DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label आजमगढ़. Show all posts
Showing posts with label आजमगढ़. Show all posts

Thursday, May 6, 2021

कोविड से ठहर गई कायाकल्प योजना, अधिकांश स्कूलों की नहीं बदली सूरत

कोविड से ठहर गई कायाकल्प योजना, अधिकांश स्कूलों की नहीं बदली सूरत


आजमगढ़। आपरेशन कायाकल्प के तहत विद्यालयों को बुनियादी सुविधाओं से लैस करना है। विद्यालयों में शैक्षणिक गतिविधियों व अन्य कार्यों पर बड़ी धनराशी खर्च की जा रही है इसके बावजूद विद्यालयों की सूरत नहीं बदली है।


कायाकल्प के नाम पर परिषदीय स्कूलों में बड़ी धनराशि खर्च की जा रही है। पर धरातल पर यह नजर नहीं आ रहा है। क्षेत्र के कई स्कूल आज भी सुविधाविहीन हैं। फर्श टूटी है विद्यालयों के परिसर चहारदीवारी क्षतिग्रस्त हो गए। यह सब जिम्मेदारों की जानकारी में है मगर वह कुछ नहीं कर रहे हैं।


जिले में करीब 2702 परिषदीय विद्यालय है जिसमें 1737 प्राथमिक व 484 उच्च प्राथमिक व 481 कंपोजिट विद्यालय शामिल हैं। इनमें करीब चार लाख 11 हजार 727 बच्चे अध्ययनरत है। राज्य सरकार ने ऑपरेशन कायाकल्प के तहत उक्त विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाओं में सुधार एवं संतृप्तिकरण के आदेश दिए हैं। ग्राम प्रधान व पंचायती राज विभाग की ओर से प्रस्तावित कार्यों को पूरा किया जाना था।


तय बिंदुओं पर सुधारात्मक कार्य बेसिक शिक्षा और पंचायती राज विभाग के आपसी समन्वय से पूरे होने थे लेकिन बहुतायत ऐसे विद्यालय हैं जिसमें अभी तक कार्य ही नहीं हो सके। बीएसए अम्बरीष कुमार ने बताया कि करीब एक हजार विद्यालय ऐसे हैं जिनमें 14 बिंदुओं पर काम पूरा कर लिया गया है। बाकी के विद्यालयों में कोरोना संक्रमण के कारण सभी कार्य रुक गए हैं। जल्द ही उनमें भी कार्य पूरे कर लिए जाएंगे और स्कूल के छात्रों को आधुनिक शिक्षा और उपकरण के जरिए शिक्षित किए जाएंगे।


इन बिंदुओं पर कराया जाएगा काम
आजमगढ़। कायाकल्प योजना के तहत विद्यालयों के तय मानकों के अनुसार ब्लैक बोर्ड, छात्र संख्या के अनुरूप शौचालय और मूत्रालय का निर्माण, स्वच्छ पेयजल और मल्टीपल हैंडवॉशिंग सिस्टम, जल निकासी की सुविधा उपलब्ध करानी थी। साथ ही विद्यालय की दीवार, छत की मरम्मत, कमरों के फर्श पर टाइल्स, विद्युतीकरण कार्य, किचिन शेड का जीर्णोद्धार, फर्नीचर, चाहरदीवारी और गेट, इंटरलॉकिंग टाइल्स और अतिरिक्त कक्षा कक्ष का निर्माण, दीवारों पर पेंटिंग अन्य कार्य स्थानीय आवश्यकतानुसार कराए जाने हैं। 

विद्यालय पर लगेगा कार्यों का बोर्ड

आजमगढ़। ऑपरेशन कायाकल्प योजना के तहत परिषदीय विद्यालयों में प्रस्तावित कार्य और उन पर होने वाले खर्च का ब्यौरा ग्राम प्रधान को विद्यालय में बोर्ड पर लिखकर देना होगा। इससे आम आदमी भी जान सके कि ग्राम पंचायत विद्यालय में किस मद से कितनी राशि किस कार्य पर खर्च कर रही है। 

Saturday, May 1, 2021

पंचायत चुनाव प्रक्रिया पूरी होते ही नीति आयोग के 9 मानकों पर स्कूलों का निरीक्षण होगा शुरू

पंचायत चुनाव प्रक्रिया पूरी होते ही नीति आयोग के 9 मानकों पर स्कूलों का निरीक्षण होगा शुरू


