DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label दिल्ली. Show all posts
Showing posts with label दिल्ली. Show all posts

Friday, June 26, 2020

Delhi School News: कोरोना वायरस संक्रमण के चलते दिल्ली के शिक्षा मंत्री ने किया ऐलान, 31 जुलाई तक बंद रहेंगे स्कूल

Delhi School news : दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने किया ऐलान, 31 जुलाई 2020 तक बंद रहेंगे स्कूल

दिल्ली के स्कूल के छात्रों व अभिभावकों के लिए महत्वपूर्ण खबर है। दिल्ली के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 31 जुलाई 2020 तक बंद रखा जायेगा।





Delhi School news : दिल्ली के स्कूल के छात्रों व अभिभावकों के लिए महत्वपूर्ण खबर है। दिल्ली के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 31 जुलाई 2020 तक बंद रखा जायेगा। यानी, 31 जुलाई 2020 तक दिल्ली के सभी स्कूलों में शैक्षणिक गतिविधियां पूरी तरह से स्थगित रहेंगी। यह घोषणा दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने की है। बता दें कि देश भर में कोरोना वायरस महामारी के कारण बढ़ते हुए संक्रमण को ध्यान में रख कर यह निर्णय लिया गया है। सिसोदिया ने कहा है कि बच्चों की सुरक्षा हमारी पहली प्राथमिकता है। बच्चों के स्वास्थ्य के साथ कोई जोखिम नहीं उठाया जा सकता है।

बता दें कि देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित मुंबई के बाद अगर कोई शहर हुआ है तो वह दिल्ली है। यहां हर दिन तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। इस समस्या को मद्देनजर यह फैसला लिया गया है। मार्च में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की वजह से सभी स्कूल-कॉलेज सहित शैक्षणिक संसस्थान बंद कर दिए गए थे। इसके बाद जैसे-जैसे लॉकडाउन में छूट मिली थीं, उसके आधार पर शैक्षणिक गतिविधियों को आगे बढ़ाया गया। इसके तहत सीबीएसई बोर्ड सहित कई अन्य राज्यों ने बची हुईं 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं कराने का ऐलान किया। लेकिन कोरोना संक्रमण के नहीं थम रहे मामलों की वजह से आखिरकार सीबीएसई सहित कई अन्य राज्यों को परीक्षाएं टालनी पड़ीं। वहीं हाल ही सीबीएसई ने ऐलान किया है कि वह 15 जुलाई तक परिणाम जारी कर देगा। इसके अलावा कई अन्य बोर्ड पहले ही नतीजे जारी कर चुके हैं। इनमें सबसे पहले बिहार बोर्ड नरे जारी किए थे। वहीं अब कल यानी कि 27 जून को यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं के नतीजे एक साथ जारी करने जा रहा है। शनिवार की दोपहर साढ़े 12  बजे रिजल्ट घोषित किया जाएगा।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

नई दिल्ली : स्कूल फीस को लेकर भड़का अभिभावक संघ, 26 से आंदोलन की दी धमकी


नई दिल्ली : स्कूल फीस को लेकर भड़का अभिभावक संघ, 26 से आंदोलन की दी धमकी


School Fees In Lockdown : अभिभावक संघ के अनुसार महज 2-3 घंटे की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए पूरी फीस लेना गलत है। स्कूल एसोसिएशन की दलील है कि वे सिलेबस को अपने हिसाब से पूरा कराने की कर रहे हैं कोशिश



नई दिल्ली। कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते स्कूल-कॉलेज मार्च से बंद हैं। बच्चों की पढ़ाई में नुकसान न हो इसके लिए ऑनलाइन क्लासेज (Online Classes) चलाई जा रही हैं। मगर इन्हीं के बीच फीस को लेकर स्कूल प्रशासन और पैरेंट्स के बीच ठन गई है। स्कूल प्रबंधन जहां समय से फीस भरने को कह रहा है। वहीं अभिभावकों की दलील है कि महज 2 से 3 घंटे के लिए वे पूरी फीस नहीं दे सकते हैं। इस बात को लेकर अभिभावक संघ (Parents Association) हल्लाबोल की तैयारी कर रहे हैं। उनका कहना है कि अगर मसले का हल नहीं निकला तो वे 26 तारीख से आंदोलन करेंगे।


इस सिलसिले में उत्तराखंड में प्राइवेट स्कूलों (Private Schools) के फ़ीस वसूलने (School Fees In Lockdown) के मुद्दे पर हाईकोर्ट ने फ़ैसला सुनाया था। इसके बाद सरकार ने कहा था कि ऑनलाइन क्लास देने वाले प्राइवेट स्कूल ट्यूशन फीस ले सकते हैं। मगर सरकार के इस फैसले से अभिभावक संघ सहमत नहीं है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अभिभावक संघ के अध्यक्ष राम कुमार का कहना है कि सिर्फ़ 2 घंटे की ऑनलाइन क्लास हो रही है। इसमें भी कई बार नेटवर्क की दिक्कत होती है, तो कभी लाइट चली जाती है या अन्य समस्याएं आ जाती हैं। इससे पढ़ाई ठीक से नहीं हो पाती है। ऐसे में ट्यूशन फीस के नाम पर पूरी फीस वसूली बिल्कुल गलत है। इसका विरोध किया जाएगा। मालूम हो कि लॉकडाउन के दौरान स्कूलों की ओर से लिए जा रहे फीस को लेकर गुरुग्राम में भी अभिभावकों ने आपत्ति जताई थी। यहां के पैरेंट्स एसोसिएशन ने भी आंदोलन की धमकी दी थी।


