DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label धरना. Show all posts
Showing posts with label धरना. Show all posts

Thursday, March 25, 2021

69000 शिक्षक भर्ती : धरने पर बैठे दिव्यांगों की मांगें पूरी करने का वादा, DGSE ने जल्द निस्तारण का दिया भरोसा

69000 शिक्षक भर्ती : धरने पर बैठे दिव्यांगों की मांगें पूरी करने का वादा, DGSE ने जल्द निस्तारण का दिया भरोसा



प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में दिव्यांगों को नियुक्ति दिलाने का आश्वासन मिला है। आसार है कि 100 दिन बाद आंदोलन खत्म हो जाए। दिव्यांगों का कहना है कि महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने प्रतिनिधिमंडल को प्रकरण का निस्तारण करने का वादा किया है। परिषदीय स्कूलों में 69000 शिक्षक भर्ती चल रही है। 


भर्ती में आरक्षण विसंगति को लेकर दिव्यांग 100 दिन से बेसिक शिक्षा निदेशालय मुख्यालय प्रयागराज पर आंदोलन कर रहे हैं। दिव्यांग प्रतिनिधिमंडल बुधवार को लखनऊ में महानिदेशक स्कूल शिक्षा से मिला और सार्थक वार्ता हुई, जिसमें महानिदेशक की ओर से उन्हें भरोसा दिया कि निस्तारण हर हाल में करेंगे। आरक्षण के अनुपालन में जो भी त्रुटियां थी, उनको लेकर विभाग का रुख सकारात्मक है, धरने को खत्म करने को कहा और विश्वास दिलाया कि अगर आपकी मांगों पर न्यायसंगत विचार न दिखे तो धरना देने को दिव्यांग स्वतंत्र हैं। 


प्रतिनिधि मंडल में शामिल धनराज कुमार यादव, प्रदीप शुक्ला, कौशल मिश्र, शिवप्रकाश, विष्णु, प्रेमकुमार, राघवेन्द्र सिंह शिवेंद्र व दिनेश यादव ने बताया कि डीजी से सकारात्मक वार्ता हुई और उन्होंने नीति नियम के अधीन सभी मुद्दों को हल करने का भरोसा दिया है।

Saturday, March 13, 2021

69000 शिक्षक भर्ती : दिव्यांग अभ्यर्थियों ने कैंडल मार्च निकालकर मांगी नियुक्ति, 3 माह से धरना जारी

69000 शिक्षक भर्ती : दिव्यांग अभ्यर्थियों ने कैंडल मार्च निकालकर मांगी नियुक्ति, 3 माह से धरना जारी


प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों की 69000 शिक्षक भर्ती में नियमानुसार चयन न होने से दिव्यांग आहत हैं। वे परिषद मुख्यालय के सामने तीन माह से धरना कर रहे हैं।


शुक्रवार को दिव्यांगों के समर्थन में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के नेत्री ऋचा सिंह, सुरेश नेता व बेला सिंह ने एक किलोमीटर तक कैंडल मार्च निकाला। प्रयागराज के पत्थर गिरजाघर धरना स्थल पर प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया। दिव्यांग वहां से फिर परिषद मुख्यालय के सामने धरने पर बैठ गए। 


यहां धनराज कुमार यादव, कौशल किशोर मिश्र, राघवेंद्र सिंह, मोहम्मद रिज़वान, शरद अग्रहरि, प्रेम कुमार, दिलीप कुमार, शिव प्रकाश, दीपेन्द्र, महेंद्र आदि धरना दे रहे हैं। उनका कहना है कि न्याय मिलने तक धरना अनवरत जारी रहेगा। शिक्षा विभाग का कोई भी अधिकारी उनकी बात नहीं सुन रहा है। दिव्यांगों की 2760 सीटों के सापेक्ष केवल 1673 सीटें ही भरी गई हैं।

Friday, February 5, 2021

लंबित मांगों को लेकर सहायता प्राप्त विद्यालय के बेसिक शिक्षकों ने ने घेरा निदेशालय

लंबित मांगों को लेकर सहायता प्राप्त विद्यालय के बेसिक शिक्षकों  ने ने घेरा निदेशालय


