ने कहा- फीडिंग का कार्य विभाग का।


स्कूलों में आकर डाटा फीडिंग काम का विरोध


आगरा : स्कूलों में डाटा फीडिंग कर कंप्यूटर ऑपरेटर की जगह काम करने का शिक्षक विरोध कर रहे हैं। शासन का एक जुलाई से परिषदीय विद्यालय खोलने का आदेश आ चुका है। शिक्षकों का कहना है कि उनसे सिर्फ शिक्षक का ही कार्य लिया जाए, अन्य कार्य नहीं।








शिक्षकों से एमडीएम की लिस्ट और सीडी बनवाकर विभिन्न बैंकों में भेजना, मानव संपदा पोर्टल के लिए अपनी ही सर्विस बुक को सही कराने के लिए कंप्यूटर ऑपरेटर के पास जाकर फीडिंग कराना नियम विरुद्ध है। शिक्षक अपनी सर्विस बुक को सही कैसे कर सकता है, जबकि सर्विस बुक फीडिंग का कार्य विभाग का है। शिक्षकों का कहना है कि ये सभी कार्य शिक्षा के नहीं हैं, इन कार्यों के लिए विभाग में कंप्यूटर ऑपरेटर की नियुक्ति की गई है। इसलिए सभी कार्य कंप्यूटर ऑपरेटर द्वारा कराए जाएं। प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र राठौर, राजीव वर्मा, केशव दीक्षित, ब्रजेश दीक्षित आदि ने विरोध जताया है।



 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, June 19, 2020

निर्णय : अभिभावक कहेंगे, सरकार समस्या समझेगी तभी खुलेंगे स्कूल, आगरा में निजी कान्वेंट स्कूलों ने फीस न मिलने तक बन्द की पढ़ाई

निर्णय : अभिभावक कहेंगे, सरकार समस्या समझेगी तभी खुलेंगे स्कूल, आगरा में निजी कान्वेंट स्कूलों ने फीस न मिलने तक बन्द की पढ़ाई


19 Jun 2020

समस्या
ताजनगरी के कॉन्वेंट स्कूल अब अभिभावकों की सहमति पर ही खुलेंगे। साथ ही स्कूलों की समस्याओं को जब तक सरकार नहीं समझेगी। तब तक भी स्कूलों में पढ़ाई शुरू नहीं कराई जाएगी। शहर के प्रमुख सीबीएसई और सीआईएससीई स्कूलों के संगठन एसोसिएशन ऑफ प्रोग्रेसिव स्कूल ऑफ आगरा (अप्सा) ने यह फैसला लिया है। साथ ही स्कूल खुलने के बाद सेनेटाइजेशन का जिम्मा भी प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को लेना होगा। अप्सा ने सरकार द्वारा ‘पात्र-सक्षम माता-पिता' की परिभाषा को परिभाषित करने की मांग भी की है, ताकि उस श्रेणी में आने वाले अभिभावकों से फीस मिल सके।


अप्सा अध्यक्ष डॉ. सुशील गुप्ता के अनुसार देशभर में लगभग 2 करोड़ शिक्षक 5 लाख निजी स्कूलों में कार्यरत हैं। इन शिक्षकों ने लॉकडाउन के दौरान अपनी जिम्मेदारी समझी। छात्रों के शिक्षण की निरंतरता बनी रहे एवं उनकी पढ़ाई की प्रक्रिया बाधित न हो, इसके लिए ऑनलाइन व लाइव कक्षाएं लीं। साथ ही विषय संबंधित असाइनमेंट, वर्कशीट, नोट्स आदि भी ऑंनलाइन भेजे। विद्यार्थियों को घर से ही ऑनलाइन टेस्ट, हॉली-डे होमवर्क, समरकैंप आदि गतिविधियों से जोड़े रखा। डॉ. गुप्ता के अनुसार केंद्र व राज्य शासित कार्यालयों के सभी कर्मचारियों, सरकारी शिक्षकों, विधायकों, सांसदों को पूरा वेतन मिला है। इनमें से ज्यादातर के बच्चे निजी विद्यालयों में पढ़ रहे हैं। अगर सभी को वेतन पूरा मिला है, तो स्कूलों को फीस देने में क्या समस्या है। फीस मांगने पर स्कूल प्रबंधन के प्रति उत्पीड़न का आरोप लगाते हैं। क्या यह उचित है?


