DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label झांसी. Show all posts
Showing posts with label झांसी. Show all posts

Saturday, May 1, 2021

बीएसए ऑफिस में पड़ीं सेवा पुस्तिकाएं, वेतन को चक्कर काट रहे शिक्षक

बीएसए ऑफिस में पड़ीं सेवा पुस्तिकाएं, वेतन को चक्कर काट रहे शिक्षक


झांसी। बाहरी जिलों से तबादला कराकर अपने गृह जनपद झांसी आना शिक्षकों को भारी पड़ रहा है। अपने गृह जिले में नौकरी तो कर रहे हैं, लेकिन बाबुओं की मनमानी के चलते उनको वेतन नहीं मिल पा रहा है। जिले में अंतरजनपदीय तबादलों के तहत आए 318 शिक्षकों की सेवा पुस्तिकाएं दफ्तर में धूल फांक रही हैं। जबकि शिक्षक वेतन के लिए दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं। शिक्षकों ने कई बार अधिकारियों से शिकायत भी की है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं की जा रही है।
प्रदेश सरकार द्वारा फरवरी माह में शिक्षकों के अंतरजनपदीय तबादले किए गए थे। इस दौरान जिले में 318 शिक्षकों ने कार्यभार ग्रहण किया। इनको विद्यालय भी आवंटित कर दिए गए। शिक्षकों ने स्कूलों में पढ़ाना शुरू कर दिया। जब वेतन की बात आई, तो कहा गया कि जिन जिलों से शिक्षक आए हैं, वहां से सेवा पुस्तिकाएं नहीं मिली हैं। मार्च के अंत तक सेवा पुस्तिकाएं बीएसए कार्यालय में पहुंच गईं, लेकिन बाबुओं ने सेवा पुस्तिकाओं को ब्लॉक पर नहीं भेजा है। ऐसे में शिक्षक वेतन के लिए चक्कर काट रहे हैं। 


कोरोना काल में स्कूल बंद हैं, लेकिन वेतन न मिलने से शिक्षकों के आगे संकट खड़ा हो गया है। इनमें तमाम शिक्षक ऐसे हैं, जिनको चुनावी ड्यूटी के लिए भेजा गया था और वे संक्रमित हो गए हैं। एक ओर इलाज का खर्च और दूसरी ओर वेतन का भुगतान न होने से शिक्षकों के आगे समस्या खड़ी हो गई है। शिक्षक राजेश कुमार कहते हैं कि विभाग के चक्कर काट रहे हैं, लेकिन वेतन नहीं मिला है। 


शिक्षिका रचना कहती हैं कि वेतन न मिलने से दिक्कत हो रही है। गृह जिले में नौकरी तो मिल गई, लेकिन वेतन का भुगतान नहीं हो रहा। बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष रसकेंद्र गौतम कहते हैं कि अंतर्जनपदीय तबादलों के तहत आए शिक्षक कई माह से विना वेतन के काम कर रहे हैं। शिक्षकों को कार्यालय के चक्कर लगवाए जा रहे हैं। मानसिक और आर्थिक शोषण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर जल्द ही शोषण बंद नहीं हुआ, तो उग्र प्रदर्शन किया जाएगा।


सेवा पुस्तिकाओं को ब्लॉक पर भेज दिया गया है। संक्रमण के दौर में चार ब्लॉक के बीईओ का स्वास्थ्य खराब चल रहा है। ऐसे में काम प्रभावित हो रहा है। जल्द ही शिक्षकों का वेतन जारी कर दिया जाएगा।- हरिवंश कुमार, बीएसए

Tuesday, February 9, 2021

ग्राम प्रधानों की हीलाहवाली पड़ेगी मास्साब पर भारी, शिक्षकों ने की बदलाव की मांग

ग्राम प्रधानों की हीलाहवाली पड़ेगी मास्साब पर भारी,  शिक्षकों ने की बदलाव की मांग


