DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label गोरखपुर. Show all posts
Showing posts with label गोरखपुर. Show all posts

Wednesday, April 14, 2021

गोरखपुर : चुनाव ड्यूटी पर शिक्षिका और होमगार्ड जवान की अचानक बिगड़ी तबीयत, अस्‍पताल पहुंचने के कुछ समय बाद ही मौत

चुनाव ड्यूटी पर शिक्षिका और होमगार्ड जवान अचानक बिगड़ी तबीयत, अस्‍पताल पहुंचने के कुछ समय बाद ही मौत

Livehindustan

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की ड्यूटी करने गई महिला कर्मीं और होमगार्ड जवान की अचानक तबियत खराब होने से मौत हो गई। पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है। उधर, मौत की जानकारी होने पर उनके परिजनों में कोहराम मच गया।

पिपरौली संवाद के अनुसार चरगांवा ब्लॉक के अहमद अली शाह कम्पोजिट विद्यालय पर तैनात महिला कर्मचारी पुष्पा पाण्डेय का पिपरौली ब्लॉक में चुनाव ड्यूटी लगी थी। वह बुधवार को ब्लॉक मुख्यालय पर पहुंचीं थीं। दोपहर तकरीबन एक बजे अचानक उनके सिर में दर्द हुआ और वह चक्कर खाकर गिर गईं। परिजन उनको आनन-फानन में उपचार के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। डॉक्टर ने हालत गंभीर देख मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। परिजन शहर के एक प्राइवेट अस्पताल में लेकर पहुंचे, जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। डॉक्टर ने ब्रेन हेमरेज से मौत की आशंका जताई है।भर्रोह संवाद के अनुसार गोला ब्लाक व बड़हलगंज थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय अहिरौली पर बने बूथ संख्या 180 व 181 पर चुनाव ड्यूटी पर आए होमगार्ड की तबियत बिगड़ गई। आनन-फानन में उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। बूथ संख्या 181 के पीठासीन अधिकारी अनिल कुमार का कहना था कि गोंडा के कोतवाली देहात में तैनात 55 वर्षीय होमगार्ड बजरंगीलाल गुप्ता पुत्र ओरीलाल गुप्ता उसी थाना क्षेत्र के दर्जी कुंआ गांव के रहने वाले थे।

वे ड्यूटी पर आए तो पैर में सुजन की शिकायत की। रास्ते में दवा नहीं ले सके और आते ही सो गए। शाम को शौच के लिए निकले ही थे कि लड़खड़ा कर गिर गए। उनको पकड़कर बैठाया गया और एंबुलेंस बुलाकर अस्पताल भेजा गया। इस संबंध में कोतवाल संतोष कुमार सिंह का कहना है कि उनके परिवारवालों को सूचना दे दी गई है।


Friday, April 9, 2021

गोरखपुर : पंचायत निर्वाचन प्रशिक्षण में लापरवाही करने वाले कार्मिकों के खिलाफ FIR एवं अनिवार्य सेवा निवृत्ति की कार्यवाही की संस्तुति करने के सम्बन्ध में प्रेस विज्ञप्ति जारी, देखें

गोरखपुर : 50 वर्ष से ऊपर के अनुपस्थित मतदान कर्मियों के प्रशिक्षण न करने पर अनिवार्य सेवानिवृत्त एवं FIR करने की चेतावनी, प्रेस विज्ञप्ति जारी