आजमगढ़। ऑपरेशन कायाकल्प में चमके स्कूलों को नीति आयोग रैंकिंग से नवाजेगा। इसमें स्कूलों में कार्यों के साथ-साथ शैक्षणिक गुणवत्ता भी देखी जाएगी। चुनाव संबंधित प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्कूलों में निरीक्षण शुरू होगा।


स्कूलों के लिए नीति आयोग ने नौ मानक तय किए हैं और इनकी पूरी जांच होने के बाद जिला समिति की रिपोर्ट के बाद आयोग स्कूलों को रैंक देगा। प्रदेश स्तर पर यह स्कूल रैंक के हिसाब से अपनी अलग छाप छोड़ेंगे। नीति आयोग की टीम भी जिले में स्कूलों को देखने के लिए आ सकती है। चुनाव संबंधित प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्कूलों में निरीक्षण शुरू करा दिया जाएगा। 


नीति आयोग की टीम भी जिले में स्कूलों को देखने के लिए आ सकती है। शासन के आदेश पर बेसिक शिक्षा विभाग के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों को ऑपरेशन कायाकल्प के तहत चकाचक किया जा रहा है। जिले के करीब एक हजार स्कूलों में विकास संबंधित सभी सुविधाएं दुरूस्त किया जा चुका हैं।


बेसिक शिक्षा और ग्राम पंचायतों द्वारा स्कूलों में 14 बिंदुओं पर कार्य कराए हैं। स्कूलों में शौचालय, किचन, चारदीवारी, बच्चों के बैठने की व्यवस्था, रंगाई-पुताई और टायल्स बिछाने सहित अन्य सभी पूरे हो गए हैं। जिसके बाद अब नीति आयोग इन स्कूलों को शैक्षणिक गुणवत्ता और ऑपरेशन कायाकल्प में हुए कार्यों की रैंक देगा। बताया जा रहा कि जिले के सभी स्कूलों में पहले निरीक्षण होगा और फिर यह देखा जाएगा कि क्या-क्या कार्य हुए और स्कूलों की शैक्षणिक गुणवत्ता क्या है। 


पहले चरण के निरीक्षण में स्कूलों में विकास कार्य और दूसरे चरण में स्कूलों की शैक्षणिक गुणवत्ता को परखा जाएगा। इसके लिए जिला स्तरीय समिति गठित होगी और पूरी रिपोर्ट तैयार करने के बाद नीति आयोग को भेजी जाएगी। समिति द्वारा भेजी रिपोर्ट पर टीम के आधार पर आयोग के सदस्य स्कूलों का निरीक्षण करेंगे। विभाग के अनुसार स्कूलों में ऑपरेशन कायाकल्प का कार्य लगभग पूरा हो गया है। स्कूल खुलने के बाद इस पर तेजी से कार्य शुरू होगा।

Monday, April 26, 2021

कोरोना प्रभाव : बेपटरी हुई शिक्षा व्यवस्था, बच्चों को डिजिटल कंटेंट पहुंचाएगा बेसिक शिक्षा विभाग

कोरोना प्रभाव : बेपटरी हुई शिक्षा व्यवस्था, बच्चों को डिजिटल कंटेंट पहुंचाएगा बेसिक शिक्षा विभाग


आजमगढ़। सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं को डिजिटल कंटेंट पहुंचाने की प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी की जा रही है। वर्ग, विषय और चैप्टर के आधार पर हर दिन का कंटेंट तैयार किया जा रहा है। शुरुआत में व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से अधिक से अधिक बच्चों तक डिजिटल कंटेंट पहुंचाया जाएगा।


व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए बच्चों या फिर उनके अभिभावकों के पास कंटेंट भेजे जाएंगे, जिससे बच्चे अभ्यास कर सकेंगे। बच्चों को ऑडियो और वीडियो के माध्यम से भी गणित समेत अन्य विषयों की जानकारी दी जाएगी। सरकार ने 2020 में अप्रैल के पहले सप्ताह से ही डिजिटल कंटेंट बच्चों को उपलब्ध कराना शुरू किया था। 30 फ़ीसदी बच्चों तक ही डिजिटल कंटेंट पहुंच पा रहे थे। चार लाख बच्चों तक डिजिटल कंटेंट नियमित पहुंचाने का प्रयास किया गया। हालांकि बहुतायत ऐसे बच्चे रहे जिनके पास मोबाइल तक नहीं थे।