लखनऊ। उप्र. बेसिक शिक्षक संघ (सहायता प्राप्त जूनियर हाई स्कूल प्रबंधक प्रकोष्ठ) ने 12 सूत्री मांगों को लेकर बृहस्पतिवार को निशातगंज स्थित बेसिक शिक्षा निदेशालय का घेराव किया। संघ के अध्यक्ष अजय श्रीवास्तव ने बताया कि सभी सहायता प्राप्त जूनियर विद्यालयों के प्रबंधक नई संशोधित सेवा नियमावली का विरोध कर रहे हैं। 


उन्होंने नियमावली को निरस्त करने की मांग की है। उन्होंने विद्यालयों में रिक्त प्रधानाध्यापकों और सहायक अध्यापक के पद पर भर्ती के लिए भर्ती परीक्षा कराने का भी विरोध किया। उन्होंने कहा कि सरकार ने मांग न मानी तो आंदोलन और तेज होगा। प्रदर्शनकारियों ने मांगों को 1. लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा।

Tuesday, February 2, 2021

69000 भर्ती में दिव्यांगों के आरक्षण को लेकर धरने के 50 दिन पूरे, नहीं हुई सुनवाई

69000 भर्ती में दिव्यांगों के आरक्षण को लेकर धरने के 50 दिन पूरे,  नहीं हुई सुनवाई।


प्रयागराज। बेसिक शिक्षा परिषद की 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की विसंगति के खिलाफ दिव्यांगों का धरना सोमवार को 50 वें दिन भी जारी रहा। दिव्यांग अभ्यर्थियों का कहना है कि अपनी मांग को लेकर वह प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी, महानिदेशक स्कूल


शिक्षा विजय किरन आनंद, सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रताप सिंह बघेल सहित दूसरे जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों के पास गए परंतु कोई सुनवाई नहीं हुई। इन अभ्यर्थियों का कहना है कि जब तक मांग पूरी नहीं होती, धरना जारी रहेगा। इनका कहना है कि हमारे चार साथी पिछले 25 दिन से भूख हड़ताल पर बैठे हैं। धरने पर लगातार धनराज यादव, प्रदीप शुक्ला, राघवेंद्र शरद, कौशल, अंकित आदि शामिल हैं।

Wednesday, January 20, 2021

69000 : दिव्यांग अभ्यर्थी सामूहिक मुंडन के जरिये आज दर्ज कराएंगे अपना विरोध

69000 : दिव्यांग अभ्यर्थी सामूहिक मुंडन के जरिये आज दर्ज कराएंगे अपना विरोध।



प्रयागराज। 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की विसंगति के खिलाफ 14 दिसंबर 2020 से लगातार धरने पर बैठे दिव्यांगों का आंदोलन मंगलवार को भी जारी रहा। 

अब दिव्यांग अभ्यर्थी बुधवार को सामूहिक मुंडन करवाएंगे। धरने पर बैठने वालों में उपेन्द्र मिश्रा, धनराज यादव, प्रदीप, राघवेंद्र, कौशल शामिल रहे।

Tuesday, January 19, 2021

69000 शिक्षक भर्ती : दिव्यांगों का धरना 36वें दिन भी जारी, अब तक कोई सुनवाई नहीं

69000 शिक्षक भर्ती : दिव्यांगों का धरना 36वें दिन भी जारी, अब तक कोई सुनवाई नहीं।


प्रयागराज। बेसिक शिक्षा परिषद पर 14 दिसंबर 2020 से लगातार धरने पर बैठे दिव्यांगों की अभी तक कोई सुनवाई नहीं है। कड़ाके की ठंड में खुले आसमान के नीचे धरने पर बैठे दिव्यांगों की सुध लेने कोई सरकारी अधिकारी व जन प्रतिनिधि नहीं पहुंचा। 


धरने पर बैठे चार दिव्यांगों ने 12 दिन से भूख हड़ताल शुरू की है, उनकी सुनवाई करने के लिए कोई नहीं पहुंचा। दिव्यांगों ने शिक्षक भर्ती में चार फीसदी आरक्षण की मांग की है।

Sunday, January 17, 2021

पुरानी पेंशन, वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन व अन्य मांगों के लिए गरजा माध्यमिक शिक्षक संघ

पुरानी पेंशन, वित्तविहीन शिक्षकों को वेतन व अन्य मांगों के लिए गरजा माध्यमिक शिक्षक संघ


