DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label निरीक्षण. Show all posts
Showing posts with label निरीक्षण. Show all posts

Monday, March 1, 2021

यूपी: साल भर बाद स्कूल आये बच्चों से सीएम योगी ने की मुलाकात, चॉकलेट देकर पूछे सवाल

यूपी: साल भर बाद स्कूल आये बच्चों से सीएम योगी ने की मुलाकात, चॉकलेट देकर पूछे सवाल


कोरोना महामारी के कारण 11 महीने से भी ज्यादा समय तक बंद रहे प्रदेश के सभी प्राथमिक स्कूल सोमवार से खुल गए। इस दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है। स्कूलों में कक्षा की कुल क्षमता से 50 फीसदी बच्चों को ही बुलाया गया है।


सोमवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के नरही में एक प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया और बच्चों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने बच्चों को चॉकलेट्स दी और उनसे बातचीत की।


कक्षा में मुख्यमंत्री योगी ने एक बच्ची से पूछा, आपको स्कूल वापस आकर कैसा लग रहा है जिस पर बच्ची ने कहा कि अच्छा लग रहा है सर।

मुख्यमंत्री ने एक बच्ची को चॉकलेट दी और उसे आशीर्वाद दिया। उन्होंने कक्षा में मौजूद कई बच्चों से बातचीत की।

Saturday, February 13, 2021

मुख्यमंत्री योगी ने परिषदीय स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत शिक्षण व्यवस्था में सुधार और निरीक्षण के दिए निर्देश

मुख्यमंत्री योगी ने परिषदीय स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत शिक्षण व्यवस्था में सुधार और निरीक्षण के दिए निर्देश


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत शिक्षण व्यवस्था में सुधार और एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने पाठ्यक्रमों में भारतीय परिवेश और संस्कृति, प्रदेश की जानकारी तथा प्रेरक कहानियों और महापुरुषों के जीवन प्रसंगों को भी शामिल करने के लिए कहा है। अपने आवास पर शुक्रवार शाम आयोजित बेसिक शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि बेसिक शिक्षा का स्तर उत्कृष्ट होने से माध्यमिक व उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भी व्यापक सुधार होंगे।



मुख्यमंत्री ने बेसिक शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए शिक्षा व्यवस्था में व्यापक सुधार तथा बच्चों में आधारभूत लर्निंग कौशल पर केंद्रित  कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्कूलों का संचालन कोविड-19 प्रोटोकॉल व एसओपी के अनुसार किया जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि विभाग के मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी समय समय पर बेसिक शिक्षा कार्यालयों का निरीक्षण करें। कार्यालयों में स्वच्छता सहित कार्य संस्कृति को बेहतर किए जाने के उपाय करें। उन्होंने बेसिक शिक्षा के विद्यालयों में निःशुल्क पाठ्यपुस्तकों, स्कूल बैग, यूनिफार्म, स्वेटर, जूते-मोजे का वितरण गुणवत्ता के साथ समयबद्ध करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाओं में वृद्धि के साथ फर्नीचर की गुणवत्ता सुनिश्चित की जाए।

Friday, February 5, 2021

हाथरस : डीएम द्वारा BSA, DIET, DIOS कार्यालय के औचक निरीक्षण सम्बन्धी प्रेस विज्ञप्ति जारी, देखें

हाथरस : डीएम द्वारा BSA, DIET, DIOS कार्यालय के औचक निरीक्षण सम्बन्धी प्रेस विज्ञप्ति जारी, देखें








Tuesday, February 2, 2021

बीईओ की रेंडम चेकिंग पर लगाम, विभाग से तय विद्यालयों का करना होगा निरीक्षण

बीईओ की रेंडम चेकिंग पर लगाम, विभाग से तय विद्यालयों का करना होगा निरीक्षण


सुल्तानपुर : परिषदीय प्राथमिक, उच्च प्राथमिक तथा कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों का औचक निरीक्षण अब । खंड शिक्षाधिकारी नहीं कर सकेंगे। राज्य स्तर से विभागीय अधिकारियों की = ओर से उन्हें स्कूलों का नाम दिया । जाएगा। उसी दिन बीईओ को औचक निरीक्षण कर जांच रिपोर्ट देनी होगी। राज्य परियोजना निदेशक व स्कूली शिक्षा महानिदेशक विजयकिरन आनंद नेइस आशय का आदेश जारी किया है।