झांसी। जिले की 200 ग्राम पंचायतों की अनदेखी और मनमानी ने हजारों शिक्षकों की पदोन्नति को खतरे में डाल दिया है। प्रदेश सरकार द्वारा लागू की जा रही वार्षिक गोपनीय आख्या की प्रक्रिया में तय किए गए 14 बिंदु पदोन्नति में बड़ी बाधा बन रहे हैं। इनमें से एक बिंदु 400 स्कूलों में ऑपरेशन कायाकल्प का काम पूरा न होने को बड़ी वजह माना जा रहा है।


दरअसल, सरकार ने हाल ही में शिक्षकों की पदोन्नति के लिए वार्षिक गोपनीय आख्या की व्यवस्था शुरू करने जा रही है। इसे लेकर 15 मार्च तक शिक्षकों को मानव संपदा पोर्टल पर स्व मूल्यांकन रिपोर्ट भरने के निर्देश दिए गए हैं। इस आख्या में सरकार की ऑपरेशन कायाकल्प योजना के तहत स्कूलों में अब तक कराए गए कामों के आधार पर भी अंक दिए जाएंगे। यह बिंदु शिक्षकों के लिए बड़ी मुसीबत बन रहे है। 


शिक्षकों का कहना है कि ऑपरेशन कायाकल्प के तहत ग्राम पंचायत को स्कूलों में काम कराना है, लेकिन जिले की करीब 200 ग्राम पंचायतों ने स्कूलों में काम ही नहीं कराए हैं। जिले के 400 स्कूल ऐसे हैं, जिनमें ऑपरेशन कायाकल्प की पहुंच नहीं हो सकी है। वहीं पदोन्नति आख्या में दीक्षा पोर्टल की भी व्यवस्था है। बच्चों को दी जाने वाली किताब के हर पाठ में दिए गए क्यू आर कोड को स्कैन करके शिक्षक को बच्चों को दीक्षा पोर्टल के जरिए पढ़ाना है। पदोन्नति में इसके अंक भी शामिल किए जाएंगे, लेकिन जिले में कई वरिष्ठ शिक्षक ऐसे हैं,जो स्मार्टफोन नहीं चला पाते हैं।


कहते हैं शिक्षक

वार्षिक पदोन्नति आख्या काले कानून के समान है। ग्राम पंचायतों को स्कूल में काम कराना है, लेकिन पदोन्नति में शिक्षकों इसके लिए अंक मिलेंगे। कई स्कूलों में प्रधान काम ही नहीं करा रहे हैं। - जितेंद्र दीक्षित

पदोन्नति में शामिल किए गए बिंदु शिक्षकों की पदोन्नति का निर्धारण नहीं कर सकते हैं। कई वरिष्ठ शिक्षक स्मार्टफोन नहीं चला पाते। उनकी पदोन्नति अब तक वरिष्ठता क्रम के आधार पर होती थी। - धर्मेंद्र चौधरी

वार्षिक गोपनीय आख्या प्रक्रिया विभाग में भ्रष्टाचार को बढ़ावा देगी। इस आदेश को सरकार को वापस लेना चाहिए। शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों से भी मुक्त किया जाए। - महेश साहू

Friday, February 5, 2021

शिक्षकों की गोपनीय आख्या के विरोध में आक्रोश, विरोध में उतरे शिक्षक संगठन

शिक्षकों की गोपनीय आख्या के विरोध में आक्रोश, विरोध में उतरे शिक्षक संगठन


गोपनीय आख्या के नाम पर बंद हो शोषण - कई जिलों में ज्ञापन सौंप बोले बेसिक शिक्षक


सीतापुर। प्राथमिक शिक्षक संघ ने अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को मुख्यमंत्री व बीएसए को संबोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी को सौंपा। जिलाध्यक्ष सुरेंद्र गुप्त ने कहा सरकार आए दिन नए-नए आदेश जारी करके अधिकारियों को शिक्षकों का शोषण करने के लिए संरक्षण दे रही है। गोपनीय आख्या के नाम पर अधिकारी शिक्षकों का उत्पीड़न कर रहे हैं। उन्होंने इस मौके पर जिले में महिला शिक्षिकाओं की सुरक्षा का मुद्दा भी उठाया।