पुरानी पेंशन की बहाली, वित्तविहीन शिक्षकों को समान कार्य समान वेतन, नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा, ऑनलाइन स्थानांतरण की सुनिश्चित व्यवस्था समेत अन्य मांगों के समर्थन में माध्यमिक शिक्षक संघ से जुड़े शिक्षकों ने शनिवार को उपवास रहकर जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर धरना दिया। शिक्षक विधायक सुरेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि यह संघर्ष का आगाज है। आगे लंबा और कठिन संघर्ष होगा।


हम वित्तविहीन शिक्षकों को समान कार्य समान वेतन, पुरानी पेंशन, नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा जैसी अनेक मांगों के पूरा होने तक संघर्ष करते रहेंगे। सदन में कम संख्या में होने के बावजूद शिक्षक विरोधी कार्यों का आखिरी सांस तक विरोध होगा। धरने के बाद मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सह जिला विद्यालय निरीक्षक बीएस यादव को सौंपा गया। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष राम प्रकाश पांडेय ने की व संचालन जिला मंत्री अनुज कुमार पांडेय ने किया।


सभा को कुंज बिहारी मिश्रा, श्याम बहादुर सिंह बिसेन, अरविन्द त्रिपाठी, रमेश चंद्र शुक्ला, रामसेवक त्रिपाठी, अनय प्रताप सिंह, अजीत सिंह, डॉक्टर सुयोग पांडेय, रविंद्र त्रिपाठी, अशोक कुमार, जगदीश प्रसाद, दिवाकर मिश्रा, श्वेता दूबे, विनय तिवारी, प्रदीप शुक्ला आदि ने संबोधित किया। एबादुर रहमान, सविता मिश्रा, मो. जैद, संजीव तिवारी, अनुराग अवस्थी, विक्रम यादव, राजू यादव, प्रेमचन्द यादव, सुधीर मिश्र, विकाश शुक्ल आदि मौजूद रहे।

Saturday, January 16, 2021

पुरानी पेंशन की बहाली समेत अन्य मांगों को लेकर माध्यमिक शिक्षक संघ का धरना व उपवास

पुरानी पेंशन की बहाली समेत अन्य मांगों को लेकर माध्यमिक शिक्षक संघ का धरना व उपवास


लखनऊ। पुरानी पेंशन की बहाली, वित्तविहीन शिक्षकों, व्यावसायिक अनुदेशकों एवं कम्प्यूटर शिक्षकों को समान कार्य के लिए समान वेतन, वंचित तदर्थ शिक्षकों को विनियमित किए जाने, निःशुल्क चिकित्सा सुविधा समेत 11 सूत्री मांगों को लेकर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर धरना देकर उपवास रखेगा।


संघ के प्रदेशीय मंत्री डॉ आरपी मिश्र ने बताया कि प्रदेश व्यापी संघर्ष कार्यक्रम के अंतर्गत उपवास रखकर प्रदर्शन किया जाएगा।

Wednesday, January 13, 2021

दिव्यांगों के अनशन पर महकमा बेखबर, एक माह से 69000 भर्ती में चार फीसद आरक्षण की कर रहे मांग

दिव्यांगों के अनशन पर महकमा बेखबर, एक माह से 69000 भर्ती में चार फीसद आरक्षण की कर रहे मांग।


प्रयागराज : 69000 शिक्षक भर्ती में चार फीसद आरक्षण की मांग को लेकर दिव्यांगों के धरने का मंगलवार को एक माह हो गया। कड़ाके की सर्दी में दिव्यांग छह दिन से अनशन पर हैं। दिव्यांगों से मिलने कोई नहीं पहुंचा, बेसिक शिक्षा परिषद सचिव व महानिदेशक स्कूल शिक्षा ने भी मांगों के निस्तारण पर ठोस आश्वासन नहीं दिया। स्वास्थ्य परीक्षण को भी टीम नहीं गई।


दिव्यांगों का कहना है कि एक-दो दिन में उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया तो वे बेमियादी अनशन करेंगे जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन, प्रशासन की होगी। दिव्यांगों का प्रतिनिधिमंडल विकास शर्मा के साथ सचिवालय (बापू भवन) में बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री से मुलाकात की, जिसमें आरक्षण का अनुपालन न किए जाने का मुद्दा उठाया गया। शिक्षा मंत्री ने त्रुटि निस्तारण का वादा किया है। दिव्यांगों का कहना है कि जब तक सक्षम प्राधिकारियों मांगों के निस्तारण का लिखित आश्वासन नहीं देते प्रदर्शन जारी रहेगा।