शिक्षा विभाग में ज्यादा सख्ती : डीजी स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने जारी आदेश में स्कूलों के निरीक्षण के मानक तय किया है। अब प्रार्थना पत्र देकर स्कूल से अवकाश मान लेने से काम नहीं चलेगा। सीएल विवरण नम्बर देना होगा। निरीक्षण के समय अनुपस्थित शिक्षकों को दो भागों में बांटे जाने का फरमान जारी किया है। इसमें निरीक्षण के समय स्कूलों से अवकाश प्राप्त अनुपस्थित शिक्षकों के बारे में निर्धारित प्रोफार्मा वाले कालम में शिक्षक के अवकाश के बारे में व्योरा लिखा जाएगा। इसमें अवकाश का रिफ्रेन्स नम्बर अंकित किया जाएगा।


इसके अलावा निरीक्षण के समय बिना अवकाश प्राप्त किए तथा बिना सूचना के स्कूल से अनुपस्थित मिलने वाले शिक्षकों का कालम अलग होगा। इस कालम में ईएचआरएमएस आईडी अंकित किया जाएगा। ताकि सम्बंधित के जिले के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के लॉगिन स्तर पर ऐसे अनुपस्थित शिक्षकों के नाम ईएचआरएमएस आईडी, विद्यालय, ब्लॉक आदि की सूची दिन के अनुपस्थित शिक्षकों जिनपर कार्यवाही की जानी है। इस लिंक पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय स्तर पर लॉगिन पर उपलब्ध होगी।


बीईओ पर धनउगाही का लगता था आरोपः शासन व जिला प्रशासन की ओर से समय-समय पर परिषदीय विद्यालयों की शिक्षा व्यवस्था को ठीक रखने तथा शिक्षकों की स्कूलों में उपस्थिति आदि को दुरुस्त करने के लिए खण्ड शिक्षाधिकारियों की ओर से स्कूलों की जांच की जाती रही है।


ऐसे मामलों में बीईओ निरीक्षण कर जांच तो कर लेते थे, लेकिन कार्रवाई करने का डर दिखाकर शिक्षकों से उगाही करते थे । इस तरह के कई आरोप लग चुके हैं। कुछ स्कूलों की जांच बीईओ खुद अपनी ओर से कर लेते थे। शासन पर इसको लेकर काफी समय से मंथन चल रहा था। राज्य परियोजना निदेशक विजय किरन आनंद की ओर से जारी आदेश के बाद बीईओ की मनमानी चेकिंग पर रोक लग जाएगी। हालांकि शिक्षकों को भी अब गलत अवकाश प्राप्त करने में काफी कठिनाई होगी इसके बाद भी और सख्ती की तैयारी चल रही है।


बेसिक शिक्षा विभाग में अधिकारियों और कर्मचारियों को अनुशासन और समय पालन के कड़े निर्देश दिए गए हैं। शासन स्तर से शिक्षकों के काम की निगरानी का तंत्र विकसित किया जा रहा है। ऐसा माना जारहा है प्रदेश की बदनाम प्राथमिक शिक्षा पटरी पर फिर लौटेगी।


Thursday, January 7, 2021

बांदा : बीएसए ने दी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नसीहत, ARP के जरिये निरीक्षण की प्रवृत्ति पर रोक लगाने का दिया आदेश

बांदा :  बीएसए ने दी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को नसीहत, ARP के जरिये निरीक्षण की प्रवृत्ति पर रोक लगाने का दिया आदेश। 


Sunday, December 27, 2020

परिषदीय विद्यालयों में टेबलेट वितरण हेतु कार्यवाही तेज़, निर्धारित विद्यालयों में डेमो/परीक्षण हेतु महानिदेशक स्कूल शिक्षा का आदेश जारी

परिषदीय विद्यालयों में टेबलेट वितरण हेतु कार्यवाही तेज़, निर्धारित विद्यालयों में डेमो/परीक्षण हेतु महानिदेशक स्कूल शिक्षा का आदेश जारी।

उपस्थिति पर शिकंजा कसने की तैयारी शुरू, चुनिन्दा विद्यालयों में 15 दिनों तक टेबलेट का परीक्षण शुरू।