Friday, March 26, 2021

गोरखपुर : नवीन BEO सह पूर्व में कार्यरत BEO को हुआ ब्लॉक आवंटन, आदेश देखें

गोरखपुर : नवीन BEO सह पूर्व में कार्यरत BEO को हुआ ब्लॉक आवंटन, आदेश देखें

Monday, February 22, 2021

हर मंडल में निजी सहभागिता से खुलेगा एक-एक सैनिक स्कूल

यूपी में बढ़ेगी सैनिक स्कूलों की संख्या, गोरखपुर में बनेगा नया सैनिक स्कूल

हर मंडल में निजी सहभागिता से खुलेगा एक-एक सैनिक स्कूल


प्रदेश के प्रत्येक मंडल में निजी सहभागिता से एक सैनिक स्कूल की स्थापना की जाएगी। इसके लिए राज्य सरकार जमीन उपलब्ध कराएगी। मैनपुरी, अमेठी और झांसी के बकाया कामों को पूरा कराने और गोरखपुर में एक नए सैनिक स्कूल का निर्माण के लिए 90 करोड़ का बजट प्रावधान किया है।

 राजधानी लखनऊ स्थित कैप्टन मनोज पांडेय सैनिक स्कूल में ऑडिटोरियम की क्षमता बढ़ाने के लिए 15 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

युवाओं को अनुशासन के साथ उन्हें सस्ती व गुणवत्तापरक शिक्षा दिलाने के लिए प्रदेश की योगी सरकार प्रतिबद्धता से काम कर रही है। अभी हाल में ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के हर मंडल में एक सैनिक स्कूल खोले जाने का प्रस्ताव रक्षा मंत्रालय को भेजा है। इसी कड़ी में गोरखपुर में एक सैनिक स्कूल के निर्माण की मंजूरी मुख्यमंत्री ने दी है। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बजट अभिभाषण के दौरान 90 करोड़ रुपये का बजट गोरखपुर सैनिक स्कूल के लिए पास किया है। इसके अलावा कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय सैनिक स्कूल सरोजनीनगर में एक हजार लोगों की क्षमता वाले आडिटोरियम का निर्माण कराया जाएगा। इसके 15 करोड़ रुपए का प्राविधान किया गया है।



सेना में जाने के सपने बुनने वाली बेटियों के पंखों को प्रदेश की योगी सरकार नई उड़ान देने जा रही है। प्रदेश सरकार कारगिल शहीद कैप्टन मनोज पाण्डेय सैनिक स्कूल की क्षमता को दोगुना करने की तैयारी कर रहा है। यूपी के बजट में कैप्टन मनोज पाण्डेय सैनिक स्कूल सरोजनीनगर को विकसित किए जाने व उसकी क्षमता को दोगुना करने का प्रस्ताव पास किया गया है। खासकर बेटियों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार बालिका कैडेट के लिए 150 की क्षमता वाले छात्रावास का निर्माण कराएगा। साथ ही एक हजार की क्षमता वाले आडिटोरियम का निर्माण कराया जाएगा। इसके लिए 15 करोड़ रुपए बजट का प्राविधान किया गया है। वहीं, सहायता प्राप्त अशासकीय माध्यमिक विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए 200 करोड़ रुपये की बजट व्यवस्था भी की गई है।  


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल के चलते अन्य राज्यों की अपेक्षा यूपी में सैनिक स्कूल की संख्या अधिक है। यूपी में रक्षा मंत्रालय द्वारा तीन सैनिक स्कूलों का संचालन अमेठी, झांसी, मैनपुरी में किया जा रहा है जबकि बागपत में सैनिक स्कूल का निर्माण प्रस्तावित है। इसके अलावा गोरखपुर में एक सैनिक स्कूल बनाए जाने के लिए 90 करोड़ रुपए का प्राविधान प्रदेश सरकार ने अपने अंतिम बजट में किया है।