Monday, January 11, 2021

69000 भर्ती में आरक्षण के मामले को लेकर ठंड में खुले आसमान के नीचे डटे दिव्यांग अभ्यर्थी

69000 भर्ती में दिव्यांग आरक्षण के मामले को लेकर  ठंड में खुले आसमान के नीचे डटे दिव्यांग अभ्यर्थी


सूबे के परिषदीय विद्यालयों में सहायक अध्यापक की 69 हजार पदों की भर्ती में दिव्यांग अभ्यर्थियों को चार प्रतिशत आरक्षण न मिलने के विरोध में प्रदर्शन जारी है।


बेसिक शिक्षा परिषद कार्यातय पर अभ्यर्थी उेंद्र कुमार मिश्र, धनराज यादव, शरद अग्रहरि व मनोज भारद्वाज चार दिन से भूख हड़ताल कर रहे हैं। शारीरिक रूप से अक्षम होने के बावजूद उनका हौसला बुलंद है। अधिकार के लिए आर-पार की लड़ाई लड़ने का जज्बा कायम है, यही कारण है कि ठंड के बीच दिन-रात अभ्यर्थी खुले आसमान के नीचे डटे हैं। 


बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय पर भूख हड़ताल पर बैठे अभ्यर्थियों का कहना है कि 69 हजार शिक्षक भर्ती में चार प्रतिशत आरक्षण के हिसाब से 2760 सीटें दिव्यांग कोटे से भरी जानी चाहिए।

Sunday, January 10, 2021

69000 भर्ती : तीसरी काउंसलिंग तक दिव्यांग करें इंतजार, DGSE ने दी धरना समाप्त करने की चेतावनी

69000 भर्ती : तीसरी काउंसलिंग तक दिव्यांग करें इंतजार, DGSE ने दी धरना समाप्त करने की चेतावनी।


प्रयागराज। 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की विसंगति को लेकर धरना, भूख हड़ताल कर रहे दिव्यांगों से महानिदेशक स्कूल शिक्षा ने तीसरी काउंसलिंग तक इंतजार करने को कहा है। दिव्यांग अभ्यर्थी 22 दिन से धरना एवं बीते तीन दिन से भूख हड़ताल पर बैठे हैं। बेसिक शिक्षा परिषद पर भूख हड़ताल पर बैठे दिव्यांगों के पांच सदस्यीय दल से बातचीत के बाद विजय किरन आनंद ने कहा कि अनशन खत्म करें, जब तीसरी काउंसलिंग होगी तो आपकी मांगों पर विचार किया जाएगा।


महानिदेशक ने कहा कि परिषद कार्यालय से धरना, अनशन खत्म करें। उन्होंने चेतावनी दी की यदि धरना खत्म नहीं हुआ तो प्रशासन उन्हें उठा देगा। 


महानिदेशक के रवैये पर भूख हड़ताल पर बैठे उपेंद्र मिश्र, धनराज यादव, प्रदीप शुक्ला एवं शिवम अग्रहरि ने कहा कि जब तक मांग पूरी नहीं होगी अनशन जारी रखेंगे। उपेंद्र मिश्रा ने कहा कि महानिदेशक से हम लोगों ने मांग की कि हमारी मांग गलत है, आप यह लिखकर दे दें, हम धरना खत्म कर देंगे। उनकी मांग पर महानिदेशक तैयार नहीं हुए।


प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद मुख्यालय के सामने धरना के दे रहे प्रदेशभर के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने शनिवार को स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद से कहा कि 69,000 शिक्षक भर्ती में नियुक्ति मिलने तक वे नहीं हटेंगे, भूख हड़ताल जारी रहेगी। महानिदेशक ने दिव्यांगों से आंदोलन खत्म करने का अनुरोध किया और भर्ती में नियमों के पालन का हवाला दिया ।

69000 भर्ती में त्रुटि सुधार को लेकर 33 दिन से धरने पर बैठे दो अभ्यर्थियों की तबीयत बिगड़ी

69000 भर्ती में त्रुटि सुधार को लेकर 33 दिन से धरने पर बैठे दो अभ्यर्थियों की तबीयत बिगड़ी।


लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69 हजार शिक्षक भर्ती के दो अभ्यर्थियों क्षमा शुक्ला व कौशांबी कौ अमृता मिश्रा की शनिवार को धरना के दौरान तबीयत खराब हो गई। क्षमा को निजी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया।