 नए साल में परिषदीय विद्यालयों पर शिकंजा कसने की तैयारी शुरू हो गई है। विभाग द्वारा विद्यालयों को टेबलेट देने की घोषणा अब मूर्त रूप लेने जा रही है। प्रायोगिक तौर पर राजधानी लखनऊ के चुनिन्दा विद्यालयों में 31 दिसम्बर से 15 दिनों तक टेबलेट का परीक्षण किया जाएगा। परीक्षण सफल रहा तो नए साल पर प्रदेश के अन्य जनपदों में भी टेबलेट वितरित किया जाएगा।


परिषदीय विद्यालयों के कार्यो को डिजिटल करने एवं शिक्षकों पर ऩजर रखने के लिए विभाग ने पहले स्मार्ट फोन को हथियार बनाने की रणनीति तैयार की थी। प्रेरणा पोर्टल पर सभी सूचनाएं उपलब्ध कराने एवं सेल्फि के माध्यम से शिक्षकों की उपस्थिति की सुगबुगाहट हुई तो शिक्षकों ने कड़ा विरोध शुरू कर दिया। शिक्षकों के मुखर विरोध से बेसिक शिक्षा विभाग बैकफुट पर आ गया। शिक्षकों का तर्क था कि सभी शिक्षकों के पास स्मार्ट फोन नहीं है और न ही वे इण्टरनेट का उपयोग करते है। इसके बाद विभाग ने समस्त विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों को टेबलेट देने की महत्वाकांक्षी योजना पर अमल शुरू किया। 


कोरोना काल में टेबलेट के लिए टेण्डर आमन्त्रित किए गए थे, किन्तु कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थिति में अधिकांश कम्पनि ने टेण्डर ही नहीं डाले। इसके बाद दोबारा टेण्डर निकाले गए। इस बार कई कंपनियों ने टेबलेट की आपूर्ति करने में रुचि दिखाई। महानिदेशक (स्कूल शिक्षा) विजय किरण आनन्द द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि 3 कंपनियों द्वारा लखनऊ के 15 परिषदीय विद्यालयों में 31 दिसम्बर से टेबलेट का डेमो/परीक्षण प्रारम्भ किया जा रहा है। 


यह परीक्षण 16 जनवरी 2021 तक होगा। गौरतलब है कि परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों के बारे में सबसे बड़ी शिकायत यही है कि वे समय से विद्यालयों में उपस्थित नहीं होते है। अधिकारियों के निरीक्षण में भी कई बार शिक्षक बिना किसी सूचना के विद्यालय से गायब मिलते है। सूत्रों का कहना है कि टेबलेट आने से शिक्षक विद्यालयों में समय से एवं नियमित उपस्थित रहेगे। विभाग द्वारा ऑपरेशन कायाकल्प के माध्यम से परिषदीय विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए भी अभियान चलाया जा रहा है, जिससे परिषदीय विद्यालयों की सूरत निखर रही है।





Saturday, December 26, 2020

चित्रकूट मण्डल : बिना स्पष्टीकरण वेतन रोकने एवं ऑफ़लाइन निरीक्षण आख्या पर कार्यवाही सम्बन्धी प्रा0शि0संघ के शिकायती पत्र पर आवश्यक कार्यवाही हेतु एडी (बेसिक) का आदेश

चित्रकूट मण्डल : बिना स्पष्टीकरण वेतन रोकने एवं ऑफ़लाइन निरीक्षण आख्या पर कार्यवाही सम्बन्धी प्रा0शि0संघ के शिकायती पत्र पर आवश्यक कार्यवाही हेतु एडी (बेसिक) का आदेश


 

Saturday, December 12, 2020

परिषदीय स्कूलों में नहीं हो पा रहा सपोर्टिव सुपरविजन

परिषदीय स्कूलों में नहीं हो पा रहा सपोर्टिव सुपरविजन

41,070 स्कूल ऐसे हैं जिनमें अक्टूबर-नवंबर माह में अभी तक एक भी दौरा नहीं हुआ


प्रयागराज। परिषदीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक स्कूलों में अध्ययनरत सभी छात्र-छात्राओं को मिशन प्रेरक्षा के तहत गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के मकसद से हर महीने शत - प्रतिशत स्कूलों के निरीक्षण के निर्देश दिए गए हैं । लेकिन प्रदेशभर के लगभग 41,070 स्कूल ऐसे हैं जिनमें अक्टूबर-नवंबर माह में अभी तक एक भी दौरा नहीं हुआ है।


