DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label टीईटी. Show all posts
Showing posts with label टीईटी. Show all posts

Saturday, January 30, 2021

वर्ष 2023 के बाद माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना हो सकता है जरूरी, जानिए कैसे होगी भर्ती

वर्ष 2023 के बाद माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना हो सकता है जरूरी,  जानिए कैसे होगी भर्ती

इंटर के शिक्षकों के लिए तीसरे स्तर की परीक्षा

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अब शिक्षकों को अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करनी होगी। इसके लिए टीईटी-3 यानी तीसरे स्तर की परीक्षा कराई जाएगी ।


सरकारी व सहायता प्राप्त के साथ ही प्रदेश के सभी हाई स्कूलों और इंटर कॉलेजों (कक्षा नौवीं से बारहवीं ) में भी ये व्यवस्था लागू होगी। इसकी रूपरेखा 2021-22 के शैक्षिणिक सत्र में तैयार हो जाएगी । उम्मीद है कि 2023 के बाद वाली भर्तियों में टीईटी अनिवार्य कर दिया जाएगा। नई शिक्षा नीति के तहत यह लागू किया जाएगा। अभी तक कक्षा एक से आठ तक के लिए दो अलग-अलग स्तरों की टीईटी होती है नई व्यवस्था के लिए एलटी ग्रेड की शिक्षक सेवा नियमावली में संशोधन होगा । 


अभी तक सरकारी स्कूलों में लोक सेवा आयोग व सहायता प्राप्त स्कूलों में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग लिखित परीक्षा से भर्ती करता है। लेकिन संशोधन के बाद शिक्षकों को पहले टीईटी भी पास करना होगा। इसके अलावा शिक्षक भर्ती के लिए लिखित परीक्षा, शैक्षिक गुणांक के अलावा साक्षात्कार व पढ़ाने के प्रदर्शन को भी जोड़ा जाएगा।

नई शिक्षा नीति

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अभी तक लोक सेवा आयोग से लिखित परीक्षा के आधारपर भर्ती की जा रही है। कक्षा एक से पांच तक औरकक्षा 6 से 8 तक के लिए अलग-अलग अध्यापक पात्रता परीक्षा होती है। यह तीसरे स्तर की परीक्षा होगी जो हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों के लिए मान्य होगी। 


इसके लिए माध्यमिक शिक्षा परिषद और परीक्षा नियामक प्राधिकारी के बीच में समन्वय स्थापित किया जाएगा। अध्यापक पात्रता परीक्षा से योग्य शिक्षक मिलेंगे । इससे पढ़ाई और शिक्षकों की गुणवत्ता सुनिश्चित होगी। शिक्षकों की भर्ती में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरियां पाने के कई मामले सामने आ चुके हैं क्योंकि भर्तियां शैक्षिक गुणांक के आधार पर हो रही थीं | टीईटी से इस फर्जीवाड़े पर भी अंकुश लगेगा। राज्य में प्राइमरी व माध्यमिक शिक्षा की शिक्षक भर्तियों में लिखित परीक्षा पहले ही अनिवार्य की जा चुकी है।

2025 तक तक होने वाली रिक्तियों की गणना होगी

शिक्षक के खाली पदों की संख्या के आकलन के लिए तकनीक आधारित व्यवस्था होगी ताकि इंतजार न करना पड़े । मानव सम्पदा पोर्टल और अन्य स्रोतों से 2025 तक होने वाली शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की रिक्तियों की गणना जून 2021 तक कर ली जाएगी। चयन करने वाली संस्था को प्रस्ताव भेजा जाएगा।


 सहायता प्राप्त स्कूलों में अप्रैल, 2021 तक भर्ती : माध्यमिक शिक्षा विभाग की नई शिक्षा नीति की कार्ययोजना के मुताबिक अप्रैल तक सहायता प्राप्त स्कूलों में सभी रिक्तियों पर भर्ती करनी है। हालांकि ये संभव नहीं है, क्योंकि 15508 शिक्षक भर्ती का विज्ञापन रद्द हुए दो महीने से अधिक समय हो चुका है और अभी तक माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग भर्ती के लिए दोबारा विज्ञापन नहीं निकाल पाया है।

माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना जरूरी, इंटर के शिक्षकों के लिए तीसरे स्तर की होगी परीक्षा

माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना जरूरी, इंटर के शिक्षकों के लिए तीसरे स्तर की होगी परीक्षा

तैयारी

▪️2021 -22 के शैक्षणिक सत्र में तैयार हो जाएगी रूपरेखा

▪️लिखित परीक्षा,साक्षात्कार और पढ़ाने का प्रदर्शन आधार बनेगा

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अब शिक्षकों को अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करनी होगी। इसके लिए टीईटी-3 यानी तीसरे स्तर की परीक्षा कराई जाएगी ।


सरकारी व सहायता प्राप्त के साथ ही प्रदेश के सभी हाई स्कूलों और इंटर कॉलेजों (कक्षा नौवीं से बारहवीं ) में भी ये व्यवस्था लागू होगी। इसकी रूपरेखा 2021-22 के शैक्षिणिक सत्र में तैयार हो जाएगी । उम्मीद है कि 2023 के बाद वाली भर्तियों में टीईटी अनिवार्य कर दिया जाएगा। नई शिक्षा नीति के तहत यह लागू किया जाएगा। अभी तक कक्षा एक से आठ तक के लिए दो अलग-अलग स्तरों की टीईटी होती है नई व्यवस्था के लिए एलटी ग्रेड की शिक्षक सेवा नियमावली में संशोधन होगा । अभी तक सरकारी स्कूलों में लोक सेवा आयोग व सहायता प्राप्त स्कूलों में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग लिखित परीक्षा से भर्ती करता है। लेकिन संशोधन के बाद शिक्षकों को पहले टीईटी भी पास करना होगा।

इसके अलावा शिक्षक भर्ती के लिए लिखित परीक्षा, शैक्षिक गुणांक के अलावा साक्षात्कार व पढ़ाने के प्रदर्शन को भी जोड़ा जाएगा।



इंटर के शिक्षकों के लिए तीसरे स्तर की परीक्षा

नई शिक्षा नीति

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अभी तक लोक सेवा आयोग से लिखित परीक्षा के आधारपर भर्ती की जा रही है। कक्षा एक से पांच तक औरकक्षा 6 से 8 तक के लिए अलग-अलग अध्यापक पात्रता परीक्षा होती है। यह तीसरे स्तर की परीक्षा होगी जो हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों के लिए मान्य होगी। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा परिषद और परीक्षा नियामक प्राधिकारी के बीच में

समन्वय स्थापित किया जाएगा। अध्यापक पात्रता परीक्षा से योग्य शिक्षक मिलेंगे । इससे पढ़ाई और शिक्षकों की गुणवत्ता सुनिश्चित होगी। शिक्षकों की भर्ती में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरियां पाने के कई मामले सामने आ चुके हैं क्योंकि भर्तियां शैक्षिक गुणांक के आधार पर हो रही थीं | टीईटी से इस फर्जीवाड़े पर भी अंकुश लगेगा। राज्य में प्राइमरी व माध्यमिक शिक्षा की शिक्षक भर्तियों में लिखित परीक्षा पहले ही अनिवार्य की जा चुकी है।

2025 तक तक होने वाली रिक्तियों की गणना होगी

शिक्षक के खाली पदों की संख्या के आकलन के लिए तकनीक आधारित व्यवस्था होगी ताकि इंतजार न करना पड़े । मानव सम्पदा पोर्टल और अन्य स्रोतों से 2025 तक होने वाली शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की रिक्तियों की गणना जून 2021 तक कर ली जाएगी। चयन करने वाली संस्था को प्रस्ताव भेजा जाएगा। सहायता प्राप्त स्कूलों में अप्रैल, 2021 तक भर्ती : माध्यमिक शिक्षा विभाग की नई शिक्षा नीति की कार्ययोजना के मुताबिक अप्रैल तक सहायता प्राप्त स्कूलों में सभी रिक्तियों पर भर्ती करनी है। हालांकि ये संभव नहीं है, क्योंकि 15508 शिक्षक भर्ती का विज्ञापन रद्द हुए दो महीने से अधिक समय हो चुका है और अभी तक माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग भर्ती के लिए दोबारा विज्ञापन नहीं निकाल पाया है।