अभ्यर्थियों ने बताया कि आवेदन के दौरान हुई त्रुटियों में सुधार करने का अवसर देने और नियुक्ति पत्र जारी करने की मांग को लेकर 33 दिन से लगातार बेसिक शिक्षा निदेशालय के मैदान पर धरना दे रहे हैं। मगर उनकी कोई सुन नहीं रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक नियुक्ति पत्र जारी नहीं किया जाता है, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

Friday, January 8, 2021

69000 भर्ती : भूख हड़ताल पर बैठे दिव्यांग में एक हुआ बेहोश, कराया एडमिट, महानिदेशक के आगमन पर आंदोलन तेज करने का निर्णय

69000 भर्ती : भूख हड़ताल पर बैठे दिव्यांग में एक हुआ बेहोश, कराया एडमिट, महानिदेशक के आगमन पर आंदोलन तेज करने का निर्णय।


प्रयागराज। 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण की मांग को लेकर भूख हड़ताल कर रहे चार दिव्यांग अभ्यर्थियों में एक उपेंद्र मिश्रा रात 9.30 बजे बेहोश हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने अभ्यर्थी को एंबुलेंस से लाकर काल्विन अस्पताल में भर्ती करा दिया। बेसिक शिक्षा परिषद पर धरने पर बैठे अभ्यर्थी रात में सचिव प्रताप सिंह बघेल के कहने पर एजी आफिस के बगल रैन बसेरे में चले गए थे। 


69000 सहायक अध्यापक भर्ती पर धरने पर बैठे चार अभ्यर्थियों में आरक्षण की विसंगति को लेकर उरपेंद्र मिश्रा, धनराज यादव, प्रदीप 14 दिसंबर से बेसिक शिक्षा परिषद शुक्ला एवं शरद अग्रहरि ने भूख हड़ताल शुरू कर दी थी। इनमें से उपेंद्र कौ हालत रात 9.30 बजे बिगड़ गई। उपेंद्र के बेहोश होने पर दूसरे साथियों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया। 

पुलिस दूसरे अभ्यर्थियों से भी भूख हड़ताल खत्म करने का आग्रह कर रही थी। दिव्यांग अभ्यर्थियों का कहना है कि शिक्षक भर्ती में उन्हें चार फीसदी आरक्षण का लाभ नहीं दिया गया। दिव्यांग अभ्यर्थी आरपीडब्ल्यूडी ऐक्ट 2016 के तहत चार फीसदी आरक्षण की मांग कर रहे हैं। 


आठ एवं नौ जनवरी को महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद के शहर आगमन को देखते हुए दिव्यांगों ने आंदोलन तेज करने का फैसला किया है। दिव्यांग अभ्यर्थियों ने सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रताप सिंह बघेल से मिलकर अपनी बात रखी। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने दिव्यांग अभ्यर्थियों से भूख हड़ताल और धरना खत्म करने की अपील की। उन्होंने कहा कि ज्ञापन उन्होंने अपनी ओर से शासन को भेज दिया है। इस पर निर्णय शासन को लेना है।

Thursday, January 7, 2021

त्रुटि सुधार के लिए 69000 भर्ती अभ्यर्थियों ने भीख मांग कर जताया विरोध

त्रुटि सुधार के लिए 69000 भर्ती अभ्यर्थियों ने भीख मांग कर जताया विरोध।


लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69 हजार शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से वंचित रहने वाले अभ्यर्थियों ने बुधवार शाम निशातगंज स्थित एससीईआरटी गेट के सामने भीख मांग कर विरोध जताया। अभ्यर्थियों ने बताया कि आवेदन के दौरान हुई त्रुटियों में सुधार करने का अवसर देने और नियुक्ति पत्र जारी करने की मांग को लेकर वे 7 दिसंबर से प्रदर्शन कर रहे हैं। जबकि छह दिनों से अनशन पर हैं। मगर उनकी कोई सुन नहीं रहा है।



 अभ्यर्थी बबली पाल, सौरभ, रुचि, आशुतोष, हिमांशु वर्मा, संदीप ने बताया कि ऑनलाइन फॉर्म भरते समय प्राप्तांक अधिक व पूर्णाक आदि त्रुटियां हो गईं थी। इसके आधार पर उनकी नियुक्ति को निरस्त करने का आदेश जारी कर दिया गया। जबकि बे सब भर्ती परीक्षा पास कर आए हैं। उन्होंने कहा कि जब तक नियुक्ति पत्र जारी नहीं किया जाता है, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

