DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label चुनाव. Show all posts
Showing posts with label चुनाव. Show all posts

Wednesday, January 20, 2021

पंचायत चुनाव की तारीखों में फंसी यूपी बोर्ड परीक्षा की समय सारिणी

पंचायत चुनाव की तारीखों में फंसी यूपी बोर्ड परीक्षा की समय सारिणी


पंचायत चुनाव का कार्यक्रम घोषित न होने के कारण यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा तिथियां घोषित नहीं हो पा रही हैं। बोर्ड ने एक महीने पहले ही टाइम टेबल का प्रस्ताव शासन को भेज दिया था। 

उपमुख्यमंत्री एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने सीबीएसई का परीक्षा कार्यक्रम घोषित होने के बाद यूपी बोर्ड की तारीखें जारी करने की बात कही थी। लेकिन 31 दिसंबर को सीबीएसई का टेबल घोषित जारी होने के 18 दिन बाद भी यूपी बोर्ड के 10वीं-12वीं के 56 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को परीक्षा तिथियों का इंतजार है। आप यह खबर प्राइमरी का मास्टर डॉट इन पर पढ़ रहे हैं।  यही कारण है कि इंटरमीडिएट की प्रायोगिक परीक्षा की तारीखें भी घोषित नहीं हो पा रही हैं। सचिव यूपी बोर्ड दिव्यकांत शुक्ल ने 13 अगस्त 2020 को जारी शैक्षिक कैलेंडर में फरवरी के पहले या दूसरे सप्ताह से प्रायोगिक परीक्षा शुरू कराने की संभावना जताई थी।



बोर्ड ने 5 से 10 फरवरी के बीच प्रायोगिक परीक्षाएं शुरू करने की तैयारी कर ली है लेकिन लिखित परीक्षा की तारीख जारी नहीं होने के कारण प्रैक्टिकल का कार्यक्रम भी जारी नहीं हो पा रहा। वैसे पूर्व के वर्षों में प्रायोगिक परीक्षा की तिथियां एक महीने पहले घोषित हो जाती थी। 2020 की बोर्ड परीक्षा का टाइम टेबल तो एक जुलाई 2019 को ही घोषित कर दिया गया था।


हफ्तेभर बाद भी जारी नहीं हुई परीक्षा केंद्रों की पहली सूची
यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की तैयारियां पिछड़ती जा रही हैं। बोर्ड एक सप्ताह बीतने के बावजूद परीक्षा केंद्रों की पहली सूची जारी नहीं कर सका है। 25 नवंबर को जारी केंद्र निर्धारण नीति के अनुसार 11 जनवरी को परीक्षा केंद्रों की पहली सूची का प्रकाशन होना था। जानकारी के अनुसार डिबार केंद्रों की सूची भी फाइनल हो चुकी है। लेकिन उसके बावजूद परीक्षा केंद्रों की सूची जारी न होने का कोई ठोस कारण पता नहीं चल पा रहा।

Saturday, January 16, 2021

UP : पंचायत चुनावों से पहले प्राइमरी स्‍कूलों तक बिजली पहुंचाने की कवायद

UP : पंचायत चुनावों से पहले प्राइमरी स्‍कूलों तक बिजली पहुंचाने की कवायद, गोरखपुर में सवा करोड़ की दरकार 


गोरखपुर : यूपी में ग्राम पंचायत चुनाव से पहले जिले के विभिन्न ब्लाकों के 772 प्राथमिक स्कूलों में बिजली निगम को कनेक्शन देना है। ये सभी स्कूल बिजली सुविधा सें वंचित है। शासन के निर्देश पर बिजली निगम ने सर्वे कराकर इन स्कूलों तक बिजली पहुचाने के लिए सवा करोड़ का इस्टीमेट बनाकर बीएसए को भेजा है। बजट की प्रत्याशा में बिजली निगम ने टेण्डर की प्रक्रिया भी पूरी कर दी है। अब काम शुरु करने के लिए निगम को सवा करोड़ मिलने का इंतजार है। एसई का कहना है कि शासन से जल्द ही बजट मुहैया हो जाएगा।