 प्रदेश के सैनिक स्कूलों में छात्रों को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा बहुत कम फीस में मुहैया कराई जा रही है। लखनऊ में यूपी सैनिक स्कूल का संचालन किया जाता है, जो राज्य सरकार के अधीन है । यह देश का पहला सैनिक स्कूल है। इसके बाद रक्षा मंत्रालय ने देश भर में सैनिक स्कूलों का निर्माण कराया। जानकारों की मानें तो सैनिक स्कूल में दाखिले के बाद छात्र कम फीस में उच्च गुणवत्ता की शिक्षा हासिल करते हैं। ऐसे में योगी सरकार के प्रस्ताव से उन अभिभावकों को बड़ी राहत मिलेगी जो अधिक फीस होने के चलते अपने बच्चों को अच्छे स्कूलों में नहीं पढ़ा पाते हैं। सैनिक स्कूलों की संख्या बढ़ने से ऐसे अभिभावकों के बच्चे बेहतर शिक्षा हासिल कर सकेंगे।

Saturday, February 20, 2021

प्राइमरी स्कूलों बच्चों के आंकलन के बाद चलेंगी 40 मिनट की उपचारात्मक कक्षायें

प्राइमरी स्कूलों बच्चों के आंकलन के बाद चलेंगी 40 मिनट की उपचारात्मक कक्षायें।


गोरखपुर। एक मार्च से सभी परिषदीय प्राइमरी स्कूल खुल रहे हैं। इन स्कूलों में रोजाना 40 मिनट की रिमेडियल (उपचारात्मक) कक्षा चलाई जाएगी। जिले के 1600 परिषदीय स्कूलों में इसे लागू करने की कवायद शुरू हो गई है।


बेसिक शिक्षा विभाग ने एक मार्च से स्कूल खुलने के बाद बच्चों की क्षमताओं के आकलन की तैयारी शुरू की है। इसके लिए आकलन प्रपत्र तैयार किया गया है। स्कूल आने वाले छात्रों से पहले इसी आधार पर समीक्षा की जाएगी। जो बच्चे कमजोर मिलेंगे उनके लिए रोजाना पहली कक्षा में 40 मिनट की रिमेडियल क्लास चलाई जाएगी। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों की क्षमताओं का आकलन केवल हिंदी और गणित विषय में किया जाएगा।


बीएसए बीएन सिंहने कहा कि कोरोना काल में घर रहने के दौरान बच्चों ने कितना सीखा है, इसका आकलन करने का निर्देश शासन स्तर से मिला है। बच्चों की कमियों को जानकार उनके लिए 40 मिनट की रिमेडियल कक्षाएं चलाई जाएंगी। 


गणित में संख्या पहचानना और हल करना होगा

गणित में कक्षा एक के बच्चों को निर्धारित सूची में से पांच संख्याओं को सही से पहचानना होगा। कक्षा दो के बच्चों को जोड़ एवं घटाव के एक अंक के 75 फीसदी प्रश्न हल करने होंगे। कक्षा तीन के बच्चे जोड़ घटाव वाले 75 फीसदी प्रश्नों को सही से हल कर लेते हैं या नहीं? कक्षा चार के बच्चे गुणा के 75% प्रश्नों को सही से हल कर लेते हैं या नहीं। वहीं कक्षा पांच के छात्र भाग के 75 फीसदी प्रश्नों को सही से हल कर पाते हैं या नहीं।


हिंदी में पहचानने होंगे शब्द कक्षा एक के बच्चों को हिंदी के पांच शब्द पहचानने होंगे। कक्षा दो के बच्चों को हिंदी में 20 शब्द प्रति मिनट के प्रवाह से पढ़ना होगा। कक्षा तीन के बच्चों को हिंदी में 30 शब्द प्रति मिनट के प्रवाह से पढ़ना होगा। कक्षा चार के बच्चों को छोटे अनुच्छेद को पढ़कर 75 फीसदी प्रश्नों का सही उत्तर देना होगा। कक्षा पांच के बच्चों को 75 फीसदी प्रश्नों का सही उत्तर देना होगा।

Saturday, February 13, 2021

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण से आने वाले शिक्षकों को विद्यालय आवंटन, जहां जरूरत नही वहां भेज दिए गए शिक्षक

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण से आने वाले शिक्षकों को विद्यालय आवंटन, जहां जरूरत नही वहां भेज दिए गए शिक्षक

