DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label कार्यवाही. Show all posts
Showing posts with label कार्यवाही. Show all posts

Monday, September 14, 2020

हाथरस : सरप्लस शिक्षकों द्वारा समायोजन आदेश में आवंटित विद्यालय में कार्यभार ग्रहण न करने पर कारण बताओ नोटिस के सम्बन्ध में

हाथरस : सरप्लस शिक्षकों द्वारा समायोजन आदेश में आवंटित विद्यालय में कार्यभार ग्रहण न करने पर कारण बताओ नोटिस के सम्बन्ध में















Friday, September 11, 2020

हाथरस : 26 शिक्षकों द्वारा पदस्थापित विद्यालयों में कार्यभार ग्रहण करने सम्बन्धी आख्या उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में

हाथरस : 26 शिक्षकों द्वारा पदस्थापित विद्यालयों में कार्यभार ग्रहण करने सम्बन्धी आख्या उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में





Wednesday, August 19, 2020

प्रतापगढ़ में 17 परिषदीय शिक्षक मिले फर्जी, पांच पर एफआइआर

प्रतापगढ़ में 17 परिषदीय शिक्षक मिले फर्जी, पांच पर एफआइआर।


बीईओ ने बताया है कि सुबोध का चयन 68 हजार 500 शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ था। शिक्षक का टीईटी प्रमाण पत्र जांच में फर्जी मिला है। 

प्रयागराज : पडोसी जनपद प्रतापगढ़ में जिले के परिषदीय स्कूलों में 17 परिषदीय शिक्षकों के अभिलेख फर्जी मिले हैं। इनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने का आदेश बीएसए ने दिया है। इनमें से मंगलवार को पांच परिषदीय शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। यह सभी फर्जी दस्तावेज से नौकरी हासिल किए थे। इनके विरुद्ध धोखाधड़ी, जालसाजी का मुकदमा थानों में दर्ज कराया गया है।



नौकरी के लिए बन गए थे भूतपूर्व सैनिक
जिले के परिषदीय स्कूलों में फर्जीवाड़ा कर नौकरी हासिल करने वालों पर विभाग ने शिकंजा कसा है। वर्ष 2017-18 में फर्जी दस्तावेज से शिक्षक की नौकरी हासिल करने वाले 17 शिक्षकों के अभिलेख फर्जी पाए गए हैं। इनके विरुद्ध बेसिक शिक्षा अधिकारी अशोक कुमार सिंह ने एफआइआर का आदेश दिया है। लालगंज प्रतिनिधि के अनुसार रामपुर संग्रामगढ़ के खंड शिक्षा अधिकारी मो. रिजवान ने लालगंज कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा है कि प्राथमिक विद्यालय ढिंगवस में उर्दू भाषा में जिले के मधुपुर प्रतापगढ़ निवासी रियासत अली पुत्र अब्दुल खालिक ने हाईस्कूल तथा इंटरमीडिएट के अंक पत्र फर्जी लगाकर नियुक्ति हासिल कर ली थी। यही नहीं शिक्षक ने स्वयं को भूतपूर्व सैनिक होने का भी फर्जी प्रमाण पत्र लगाया था। जांच में फर्जीवाड़े का राजफाश हुआ।

बीएड का फर्जी अंकपत्र लगाकर कर रहे थे नौकरी
इसी तरह प्राथमिक विद्यालय वीरसिंहपुर में कौशांबी जिले के पूरे पोखरा निवासी अरविंद कुमार पुत्र अमरनाथ ने बुंदेलखंड विश्वविद्यालय झांसी से फर्जी बीएड का अंकपत्र लगाकर सहायक अध्यापक पद पर धोखे से चयन करा लिया था। जांच में बुंदेलखंड विश्वविद्यालय ने आरोपित द्वारा दिए गए अनुक्रमांक को फर्जी बताया। इसी तरह जिले के मेंहदियावारी मुस्तर्का प्रतापगढ़ निवासी संजीव कुमार पुत्र रामनाथ ने विकासखंड के ग्राम पंचायत जेवई पूरे विश्राम प्राथमिक विद्यालय में फर्जी अंकपत्र लगाकर सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति हासिल कर ली थी। जांच में संजीव कुमार के अभिलेख कूटरचित पाए गए। बीईओ मो. रिजवान ने बताया कि तीनों शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है। सांगीपुर प्रतिनिधि के अनुसार सहायक अध्यापिका पर फर्जी दस्तावेज से नौकरी हासिल करने पर  कोठा नेवडिय़ा प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका उमा देवी सरोज पुत्री अजय सरोज के खिलाफ सांगीपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