 प्रयागराज में अक्तूबर में 1702 जबकि नवंबर में 457 ऐसे स्कूल थे जहां कोई नहीं पहुंचा। इसे गंभीरता से लेते हुए महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय किरन आनंद ने सभी बीएसए को शत-प्रतिशत स्कूलों के निरीक्षण का आदेश दिया है। एकेडमिक रिसोर्स पर्सन, स्टेट रिसोर्स ग्रुप सदस्य और डायट मेंटर को निरीक्षण की जिम्मेदारी दी गई है।


प्रयागराज : प्रेरणा गुणांक माडयूल के तहत सभी एकेडमिक रिसोर्स पर्सन (एआरपी), स्टेट रिसोर्स ग्रुप (एसआरजी) व डायट मेंटर को परिषदीय स्कूलों में सपोर्टवि सुपरविजन विजिट का निर्देश है। मानव संपदा पोर्टल के विश्लेषण से पता चला है कि प्रदेश के 41070 स्कूलों में अक्टूबर व नवंबर में विजिट हुई ही नहीं। 


महानिदेशक स्कूल शिक्षा एवं राज्य परियोजना निदेशक ने सभी जिलों के बीएसए को निर्देशित किया है कि सपोर्टिव सुपरविजन सभी स्कूलों में किया जाए।


 बेसिक शिक्षाधिकारी संजय कुशवाहा ने बताया कि प्रयागराज में सभी स्कूलों में सपोर्टिव सुपरविजन कराया जा रहा है। अक्टूबर और नवंबर में त्यौहारों के कारण कुछ व्यवधान हुआ। यही वजह है कि नवंबर में 457 स्कूल ऐसे रहे जिनमें सपोर्टिव सुपरविजन नहीं हो सका। सभी एआरपी, एसआरजजी व मेंटर्स को नियमित रूप से स्कूलों की विजिट के लिए निर्देशित कर दिया गया है। इसकी निगरानी मै स्वयं कर रहा हूं। बीईओ से भी इस मामले में बराबर बात की जा रही है।

Monday, October 19, 2020

माध्यमिक स्कूलों का निरीक्षण करेंगे विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, देखें जनपदवार ड्यूटी आदेश

माध्यमिक स्कूलों का निरीक्षण करेंगे विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, देखें जनपदवार ड्यूटी आदेश

 
तकरीबन सात महीने बाद 19 अक्तूबर से कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों के लिए खुलने जा रहे स्कूलों में दिशा-निर्देशों के अनुपालन की जांच वरिष्ठ अधिकारी करेंगे। शासन ने 35 अधिकारियों की ड्यूटी लगाई है जिनमें प्रयागराज के भी कई अफसर शामिल हैं।


अपर निदेशक माध्यमिक डॉ. महेन्द्र देव प्रयागराज के स्कूलों की जांच करेंगे। अपर निदेशक राजकीय डॉ. अंजना गोयल अलीगढ़, सचिव यूपी बोर्ड दिव्यकांत शुक्ल चित्रकूट, यूपी बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय प्रयागराज के अपर सचिव एसपी द्विवेदी को प्रतापगढ़ की जिम्मेदारी दी गई है।

Thursday, September 24, 2020

कब खुलेंगे बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूल? जानिए क्या कहा, बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री ने

कब खुलेंगे बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूल? बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री ने यह बतलाया।


गोरखपुर आए बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री सतीश द्विवेदी ने बेसिक शिक्षा, एडी बेसिक कार्यालय, डायट परिसर और कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया। दोपहर 12 बजे गोरखपुर पहुंचे श्री द्विवेदी ने सबसे पहले बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान यहां बिना सूचना परियोजना अधिकारी रंजना गुप्ता और लिपिक कामिनी सिंह अनुपस्थित मिलीं। दोनों के अनुपस्थित मिलने पर श्री द्विवेदी ने दोनों का एक-एक दिन का वेतन रोकने का निर्देश दिया।  