Wednesday, February 10, 2021

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण : प्रेरणा पोर्टल से ऑनलाइन होगा विद्यालयों का आवंटन

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण : प्रेरणा पोर्टल से ऑनलाइन होगा विद्यालयों का आवंटन

Saturday, February 6, 2021

गोरखपुर : वित्तीय वर्ष 2020-21 में आयकर गणना एवं आयकर कटौती के सम्बन्ध में, आयकर आगणन प्रपत्र भी देखें

गोरखपुर : वित्तीय वर्ष 2020-21 में आयकर गणना एवं आयकर कटौती के सम्बन्ध में, आयकर आगणन प्रपत्र भी देखें

Tuesday, February 2, 2021

गोरखपुर : कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से शिक्षा प्रदान करने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी द्वारा निर्देश जारी, देखें

कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से शिक्षा प्रदान करने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी द्वारा निर्देश जारी, देखें

Sunday, January 31, 2021

गोरखपुर : सेवा पंजिका सुरक्षित रखने के सम्बन्ध में आदेश जारी, देखें

गोरखपुर : सेवा पंजिका सुरक्षित रखने के सम्बन्ध में आदेश जारी, देखें

यूपी की शिक्षा व्यवस्था को नया आयाम देने वाला होगा गोरखपुर सैनिक स्कूल

यूपी की शिक्षा व्यवस्था को नया आयाम देने वाला होगा गोरखपुर सैनिक स्कूल


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में प्रस्तावित नए सैनिक स्कूल की स्थापना की कार्यवाही तेज करने के निर्देश दिए हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री आवास पर सैनिक स्कूल स्थापना की विस्तृत कार्ययोजना को देखते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह विद्यालय उत्तर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को नवीन आयाम देने वाला होगा। गुणवत्तापरक शिक्षा मुहैया कराने के संकल्प के क्रम में यह विद्यालय अहम होगा।


सैनिक स्कूल के प्रस्तावित परिसर का ले-आउट देखते हुए सीएम योगी ने कहा कि फर्टिलाइजर इलाके में 50 एकड़ से अधिक परिसर में स्थापित होने जा रहा यह विद्यालय ऐसा हो, जो युवाओं में राष्ट्र भक्ति का भाव भरे।छात्रावासों के नाम भारत के गौरवशाली इतिहास के नायकों पर रखे जाएं। यही नहीं, विश्व की श्रेष्ठतम सेना के शूरवीरों के नाम पर भी परिसर में अलग-अलग स्थलों का नामकरण किया जाए। बास्केटबॉल, घुड़सवारी प्रशिक्षण, जिम्नास्टिक, स्वीमिंगपूल आदि सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी भवनों में सोलर पैनल और रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था जरूर की जाए। उन्होंने कहा कि हास्टल और मेस के बीच का एरिया कुछ इस तरह डिजाइन किया जाए ताकि जरूरत पडऩे पर सभी छात्र-छात्राओं को एक साथ भी बैठाया जा सके। सीएम योगी ने निर्देश दिए कि निर्माण कार्य के लिए डीपीआर यथाशीघ्र तैयार किया जाए। 


बैठक में अपर मुख्य सचिव माध्यमिक शिक्षा आराधना शुक्ला ने मुख्यमंत्री को प्रस्तावित कार्ययोजना के विविध बिंदुओं से अवगत कराया। सैनिक स्कूल में घुड़सवारी, शूटिंग रेंज, स्वीमिंग पुल के साथ-साथ मल्टीपरपज हाल, आडिटोरियम, सोलर लाइट सिस्टम के साथ पूरा परिसर सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में रहेगा। मार्च पास्ट, झंडारोहण के लिए अलग ट्रैक के अलावा यहां बागवानी व जैविक खेती के भी इंतजाम होंगे। बैडमिंटन हाल के साथ-साथ यहां ध्यान केंद्र बनाया जाएगा, जिसमें छात्र-छात्राएं ध्यान करना सीखेंगे।