मांग
● सरकार अभिभावकों को फीस का भुगतान करने के दे निर्देश
● फीस ना मिलने पर ऑनलाइन-ऑंफलाइन पढ़ाई नहीं संभव

Friday, May 22, 2020

आगरा : फर्जी शिक्षक बर्खास्तगी में फिर खेल, सूची में एक ही नाम दो-दो बार दिखाकर दागियों को बचाया जा रहा

बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी शिक्षकों को बचाने के लिए तरह-तरह की जुगत लगाई जा रही है। सूची में एक ही नाम को दो-दो बार दिखाकर दागियों को बचाया जा रहा है। डॉ. बीआरए विश्वविद्यालय आगरा से वर्ष 2005 की फर्जी बीएड डिग्री के आधार पर नौकरी पाए अध्यापक बेसिक शिक्षा विभाग के कुछ लोगों के लिए दुधारू गाय सिद्ध हो गए। पुष्ट सूत्रों के मुताबिक एसआईटी की सूची में से जनपद में कार्यरत अध्यापकों के वेतन के डेटा से मिलान शिक्षकों के दौरान 300 से अधिक फर्जी डिग्रीधारक अध्यापक जनपद में चिन्हित किए गए थे। लेकिन विभाग के जिम्मेदार लोगों ने ही इसमें से दर्जनों अध्यापकों से सेटिंग कर उनके नाम कार्यवाही की सूची से हटाने का आश्वासन दिया। शिक्षा निदेशक ने कई बार अध्यापकों को चिन्हित कर कार्यवाही करने के लिए कहा, लेकिन तीन साल में सिर्फ नोटिस ही दिए गए। वे भी सिर्फ उन्हीं 249 को जिनसे सेटिंग नहीं हो सकी। 2823 में से मात्र मात्र 24 अध्यापकों को चिन्हित कर उनकी बर्खास्तगी की गई है। वहीं अन्य का वेतन रोकने के आदेश बीएसए राजीव यादव ने किए हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार यादव का कहना है कि जिन 24 शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। जिन्होंने यूनिवर्सिटी में अपना कोई पक्ष नहीं रखा, इन्हें बर्खास्त किया गया है। वहीं 814 ऐसे शिक्षक हैं जिन्होंने अपने पक्ष को रखा है। न्यायालय की ओर से इन्हें तीन महीने का समय दिया गया है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, May 8, 2020

आगरा : खबर के बाद फर्जी शिक्षकों की सूचियों में गलतियां हुई ठीक, सोशल मीडिया पर वायरल होने पर मांगा स्पष्टीकरण

आगरा : खबर के बाद फर्जी शिक्षकों की सूचियों में गलतियां हुई ठीक, सोशल मीडिया पर वायरल होने पर मांगा
स्पष्टीकरण।


बीएसए ने सूची ठीक कराई शिक्षक से मांगा स्पष्टीकरण

आगरा : बेसिक शिक्षा से जारी फर्जी शिक्षकों की सूची में फर्जीवाड़े के खुलासे से विभाग में हड़कंप मच गया है। इसमें दो-दो क्रमांकों पर एक-एक शिक्षक का नाम है। मामले को बेसिक शिक्षा अधिकारी राजीव कुमार यादव ने संबंधित बाबू से लिस्ट की जांच कराई है।

अखबार ने फर्जी शिक्षकों की सूची में फर्जीवाड़ा होने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया। इस पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच कराई तो 64 और 194 क्रमांक पर आधार संख्या एक ही हो मिली। एक क्रमांक में नाम ही एक मिला। इस लिस्ट को सही कराया है। संबंधित खंडशिक्षाधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा है। रीना और रेनु के चक्कर में अभी भी विभाग में ऐसे फर्जी शिक्षक छिपे हैं, जिनका नाम फर्जी शिक्षकों में था। लेकिन विभाग ने उन्हें स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति दे दी। वहीं बेसिक शिक्षा अधिकारी का कहना है कि ऐसी कोई शिकायत उनके पास नहीं पहुंची हैं।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, March 4, 2020