उन्हें ऑफलाइन या फिर दूसरे माध्यम से पढ़ाने की भी तैयारी की जा रही है। डिजिटल कंटेंट के साथ-साथ सभी बच्चों के हाथों में पाठ्य पुस्तकें हो इसके लिए निर्देश जारी किए जा चुके हैं। जल्द से जल्द सभी बच्चों को किताबें मिल सके इसके लिए स्कूलों तक किताब पहुंचाने की गाइडलाइन भेजी गई थी। स्कूल के शिक्षक और क्लास वार बच्चों का व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किया जा रहा है।


विद्यालय बंद है। बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाया जाएगा। व्हाट्सएप ग्रुप पर बच्चों को कंटेंट उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि वह घर पर रहकर पढ़ाई कर सके। साथ ही अन्य संसाधनों के माध्यम से बच्चों को बेहतर शिक्षा दी जाएगी। - अम्बरीष कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, आजमगढ़।

Friday, April 9, 2021

इस वर्ष भी नहीं लागू होगा एनसीईआरटी पाठ्यक्रम, अगले आदेश तक रोका गया प्रशिक्षण कार्यक्रम

इस वर्ष भी नहीं लागू होगा एनसीईआरटी पाठ्यक्रम, अगले आदेश तक रोका गया प्रशिक्षण कार्यक्रम


आजमगढ़। बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में इस वर्ष भी राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) पाठ्यक्रम लागू नहीं हो सकेगा।


कोरोना संक्रमण व त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के कारण विभागीय स्तर पर तैयारी नहीं हो पाई है। विभाग की माने तो अब इसे शैक्षिक सत्र 2022-23 से लागू किया जा सकता है। इससे पहले सत्र 2021- 22 से कक्षा एक में पाठ्यक्रम लागू करने की घोषणा की गई थी।


प्रदेश सरकार ने 2018 में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम लागू करने को कहा था। इसके बाद 2019 और 2020 में भी इसे लागू नहीं किया जा सका । गत वर्ष शासन ने कहा था कि शैक्षिक सत्र 2021 22 से 2025 26 तक कक्षा एक से आठवीं तक चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा।

इधर बीच कोरोना संक्रमण भी तेजी से फैल रहा है । जिसके कारण प्रशिक्षण कार्यक्रम अगले आदेश तक स्थगित हो गया है। विभाग की माने तो इस वर्ष कक्षा एक में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम लागू नहीं हो पाएगा। कारण कि अभी प्रशिक्षण शुरू हुआ था । ऐसे में उम्मीद कम है।


एनसीईआरटी का प्रशिक्षण अभी शुरू हुआ था। बढ़ते
कोरोना संक्रमण व त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के कारण अगले आदेश तक प्रशिक्षण स्थगित कर दिया गया है। जब तक प्रशिक्षण पूरा नहीं होगा तब तक एनसीईआरटी पाठ्यक्रम लागू हो पाना संभवन नहीं है। ऐसे में अग्रिम आदेश का इंतजार किया जा रहा है। - अम्बरीष कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी

Saturday, April 3, 2021

आजमगढ़ : शिक्षा विभाग के शिक्षकों, कर्मियों व अधिकारियों को लगेगा कोविड का टीका, सूची उपलब्ध कराने के निर्देश

आजमगढ़ : शिक्षा विभाग के शिक्षकों, कर्मियों व अधिकारियों को लगेगा कोविड का टीका, सूची उपलब्ध कराने के निर्देश


आजमगढ़। जिले के शिक्षा विभाग के अधिकारियों, कर्मियों सहित स्कूलों के शिक्षकों व शिक्षकेत्तरकर्मियों को अब कोविड का वैक्सीन लगेगा। यहां तक कि स्कूलों में खाना बनाने वाली रसोइया से लेकर शिक्षा सेवकों भी टीकाकरण किया जाएगा। इसको लेकर बीएसए ने बीईओ को निर्देश जारी किए हैं।


उन्होंने 45 वर्ष से अधिक उम्र के शिक्षकों, कर्मचारियों, रसोइया व शिक्षा सेवकों की दो दिनों के अंदर सूची उपलब्ध कराने को कहा है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अम्बरीष कुमार ने बताया कि सरकारी सहित निजी स्कूलों के शिक्षकों व कर्मचारियों को भी टीका लगाने के लिए सूची मांगी गई है। साथ ही बीईओ को स्कूलों में प्रार्थना सभा के दौरान बच्चों को उनके माता व पिता को कोविड टीका लेने के लिए प्रेरित करने को कहा गया वहीं शिक्षकों को भी क्षेत्र के अभिभावकों को इसके लिए जागरूक करने की पहल करने की बात कही गई।