अभिभावक संघ इस मुद्दे पर आंदोलन की तैयारी में है। संघ के अध्यक्ष का कहना है कि वे फ़ीस के मुद्दे पर किसान यूनियन के साथ मिलकर प्रदेशभर में आंदोलन करेंगे। वे 26 तारीख से सड़कों पर उतरकर स्कूल प्रबंधकों के खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे। वहीं इस मसले पर स्कूल एसोसिएशन का कहना है कि वे पूरे सिलेबस को 2-3 घंटे में पूरा कराने की कोशिश कर रहे हैं। वे स्कूल के सिलेबस के हिसाब से ही प्लानिंग कर रहे हैं। ऐसे में ट्यूशन फीस लेना गलत नहीं है। क्योंकि इसी के जरिए शिक्षकों को उनकी सैलरी दी जा सकेगी।

Monday, June 8, 2020

दिल्ली में कोरोना का कहर : 150 से अधिक शिक्षक संक्रमित और 400 क्वारंटाइन

दिल्ली में कोरोना का कहर :  150 से अधिक शिक्षक संक्रमित और 400 क्वारंटाइन


दिल्ली में विभिन्न भोजन-राशन वितरण केंद्रों पर कार्य कर रहे 150 से अधिक शिक्षक कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और लगभग 400 शिक्षक इन दिनों होम या केंद्रों में क्वारंटाइन हैं। इसे देखते हुए विभिन्न शिक्षक संगठनों ने कहा है कि दिल्ली में जब सब कुछ खुल गया है तो सरकार भोजन-राशन वितरण केंद्रों से शिक्षकों की डयूटी हटाए।


बता दें कि दिल्ली में भोजन वितरण के कार्य में लगी एक शिक्षिका की कोरोना से मौत हो चुकी है। इसको लेकर शिक्षक संगठनों ने अब ड्यूटी से शिक्षकों को हटाए जाने की मांग की है। उधर, शिक्षक न्याय मंच नगर निगम के अध्यक्ष कुलदीप खत्री ने कहा कि शिक्षकों से भोजन-राशन वितरण संबंधी काम करवाए जा रहे हैं, लेकिन उन्हें पीपीई किट या अन्य सुरक्षा सुविधाएं देने में कोताही बरती जा रही है। निगम के शिक्षकों की ओर से लगातार निगम नेताओं से मुलाकात की गई है। उन्होंने बताया कि शिक्षकों ने दिल्ली के एलजी को भी पत्र लिखकर अपनी आपबीती सुनाई है, लेकिन कहीं से कोई हल नहीं निकला है।


तीनों निगमों में बड़ी संख्या 
निगम क्षेत्र में कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, जिसके बाद अन्य शिक्षक डरे हुए हैं में शिक्षक कोरोना पॉजिटिव दिल्ली के तीनों निगमों में 150 से अधिक शिक्षकों को कोरोना संक्रमित पाया गया है। इनमें उत्तरी दिल्ली नगर निगम में 70, पूर्वी दिल्ली नगर निगम में 40 और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में भी 40 से अधिक शिक्षकों को कोरोना संक्रमित पाया जा चुका है।


वहीं सरकारी स्कूल के शिक्षक की कोरोना संक्रमण के कारण रविवार को मौत हो गई है। इसके बाद शिक्षक संघ ने इस मामले के लिए शिक्षा निदेशालय को जिम्मेदार ठहराया है। साथ ही शिक्षकों के आश्रितों के लिए दिल्ली सरकार की मुआवाजा नीति के अनुरूप मुआवजा से नौकरी की मांग की है। राजकीय विद्यालय शिक्षक संघ के मुताबिक सर्वोदय बाल विद्यालय कल्याणवास में अंग्रेजी के शिक्षक शिवाजी मिश्रा की तैनाती शिक्षा निदेशालय ने प्रवासी मजदूरों के लिए स्कूलों में बनाए गए केंद्र में की थी। यहां वह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे।