जांच में शिक्षिका का 2011 टीईटी का प्रमाण पत्र फर्जी मिला 
जांच में 2011 टीईटी का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी हासिल करना पाया गया। इस पर  खंड शिक्षा अधिकारी संड़वा चंद्रिका राम शंकर ने मंगलवार को सांगीपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया। संड़वाचंद्रिका प्रतिनिधि के अनुसार अंतू थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय मझिलहा में टीईटी के फर्जी प्रणामपत्र पर नौकरी कर रहे शिक्षक सुबोध कुमार के खिलाफ बीईओ ने अंतू थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। जांच में मामला पकड़ में आने पर बीएसए ने बीईओ सदर को रिपोर्ट दर्ज कराने का आदेश दिया था। बीईओ ने बताया है कि सुबोध का चयन 68 हजार 500 शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ था। शिक्षक का टीईटी प्रमाण पत्र जांच में फर्जी मिला है। विभाग द्वारा शिक्षक को अभी वेतन निर्गत नहीं  किया गया है। बीएसए अशोक कुमार सिंह ने बताया कि 17 शिक्षकों ने फर्जी दस्तावेज से नौकरी हासिल की थी। इन सभी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने का आदेश खंड शिक्षाधिकारियों को दिया गया है।

..........


प्रतापगढ़ : दो शिक्षकों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, फर्जी दस्तावेजों से हासिल की थी नौकरी, बीईओ ने दी तहरीर।

प्रतापगढ़ : दो शिक्षकों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, फर्जी दस्तावेजों से हासिल की थी नौकरी, बीईओ ने दी तहरीर।

फर्जी दस्तावेज के सहारे नौकरी हासिल करने वाले दो शिक्षकों पर बाघराय पुलिस ने धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की है। यह लोग कभी विद्यालय में नहीं आए। उनके अभिलेख फर्जी होने की जानकारी पर पुलिस ने बीईओ की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।


क्षेत्र के परिषदीय स्कूलों में फर्जी अभिलेख लगाकर नौकरी हथियाने वाले दो शिक्षक बिहार ब्लाक में भी मिले हैं। बीएसएफ की तहरीर पर बाघराय पुलिस ने उन पर भी मुकदमा दर्ज कर लिया है। बिहार विकास खंड के बीईओ आशीष पांडेय की तहरीर पर प्राथमिक विद्यालय शकरदहा में नियुक्त शिक्षक पुष्पा पटेल पुत्री रामलखन निवासी गांव चकनुद्दीनपुर थाना कोरांव प्रयागराज व प्राथमिक विद्यालय शकरदहा में तैनात सुनील कुमार शुक्ला पुत्र खेमचंद शुक्ल निवासी समा की सराय बेधनगोपालपुर थाना बाघराय के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। 

यह लोग फर्जी दस्तावेज के सहारे नौकरी कर रहेथे। बाघराय पुलिस ने उन पर धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया है। उधर, महेशगंज थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय सरायस्वामी में कार्यरत शिवमूरत सिंह और प्राथमिक विद्यालय पूरेजनक राजापुर में कार्यरत कमलेश कुमार के खिलाफ खंड शिक्षा अधिकारी मोहम्मद रिजवान ने जालसाजी कूट रचित दस्तावेज तैयार कर नौकरी हासिल करने की तहरीर दी है। तहरीर मिलने के बाद पुलिस देर शाम दोनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने की तैयारी में थी।

.............