 साथ ही स्कूल में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शिक्षकों व बच्चों के बीच मास्क प्रयोग अनिवार्य करने को कहा गया। उन्होंने बताया कि सभी शिक्षकों, शिक्षा मित्रों व प्रधानाध्यापकों को कोविड का टीका लगाना होगा। यदि किसी प्रकार की लापरवाही बरती जाएगी तो संबंधित पर कार्रवाई की जाएगी।


वहीं जिला प्रशासन की ओर से 45 वर्ष से ऊपर की स्वयं सहायत समूह की महिलाओं के टीकाकरण कराने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

Friday, March 19, 2021

SIT की रिपोर्ट में खुलासाः संपूर्णानंद विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री पर आजमगढ़ में 43 लोग बने शिक्षक

SIT की रिपोर्ट में खुलासाः संपूर्णानंद विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री पर आजमगढ़ में 43 लोग बने शिक्षक


संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्रियों के सहारे प्रदेश के 75 जिलों के प्राथमिक विद्यालयों में 1130 लोगों ने शिक्षक की नौकरी हासिल की है। इसमें आजमगढ़ के 43 शिक्षक फर्जी पाए गए हैं। इसका खुलासा फर्जी डिग्रियों की जांच कर रही एसआईटी की रिपोर्ट में हुआ है। उक्त शिक्षकों को बर्खास्त कर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया जाएगा।



फर्जी डिग्रियों का मामला सामने आने पर प्रदेश शासन ने जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था। एसआईटी ने 2004 से 2014 के बीच प्राथमिक विद्यालयों में चयनित उन शिक्षकों के अभिलेखों का दोबारा सत्यापन कराया, जिन्होंने संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से उपाधि हासिल की है।


जिले में संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय की डिग्री पर शिक्षक की नौकरी करने वाले 125 शिक्षकों का डाटा सत्यापन के लिए भेजा गया था। जिसमें से 43 शिक्षकों के अभिलेख फर्जी मिले हैं। माना जा रहा है कि इस फर्जीवाड़े के पीछे विश्वविद्यालयों के अधिकारी और कर्मचारी भी संलिप्त हैं। जांच चल रही है दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। उक्त शिक्षकों के खिलाफ बर्खास्तगी की कार्रवाई करते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।

Thursday, February 25, 2021

आजमगढ़ : जांच के लिए नहीं पहुंचे शिक्षक, दिव्यांग होने का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी हासिल करने वालों की हो रही जांच

आजमगढ़ : जांच के लिए नहीं पहुंचे शिक्षक, दिव्यांग होने का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी हासिल करने वालों की हो रही जांच


आजमगढ़। बेसिक शिक्षा विभाग से शिक्षकों की हुई भर्ती में दिव्यांग होने का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी हासिल करने
 वालों की जांच हो रही है। मेडिकल बोर्ड ने अनुपस्थित दिव्यांग शिक्षकों को सूची जारी कर दी है। इसमें जिले के 15 दिव्यांग शिक्षक हैं।


शीर्ष कोर्ट ने उत्तर प्रदेश राज्य बनाम रविंद्र कुमार शर्मा व अन्य की विशेष अपील की सुनवाई करते हुए तीन फरवरी, 2016 को आदेश दिया कि अभ्यर्थियों की जांच मेडिकल बोर्ड गठित कर कराई जाए। शासन ने इसके अनुपालन में 13 मई, 2016 को मेडिकल बोर्ड गठित करने का आदेश दिया। यह काम करीब पांच साल बाद पूरा हुआ। जनपद के 15 शिक्षक वर्ष 2016 से 2019 तक कभी भी मेडिकल बोर्ड के कार्यालय में उपस्थित नहीं हुए। मेडिकल बोर्ड ने उक्त शिक्षकों की सूची जारी कर दी है। साथ ही जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से जनपद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक व प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात दिव्यांग अभ्यर्थी का अभिलेख उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। बता दें कि विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण 2007, विशेष चयन 2008 तथा सामान्य चयन 2008 में चयनित शिक्षकों की जांच हो रही है।