Friday, January 29, 2021

गोरखपुर : शिक्षकों की आफलाइन छुट्टियां नहीं होंगी मान्य

शिक्षकों की आफलाइन छुट्टियां नहीं होंगी मान्य

गोरखपुर : परिषदीय विद्यालय में शिक्षकों को अवकाश लेने के लिए हर हाल में आनलाइन आवेदन करना होगा। बिना आनलाइन आवेदन के किसी भी दशा में अवकाश मान्य नहीं होगा। समीक्षा बैठक में शिक्षकों को द्वारा आफलाइन अवकाश के मामले सामने आने के बाद कों का राज्य परियोजना कार्यालय सख्त हो गया है।

जनपद में वर्तमान में 2504 परिषदीय कार्यरत शिक्षक अभी भी आफलाइन छुट्टियों से ही काम चला रहे थे। गत 23 जनवरी को जब राज्य परियोजना निदेशक विजय किरण आनंद की टीम ने जिले के परिषदीय विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया, तो कई ऐसे विद्यालय मिले जहां शिक्षक आफलाइन आवेदन कर अवकाश पर थे।

राज्य परियोजना कार्यालय के वरिष्ठ विशेषज्ञ रोहित त्रिपाटी के निर्देश के क्रम में सभी बीईओ को शिक्षकों द्वारा आनलाइन अवकाश के नियम का पालन सुनिश्चित कराने को कहा गया है। भूपेंद्र नारायण सिंह, BSA

Wednesday, January 27, 2021

गोरखपुर : स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में।

गोरखपुर : स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में।


Saturday, January 16, 2021

UP : पंचायत चुनावों से पहले प्राइमरी स्‍कूलों तक बिजली पहुंचाने की कवायद

UP : पंचायत चुनावों से पहले प्राइमरी स्‍कूलों तक बिजली पहुंचाने की कवायद, गोरखपुर में सवा करोड़ की दरकार 


गोरखपुर : यूपी में ग्राम पंचायत चुनाव से पहले जिले के विभिन्न ब्लाकों के 772 प्राथमिक स्कूलों में बिजली निगम को कनेक्शन देना है। ये सभी स्कूल बिजली सुविधा सें वंचित है। शासन के निर्देश पर बिजली निगम ने सर्वे कराकर इन स्कूलों तक बिजली पहुचाने के लिए सवा करोड़ का इस्टीमेट बनाकर बीएसए को भेजा है। बजट की प्रत्याशा में बिजली निगम ने टेण्डर की प्रक्रिया भी पूरी कर दी है। अब काम शुरु करने के लिए निगम को सवा करोड़ मिलने का इंतजार है। एसई का कहना है कि शासन से जल्द ही बजट मुहैया हो जाएगा।


शासन ने दिसम्बर में बिजली निगम को पत्र भेजकर कहा था कि बिजली सुविधा से वंचित जिले के प्राथमिक स्कूलों का सर्वे कर पंचायत चुनाव से पहले खम्भा, तार व ट्रांसफॉर्मर लगाकर बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराए। इसके बाद ग्रामीण वितरण मण्डल द्वितीय के अभियंताओं व प्रशासन की टीम ने विभिन्न ब्लाकों के प्राथमिक स्कूलों का सर्वे की। इस दौरान 772 स्कूल बिजली सुविधा से वंचित मिले। रिपोर्ट मिलने के बाद वितरण मण्डल के एसई ने रिपोर्ट से शासन को अवगत कराया दिया। क्षेत्र के अवर अभियंताओं ने स्कूलों तक एचटी लाइन बनाने व ट्रांसफॉर्मर लगाने में होने वाले खर्च का आकलन कर इस्टीमेट तैयार किया। चिन्हित स्कूलों तक एचटी लाइन बनाने व ट्रांसफॉर्मर लगाने में 1.20 करोड़ खर्च का इस्टीमेट बना। ग्रामीण वितरण मण्डल के एसई ने बीएसए को टीसी भेजकर पैसा जल्द से जल्द जमा करने को कहा है। शासन से बजट अवमुक्त होते ही कार्यदायी फर्म काम शुरू कर देगी। यह काम पंचायत चुनाव से पहले पूरा होना है।