Saturday, May 2, 2020

कोर्ट : टीईटी में धांधली के आरोपी को नहीं मिली बेल, जमानत अर्जी खारिज

कोर्ट : टीईटी में धांधली के आरोपी को नहीं मिली बेल, जमानत अर्जी खारिज।









 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, March 12, 2020

टीईटी पास करवाने के लिए 20 हजार रुपए घूस मांगने का ऑडियो वाट्सअप पर वायरल, महानिदेशक स्कूल शिक्षा ने दिए जांच के आदेश

टीईटी पास करवाने के लिए 20 हजार रुपए घूस मांगने का ऑडियो वाट्सअप पर वायरल, महानिदेशक स्कूल शिक्षा ने दिए जांच के आदेश।









 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, January 16, 2020

यूपी टीईटी 2019 : एनआइओएस से डीएलएड करने वालों के ओएमआर का नहीं होगा मूल्यांकन

यूपी टीईटी 2019 : एनआइओएस से डीएलएड करने वालों के ओएमआर का नहीं होगा मूल्यांकन।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Saturday, January 4, 2020

UPTET : पेपर गलत खुला तो केंद्र व्यवस्थापक होंगे जिम्मेदार, परीक्षा केंद्रों पर एक कक्ष निरीक्षक आंतरिक और एक होगा बाहरी

UPTET : पेपर गलत खुला तो केंद्र व्यवस्थापक होंगे जिम्मेदार, परीक्षा केंद्रों पर एक कक्ष निरीक्षक आंतरिक और एक होगा बाहरी।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, October 17, 2019

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल।






संतकबीरनगर का एक शिक्षक माफिया बनवाता है टीईटी का फर्जी अंकपत्र, पत्नी-भाई सहित कई रिश्तेदारों को बनवा रखा है शिक्षक, कई जिलों में भी फैला रखा है नेटवर्क।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, June 18, 2019

प्रयागराज : टीईटी-2018 प्रमाणपत्र वितरण शुरू, डेढ़ हजार अभ्यर्थियों को डायट से बांटे गए प्रमाणपत्र

प्रयागराज : टीईटी-2018 प्रमाणपत्र वितरण शुरू, डेढ़ हजार अभ्यर्थियों को डायट से बांटे गए प्रमाणपत्र।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, June 12, 2019

प्रयागराज : टीईटी 2018 के प्रमाणपत्रों का वितरण 17 जून से, वितरण हेतु बनाएं गए नौ काउंटर

इलाहाबाद : टीईटी 2018 के प्रमाणपत्रों का वितरण 17 जून से, परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने डायट को उपलब्ध कराए प्रमाणपत्र





Tuesday, May 14, 2019

UPTET 2018 : टीईटी प्रमाणपत्र वितरण की प्रक्रिया बनाई फुलप्रूफ, अभिलेखों की जांच के बाद मिलेंगे प्रमाणपत्र

टीईटी प्रमाणपत्र वितरण की प्रक्रिया बनाई फुलप्रूफ, अभिलेखों की जांच के बाद मिलेंगे प्रमाणपत्र



Saturday, December 22, 2018

टीईटी 2011 पास अभ्यर्थियों ने ओमप्रकाश राजभर से लगाई न्याय की गुहार, कहा- सुप्रीमकोर्ट के आदेश उपमुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा तीन माह में निर्णय नहीं लिए जाने से अभ्यर्थियों को नहीं मिल रही नियुक्ति

टीईटी 2011 पास अभ्यर्थियों ने ओमप्रकाश राजभर से लगाई न्याय की गुहार, कहा- सुप्रीमकोर्ट के आदेश उपमुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा तीन माह में निर्णय नहीं लिए जाने से अभ्यर्थियों को नहीं मिल रही नियुक्ति।

Monday, December 3, 2018

टीईटी पास होने के बाद भी नौकरी से होंगे वंचित, सहायक अध्यापक भर्ती के इंतजार में हो गए ओवरएज बीएड डिग्रीधारक


टीईटी पास होने के बाद भी नौकरी से होंगे वंचित, सहायक अध्यापक भर्ती के इंतजार में हो गए ओवरएज बीएड डिग्रीधारक। 