मेडिकल बोर्ड के समक्ष आज तक यह शिक्षक नहीं हुए उपस्थित
आजमगढ़। परिषदीय विद्यालयों में तैनात दिव्यांग शिक्षक जो वर्ष 2016 से 2019 के बीच आज तक उपस्थित न होने वाले शिक्षकों की सूची मेडिकल बोर्ड ने जारी कर दी है। कुल 204 शिक्षकों की सूची में 15 नाम आजमगढ़ जनपद में तैनात हुए शिक्षकों की है। इसमें 14 शिक्षक विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण वर्ष 2007 के और एक वर्ष 2008 का है।


विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण 2007, विशेष चयन 2008 तथा सामान्य चयन 2008 में चयनित दिव्यांग शिक्षकों की जांच चल रही है। मेडिकल बोर्ड द्वारा गठित टीम के समक्ष जिले के कई शिक्षक अनुपस्थित चल रहे हैं उक्त शिक्षकों का वेतन रोका जाएगा। अंबरीष कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, आजमगढ़।

Tuesday, February 9, 2021

बर्खास्तगी प्रस्ताव लंबित रहते नहीं दिया जा सकता बहाली आदेश : हाईकोर्ट

बर्खास्तगी प्रस्ताव लंबित रहते नहीं दिया जा सकता बहाली आदेश : हाईकोर्ट 



इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा है कि कालेज की प्रबंध समिति ने अध्यापक की बर्खास्तगी का प्रस्ताव पारित किया है तो इस प्रस्ताव के लंबित रहते अध्यापक की बहाली का आदेश नहीं दिया जा सकता है। जिला विद्यालय निरीक्षक को निलंबन आदेश का अनुमोदन देने से इंकार कर बहाली का आदेश देने का अधिकार नहीं है।


कोर्ट ने निरीक्षक को प्रबंध समिति के प्रस्ताव को दस्तावेजों सहित माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड को अग्रसारित करने का निर्देश दिया है। बोर्ड को निरीक्षक के आदेश की अनदेखी कर नियमानुसार निर्णय लेने का निर्देश दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति सलिल कुमार राय ने जन सेवक इंटर कालेज सलारपुर पवई ,आजमगढ़  की प्रबंध समिति की याचिका पर दिया है। याचिका पर अधिवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने प्रतिवाद किया।  


प्रबंध समिति ने कार्यवाहक प्रधानाचार्य को अनियमितता के आरोप में निलंबित कर दिया और अनुमोदन के लिए डीआईओएस को भेजा। जिसने निलंबन का अनुमोदन करने से इंकार कर कार्यवाहक प्रधानाध्यापक को बहाल करने का निर्देश दिया। जिसे प्रबंध समिति ने यह कहते हुए चुनौती दी कि समिति ने कार्यवाहक प्रधानाध्यापक को बर्खास्त करने का प्रस्ताव पारित किया है। ऐसे में बहाली का आदेश देना गलत है। उसे रद्द किया जाए।

Thursday, September 17, 2020

जानिए किन जिलों में घोषित हुआ पितृ विसर्जन का अवकाश

जानिए किन जिलों में घोषित हुआ पितृ विसर्जन का अवकाश


1 जौनपुर
2 आजमगढ़
3 मीरजापुर

Wednesday, August 5, 2020

आजमगढ़ : पैनकार्ड फर्जीवाड़े में दो शिक्षकों की सेवा समाप्त, एसआईटी की जांच में 28 शिक्षक हुए थे चिन्हित, पांच शिक्षकों की 27 जुलाई को हो चुकी है बर्खास्तगी

आजमगढ़ : पैनकार्ड फर्जीवाड़े में दो शिक्षकों की सेवा समाप्त, एसआईटी की जांच में 28 शिक्षक हुए थे चिन्हित, पांच शिक्षकों की 27 जुलाई को हो चुकी है बर्खास्तगी।


आजमगढ़ :  एक पैन कार्ड का इस्तेमाल अलग-अलग जनपदों । में दो-दो शिक्षकों द्वारा अलग अलग खाता नंबरों के साथ प्रयोग किए जाने का प्रकरण सामने आया था। एसआईटी व एसटीएफ की जांच में इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ था। जिसमें जिले के ऐसे 28 शिक्षक चिन्हित हुए थे। जिसमें पांच शिक्षकों के फर्जी होने की पुष्टि होने पर पहले ही बर्खास्तगी हो चुकी है वहीं दो और फर्जी शिक्षक चिन्हित होने पर प्रभारी बीएसए ने मंगलवार को नियुक्ति तिथि से इनकी सेवा समाप्त कर दी और खंड शिक्षाधिकारियों को रिकवरी का आदेश भी जारी कर दिया।