निरीक्षण के बाद डा. सतीश द्विवेदी ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए परिषदीय स्कूलों को खोलने का निर्णय हालात की समीक्षा के बाद होगा। केंद्र की गाइडलाइन का पालन होगा। प्रदेश में उच्च व माध्यमिक विद्यालयों के खुलने के बाद सबसे आखिरी में परिषदीय विद्यालयों को पठ्न-पाठन के लिए खोला जाएगा। 


बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डा. सतीश द्विवेदी बुधवार को भाजपा की बैठक में हिस्सा लेने महानगर पहुंचे थे। सर्किट हाउस में मौजूद बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने दोपहर में अचानक विभागीय कार्यालयों का निरीक्षण करने का निर्णय लिया। इसको लेकर अफसरों में हड़कंप मच गया। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने बीएसए कार्यालय का निरीक्षण किया। बीएसए बीएन सिंह मुकदमे की पैरवी के लिए इलाहाबाद गए हुए थे। यहां जिला समन्वयक विवेक जायसवाल व दीपक पटेल से डा. द्विवेदी ने विभागीय काम-काज की जानकारी ली। उन्होंने हर पटल पर पहुंचकर कर्मचारियों से बात की। उन्होंने मिड डे मील और कायाकल्प समेत विभिन्न योजनाओं के बारे में पूछा। बीएसए कार्यालय की छत का निरीक्षण करते हुए उसकी जर्जर स्थिति देखते हुए उन्होंने इसकी मरम्मत के लिए प्रस्ताव भेजने को कहा। बेसिक शिक्षा विभाग कार्यालय के सामने जलभराव को लेकर मंत्री ने कहा कि इसका शीघ्र समाधान कराया जाएगा। निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित परियोजनाधिकारी रंजना गुप्ता व लिपिक कामिनी सिंह के अनुपस्थित मिलने पर उन्होंने उनका वेतन रोकने का निर्देश दिया। 


निजी कालेजों में ऑनलाइन पढ़ाई पर जोर दिया जाए
बेसिक शिक्षा मंत्री ने डॉयट का निरीक्षण करते हुए वरिष्ठ व हालिया नियुक्त प्रवक्ताओं से शैक्षिक गतिविधियों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि डॉयट के अलावा निजी कालेजों में भी ऑनलाइन पढ़ाई पर जोर दिया जाना चाहिए। उन्होंने डॉयट परिसर में कोविड-19 हेल्प डेस्क की सराहना की। मंत्री ने वहां अपना ऑक्सीजन लेवल भी चेक किया। 


कस्तूरबा विद्यालय खोराबार के भवन की मरम्मत कराई जाएगी

बेसिक शिक्षा मंत्री ने नार्मल परिसर स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय खोराबार के भवन की जर्जर स्थिति पर चिंता जताई। निरीक्षण के दौरान छत से पानी टपक रहा था। कमरे में सीलन लगा था। उन्होंने इस संबंध में भवन की मरम्मत के बारे में पूछा। वार्डन नीतू श्रीवास्तव ने बताया कि भवन की मरम्मत के लिए दो वर्ष पूर्व शासन को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने प्रस्ताव पर शीघ्र निर्णय लेने की बात कही। निरीक्षण के दौरान सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक सत्यप्रकाश त्रिपाठी, प्रभारी प्राचार्य डॉयट व जिला विद्यालय निरीक्षक ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह भदौरिया, बेसिक शिक्षा विभाग के जिला समन्वयक विवेक जायसवाल व दीपक पटेल व सहायक वित्त लेखाधिकारी एसके श्रीवास्तव मौजूद थे। 

कस्तूरबा के हटाए गए शिक्षक मिले, लगाई न्याय की गुहार

हाल ही में कस्तूरबा से हटाई गईं उर्दू की शिक्षिकाएं और सामान्य विषयों के पुरुष शिक्षकों ने सतीश द्विवेदी से मिलकर न्याय की गुहार लगाई। शिक्षिकाओं का कहना था कि वे बीते सात साल से पढ़ा रही हैं। अब अचानक से उन्हें निकाल दिया गया। ऐसे सूरत में वह कहां जाएं। शिक्षकों की बात सुनकर शिक्षा मंत्री ने लखनऊ जाकर इस सम्बंध में बात कर कोई रास्ता निकालने का आश्वासन दिया।