Monday, November 19, 2018

UPTET 2018 : गणित व बाल मनोविज्ञान के प्रश्नों ने उलझाया,  परीक्षा केंद्रों पर रही पुख्ता व्यवस्था

UPTET 2018 : गणित व बाल मनोविज्ञान के प्रश्नों ने उलझाया,  परीक्षा केंद्रों पर रही पुख्ता व्यवस्था। 


UPTET 2018 : पूरे सूबे में 30 से अधिक पकड़े गए मुन्ना भाई, कड़ी व्यवस्था में भी दूसरे की जगह परीक्षा देने और ओएमआर शीट लेकर जाने जैसी हुई कई घटनाएं

UPTET 2018 : पूरे सूबे में 30 से अधिक पकड़े गए मुन्ना भाई, कड़ी व्यवस्था में भी दूसरे की जगह परीक्षा देने और ओएमआर शीट लेकर जाने जैसी हुई कई घटनाएं।


Sunday, November 18, 2018

प्रयागराज : टीईटी में सेंध विफल : दो करोड़ में ठेका, हर अभ्यर्थी से दो लाख एडवांस, 22 अभ्यर्थियों की तलाश में आज होगी छापामारी

प्रयागराज : टीईटी में सेंध विफल : दो करोड़ में ठेका, हर अभ्यर्थी से दो लाख एडवांस, 22 अभ्यर्थियों की तलाश में आज होगी छापामारी।


Wednesday, October 24, 2018

प्रयागराज सहित सात जिलों में अटका केंद्र निर्धारण, यूपी टीईटी 2018 के लिए परीक्षा केंद्र तय करने में लेटलतीफी जारी

प्रयागराज सहित सात जिलों में अटका केंद्र निर्धारण, यूपी टीईटी 2018 के लिए परीक्षा केंद्र तय करने में लेटलतीफी जारी


प्रयागराज : उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018 यानी यूपी टीईटी की तारीख का एलान मुख्यमंत्री के निर्देश पर हुआ है इसके बाद भी परीक्षा केंद्र तय करने में लेटलतीफी जारी है। प्रदेश के अधिकांश जिलों ने जिलाधिकारी के अनुमोदन को भेजी गई परीक्षा केंद्रों की सूची परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय को भेजी है लेकिन, प्रयागराज सहित सात जिले कुल केंद्रों का अब तक नाम नहीं बता सके हैं। इससे प्रवेशपत्र जारी करने की प्रक्रिया में विलंब हो रहा है।


यूपी टीईटी आगामी 18 नवंबर को होना प्रस्तावित है। इसमें करीब 18 लाख से अधिक अभ्यर्थी हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने 17 अक्टूबर को ही सभी जिलों को अभ्यर्थियों की सूची भेजकर 22 अक्टूबर तक परीक्षा केंद्रों की सूची भेजने का निर्देश दिया था। इसके बाद भी कई जिले मंगलवार को भी अभ्यर्थियों की संख्या पूछते रहे। तमाम जिला विद्यालय निरीक्षकों ने कहा कि केंद्रों की लिस्ट जिलाधिकारी के अनुमोदन को भेजी गई है, अभी फाइनल संख्या कैसे बता सकते हैं।


वहीं, आगरा, प्रयागराज, गाजीपुर, कौशांबी, रायबरेली, शाहजहांपुर व सिद्धार्थनगर के जिला विद्यालय निरीक्षक केंद्रों की अनुमानित संख्या तक नहीं बता सके। सचिव ने कहा है कि अब वह बुधवार को केंद्र फाइनल करके सूची भेजेंगे, जो जिले बुधवार को भी केंद्रों की सूची नहीं भेजेंगे, उनकी लिस्ट शासन को भेजी जाएगी। ज्ञात हो कि 30 अक्टूबर तक वेबसाइट पर अभ्यर्थियों के प्रवेशपत्र अपलोड करने की समय सीमा तय है।

Tuesday, September 4, 2018

बीएड - टीईटी वाले 5 सितम्बर को करेंगे अटल आंदोलन, 2012 में एकेडमिक आधार पर शुरू भर्ती की नियुक्ति पूरी करने की मांग