आगरा : प्रत्येक कैलेंडर वर्ष में परिषदीय शिक्षकों को एक उपार्जित अवकाश देय होने एवं मानव सम्पदा पोर्टल पर अपडेट करने सम्बन्धी आदेश जारी, देखें


Friday, February 28, 2020

आगरा : परिषदीय शिक्षकों में हड़कंप, बोर्ड परीक्षा ड्यूटी न करने वाले शिक्षकों का कटेगा वेेतन


आगरा : परिषदीय शिक्षकों में हड़कंप, बोर्ड परीक्षा ड्यूटी न करने वाले शिक्षकों का कटेगा वेेतन

किताबें ही नही, बच्चों की ड्रेस में भी हुआ है घोटाला, जूते-मोजे के टेंडर में भी बड़ा खेल

किताबें ही नही, बच्चों की ड्रेस में भी हुआ है घोटाला, जूते-मोजे के टेंडर में भी बड़ा खेल

Saturday, February 22, 2020

अब सरकारी स्कूलों में तैनात होंगे चौकीदार, विद्यालय प्रबंध समिति स्तर से होगा आवेदन

अब सरकारी स्कूलों में तैनात होंगे चौकीदार, विद्यालय प्रबंध समिति स्तर से होगा आवेदन

Monday, January 27, 2020

आगरा : बीईओ कार्यालय का बाबू वेतन एरियर के एवज में रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार, एन्टी करप्शन ब्यूरो द्वारा जारी विज्ञप्ति देखें

आगरा : बीईओ कार्यालय का बाबू वेतन एरियर के एवज में रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार, एन्टी करप्शन ब्यूरो द्वारा जारी विज्ञप्ति देखें।

आगरा : बेसिक शिक्षा विभाग का बाबू रिश्वत लेते गिरफ्तार

Saturday, December 28, 2019

आगरा : आज नर्सरी से 12वीं तक के विद्यालय बंद

आगरा : आज नर्सरी से 12वीं तक के विद्यालय बंद

आगरा : ARP के अवशेष पदों पर नियुक्ति हेतु पुनः विज्ञप्ति जारी, देखें

आगरा : ARP के अवशेष पदों पर नियुक्ति हेतु पुनः विज्ञप्ति जारी, देखें ।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, December 25, 2019

आगरा : ARP पद पर चयनित 25 शिक्षकों की सूची जारी, देखें

आगरा : ARP पद पर चयनित 25 शिक्षकों की सूची जारी, देखें।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

आगरा : कक्षा 12 तक के समस्त विद्यालयों में 27 दिसम्बर तक का अवकाश घोषित, आदेश देखें

आगरा : कक्षा 12 तक के समस्त विद्यालयों में 27 दिसम्बर तक का अवकाश घोषित, आदेश देखें

आगरा : ARP परीक्षा में 64%शिक्षक फेल

आगरा : ARP परीक्षा में 64%शिक्षक फेल

Sunday, December 22, 2019

आगरा : जिला प्रशासन ने जारी किया आदेश, कल भी बंद रहेंगे स्कूल कॉलेज

आगरा : जिला प्रशासन ने जारी किया आदेश, कल भी बंद रहेंगे स्कूल कॉलेज

Monday, December 9, 2019

संविलियन : शासन मांग रहा रिपोर्ट, आगरा में अभी स्कूलों का नही हुआ चयन

संविलियन : शासन मांग रहा रिपोर्ट, आगरा में अभी स्कूलों का नही हुआ चयन

Saturday, December 7, 2019

आगरा : शिक्षक संघो के बहिष्कार के बाद भी हुई ARP परीक्षा


आगरा : शिक्षक संघो के बहिष्कार के बाद भी हुई ARP परीक्षा

आगरा : परिषदीय विद्यालय के 241 शिक्षकों पर गिरेगी गाज, फर्जी बीएड की डिग्री से विद्यालयों में पढ़ा रहे शिक्षकों का मामला

आगरा : परिषदीय विद्यालय के 241 शिक्षकों पर गिरेगी गाज, फर्जी बीएड की डिग्री से विद्यालयों में पढ़ा रहे शिक्षकों का मामला।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।