Tuesday, January 5, 2021

त्रुटि सुधार को लेकर 69000 भर्ती में नियुक्ति से वंचित अभ्यर्थी मांग पर अड़े, अनशन जारी

त्रुटि सुधार को लेकर 69000 भर्ती में नियुक्ति से वंचित अभ्यर्थी मांग पर अड़े, अनशन जारी।


लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69000 शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से बंचित रहने वाले अभ्यर्थियों का सोमवार को जीआईसी निशातगंज के खेल मैदान में अनशन जारी रहा। अनशन पर बैठे अभ्यर्थी आवेदन के समय हुईं त्रुटिओं में सुधार करने का अवसर देने और मूल अभिलेखों के आधार पर उनको नियुक्ति पत्र देने की मांग कर रहे हैं। इसमें ज्यादा प्राप्तंक और मेल व फोमेल गड़बड़ी वाले अभ्यर्थी शामिल है। 


अनशन पर बैठे अभ्यर्थी सौरभ, विकास, रुचि, बबली, आशुतोष, आशीष ने बताया कि उनके पक्ष में फैसला नहीं दिया गया तो आंदोलन और उग्र होगा। 



69000 शिक्षक भर्ती में मामूली त्रुटि के कारण भर्ती प्रक्रिया से बाहर किए गए अभ्यर्थियों ने सोमवार से अनशन करने का निर्णय लिया है। ये सभी सुबह 10 से शाम पांच बजे तक अन्न जल त्याग कर निशातगंज बेसिक शिक्षा निदेशालय के पीछे जीआईसी मैदान पर अपना आंदोलन जारी रखेंगे। त्रुटि सुधार को लेकर यह अभ्यर्थी सात दिसम्बर से धरने पर बैठे हैं। अभी एक जनवरी से केवल महिला अभ्यर्थी ही अनशन कर रहीं थीं, जिसमें से शनिवार को एक महिला अभ्यर्थी की तबीयत भी बिगड़ गई थी।


धरने पर बैठे अभ्यर्थी बताते हैं कि जल्दबाजी में आवेदन पत्र ऑनलाइन भरने के दौरान कुछ अभ्यर्थियों ने प्राप्तांक गलत भर दिए हैं। तो कई ने जेंडर गलत लिखा दिया। यानी पुरुष की जगह महिला या महिला की जगह पुरुष। कई ऐसे है जिन्होंने बीटीसी के स्थान पर विशिष्ट बीटीसी दर्ज कर दिया। बस इसी तरह की मानवीय त्रुटि के कारण उन्हें बाहर कर दिया गया। अभिषेक व विकास ने बताया कि इससे पहले 68500 शिक्षक भर्ती में इस तरह की मानवीय भूल करने वालों को पांच बार सुधार का मौका दिया गया था। अभ्यर्थियों का कहना है कि वह सभी चयनित हो चुके हैं। उन्हें एकबार सुधार का मौका मिले। 

69000 भर्ती के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर जताया विरोध

69000 भर्ती के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर जताया विरोध। 


प्रयागराज। प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने अपनी मांगों के समर्थन में बुधवार की शाम मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर विरोध किया।


14 दिसंबर से शिक्षा निदेशालय परिसर में बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर धरना दे रहे दिव्यांग अभ्यर्थी भर्ती में तीन की बजाय चार प्रतिशत आरक्षण देने, उच्च गुणांक वाले दिव्यांग अभ्यर्थियों को दिव्यांग श्रेणी से बाहर रखने और दृष्टिबाधित एवं श्रवण व्यास दिव्यांगजनों की बची हुई सीटों को चलन क्रिया बाधित अभ्यर्थियों से भरने की मांग कर रहे हैं। विरोध जताने वालों में बृजेश मौर्य, उपेंद्र, महेंद्र गुप्ता, धनराज, विष्णु, वीरेंद्र, दीपक, अनन्त कुमार चौधरी आदि शामिल रहे।