फर्जीवाड़ा में 12 और शिक्षकों पर एफआईआर।


फर्जीवाड़ा कर बेसिक शिक्षा विभाग में नौकरी हासिल करने वाले 17 में से16 शिक्षकों के विरुद्ध एफआईआर हो चुकी है। तहरीर देने के बावजूद अभी एक शिक्षक पर एफआईआर नहीं हो सकी है। चार के खिलाफ मंगलवार को तो 12 के विरुद्ध बुधवार को रिपोर्ट दर्ज की गई।
प्राथमिक शिक्षक बनने में बहुत से लोगों ने अभिलेखों में हेरफेर कर कामयाबी हासिल की है। फर्जीवाड़ा करने वाले ऐसे शिक्षकों के खिलाफ शासन स्तर से जांच कराई जा रही है। एसटीएफ, एसआईटी व विभाग की जांच में फर्जीवाड़ा करने वाले सामने आ रहे हैं। जिले में मंगलवार को 17 शिक्षक इस तरह के पकड़ में आए।

 मंगलवार को ही खंड शिक्षा अधिकारियों की तहरीर पर चार शिक्षकों के विरुद्ध एफआईआर हुई थी जबकि 13 के खिलाफ तहरीर पुलिस को दी जा चुकी है। बुधवार को लक्ष्मणपुर ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय की सहायक अध्यापिका मीना देवी, प्राथमिक विद्यालय समसपुर कुंडा के शिक्षक बृजेन्द्र कुमार, प्राथमिक विद्यालय मझिलहा सदर के शिक्षक सुबोध कुमार सिंह, प्राथमिक विद्यालय सराय बिहार के शिक्षक सुनील कुमार शुक्ल, प्राथमिक विद्यालय शकरदहा प्रथम बिहार की शिक्षिका पुष्पा पटेल और प्राथमिक विद्यालय शाहपुर कुंडा के शिक्षक राकेश कुमार के विरुद्ध संबंधित खंड शिक्षा अधिकारियों की तहरीर पर अलग अलग थानों में रिपोर्ट दर्ज की गई।

फर्जीवाड़ा करने वाले छह और शिक्षकों पर बुधवार शाम पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की। इनमें प्राथमिक विद्यालय सराय स्वामी बाबागंज के शिक्षक शिव मूरत सिंह, प्राथमिक विद्यालय मनकापुर बेलखरनाथ की शिक्षिका जाकिरा बानो, प्राथमिक विद्यालय नारायणपुर मंगरौरा की शिक्षिका सुषमा वर्मा, प्राथमिक विद्यालय मोहद्दीनपुर मानधाता की शिक्षिका रागिनी सिंह, प्राथमिक विद्यालय पूरे जनक बाबागंज के शिक्षक कमलेश कुमार सिंह और प्राथमिक विद्यालय सराय मेदीराय मानधाता की शिक्षिका उषा पटेल शामिल हैं। प्राथमिक विद्यालय चांदपुर मंगरौरा के शिक्षक रमीज खान के खिलाफ तहरीर दी गई है लेकिन अब तक रिपोर्ट नहीं दर्ज हो सकी है। बीएसए अशोक कुमार सिंह ने बताया कि फर्जीवाड़ा करने वाले 16 शिक्षकों पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। रमीज खान पर रिपोर्ट के लिए उन्होंने डीएम से मिलने की बात कही।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, August 18, 2020

देवरिया में दो फर्जी शिक्षिकाएं बर्खास्त, अमेठी में पांच परिषदीय शिक्षकों की खतरे में नौकरी

देवरिया में दो फर्जी शिक्षिकाएं बर्खास्त, अमेठी में पांच परिषदीय शिक्षकों की खतरे में नौकरी।

देवरिया : :  दूसरे के नाम पर नौकरी कर रहीं दो शिक्षकों को बीएसए ने सोमवार को बर्खास्त कर दिया। महानिदेशक स्कूल शिक्षा की जांच में मामला पकड़ में आने पर हुई जांच के बाद दोनों शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई हुई। दोनों शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर वेतन रिकवरी के निर्देश बीएसए ने दिए हैं।