बेसिक शिक्षा विभाग में शिक्षकों की नियुक्ति में लगातार फर्जीवाड़ा सामने आ रहे है। बेसिक शिक्षा विभाग के फर्जीवाड़े की जांच सरकार एसआईटी व एसटीएफ से करा रही है। इसी जांच के दौरान आईआईटी व एसटीएफ ने वेतन भुगतान के फाइलों की जांच के दौरान एक नया फर्जीवाड़ा पकड़ा। जिसमें एक ही पैन कार्ड पर दो शिक्षकों द्वारा अगल-अलग जनपदों व खाता नंबरों पर वेतन आहरित कोरोना पकड़ा गया। पूरे प्रदेश में ऐसे 192 शिक्षक चिन्हित हुए थे जिसमें 28 शिक्षक जिले के भी शामिल थे। एसआईटी ने बकायदा सूची तैयार कर बेसिक शिक्षा निदेशालय को उपलब्ध कराया और फिर निदेशालय से सूचना जिलों को उपलब्ध करा दी गई। जिले के 28 शिक्षक इस फर्जीवाड़े में चिन्हित हुए थे। जिन्हें बेसिक शिक्षा विभाग ने नोटिस जारी कर सत्यापन के लिए बुलाया था। 28 में से कुल सात शिक्षकों ने अपना सत्यापन नहीं कराया।

इन्हें दो बार अलग-अलग तिथियों में नोटिस भेजी गई। अंतिम नोटिस 17 जुलाई को भेजी गई थी। जिसमें सात दिनों के अंदर मूल अभिलेखों के साथ कार्यालय पहुंच कर सत्यापन का निर्देश दिया गया था। इसके बाद भी इन सात शिक्षकों ने सत्यापन नहीं कराया। जिस पर बीएसए ने 27 जुलाई को इन पांच शिक्षकों की नियुक्ति तिथि से सेवा समाप्त करने का आदेश निर्गत करने के साथ ही संबंधित खंड शिक्षाधिकारियों को रिकवरी का आदेश भी जारी कर दिया।

शेष बचे दो अन्य शिक्षकों पर मंगलवार को प्रभारी बीएसए ने कार्रवाई किया और दोनों की नियुक्ति तिथि से सेवा समाप्त करते हुए रिकवरी का आदेश निर्देश किया। सेवा समाप्त किए गए शिक्षकों में जय शिव प्रताप चंद हरैया ब्लाक के प्रावि शानूपुर पर तैनात थे और सर्विस बुक में अपना पता सल्लाहपुर देवरिया बताया था। वहीं दूसरे बस्ती शिक्षक अनिल कुमार अतरौलिया ब्लाक के प्रावि सिकरौरा पर तैनात थे।




पूर्व में इन शिक्षकों पर हुई है कार्रवाई

आजमगढ़ : प्रभारी बीएसए अमरनाथ राय ने बताया कि प्रावि शोधनपट्टी बिलरियागंज पर तैनात रेखा पुत्री अवधेश कुमार सिंह निवासी सिविल लाइंस आजमगढ़, प्रावि भीलमपुर महराजगंज पर तैनात राजेश कुमार पुत्र राम दुलारे निवासी ग्राम मैलानी पोस्ट खलीलाबाद जिला संत कबीर नगर, प्रावि धनसिंहपुर कोयलसा पर तैनात आवेश कुमार पुत्र सतीश चंद्र वर्मा निवासी चांदमारी, इमिलिया जिला मऊ, प्रावि सीही सठियांव पर तैनात नेहा शुक्ला पुत्री ब्रह्मानंद शुक्ला निवासी ग्राम इमली पोस्ट रामपुर जिला गोरखपुर व प्रावि पिचरी अतरौलिया पर तैनात बांके बिहारी पुत्र किशोर प्रसाद निवासी सलेमपुर, सलेमपुर देवरिया ने अपना सत्यापन नहीं कराया। ऐसी स्थिति में इन सभी को नियुक्ति तिथि से 27 जुलाई को ही बर्खास्त कर दिया गया है।

फर्जी डॉक्यूमेंट पर पाई थी परिवार की नौकरी, बर्खास्त

आजमगढ़ : जूनियर हाई स्कूल मुबारकपुर बालक पर 2018 में पुष्पा देवी पत्नी मन्नू कुमार निवासी कोपागंज जिला मऊ की बतौर परिचर मृतक आश्रित पद पर तैनाती हुई थी। पुष्पा के डॉक्युमेंटों का भी सत्यापन कराया गया तो वह फर्जी पाया गया। जिस पर प्रभारी बीएसए ने मंगलवार को पुष्पा देवी की नियुक्ति भी नियुक्ति तिथि से समाप्त करते हुए रिकवरी का आदेश जारी किया है। पुष्पा देवी के कई डॉक्यूमेंट सत्यापन में फेल पाए गए है।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, July 28, 2020