------ ------- ------- -------- ---------- --------- -------- ------ ------

69000 सहायक अध्यापक भर्ती : दिव्यांगों का 23वें दिन भी धरना जारी।

69000 सहायक अध्यापक भर्ती में 2016 के आरपीडब्ल्यूडी ऐक्ट का पालन नहीं किए जाने के विरोध में दिव्यांगों का बेसिक शिक्षा परिषद पर धरना 23 वें दिन भी जारी रहा। मंगलवार को दिव्यांग अभ्यर्थियों के धरने में बड़ी संख्या में महिला दिव्यांग अभ्यर्थी शामिल हुईं। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद, महानिदेशक स्कूल शिक्षा सहित प्रदेश सरकार की ओर से उनकी मांगों पर ध्यान नहीं देने पर दिव्यांगों में नाराजगी बढ़ती जा रही है। धरने पर बैठने बालों में उपेन्द्र मिश्रा, धनराज यादव, प्रदीप शुक्ला, शरद अग्रहरी, रंजीत, तौहीद ,राघवेन्द्र, नाज खान, लबलेश, विष्णु, दीपक, विवेक, अमरजीत , लक्ष्मण आदि शामिल रहे।



प्रयागराज। बेसिक शिक्षा परिषद पर 69000 सहायक अध्यापक भर्ती की विसंगति को दूर करने की मांग को लेकर धरने पर बैठे अभ्यर्थियों ने मांग पूरी होते नहीं देख सोमबार को भीख मांगकर विरोध जताया। दिव्यांग अभ्यर्थियों का कहना है कि 14 दिसंबर से जारी उनके धरने सोमवार को 22 दिन हो गया। 




इन 22 दिनों में सचिव बेसिक शिक्षा परिषद अपने कार्यालय पर धरने पर बैठे दिव्यांगों की मांग सुनने भी नहीं आए। कहा कि उनके आवेदन पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया। धरने पर बैठे अभ्यर्थियों का कहना है कि सचिव बेसिक शिक्षा परिषद कभी अपने कार्यालय में बैठते नहीं, वह किसके पास अपनी शिकायत लेकर जाएं। भीख मांगकर विरोध करने वालों में उपेन्द्र मिश्रा, धनराज कुमार यादव, विवेक, विष्णु कुमार सिह, लवलेश सिंह शामिल रहे।

Sunday, January 3, 2021

त्रुटि सुधार को लेकर 69000 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी अब अनशन पर

त्रुटि सुधार को लेकर 69000 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी अब अनशन पर।


लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69 हजार शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से वंचित . रहने वाले अभ्यर्थियों ने शनिवार से निशातगंज में एससीईआरटी के पास जीआईसी के खेल मैदान में अनशन शुरू कर दिया। इस दौरान बस्ती की क्षमा शुक्ला बेहोश हो गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 




आवेदन में हुई गलतियों में सुधार का अबसर देने और नियुक्ति पत्र जारी करने की मांग को लेकर ये अभ्यर्थी सात दिसंबर से एससीआईआरटी पर प्रदर्शन कर रहे हैं। अनशन कर रहीं बबली पाल, सची, अल्का, नलिनी, शिवांगी, रुचि, रमण, विकास, अंकित आदि ने बताया कि पहले काफी संख्या में अभ्यर्थी पत्र से वंचित थे, लेकिन उन अध्यर्थियों को शासन ने अनुमति दे दी, प्राप्तांक कम भरें थे।


 अब ज्यादा प्राप्तांक भरने व अन्य गड़बड़ी वाले अभ्यर्थी अपने पक्ष में फैसले का इंतजार कर रहे हैं। इनकी संख्या लगभग 700 है। अभ्यर्थियों का कहना है कि नियुक्ति पत्र मिलने तक प्रदर्शन करते रहे हैं।

Thursday, December 31, 2020

त्रुटि सुधार की मांग को लेकर साल के आखिरी दिन भी डटे रहे 69000 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी


त्रुटि सुधार की मांग को लेकर साल के आखिरी दिन भी डटे रहे 69000 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थी


लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69000 शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से बंचित अभ्यर्थी मांगों को लेकर बृहस्पतिवार को भी एससीईआरटी कार्यालय पर डटे रहे। पिछले तीन दिन से वार्ता की आस लगाए अभ्यर्थियों को साल के अंतिम दिन निराशा ही हाथ लगी। अभ्यर्थियों ने बताया कि तीन दिन पहले प्रदर्शन के दौरान अधिकारियों से वार्ता हुई थी। तब