इन ब्लाकों के प्राथमिक स्कूलों में लगने हैं कनेक्शन
भटहट-36, चरगांवा-9, नगर क्षेत्र-15, पिपराइच-47, ब्रम्हपुर-70, खोराबार-13, सरदानगर-35, कैम्पियरगंज-38, जगंल कौड़िया-67, खजनी-29, पाली-33, पिपरौली-22, सहजनवा-51, बांसगांव-54, बड़हलगंज-55, गगहा-57, कौड़ीराम-48, बेलघाट-18, गोला- 46, ऊरुवा-31 स्कूल


शासन के निर्देश पर प्रशासन व बिजली निगम की टीम के सर्वे में जिले के विभिन्न ब्लाकों में 772 स्कूल बिना बिजली सुविधा के मिले। इन स्कूलों तक एचटी लाइन बनाकर, 25 केवीए ट्रांसफार्मर लगाकर बिजली कनेक्शन पंचायत चुनाव से पहले दिया जाना है। इसमें करीब 1.20 करोड़ रुपये खर्च होने है। इसके लिए बीएसए को टीसी भेजी गई है। काम कराने के लिए टेण्डर प्रक्रिया भी फाइलन कर दी गई है। बजट मिलते ही काम शुरु करा दिया जाएगा। ई. राजीव चतुर्वेदी, एसई, ग्रामीण वितरण मण्डल प्रथम

Wednesday, January 13, 2021

गोरखपुर : जनपदीय वार्षिक अवकाश तालिका जारी, देखें

जनपदीय वार्षिक अवकाश तालिका जारी, देखें

Saturday, January 9, 2021

गोरखपुर : परिषदीय विद्यालयों में जल्द आएंगे टैबलेट, तैयारी शुरू

गोरखपुर : परिषदीय विद्यालयों में जल्द आएंगे टैबलेट, तैयारी शुरू


गोरखपुर। बेसिक शिक्षा परिषद के 2504 विद्यालयों को जल्द ही टैबलेट दिया जाएगा। इस संबंध में शासन ने प्रदेश के सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। इसमें विभाग से जिले में कार्यरत शिक्षकों की सूची को तलब किया गया है। शिक्षा विभाग ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है।


आने वाले दिनों में टैबलेट का इस्तेमाल न सिर्फ बच्चों की ई- लर्निंग, बल्कि शिक्षकों की बायोमीट्रिक प्रणाली से उपस्थिति दर्ज कराने में किया जाएगा। महानिदेशक (स्कूल शिक्षा) के निर्देश पर प्रथम चरण में परीक्षण  चल रहा है। इसके लिए लखनऊ के 15 विद्यालय पहले ही चयनित किए जा चुके हैं। धीरे-धीरे प्रदेश के अन्य जनपदों में भी परीक्षण कर इसका वितरण सुनिश्चित कराया जाएगा। 


बीएसए बीएन सिंह ने कहा कि बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन और बच्चों तक उच्चीकृत शिक्षा पहुंचाने के नजरिए से शासन ने शिक्षकों को टैबलेट वितरित करने का मन बनाया है। शासन स्तर से शिक्षकों की दोबारा सूची मांगी गई है। उसे जल्द ही भेज दिया जाएगा।

Tuesday, December 29, 2020

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय ट्रांसफर हेतु रिक्ति प्रदर्शित करने परन्तु पदोन्नति हेतु रिक्ति शून्य बताने पर प्रा0शि0संघ के ज्ञापन पर मार्गदर्शन हेतु बीएसए ने सचिव परिषद को लिखा पत्र, देखें