आजमगढ़ : बेसिक शिक्षा विभाग के पांच शिक्षकों की सेवा समाप्त, फर्जी अभिलेख पर पाई थी नौकरी

आजमगढ़ : बेसिक शिक्षा विभाग के पांच शिक्षकों की सेवा समाप्त, फर्जी अभिलेख पर पाई थी नौकरी।

आजमगढ़ :  बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी अभिलेखों पर नौकरी कर रहे पांच सहायक अध्यापकों की सेवा समाप्त कर दी गई है। महानिदेशक स्कूल एवं राज्य परियोजना के आदेश पर बर्खास्त शिक्षकों से नियुक्ति से लेकर अब तक आहरित धनराशि की रिकवरी के लिए वित्त एवं लेखाधिकारी बेसिक शिक्षा और संबंधित खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।




जिन सहायक अध्यापकों की सेवा समाप्त की गई है, उसमें शिक्षा क्षेत्र कोयलसा के प्राथमिक विद्यालय धनसिंहपुर में तैनात रहे मऊ जनपद के चांदमारी इमिलिया गांव निवासी आवेश कुमार पुत्र सतीश चंद्र शर्मा, शिक्षा क्षेत्र सठियांव के प्राथमिक विद्यालय सींहीं, निवासी इमलीडीह पोस्ट बारीपुर जनपद गोरखपुर की नेहा शुक्ला पुत्री ब्रह्मानंद शुक्ला, शिक्षा क्षेत्र बिलरियागंज के प्राथमिक विद्यालय शोधनपट्टी पर तैनात सहयक अध्यापक निवासी भुवनेश्वर प्रताप सिंह, 443, सिविल लाइन आजमगढ़, शिक्षा क्षेत्र महराजगंज के प्राथमिक विद्यालय पर तैनात रहे राजेश कुमार पुत्र रामदुलारे निवासी खलीलाबाद, जनपद संतकबीरनगर एवं शिक्षा क्षेत्र अतरौलिया के प्राथमिक विद्यालय पचरी पर तैनात बांकेबिहारी लाल पुत्र किशोर प्रसाद निवासी सल्लहपुर, तहसील सलेमपुर जनपद देवरिया शामिल हैं।


जांच प्रक्रिया के दौरान संबंधित शिक्षकों के अभिलेख फर्जी मिले थे

शासन के निर्देश पर जांच प्रक्रिया के दौरान संबंधित शिक्षकों के अभिलेख फर्जी मिले थे। कारण बताओ नोटिस जारी की गई थी। निर्धारित मूल प्रमाणपत्रों के साथ संबंधित सहायक अध्यापक कार्यालय में उपस्थित नहीं हुए और ना ही अपना कोई प्रत्यावेदन ही दिया।इसलिए महानिदेशक के निर्देश पर इनकी सेवा समाप्त कर दी गई है।

-अमरनाथ राय, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, June 15, 2020

फर्जीवाड़ा : कासगंज में 'अनामिका के बाद अब 'प्रीती' की तलाश

कासगंज में 'अनामिका के बाद अब 'प्रीती' की तलाश 


कासगंज। प्रदेश में अब फर्जी प्रीती यादव की खोज शुरू हो गई है। दो जिलों में मैनपुरी की प्रीती यादव के नाम से फर्जी शिक्षकों मिलने के बाद खलबली मच गई है। बीएसएफ अंजलि अग्रवाल ने कस्तूरबा गांधी विद्यालय के डीसी को पत्र जारी कर तलाश शुरू करने को कहा है। 


अनामिका शुक्ला के दस्तावेजों के आधार पर प्रदेश के कई जिलों में फर्जी शिक्षकों नौकरी करती रहीं। अब मैनपुरी जनपद की प्रीती यादव के दस्तावेजों पर आजमगढ़ व जौनपुर जिले के कस्तूरबा विद्यालयों में दो फर्जी शिक्षकों मिली हैं। ऐसे में अब प्रीती को लेकर भी कासगंज शिक्षा विभाग बेहद संवेदनशील है।