फतेहपुर : अब बीईओ को हर माह करने होंगे 40 विद्यालयों के निरीक्षण

फतेहपुर : अब बीईओ को हर माह करने होंगे 40 विद्यालयों के निरीक्षण।

फतेहपुर : कोरोना संक्रमण काल में भले ही परिषदीय विद्यालय बंद चल रहे हों लेकिन बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा देने के लिए शासन के निर्देशों पर विभागीय कवायद जारी है। आनलाइन शिक्षा समेत विद्यालयों में चल रही अन्य योजनाओं के सही क्रियान्वयन के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को भी जिम्मेदारी दी गई है। प्रत्येक बीईओ को हर माह कम से कम 40 विद्यालयों का निरीक्षण कर रिपोर्ट सौंपे जाने की जिम्मेदारी तय की गई है। 


अब बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से संचालित विभिन्न योजनाओं में खंड शिक्षा अधिकारियों का उत्तरदायित्व और बढ़ा दिया गया है क्योंकि योजनाओं में खास प्रगति नहीं नजर आ रही है । ऐसे में सभी बीईओ को महीने में 40 स्कूलों के निरीक्षण की जिम्मेदारी दी गई है। शिक्षकों के शैक्षणिक कार्यों की गुणवत्ता पर भी उन्हें नजर रखनी होगी। ऑनलाइन पठन पाठन को और दुररस्त रखने का प्रयास होगा। कोरोना के चलते मार्च से

परिषदीय स्कूल के अलावा अन्य शिक्षण संस्थान बंद है। परिषदीय स्कूलों के बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है। मगर उसकी गुणवत्ता मजबूत नहीं है। संसाधनों के अभाव में बच्चे भी शिक्षा की मुख्य धुरी से दूर हैं।


शिक्षा के लिए तलाशे जा रहे विकल्प

बेसिक शिक्षा विभाग क ओर से सीमित संख्या में बच्चों के अभिभावकों को स्कूल बुलाने और पाठ्य सामग्री को घर तक पहुंचाने जैसे विकल्प भी तलाशने के प्रयास शुरू किए गए हैं। बीईओ को निर्देश दिए गए हैं कि 40 स्कूलों का निरीक्षण करना शुरू करें। स्कूली शिक्षा महानिदेशक की ओर से भी इसको लेकर निर्देश दिए गए हैं। बीईओ बेसिक शिक्षा विभाग में संचालित विभिन्न योजनाओं पर नजर रखेंगे।

बीईओ को हर महीने 40 स्कूलों का निरीक्षण करना होगा विभिन्न बिंदुओं की गम्भीरता से क्रियान्वयन के लिए ऐसा किया जा रहा है। खंड शिक्षा अधिकारियों के अलावा स्वयं और जिला समन्वयक भी समय समय पर निरीक्षण करेंगे। जिससे विद्यालयों के आनलाइन शिक्षा से दूर बच्चों को भी शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ा जा सके।-शिवेंद्र प्रताप सिंह, बीएसए

Wednesday, September 2, 2020

प्रतापगढ़ : सीडीओ के निरीक्षण में गायब मिले बीएसए व लेखाधिकारी, पौने ग्यारह बजे तक डीसी और कर्मचारी कार्यालय से थे नदारद, स्पष्टीकरण तलब

प्रतापगढ़ : सीडीओ के निरीक्षण में गायब मिले बीएसए व लेखाधिकारी, पौने ग्यारह बजे तक डीसी और कर्मचारी कार्यालय से थे नदारद, स्पष्टीकरण तलब।

प्रतापगढ़। डीएम के आदेश पर सीडीओ अश्विनी कुमार पांडेय मंगलवार को सुबह पौने ग्यारह बजे बीएसए कार्यालय का निरीक्षण करने पहुंच गए। इस दौरान बीएसए, लेखाधिकारी, जिला समन्वयक समेत आधा दर्जन कर्मचारी गायब रहे। सीडीओ ने उपस्थिति रजिस्टर को जब्त करते हुए गायब अफसरों और कर्मचारियों से तीन दिन में स्पष्टीकरण तलब किया है।