शासन ने दिसम्बर में बिजली निगम को पत्र भेजकर कहा था कि बिजली सुविधा से वंचित जिले के प्राथमिक स्कूलों का सर्वे कर पंचायत चुनाव से पहले खम्भा, तार व ट्रांसफॉर्मर लगाकर बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराए। इसके बाद ग्रामीण वितरण मण्डल द्वितीय के अभियंताओं व प्रशासन की टीम ने विभिन्न ब्लाकों के प्राथमिक स्कूलों का सर्वे की। इस दौरान 772 स्कूल बिजली सुविधा से वंचित मिले। रिपोर्ट मिलने के बाद वितरण मण्डल के एसई ने रिपोर्ट से शासन को अवगत कराया दिया। क्षेत्र के अवर अभियंताओं ने स्कूलों तक एचटी लाइन बनाने व ट्रांसफॉर्मर लगाने में होने वाले खर्च का आकलन कर इस्टीमेट तैयार किया। चिन्हित स्कूलों तक एचटी लाइन बनाने व ट्रांसफॉर्मर लगाने में 1.20 करोड़ खर्च का इस्टीमेट बना। ग्रामीण वितरण मण्डल के एसई ने बीएसए को टीसी भेजकर पैसा जल्द से जल्द जमा करने को कहा है। शासन से बजट अवमुक्त होते ही कार्यदायी फर्म काम शुरू कर देगी। यह काम पंचायत चुनाव से पहले पूरा होना है।


इन ब्लाकों के प्राथमिक स्कूलों में लगने हैं कनेक्शन
भटहट-36, चरगांवा-9, नगर क्षेत्र-15, पिपराइच-47, ब्रम्हपुर-70, खोराबार-13, सरदानगर-35, कैम्पियरगंज-38, जगंल कौड़िया-67, खजनी-29, पाली-33, पिपरौली-22, सहजनवा-51, बांसगांव-54, बड़हलगंज-55, गगहा-57, कौड़ीराम-48, बेलघाट-18, गोला- 46, ऊरुवा-31 स्कूल


शासन के निर्देश पर प्रशासन व बिजली निगम की टीम के सर्वे में जिले के विभिन्न ब्लाकों में 772 स्कूल बिना बिजली सुविधा के मिले। इन स्कूलों तक एचटी लाइन बनाकर, 25 केवीए ट्रांसफार्मर लगाकर बिजली कनेक्शन पंचायत चुनाव से पहले दिया जाना है। इसमें करीब 1.20 करोड़ रुपये खर्च होने है। इसके लिए बीएसए को टीसी भेजी गई है। काम कराने के लिए टेण्डर प्रक्रिया भी फाइलन कर दी गई है। बजट मिलते ही काम शुरु करा दिया जाएगा। ई. राजीव चतुर्वेदी, एसई, ग्रामीण वितरण मण्डल प्रथम

Monday, January 11, 2021

एमएलसी चुनाव में बेसिक शिक्षकों को वोटर बनाने की मांग ✊

एमएलसी चुनाव में बेसिक शिक्षकों को वोटर बनाने की मांग ✊


प्रयागराज। अटेवा पेंशन बचाओ मंच की रविवार को चांदपुर सलोरी में हुई बैठक में मांग उठी कि एमएलसी चुनाव में बेसिक शिक्षकों को भी मतदाता बनाए जाए। अटेवा के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. हरि प्रकाश यादव ने कहा कि अटेव का संघर्ष तब तक जारी रहेगा, जब तक पुरानी पेंशन बहाल नहीं हो जाती। 


बैठक में प्रवेश प्रवक्ता उपेंद्र वर्मा, मंडल अध्यक्ष सुधीर गुप्ता, सुरेंद्र प्रताप सिंह, संतलाल वर्मा, अनिल भारती, अरुण कुमार सिंह आदि शामिल रहे। संचालन जिला महामंत्री कमल सिंह ने किया।

Sunday, December 20, 2020

मार्च में पंचायत चुनाव की तैयारी, चुनाव ड्यूटी के लिए कर्मचारियों की तलाश शुरू

मार्च में पंचायत चुनाव की तैयारी, चुनाव ड्यूटी के लिए कर्मचारियों की तलाश शुरू 


मार्च में ही पंचायत चुनाव कराए जाने की सुगबुगाहट तेज हो गई है। चुनाव प्रशासन भी इसे ध्यान में रखकर तैयारी में जुट गया है। इसी क्रम में परिसीमन की कार्रवाई के साथ चुनावी ड्यूटी के लिए कर्मचारियों की तलाश भी शुरू हो गई है।