महानिदेशक स्कूल शिक्षा कार्यालय की जांच में जून में प्रदेशभर में एक ही पैन पर दो लोगों के नौकरी करने के 192 मामले मिले थे इनमें से सात मामले देवरिया के थे। इसकी जांच के दौरान प्राथमिक विद्यालय मुसैला खुर्द की प्रधानाध्यापक रेनूबाला और प्राथमिक विद्यालय नदावर घाट की प्रधानाध्यापक सीमा सिंह मोबाइल बंद कर गायब हो गई। सलेमपुर के खंड शिक्षा अधिकारी लक्ष्मीनारायण ने एक जुलाई को दोनों शिक्षकों को जरूरी कागज के साथ उपस्थित होने के लिए फोन करना चाहा तो दोनों का मोबाइल बंद मिला। इसके बाद खंड शिक्षा अधिकारी ने एक जुलाई को ही दोनों विद्यालयों का दौरा किया। इसमें सीमा सिंह अपने तैनातीस्थल प्राथमिक विद्यालय नदावर घाट में नहीं मिलीं। विद्यालय बंद मिला। वहीं मुसैला खुर्द प्राथमिक विद्यालय से प्रधानाध्यापिका रेनूबाला बिना सूचना के गायब मिलीं। इसकी सूचना खंड शिक्षा अधिकारी ने बीएसए को दी। बीएसए ने वेतन बाधित करते हुए दोनों शिक्षकों के पते पर नोटिस भेजकर जरूरी दस्तावेजों के साथ उपस्थित होने को कहा था।




अमेठी में पांच परिषदीय शिक्षकों की नौकरी खतरे में

अमेठी : अनामिका शुक्ला प्रकरण के बाद जिले के बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़े का एक और मामला प्रकाश में आया है। जहां विभिन्न ब्लॉकों में तैनात पांच शिक्षकों के अभिलेख पर जनपद फिरोजाबाद में भी पांच शिक्षकों द्वारा नौकरी पाए जाने का आरोप है। मामले में बीएसए ने इन सभी शिक्षकों का वेतन रोकते हुए उन्हें अपना पक्ष रखने को कहा है। साथ ही फिरोजाबाद बीएसए को पत्र लिखकर वहां तैनात शिक्षकों का वेरिफिकेशन कर उनकी अभिलेखों की छाया प्रति मांगी है। बेसिक शिक्षा विभाग में अलग-अलग ब्लॉकों के परिषदीय विद्यालय में कार्यरत 5 शिक्षकों के अभिलेखों पर किसी व्यक्ति ने बीएसए से फोन पर शिकायत की थी।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, July 24, 2020

कौशाम्बी : डिप्टी सीएम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला शिक्षक सस्पेंड, सोशल मीडिया में वायरल हुआ था आडियो

कौशाम्बी : डिप्टी सीएम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला शिक्षक सस्पेंड, सोशल मीडिया में वायरल हुआ था आडियो।

कौशाम्बी :: विकास खंड कड़ा के प्राथमिक विद्यालय सौरई बुजुर्ग में तैनात शिक्षक अजय साहू को डिप्टी सीएम समेत स्थानीय भाजपा नेताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करना भारी पड़ गया है। एक भाजपा नेता की तहरीर व वायरल आडियो के आधार पर कड़ा कोतवाली पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी शिक्षक की तलाश शुरू कर दी है। वहीं, बीएसए ने आरोपी शिक्षक को सस्पेंड कर प्रकरण की जांच के लिए दो सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है। वीडियो सोशल साइट पर वायरल होने पर हड़कंप मच गया।




कड़ा के प्राथमिक विद्यालय सौरई बुर्जुग में तैतान शिक्षक अजय कुमार साहू का एक वीडियो बुधवार को सोशल साइट पर वायरल हो गया। उसकी आवाज किसी के साथ बात करते हुए सुनाई पड़ रही है आडियो में वह डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या, भाजपा नेता धर्मराज मौर्या के साथ ही स्थानीय कई सत्ताधारी दल के नेताओं का नाम लेते हुए अपशब्द कह रहा है। इस मामले की तहरीर भाजपा नेता धर्मराज मौर्या ने कड़ा कोतवाली में दी। पुलिस ने तहरीर व वायरल आडियो के आधार पर गुरुवार को आरोपी शिक्षक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली। कोतवाल राकेश तिवारी का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज कर शिक्षक की तलाश शुरू कर दी है। वहीं, दूसरी तरफ वायरल आडियो और एफआईआर को आधार मानकर बीएसएफ राजकुमार पंडित ने आरोपी शिक्षक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि तक शिक्षक को सरसवां ब्लॉक के बरौला प्राइमरी स्कूल से संबद्ध करने के साथ ही बीएसए ने प्रकरण की जांच के लिए दो खंड शिक्षा अधिकारियों की टीम गठित कर दी है।