डीएम डॉ. रुपेश कुमार ने दो दिन पहले अफसरों से कार्यालय में मौजूद रहकर समस्याओं का निस्तारण करने को कहा था। मंगलवार को सीडीओ पौने ग्यारह बजे बीएसए कार्यालय निरीक्षण करने पहुंच गए। माह का पहला दिन होने के कारण उपस्थिति रजिस्टर पर नाम ही नहीं लिखा गया था। एसडीएम के पहुंचने पर कर्मचारी रजिस्टर नाम लिखने के साथ ही दस्तखत बनाने लगे। यह देखकर सीडीओ ने नाराजगी जताई और रजिस्टर को अपने कब्जे में ले लिया। हालांकि, दोपहर बाद रजिस्टर बीएसए कार्यालय को लौटा दिया गया। सीडीओ के निरीक्षण में बीएसए अशोक कुमार सिंह, जिलाधिकारी उमेश सिंह,

डीसी अजय प्रकाश दूबे, डीसी श्रीकृष्ण विश्वकर्मा और आधा दर्जन कर्मचारी से अधिक कर्मचारी गायब मिले। सभी से तीन दिन के अंदर स्पष्टीकरण तलब किया है। सीडीओ ने बीएसए के स्टेनो हरिओंकारबख्श सिंह की क्लास ली और बीआरसी को भेजी गई पुस्तकों का स्टॉक बुक में अंकन नहीं होने पर फटकार लगाई।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, March 6, 2020

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनांतर्गत विकास खण्ड स्तरीय टास्क फोर्स की प्रतिमाह बैठक एवं प्रेरणा एप के माध्यम से सम्बन्धित सभी सदस्यों द्वारा 05-05 विद्यालयों का निरीक्षण डाउनलोड करने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनांतर्गत विकास खण्ड स्तरीय टास्क फोर्स की प्रतिमाह बैठक एवं प्रेरणा एप के माध्यम से सम्बन्धित सभी सदस्यों द्वारा 05-05 विद्यालयों का निरीक्षण डाउनलोड करने के सम्बन्ध में।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, December 29, 2019

महराजगंज : प्रेरणा इन्स्पेक्शन एप से स्कूलों का निरीक्षण करेगी जिला एवं ब्लॉक स्तरीय टास्क फोर्स की टीम, स्कूल खुलते ही विभिन्न बिन्दुओं पर शुरू होगी जांच

महराजगंज : प्रेरणा इन्स्पेक्शन एप से स्कूलों का निरीक्षण करेगी टास्क फोर्स की टीम, जिला स्तरीय एवं ब्लॉक स्तरीय टास्क फोर्स का हुआ गठन।

Sunday, December 22, 2019

महराजगंज : चार पहिया वाहन से विद्यालयों का निरीक्षण व पर्यवेक्षण करेंगे खण्ड शिक्षा अधिकारी, किराये के वाहन हेतु ई-टेण्डर विज्ञप्ति जारी

महराजगंज : चार पहिया वाहन से विद्यालयों का निरीक्षण व पर्यवेक्षण करेंगे खण्ड शिक्षा अधिकारी, किराये के वाहन हेतु ई-टेण्डर विज्ञप्ति जारी।


Saturday, December 21, 2019

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन गुणवत्ता जांचने को गठित हुई आठ सदस्यीय टास्कफोर्स, प्रेरणा एप से भेजेंगे निरीक्षण की रिपोर्ट

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन गुणवत्ता जांचने को गठित हुई आठ सदस्यीय टास्कफोर्स, प्रेरणा एप से भेजेंगे निरीक्षण की रिपोर्ट।










 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, December 16, 2019

एटा : कार्यालय में बैठ रहे बीईओ, नहीं किया निरीक्षण, निदेशक ने जताई नाराजगी, डीएम को लिखा पत्र

एटा : कार्यालय में बैठ रहे बीईओ, नहीं किया निरीक्षण, निदेशक ने जताई नाराजगी, डीएम को लिखा पत्र।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, December 15, 2019

मैनपुरी : प्रेरणा एप पर निरीक्षण के लक्ष्य पूरे नहीं कर रहे अधिकारी, बीएसए को जारी की गई चेतावनी, दिसम्बर में पूरा करें लक्ष्य