तीन स्तरीय पंचायत चुनाव एक साथ कराने की तैयारी है। इस तरह से जिला, विकास खंड एवं ग्राम पंचायत सदस्य तथा ग्राम प्रधान चार पदों के लिए मतदान होगा। इस तरह से  हर बूथ पर पांच कर्मचारियों की ड्यूटी लगेगी। इसके अलावा अलग-अलग स्तर पर कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी।

Monday, November 23, 2020

पेंशन विहीन साथी समझेगा शिक्षक-कर्मचारियों का दर्द, इस नारे संग अटेवा शिक्षक/स्नातक चुनावों में देगा राजनैतिक दलों को चुनौती

पेंशन विहीन साथी समझेगा शिक्षक-कर्मचारियों का दर्द, इस नारे संग अटेवा शिक्षक/स्नातक चुनावों में देगा राजनैतिक दलों को चुनौती


नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम (एनएमओपीएस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार 'बन्धु' ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विधान परिषद की कुल 100 सीटों में से 16 सीटें राजनैतिक पार्टियों के लिए नहीं हैं। ये 16 सीटें केवल शिक्षकों, कर्मचारियों व स्नातकों के लिए हैं।


रविवार को कमला भवन जार्जटाउन में पेंशन, निजीकरण व बेरोजगारी मुद्दे पर विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों से संवाद में कहा कि जब सेवारत, पेंशन विहीन युवा साथी चुनकर सदन में जाएगा तभी शिक्षकों-कर्मचारियों एवं स्नातक बेरोजगारों के दर्द को समझेगा तथा हम सब के मुद्दों को पूरी मजबूती से सदन में उठाएगा।


इलाहाबाद-झांसी खंड स्नातक क्षेत्र से अटेवा के प्रत्याशी डॉ. हरि प्रकाश यादव ने कहा कि नामांकन के समय ही शपथ पत्र दे चुके हैं कि जब तक सभी शिक्षकों व कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाल नहीं हो जाती, तब तक मैं एमएलसी के रूप में मिलने वाली पेंशन या भत्ता नहीं लूंगा।


पेंशनर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष डॉ. आरएस वर्मा, नीरजपति त्रिपाठी, नरसिंह, राजेंद्र त्रिपाठी, उपेंद्र वर्मा, श्रवण कुशवाहा, धर्मेंद्र गोयल, नीलम त्रिपाठी, जवाहर लाल विश्वकर्मा, मुनव्वर एजाज, प्रदीप सिंह, रामसकल वर्मा, रामचंद्र यादव, केके वर्मा, सजीत यादव, अर्जुन सिंह यादव, राजीव मिश्रा, दीप नारायण यादव आदि ने संबोधित किया।

Wednesday, November 4, 2020

स्नातक चुनाव में गर्माया पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा

स्नातक चुनाव में गर्माया पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा


 प्रयागराज : इलाहाबाद-झांसी स्नातक खंड चुनाव का कार्यक्रम जारी होने के साथ ही पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा भी गर्म हो रहा है। उम्मीदवार अपने एजेंडे को लेकर मतदाताओं से संपर्क कर रहे हैं। उधर, यह चुनाव भाजपा के लिए भी आत्ममंथन व प्रारंभिक परीक्षा की तरह साबित होगा। इससे स्पष्ट होगा कि भाजपा की नीतियों को लेकर किस तरह की राय जनमानस, खासकर पढ़े लिखे लोगों में है।



इलाहाबाद-झांसी स्नातक खंड चुनाव के लिए नामांकन पांच से 12 नवंबर तक किया जा सकेगा। इस सीट पर 24 साल से भाजपा का कब्जा है। डॉ. यज्ञ दत्त शर्मा लगातार चार बार से विधायक चुने जा रहे हैं। वह भी पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे का समर्थन करते आ रहे हैं। उनका कहना है कि किसी भी सरकारी कर्मचारी के लिए पेंशन बहुत जरूरी है। इस चुनाव में पहली बार दावेदारी कर रहे अटेवा पेंशन बचाओ समिति के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. हरि प्रकाश यादव भी कर्मचारियों के बीच पुरानी पेंशन बहाली को मुद्दा बना रहे हैं। उनका कहना है कि प्रदेश में करीब 35 लाख सरकारी कर्मचारी हैं जब  कि 14 लाख कर्मचारी नई पेंशन योजना से संबंधित हैं।