Sunday, May 10, 2020

नई दिल्ली : राशन बांटने में तैनात शिक्षिका की कोरोना वायरस के संक्रमण से मौत



नई दिल्ली: कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और लॉकडाउन जनता की मदद करने वाले कोरोना वारियर्स को भी यह वायरस संक्रमित कर रहा है जिससे कई कोरोना वायरियर्स की मृत्यु हो गई है। दिल्ली में एक नाया मामला सामने आया है जिसमें लॉकडाउन के दौरान राशन वितरण के काम में लगी एक महिला शिक्षिका की कोरोना की वजह से मृत्यु हुई है। महिला शिक्षिका की ड्यूटी उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तहत राशन बांटने में लगी थी, महिला कॉट्रेक्ट पर दिल्ली नगर निगम के स्कूलों में अध्यापन का काम करती थी।
लॉकडाउन के दौरान कई कोरोना वारियर जनता की मदद कर रहे हैं लेकिन उन सभी को कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा है क्योंकि कई बार उन्हें सीधे उन लोगों के संपर्क में आना पड़ता है जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। दिल्ली में कई पुलिस कर्मी और स्वास्थ्य कर्मी पहले ही कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। एक पुलिस कर्मी की तो कोरोना वायरस की वजह से मृत्यु भी हुई है।
बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस के 381 नए मामले सामने आ गए हैं और 5 लोगों की मौत हो गई है। समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार दिल्ली में अब तक 6923 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से 4781 एक्टिव केस हैं। 2069 लोग ठीक हो गए हैं और 73 लोगों की मौत हो गई है। दिल्ली के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक ने इसकी जानकारी दी है।

स्रोत:-https://www.abplive.com/videos/news/states-delhi-teacher-died-due-to-corona-1392917/amp



Friday, May 8, 2020

दिल्ली : Schools Odd Even: एक दिन में 50 फीसदी छात्रों के साथ शुरु हो सकती है कक्षाएं, नये सत्र में सोशल डिस्टैंसिंग की व्यवस्था

Schools Odd Even: एक दिन में 50 फीसदी छात्रों के साथ शुरु हो सकती है कक्षाएं, नये सत्र में सोशल डिस्टैंसिंग की व्यवस्था

Schools Odd Even स्कूलों में दिनों के हिसाब से ऑड-ईवन लागू करने से अलग साप्ताहिक रूप से ऑड-ईवन की व्यवस्था को लागू करने पर भी विचार किया जा रहा है।...

नई दिल्ली, Schools Odd Even: लॉक डाउन की समाप्ति के बाद स्कूलों में सत्र 2020-21 की कक्षाओं में किसी भी एक दिन में सिर्फ 50 फीसदी छात्रों के साथ ही कक्षाओं की शुरुआत की जा सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) और राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) द्वारा लॉक डाउन के बाद स्कूलों में नये सेशन की क्लासेस के लिए ऑड-ईवन सिस्टम को लागू करने की योजना बनाई जा रही है। विभिन्न स्कूलों को कक्षाओं के आयोजन की अनुमति होगी लेकिन उन्हें सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करना होगा, जिसके लिए ऑड-ईवन एक विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है।

स्कूलों में लॉक डाउन के बाद कक्षाओं के आरंभ को लेकर ऑड-ईवन के बारे में दिशा-निर्देश जल्द ही जारी किये जा सकते हैं। कक्षाओं में ऑड-ईवन लागू होने से शिक्षकों के पास छात्रों के बेहतर ढंग से पढ़ाने में मदद मिलेगी।


स्कूलों की कक्षाओं में दिनों के हिसाब से ऑड-ईवन लागू करने से अलग साप्ताहिक रूप से ऑड-ईवन की व्यवस्था को लागू करने पर भी विचार किया जा रहा है। योजना कार्यों में योगदान दे रहे मंत्रालय के ही कुछ अधिकारियों का मानना है कि साप्ताहिक ऑड-ईवन से छात्रों को अधिक फायदा मिलेगा और इससे न सिर्फ छात्रों बल्कि अध्यापकों की भी पढ़ाई को लेकर तारतम्यता बनी रहेगी।

लॉक डाउन के कारण छात्रों की हो रही पढ़ाई को दखते हुए इस बीच एनसीआरटी ऑनलाइन स्टडी मैटेरियल के प्रोडक्शन में लगा है, जिसका प्रसारण टेलीविजन चैनलों पर किया जा सकेगा। इस स्टडी मैटेरियल से उन स्कूलों को भी मदद मिलेगी जिनके पास इंटरनेट ऑधारित ऑनलाइन कक्षाओं के आयोजन के लिए जरूरी आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है।


स्कूलों में पहली से लेकर 12वीं तक की कक्षाओं के लिए सभी विषयों के लिए स्टडी मैटेरियल के टेलीविजन पर प्रसारण को पर्याप्त समय मिले, इसके लिए हर स्टैंडर्ड के लिए एक डेडीकेटेड चैनल पर भी विचार किया जा रहा है।

एनसीईआरटी के निदेशक के अनुसार सभी स्टेकहोल्डर्स को साथ लेते हुए महामारी के दौरान छात्रों की पढ़ाई का नुकसान न होने देने में यह योजना कारगार साबित होगी। उन्होंने कहा कि इस योजना का खाका, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सोमवार को मंत्रालय के समक्ष प्रस्तुत किया जा सकता है।

Saturday, March 28, 2020

दिल्ली सरकार की तैयारी, 325 स्कूलों में भी मुफ्त मिलेगा खाना

दिल्ली सरकार की तैयारी,  325 स्कूलों में भी मुफ्त मिलेगा खाना