मैनपुरी : प्रेरणा एप पर निरीक्षण के लक्ष्य पूरे नहीं कर रहे अधिकारी, बीएसए को जारी की गई चेतावनी, दिसम्बर में पूरा करें लक्ष्य।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Saturday, November 2, 2019

फतेहपुर : बीएसए के निरीक्षण में पढ़ाई- लिखाई की खुली पोल, तीन स्कूलों के शिक्षकों पर हुई कार्रवाई

फतेहपुर : बीएसए के निरीक्षण में पढ़ाई- लिखाई की खुली पोल, तीन स्कूलों के शिक्षकों पर हुई कार्रवाई।



निरीक्षण में गायब मिले शिक्षक

  • November 02, 2019

जागरण संवाददाता, फतेहपुर: परिषदीय स्कूलों में सुविधाएं और सेवाओं का जायजा लेने के लिए बीएसए ने खुद कमान संभाली और मानव संपदा के जरिए ऑनलाइन अवकाश सिस्टम को जांचने के लिए टीमों को रवाना किया। स्कूलों में पढ़ाई का स्तर जांचने के लिए बच्चों ने प्रश्न पूछे तो गणित के प्रश्न ब्लैक बोर्ड पर हल करवाए। बीएसए के निरीक्षण में निकलने की सूचना जैसे ही शिक्षकों तक पहुंची तो अधिकांश अपने अपने स्कूलों में पूरी तरह से मुस्तैद हो गए। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि उन्होंने खुद विद्यालय जांचे हैं और ऑनलाइन अवकाश जांचने के टीमें भेजी हैं। देरशाम तक टीमें रिपोर्ट देंगी इसके बाद आदेश के अनुपालन की स्थिति साफ हो पाएगी।

निरीक्षण-एक: बीएसए और एमडीएम के जिला समन्वयक आशीष दीक्षित सबसे पहले कंपोजिट मुराइन टोला पहुंचे। स्कूल में अध्यापक उपस्थित रहे तो शिक्षामित्र बिना सूचना के गायब मिले। तहरी में मानक के अनुसार सोयाबीन व अन्य सब्जियों का अभाव पाया। पुस्तकालय में किताबों की सूची नहीं मिली, खेल किट भी नहीं उपलब्ध थी। छात्रों में जूतों का अभी तक वितरण न होने की बात भी सामने आई। इस सब पर उन्होंने प्रधानाध्यापिका का एक दिन का वेतन रोकने के आदेश दिए।

निरीक्षण-दो: कंपोजिट विद्यालय पुलिस लाइन में प्रधानाध्यापक गैर हाजिर पाए गए। दोपहर 12:45 तक छात्र उपस्थिति दर्ज नहीं की गई थी। एमडीएम की पंजिका अपूर्ण मिली। पूरे स्टाफ से एक सप्ताह के अंदर स्पष्टीकरण मांगा गया और प्रधानाध्यापक से जवाब तलब किया गया।

निरीक्षण-तीन: प्राथमिक विद्यालय त्रिलोकीपुर के निरीक्षण में सभी अध्यापक उपस्थित पाए तो एमडीएम मेन्यू के अनुसार ठीक पाया। शौचालय और हैंडपंप की दशा अच्छी होने पर संतोष जाहिर किया।

निरीक्षण-चार : उच्च प्राथमिक विद्यालय त्रिलोकीपुर के निरीक्षण में सभी अध्यापक उपस्थित पाए गए तो मिड डे मील मेन्यू के अनुसार मिला। छात्र संख्या कम पाए जाने पर स्टाफ को जमकर फटकार लगाई। पूरे स्टाफ को एक सप्ताह के अंदर स्पष्टीकरण देने के आदेश दिए।

कंपोजिट विद्यालय मुराईन टोला का निरीक्षण करते बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह’ जागरण









 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।




Friday, October 18, 2019

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनांतर्गत विकासखण्ड स्तरीय टास्क फोर्स की प्रतिमाह बैठक एवं निरीक्षण हेतु टीम का हुआ गठन, देखें

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनांतर्गत विकासखण्ड स्तरीय टास्क फोर्स की प्रतिमाह बैठक एवं निरीक्षण हेतु टीम का हुआ गठन, देखें।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।