फर्जीवाड़ा : प्रीति यादव को बर्खास्त कर दर्ज कराया मुकदमा, कसा पुलिस जांच का शिकंजा


जौनपुर। जौनपुर व आजमगढ़ के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय मुफ्तीगंज में प्रीति यादव के नाम से फर्जी प्रमाण पत्रों के सहारे पूर्णकालिक शिक्षक और आजमगढ़ जनपद के पवई विकासखंड में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में वार्डेन के रूप में नौकरी करने वाली प्रीति यादव पुत्री लाल बहादुर सिंह यादव के खिलाफ शनिवार की रात जौनपुर नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया। 


बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएसए प्रवीण कुमार त्रिपाठी ने आनन-फानन में रविवार को ही उसे सेवा से बर्खास्त कर दिया। इसके अलावा जौनपुर में वेतन के रूप में एक लाख 40 हजार रुपए और आजमगढ़ जनपद में डेढ़ लाख रुपए वेतन के रूप में लिए जाने के मामले में रिकवरी के लिए पुलिस की मदद से कागजी प्रपत्र तैयार कर शिकंजा कसा जा रहा है। प्रदेशस्तर पर फर्जी शिक्षकों के बड़े खुलासे के बाद जौनपुर में भी प्रीति यादव के नाम से हुए खुलासा हुआ था। इसे लेकर बेसिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा है।

Thursday, March 12, 2020

विशिष्ट बीटीसी बैच 2015 में फर्जी अंकपत्र पर लिया दाखिला, मामले में संलिप्त पटल प्रभारी व सहायक पटल प्रभारी की स्थायी वेतनवृद्धि रोकते हुए किया स्थानांतरण

विशिष्ट बीटीसी बैच 2015 में फर्जी अंकपत्र पर लिया दाखिला, मामले में संलिप्त पटल प्रभारी व सहायक पटल प्रभारी की स्थायी वेतनवृद्धि रोकते हुए किया स्थानांतरण।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, March 8, 2020

आजमगढ़ : अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों में नियुक्ति में फर्जीवाड़े पर 85 शिक्षक बर्खास्त, गिरफ्तारी से बचने के लिए निलंबित बीएसए पहुंचे कोर्ट

आजमगढ़ : अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों में नियुक्ति में फर्जीवाड़े पर 85 शिक्षक बर्खास्त, गिरफ्तारी से बचने के लिए निलंबित बीएसए पहुंचे कोर्ट।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, February 20, 2020

आजमगढ़ : एक और फर्जी डिग्रीधारक शिक्षक पर दर्ज हुई FIR, अब तक दर्जन से अधिक शिक्षकों पर हो चुकी है कार्रवाई

आजमगढ़ : एक और फर्जी डिग्रीधारक शिक्षक पर दर्ज हुई FIR, अब तक दर्जन से अधिक शिक्षकों पर हो चुकी है कार्रवाई।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, February 18, 2020

आजमगढ़ : बीईओ - प्रबंधक का ऑडियो वायरल, मान्यता के लिए एक लाख की मांग

आजमगढ़ : बीईओ - प्रबंधक का ऑडियो वायरल, मान्यता के लिए एक लाख की मांग।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, January 8, 2020

आजमगढ़ : 10 जनवरी 2020 तक अवकाश घोषित

आजमगढ़ : 10 जनवरी 2020 तक अवकाश घोषित

Tuesday, December 17, 2019

आजमगढ़ : 19/12/2019 तक विद्यालयों में अवकाश घोषित, आदेश देखें

आजमगढ़ : 19/12/2019 तक विद्यालयों में अवकाश घोषित, आदेश देखें

Thursday, October 24, 2019

आजमगढ़ : ABRC / NPRC को मूल विद्यालय में शिक्षण कार्य हेतु योगदान दिए जाने सम्बन्धी आदेश जारी, देखें

आजमगढ़ : ABRC / NPRC को मूल विद्यालय में शिक्षण कार्य हेतु योगदान दिए जाने सम्बन्धी आदेश जारी, देखें

Sunday, September 29, 2019

आजमगढ़ : भारी वर्षा के दृष्टिगत कक्षा 8 तक के समस्त विद्यालयों में दिनाँक 30 सितम्बर 2019 का अवकाश घोषित, आदेश देखें

आजमगढ़ : भारी वर्षा के दृष्टिगत  कक्षा 8 तक के समस्त विद्यालयों में दिनाँक 30 सितम्बर 2019 का अवकाश घोषित, आदेश देखें