उन्होंने तीन दिन में मांगों को पूरा कराने का आश्वासन दिया था, लेकिन कोई अधिकारी वार्ता के लिए नहीं आय। वे अधिकारियों से मिलने का प्रयास करते रहे, लेकिन पुलिस बल की वजह से नहीं मिल फाए। अभ्यर्थियों ने कहा कि जब तक उनको लिखित आश्वासन नहीं मिलेगा, तब तक वे यहां से नहीं हटेंगे।


69000 शिक्षक भर्ती में त्रुटि सुधार का मौका देने को लेकर अभ्यर्थी कर रहे प्रदर्शन, तबीयत बिगड़ने पर भी धरना प्रदर्शन जारी

लखनऊ। परिषदीय विद्यालयों के 69 हजार शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से वंचित रहने वाले अभ्यर्थियों की प्रदर्शन के दौरान तबीयत बिगड़ने लगी है। बुधवार को शमा शुक्ला और सौरभ राय की तबीयत खराब होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। 


गौरतलब है कि ये अध्यर्थी त्रृटियों में सुधार का अबसर देने और नियुक्त पत्र जारी करने की मांग को लेकर सात दिसंबर से शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण राज्य परिषद ( एससीईआरटी ) पर प्रदर्शन कर रहे हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि जब तक शासन लिखित में आश्वासन नहीं देगा, तब तक प्रदर्शन खत्म नहीं करेंगे। प्रदर्शन करने वालों में ज्यादा प्राप्तांक भरने वाले, लिंग लिखने में त्रुटि वाले अभ्यर्थी शामिल हैं।

69000 भर्ती के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने अपनी मांगों के समर्थन में किया अर्धनग्न प्रदर्शन

69000 भर्ती के दिव्यांग अभ्यर्थियों ने अपनी मांगों के समर्थन में  किया अर्धनग्न प्रदर्शन


परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती को लेकर दिव्यांग अभ्यर्थियों का प्रदर्शन बुधवार को 17वें दिन बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर जारी रहा। प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए ये दिव्यांग अभ्यर्थियों ने अपनी मांगों के समर्थन में अर्धनग्न प्रदर्शन किया। 


अभ्यर्थियों का कहना है कि प्रदेश सरकार ने दिव्यांगजनों के लिए 4 प्रतिशत आरक्षण की अधिसूचना 2018 में जारी की थी लेकिन इस भर्ती में केवल 3 फीसदी आरक्षण दिया गया है। उच्च गुणांक वाले दिव्यांग अभ्यर्थी जिन्होंने सामान्य श्रेणी में चयनित अभ्यर्थियों के समतुल्य या उनसे अधिक गुणांक अर्जित किया है उन्हें भी दिव्यांग श्रेणी में ही चयनित माना गया है, जो गलत है। 


दृष्टिबाधित एवं श्रवणबाधित दिव्यांगजनों की बची हुई सीटों को चलन क्रिया बाधित अभ्यर्थियों से भरने की भी मांग कर रहे हैं। प्रदर्शन करने वालों में बृजेश कुमार मौर्य, महावीर सिंह, अमरजीत सिंह, मनोज भारद्वाज, मुद्रिका यादव, उपेन्द्र मिश्रा आदि रहे। गुरुवार को कैंडल मार्च निकालेंगे।

Wednesday, December 30, 2020

69000 शिक्षक भर्ती मामले में महीने भर में दूर नहीं हो सकी अभ्यर्थियों की परेशानी, धरना जारी-भूख हड़ताल की तैयारी

69000 शिक्षक भर्ती मामले में महीने भर में दूर नहीं हो सकी अभ्यर्थियों की परेशानी, धरना जारी-भूख हड़ताल की तैयारी।


 लखनऊ : 69 हजार शिक्षक भर्ती मामले में आंदोलित करीब 350 अभ्यर्थियों की परेशानी दूर नहीं हो रही है। अंकों की त्रुटिपूर्ण गणना को विभाग अब तक ठीक नहीं कर सका है। ऐसे में अभ्यर्थी और उनके परिवार के लोग एक माह से राजधानी में डटे हुए हैं। 


अभ्यर्थियों ने मंगलवार को भी प्रदर्शन किया। सात दिसंबर से अभ्यर्थी बेसिक शिक्षा निदेशालय पर धरना दे रहे हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि जब तक शासनादेश पारित नहीं हो जाता तब तक धरना जारी रखेंगे। अभी तक यह धरना शांतिपूर्ण चल रहा था, लेकिन अब हम भूख हड़ताल करेंगे।