बीएड - टीईटी वाले 5 सितम्बर को करेंगे अटल आंदोलन, 2012 में एकेडमिक आधार पर शुरू भर्ती की नियुक्ति पूरी करने की मांग। 


Friday, July 27, 2018

टीईटी पास अभ्यर्थी बोले पद और अवसर जाएं बढ़ाये, 2012 की भर्ती को दोबारा शुरू करने की मांग

टीईटी पास अभ्यर्थी बोले पद और अवसर जाएं बढ़ाये, 2012 की भर्ती को दोबारा शुरू करने की मांग।


Saturday, June 9, 2018

कोर्ट के फैसले से शिक्षकों में हड़कंप, हाईकोर्ट ने प्रशिक्षण काल में टेट करने वालों को किया था अयोग्य घोषित

फतेहपुर :  कोर्ट के फैसले से शिक्षकों में हड़कंप, हाईकोर्ट ने प्रशिक्षण काल में टेट करने वालों को किया था अयोग्य घोषित।


Thursday, June 7, 2018

तिरंगा यात्रा निकाल रहे बीएड टीईटी अभ्यर्थियों पर पुलिस से झड़प के बाद फिर लाठीचार्ज

तिरंगा यात्रा निकाल रहे बीएड टीईटी अभ्यर्थियों पर फिर लाठीचार्ज

 


उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार के खिलाफ प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी क्रम में बुधवार को सैकड़ो की संख्या में बीएड टीईटी पास अभ्यर्थियों ने मुख्यमन्त्री के खिलाफ आशियाना के इको गार्डन में जोरदार प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी तिरंगा यात्रा निकालने जा रहे थे कि पुलिस ने उन्हें रोक लिया। प्रदर्शनकारियों ने घंटो नारेबाजी की, इस दौरान उनकी पुलिस से भी झड़प हुई। प्रदर्शनकारी इको गार्डन से लोक भवन तक तिरंगा यात्रा निकालने वाले थे, काफी देर तक चले हंगामे के बाद जब पुलिस ने नोकझोंक के बाद प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज कर दिया इससे प्रदर्शनकारी बेकाबू हो गए।


हालांकि घंटो चले हंगामे के बाद पुलिस ने ताला डालकर सभी को इको गार्डन में ही बंद कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पार्क के भीतर पिटाई का आरोप लगाया है। पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है इनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। प्रदर्शकारियों ने कहा कि सरकार बनने से पहले बीजेपी लगातार कहती चली आ रही थी कि उनकी सरकार बनने के बाद टीईटी पास अभ्यर्थियों को वह रोजगार उपलब्ध कराएगी। किन्तु बीजेपी सरकार के एक साल से अधिक बीत जाने के बावजूद भी आज तक हमारी मांगे मानी नहीं गयी हैं। उल्टा हमारे सवाल उठाने पर हमें नौकरी की जगह लाठियां मिली है।


कई दिनों से स्मृति उपवन में धरना दे रहे अभ्यर्थी

बता दें कि प्रदर्शनकारी अभ्यर्थी पिछले कई दिनों से लखनऊ के आशियाना स्थित स्मृति उपवन में लगातार धरने पर बैठे हुए थे। जिसके बाद भी जब वहां पहुंचकर किसी ने उनकी सुध न ली तो आज यह लोग सैकड़ो की संख्या में बीजेपी कार्यलय पहुंच गए। जहां इन्होंने सूबे के मुख्यमंत्री के खिलाफ वादा खिलाफी की बात करते हुए जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान कई बार प्रदर्शनकारियों की पुलिस से तीखी झड़पे भी हुई। किन्तु अंत मे पुलिस ने सबको बस में भरवाकर वापस स्मृति उपवन धरना स्थल पर भिजवा दिया। पूरे प्रदर्शन के दौरान कई प्रदर्शकारी तपती धूप में बेहोश भी हो गए। जिन्हें आनन-फानन में पुलिस ने सिविल अस्पताल में भी भर्ती कराया।