गोरखपुर : अंतर्जनपदीय ट्रांसफर हेतु रिक्ति प्रदर्शित करने परन्तु पदोन्नति हेतु रिक्ति शून्य बताने पर प्रा0शि0संघ के ज्ञापन पर मार्गदर्शन हेतु बीएसए ने सचिव परिषद को लिखा पत्र, देखें



Monday, December 7, 2020

पुलिस मुख्यालय ने पूछा, कितने फर्जी शिक्षक पकड़े? शासन की मंशा पर होगी सख्ती

पुलिस मुख्यालय ने पूछा, कितने फर्जी शिक्षक पकड़े? शासन की मंशा पर होगी सख्ती


गोरखपुर।
बर्खास्त किए जा चुके फर्जी शिक्षकों की मुसीबतें अब और बढ़ने जा रही हैं। पुलिस उनकी गिरफ्तारी करेगी। फरार चल रहे आरोपितों के खिलाफ कुर्की की कार्रवाई भी करेगी। पुलिस मुख्यालय लखनऊ ने ऐसे मामलों को गंभीरता से लिया है और एसएसपी से पूछा है कि कितने फर्जी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। कितने गिरफ्तार किए जा चुके हैं और कितनों की सम्पत्तियां कुर्क की गई हैं। पुलिस मुख्यालय ने अपनी सख्त मंशा भी जाहिर की है। पुलिस अधिकारियों से कहा है कि ऐसे मामलों को गंभीरता से लें।


बेसिक शिक्षा विभाग, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा विभाग के साथ ही समाज कल्याण और अल्पसंख्यक कल्याण विभाग द्वारा संचालित स्कूल-कॉलेजों में बड़ी संख्या में फर्जी नियुक्तियां की गई हैं। शासन की सख्ती के बाद की गई जांच में फर्जी शिक्षकों की काली करतूतों का खुलासा हुआ है। शासन की मंशा के अनुरूप पूरे प्रदेश में अभियान चलाकर फर्जी शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। शासन की सख्ती का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस मामले की जांच एसटीएफ को सौंप दी गई है। एसटीएफ ने अपनी जांच-पड़ताल में बड़ी संख्या में फर्जी शिक्षकों को पकड़ा है और उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया है। सूत्रों का कहना है कि अकेले गोरखपुर जिले में 78 फर्जी शिक्षक पकड़े जा चुके हैं। इनके खिलाफ जांच-पड़ताल चल रही है।


अपर पुलिस महानिदेशक अपराध डॉ. केएस प्रताप कुमार की एक चिट्ठी ने गोरखपुर पुलिस की सक्रियता बढ़ा दी है। इस चिट्ठी ने शासन की मंशा भी जाहिर कर दी है कि फर्जी तरीके से नौकरी हथियाने और करोड़ों रुपये डकार जाने वाले इन फर्जी शिक्षकों को सरकार बख्शने वाली नहीं है। पुलिस मुख्यालय ने जिला पुलिस प्रमुखों को स्पट तौर पर निर्देश दिया है कि इस मामले को प्राथमिकता पर लें और यह रिपोर्ट तैयार कर भेजें कि कितने फर्जी शिक्षकों को चिह्नित किया गया है। कितने की सेवा समाप्त की गई है। जिनकी सेवा समाप्त की गई उनमें से कितनों से वसूली की जा चुकी है। कितनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। कितने फर्जी शिक्षकों की गिरफ्तारी की गई है। पुलिस मुख्यालय ने यह भी पूछा है कि कितने की सम्पत्तियां कुर्क की गई हैं। कितनों के खिलाफ आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कर दिया गया है।