जिला मंत्री आराध्य शुक्ल ने कहा पूरे जिले में खंड शिक्षा अधिकारियों का संगठित भ्रष्टाचार चल रहा है। कहा, पिछले दिनों कार्यमुक्त शिक्षकों की रिलीविंग में हुई धन उगाही और रात भर महिलाओं को बीएसए कार्यालय में रोकने की घटना की उच्चस्तरीय जांच कराई जाए । उन्होंने शिक्षकों की वार्षिक गोपनीय आख्या लेने विषयक आदेश वापस लेने की भी मांग की।


झांसी। शिक्षकों की गोपनीय आख्या को लेकर शिक्षक संगठनों में आक्रोश पनप रहा है। बृहस्पतिवार को उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने शासन के आदेश को लेकर विरोध किया। इस दौरान शिक्षकों ने शिक्षा भवन से लेकर कलक्ट्रेट तक जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। साथ ही, डीएम को मुख्यमंत्री और बेसिक शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।


शिक्षक नेताओं ने कहा कि कायाकल्प के तहत हो रहे कार्यों को शिक्षकों के अंक निर्धारण से जोड़ना उत्पीड़न करना है। वार्षिक गोपनीय आख्या पठन-पाठन के विपरीत और असमंजस उत्पन्न करने वाली है। इससे शिक्षकों में रोष व्याप्त है। इसके साथ ही, 20 सूत्रीय मांगों को ज्ञापन में सम्मिलित किया गया। 


इस मौके पर शिक्षकों ने अंतर्जनपदीय स्थानांतरण, जनपद के अन्दर स्थानान्तरण एवं पारस्परिक स्थानांतरण प्रक्रिया बहाल करने, संसाधन उपलब्ध कराए बगैर ऑनलाइन कार्य में शिक्षकों पर दंडात्मक कार्रवाई आदेश करने, कैश लेस चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने, मृतक आश्रितों को चतुर्थ श्रेणी के स्थान पर लिपिक पद पर नियुक्त करने, शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों से मुक्त रखने, बेसिक शिक्षा परिषद में एनजीओ का दखल बंद करने और नवनियुक्त शिक्षकों के दो प्रमाण पत्रों के सत्यापन पर शीघ्र वेतन भुगतान करने एवं पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने की मांग की। 

इस दौरान ज़िलाध्यक्ष जितेंद्र दीक्षित, मंत्री चौधरी धर्मेंद्र सिंह, देवेश शर्मा, मोहम्मद अफ जल, रजनी साहू, राजीव आर्य, पुष्पा सिंह, उमेश बबेले, प्रवक्ता अब्दुल नोमान, वरिष्ठ उपाध्यक्ष पुष्पेंद्र कुशवाहा, संयुक्त मंत्री शिवकुमार पाराशर, कोषाध्यक्ष चरण सिंह पटेल, देवी प्रसाद, अरुण निरंजन, मृत्युञ्जय सिंह, अनिरुद्ध रावत, प्रियवंदा मिश्रा समेत बड़ी संख्या में शिक्षक मौजूद रहे।


बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने भी सौंपा ज्ञापन

झांसी। बेसिक शिक्षकों की लंबित मांगों को लेकर बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने जिलाध्यक्ष रसकेंद्र गौतम के नेतृत्व में डीएम को ज्ञापन सौंपा। जिलाध्यक्ष ने कहा कि बेसिक शिक्षकों की न्यायोचित मांगें सरकार व शासन के स्तर पर लंबित हैं। महानिदेशक स्कूली शिक्षा द्वारा जारी किया गया आदेश नियम विरुद्ध है। इस मौके पर महेश साह्रू, प्रदीप कुशवाहा, विपिन त्रिपाठी, राजीव पाठक, सुनील गुप्ता, अजय देवलिया, रंजीत यादव, पवन देव त्रिपाठी, हिमांशु अवस्थी, हरगोविंद यादव, अजय पटेल, अरुण पटेरिया, आशुतोष पांडेय, रामकिशोर यादव, नीरज चाउदा, पवन गुप्ता मौजूद रहे।