बीजेपी सरकार की कथनी और करनी दोनों में फर्क

वहीं प्रदर्शन कर रही मीरा, अन्जू का कहना है कि हम सभी ने बीजेपी को यह सोंच कर वोंट दिया था कि वो हमारे घावों पर सरकार बनने के बाद मरहम लगायेगी पर बीजेपी सरकार की कथनी और करनी दोनो में फर्क निकला। जो बीजेपी नेता पूर्ववर्ती सरकार में हमारे हक की बात करते थे आज वहीं सत्ता मिलने के बाद उसी के मद में होश खो बैठे है तथा हमारी लगातार उपेक्षा कर रहे है। टीईटी अभ्यर्थियों को नियुक्ति के बदले योगी सरकार लाठियां दें रही है। लेकिन हम सरकार को यह बता देना चाहते है कि हम किसी भी तरह से डरने और दबने वाले नहीं हैं।


जान चली जाये पर लेकर रहेंगे अपना हक

नियुक्ति हमारा हक है जिसे हम किसी भी कीमत पर हासिल करके ही रहेंगे। चाहे इसमे हमारी जान ही क्यो न चली जाए। इतना ही नहीं पिछले क़ई दिनों से हम स्मृति उपवन में धरने पर बैठे हैं। यहां कभी कोई और कभी कोई अधिकारी हमसे मिलने आता है और अपनी अलग अलग पहचान बताता है। हमे मुख्यमंत्री से मिलवाने की झूठी बाते बोलते हुए धरना खत्म करने के लिए बोलता है। इसके अलावा कई बार हमें गुमराह करते हुए बताया जाता है कि आज मुख्यमंत्री मौजूद नहीं हैं। जबकि हम लोग न्यूज़ के माध्यम से सब कुछ देखा करते है कि मुख्यमंत्री कहां हैं।


हमारी खामोशी को हमारी कमजोरी न समझे सरकार

इसके अलावा पिछले कई दिनों से कुछ कथित अधिकारी हमें गवर्नर से भी मिलवाने के लिए बोल रहे है। लेकिन न तो अभी तक सीएम से मिलवाया गया है और न ही गवर्नर से मिलवाया गया। जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं की जाएंगी तक हमलोग इसी तरह से अनशन जारी रखेंगे।इसके अलावा हमारे क़ई साथी आमरण अनशन पर भी बैठे हुए हैं। हम सरकार को यह बता देना चाहते है पहले भी हम शांतिप्रिय ढंग से प्रदर्शन कर रहे थे आगे भी इसी तरह से करते रहेंगे। लेकिन सरकार हमारी खामोशी को हमारी कमजोरी न समझे। अगर आप हमें नियुक्ति पत्र नहीं दे सकते हो तो कफ़न की व्यवस्था जरूर कर लें, क्योकि अब यहाँ से सिर्फ लाशें ही लाशें उठेगी।


सामूहिक रूप से आत्मदाह की दी चेतावनी

वहीं एक प्रदर्शकारी महिला ने कहा कि यदि सरकार अब भी हमें नियुक्ति पत्र नहीं दे पाई तो हम सब लोग सार्वजनिक रूप से आत्मदाह कर लेंगे।जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। एक साल से ऊपर हो गया बीजेपी सरकार को फिर भी हमें हमारा हक अभी तक नहीं मिल पाया है। इसका अंजाम इन्हें दो हजार उन्नीस के चुनावों में भुगतना पड़ेगा।


पिछले सप्ताह लाठीचार्ज के दौरान हुआ था पथराव

गौरतलब है कि एक सप्ताह पहले भी नियुक्ति की मांग को लेकर राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन कर रहे 2011 बैच के बीएडी टीईटी पास अभ्यर्थियों पर पुलिस ने मंगलवार को लाठीचार्ज कर दिया था। इस दौरान हवाई फायरिंग की भी खबरें थीं। अपनी मांगों को लेकर विधानसभा घेराव के लिए जा रहे अभ्यर्थियों को कैंट एरिया में पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो टकराव हुआ। पुलिस ने लाठी चलाई तो प्रदर्शनकारी अभ्यर्थियों ने भी पुलिस पर पत्थर फेंके। लाठीचार्ज में कई अभ्यर्थियों को चोटें लगी थी, कई को गंभीर चोटें भी आई हैं। कुछ पुलिसकर्मी और राहगीर भी घायल हुए थे। इस हंगामे में दो बसें और कई गाड़ियों के शीशे भी टूट गए थ