जालसाजी में पकड़ी गई एक और शिक्षिका, रोका वेतन

मंझनपुर :  परिषदीय स्कूलों में जालसाजी कर नौकरी करने वाले शिक्षकों की फेहरिश्त बढ़ती जा रही है। जिले के मूरतगंज विकासखंड क्षेत्र में एक और जालसाज शिक्षिका पकड़ी गई। भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से जारी बीएड की फेंक डिग्री लगाकर नौकरी करने वाली इस शिक्षिका के वेतन आहरण पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। इसके साथ ही संबंधित शिक्षण संस्थाओं को इसके अभिलेखों को सत्यापन कराने के लिए भेज दिया गया है।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, June 28, 2020

नकल माफिया चंद्रमा के स्कूल पर होगी कार्रवाई, रिपोर्ट हो रही तैयार, टीईटी पेपर लीक कराने की कोशिश में भी हुआ था गिरफ्तार

नकल माफिया चंद्रमा के स्कूल पर होगी कार्रवाई, रिपोर्ट हो रही तैयार, टीईटी पेपर लीक कराने की कोशिश में भी हुआ था गिरफ्तार।


प्रयागराज : 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा मामले की जांच में जुटी एसटीएफ फरार चल रहे नकल माफिया चंद्रमा यादव के स्कूल पर भी कार्रवाई कर सकती है। टीईटी में धांधली की कोशिश के दौरान गिरफ्तार किए जाने पर चंद्रमा ने खुद बयान दिया था कि उसे अपने स्कूल से ही पेपर की फोटो खींचकर सॉल्वरों तक पहुंचाना था। अब 69 हजार शिक्षक भर्ती में वांछित होने के बाद एसटीएफ उसके स्कूल के बारे में भी जानकारी जुटाने में लगी है। 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कराने वाले गिरोह का भंडाफोड़ चार जून को हुआ था जिसमें सरगना केएल पटेल समेत 11 लोग जेल भेजे जा चुके हैं। सरगना से पूछताछ में पता चला था कि वह टीईटी में धांधली की कोशिश करते गिरफ्तार हुए चंद्रमा यादव के भी लगातार संपर्क में था।







चंद्रमा धूमनगंज स्थित एक स्कूल का प्रबंधक है और कई राजनेताओं से भी उसके संबंध होने की बात सामने आई थी। 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कराने वाले गिरोह के भंडाफोड़ मामले की जांच में जुटी एसटीएफ को यह भी पता चला है कि चंद्रमा व सरगना केएल पटेल ने पूर्व में कई अन्य परीक्षाओं में भी धाधली की। पिछले साल रेलवे परीक्षाओं में भी उन्होंने सेंध लगाने की कोशिश की थी। चंद्रमा से पूछताछ में सामने आया था कि वह अपने ही स्कूल से टीईटी के पेपर की फोटो खींचकर व्हाट्सएप पर सॉल्वरों तक भेजने वाला था जिसके बाद उसे सॉल्व कॉपी मिलती और वह इसे अपने संटिंग वाले परीक्षार्थियों तक पहुंचाता। यही वजह है कि एसटीएफ चंद्रमा के स्कूल के बारे में भी जानकारी जुटाने में लग गई है। पता लगाया जा रहा है कि इससे पहले अन्य किन-किन परीक्षाओं के लिए इस स्कूल को केंद्र बनाया गया। क्या उन परीक्षाओं में भी किसी तरह की धांधली हुई। मामले में औपचारिक रूप से एसटीएफ अफसर कुछ भी बताने को तैयार नहीं हैं।

69 हजार शिक्षक भर्ती मामले में भी एसटीएफ ने किया है वांछित

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।