गोपनीय आख्या पर पदोन्नति व वेतन वृद्धि अव्यवहारिक

जौनपुर । प्राथमिक शिक्षक संघ के जनपदीय अध्यक्ष व प्रांतीय संगठन मंत्री अमित सिंह के नेतृत्व में परिषदीय शिक्षकों ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को शिक्षकों के मूल्यांकन के (गोपनीय आख्या) आदेश के विरोध सहित 22 सूत्रीय मांगों के संदर्भ में ज्ञापन भेजा । प्रांतीय संगठन मंत्री ने कहा विगत 8 जनवरी को बेसिक शिक्षा परिषद विभाग द्वारा निर्देश दिया गया है कि परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों का मूल्यांकन कर वार्षिक गोपनीय आख्या ब्लाक/जनपद के अधिकारियों द्वारा विभाग को प्रेषित की जायेगी और इस गोपनीय आख्या के आधार पर ही शिक्षकों की वेतन वृद्धि व पदोन्नति की जायेगी। यह आदेश पूर्ण रूप से अव्यवहारिक एवं शिक्षकों का शोषण करने वाला है। विभाग द्वारा जारी निर्देश के अनुसार विद्यालय में कायाकल्प के तहत होने वाले कार्यों के लिए भी अंक तय कर उनका उल्लेख शिक्षकों की गोपनीय आख्या में करने की व्यवस्था की गई है जो पूरी तरह से नियम विरुद्ध व अनुचित है


उन्नाव। परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों की गोपनीय आख्या मांगे जाने पर उत्तर प्रदेशीय प्राशिसं ने विरोध जताते हुए डीएम कार्यालय में ज्ञापन दिया। महामंत्री धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि सभी शिक्षक अपने कर्तव्य पूरा कर रहे हैं, फिर भी गोपनीय मूल्यांकन के निर्देश दिए गए हैं। इस निर्णय से शिक्षकों का मनोबल गिरेगा। पठन व पाठन के लिए यह आदेश अनुचित नहीं है।


अपनी बात शासन तक पहुंचाने के लिए शिक्षकों ने गुरुवार को बेसिक शिक्षा मंत्री को संबोधित करते हुए ज्ञापन डीएम कार्यालय में दिया। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि गोपनीय मूल्यांकन और आख्या के निर्देश को वापस लिया जाए। इसके अलावा उन्होंने शिक्षकों की लंबित मामलों के भी निस्तारण की मांग उठाई। इसमें नव नियुक्त शिक्षकों का सत्यापन शीघ्र कराने का भी मुद्दा उठाया।

Monday, January 25, 2021

झांसी : स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में

झांसी : स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में।

Sunday, December 22, 2019

झाँसी : 24/12/19 तक शैक्षणिक कार्य बंद, आदेश देखें

झाँसी : 24/12/19 तक शैक्षणिक कार्य बंद, आदेश देखें

Friday, December 20, 2019

झांसी : 21 दिसंबर 2019 को शीतअवकाश घोषित, आदेश देखें


झांसी : 21 दिसंबर 2019 को शीतअवकाश घोषित, आदेश देखें

Wednesday, December 18, 2019

झांसी : शीतलहर के कारण 20 दिसंबर 2019 तक कक्षा-8 तक के विद्यालयों में शैक्षणिक कार्य बंद, आदेश देखें

झांसी : शीतलहर के कारण 20 दिसंबर 2019 तक कक्षा-8 तक के विद्यालयों में शैक्षणिक कार्य बंद, आदेश देखें