थानेदारों ने तेज की विवेचनाएं
पुलिस सूत्रों का कहना है कि पुलिस मुख्यालय से चिट्ठी आने के बाद एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने भी सख्ती दिखाई है। एसएसपी की सख्ती के बाद फर्जी शिक्षकों के खिलाफ दर्ज किए गए मामलों की थानेदारों और चौकी प्रभारियों ने विवेचनाएं तेज कर दी हैं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि जिन फर्जी शिक्षकों के खिलाफ अभियोग दर्ज है और जो फरार चल रहे हैं उन पर दबाव बनाने के लिए पुलिस उनके खिलाफ न्यायालय से कुर्की का आदेश लेगी।

Saturday, November 28, 2020

महराजगंज : शिक्षकों के जीपीएफ खातों से एक अरब की राशि डूबने का खतरा, गोरखपुर जनपद से अब तक नहीं हुआ ट्रांसफर

महराजगंज : शिक्षकों के जीपीएफ खातों से एक अरब की राशि डूबने का खतरा, गोरखपुर जनपद से अब तक नहीं हुआ ट्रांसफर


महराजगंज बेसिक शिक्षा विभाग के जीपीएफ खाते से शिक्षकों की कटौती के करीब एक अरब रुपये गायब हैं। इससे सेवानिवृत्ति की दहलीज पर पहुंचे शिक्षक परेशान हैं। पिछले साल रिटायर हुए कुछ शिक्षकों का अभी तक जीपीएफ का भुगतान नहीं हो पाया है।

गोरखपुर जिले से महराजगंज के अलग होने के समय महराजगंज के शिक्षकों के जीपीएफ का 12 करोड़ रुपया बेसिक शिक्षा विभाग को नहीं मिल पाया। वहीं पैसा अब ब्याज के साथ बढ़ कर करीब एक अरब हो गया है। जिले के बेसिक शिक्षा के जीपीएफ एकाउंट में पैसा ही नहीं है। इस वजह से शिक्षकों को अपनी कटौती से जमा धनराशि परही कर्ज नहीं मिल पा रहा है। 


प्राथमिक शिक्षक संघ के वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष बैजनाथ सिंह का कहना है कि गोरखपुर से बकाया जीपीएफ धनराशि नहीं आई तो शिक्षकों के भविष्य निधि की धनराशि के डूबने का खतरा उत्पन्न हो जाएगा।

Thursday, November 26, 2020

अनुदेशकों के नवीनीकरण मामले में गोरखपुर के डीएम व BSA को अवमानना का नोटिस

अनुदेशकों के नवीनीकरण मामले में गोरखपुर के डीएम व BSA को अवमानना का नोटिस


प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जिलाधिकारी गोरखपुर के विजयेन्द्र पांडियन और BSA को अबमानना का नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने उनको अदालत के आदेश का पालन करने के लिए एक और अवसर देते हुए कहा कि यदि एक माह में आदेश का पालन कर हलफनामा नहीं देते हैं तो उनको तलब कर अवमानना का आरोप निर्मित किया जाएगा। 


कोर्ट ने कहा कि प्रथम दृष्टया अवमानना का केस बनता है। यह आदेश न्यायमूर्ति वी के बिड़ला ने अनुदेशक प्रभु शंकर व छह अन्य की अवमानना याचिका पर दिया है। इससे पहले कोर्ट ने डीएम व बीएसए को याचीगण को अनुदेशक पद पर कार्य करने देने तथा मानदेय देने का निर्देश दिया था। याचियों का कहना है कि अंशकालिक अनुदेशक  पर आठ साल कार्य करने के बाद यह कहते हुए नवीनीकरण करने से इंकार कर दिया गया कि स्कूल में 100 से कम बच्चे होने के कारण जरूरत नहीं है। कोर्ट ने निर्धारित मानदेय से कम भुगतान करने को चपरासी के न्यूनतम बेतन से कम भुगतान को शोषण माना था और सरकार से जवाब मांगा है। याचिका लंबित हैं।