DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label नोटिस. Show all posts
Showing posts with label नोटिस. Show all posts

Saturday, March 6, 2021

बेसिक शिक्षा परिषद में विजिलेंस के जरिये जांच की तैयारी में यूपी सरकार, जानिए कार्रवाई को लेकर क्या बन रहा प्लान

बेसिक शिक्षा परिषद का पूरा स्टाफ होगा सतर्कता जांच के दायरे में, जांच में सहयोग न करने पर सचिव को भी कारण बताओ नोटिस जारी

बेसिक शिक्षा परिषद में विजिलेंस के जरिये जांच की तैयारी में यूपी सरकार, जानिए कार्रवाई को लेकर क्या बन रहा प्लान


लखनऊ : लगभग नौ वर्षों तक बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव रहे संजय सिन्हा और उनके कार्यालय के स्टाफ की विजिलेंस जांच के बहाने प्रदेश सरकार बेसिक शिक्षा विभाग में एक और बड़े ‘आपरेशन’ को अंजाम देने जा रही है। प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ा रहे फर्जी शिक्षकों का फंडाफोड़ होने के बाद अब तबादलों, मृतक आश्रित कोटे में हुई नियुक्तियों, नियम विरुद्ध प्रोन्नतियों और बर्खास्त शिक्षकों की बहाली का मामला खुलने वाला है। इस बार जांच की कमान एसटीएफ के बजाए सतर्कता अधिष्ठान (विजिलेंस) के हाथ में होगी। 


निदेशक साक्षरता, वैकल्पिक शिक्षा, उर्दू एवं प्राच्य भाषाएं के पद से शुक्रवार को निलंबित किए गए संजय सिन्हा पर विजिलेंस जांच का शिकंजा तब कसने जा रहा है जब वह सेवानिवृत्ति के करीब हैं। इसी तरह पूर्व में निदेशक माध्यमिक शिक्षा के पद पर रहे संजय मोहन को अपने सेवाकाल के अंतिम दिनों में जेल तक जाना पड़ गया था। उस समय वह टीईटी घोटाले में फंसे थे। अपने विभाग खासकर बेसिक शिक्षा परिषद में संजय सिन्हा का रुतबा तब भी बरकरार था, जब वहां से हटा दिए गए थे। 


उनके विरुद्ध शिकायतों की जांच कर रहे महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद को कदम-कदम पर बाधाओं का सामना करना पड़ा। परिषद के कर्मचारियों के असहयोग के कारण पत्रावलियां ही नहीं मिल पाती थीं। अंतत: एक साल से भी ज्यादा समय में उनकी जांच पूरी हो पाई, जिसमें प्रारंभिक तौर पर कई गंभीर आरोपों की पुष्टि हुई। 


सचिव से ले आते थे तबादला आदेश 
एक समय ऐसा था जब जिलों में शिक्षकों के तबादले सचिव बेसिक शिक्षा परिषद के आदेश से हुआ करते थे। शिक्षक परिषद के सचिव से आदेश कराकर लाते थे और बीएसए उसी आदेश का हवाला देते हुए एक स्कूल से दूसरे स्कूल में तबादला कर देते थे। बड़ी संख्या में ऐसे तबादले मध्य सत्र में किए गए हैं। अब विजिलेंस की जांच ऐसे तबादलों के बदले वसूली के आरोपों पर केंद्रित होगी।


इसी तरह शासन की अनुमति के बगैर मृतक आश्रित कोटे में की गई नियुक्तियों, बीएसए द्वारा बर्खास्त शिक्षकों की बहाली के आदेशों और पद रिक्त न होते हुए भी दी गई प्रोन्नतियों से संबंधित सभी मामले जांच के दायरे में होंगे। जांच का यह दायरा प्रदेश के दर्जन भर से ज्यादा जिलों तक बढ़ने की संभावना है। इससे पहले एसटीएफ की जांच में फर्जी शिक्षकों के पकड़े जाने के बाद विभाग ने जब मानव संपदा पोर्टल पर सूचनाएं अपलोड करानी शुरू की तो बड़ी संख्या में फर्जी शिक्षकों के कार्यरत होने का मामला सामने आया था।


संजय सिन्हा के साथ ही बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव कार्यालय के सभी पटल सहायकों के विरुद्ध भी सतर्कता जांच कराई जाएगी। बेसिक शिक्षा परिषद के वर्तमान सचिव प्रताप सिंह बघेल को जांच में सहयोग न करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

12वीं कक्षा के इतिहास की किताब में मुगलों के महिमामंडन पर NCERT को लीगल नोटिस जारी

12वीं कक्षा के इतिहास की किताब में मुगलों के महिमामंडन  पर NCERT को लीगल नोटिस जारी


NCERT की 12वीं कक्षा की इतिहास की किताबों (Book) में मुगलों की तारीफ को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं. एक समाजसेवी ने लीगल नोटिस(Legal notice) भेजकर इन कथित तथ्यहीन बातों को हटाने की मांग की है.


एनसीआरटीई की 12वीं की इतिहास के किताब में औरंगजेब का महिमा मंडन करने पर बवाल हो रहा है.


जयपुर. एनसीईआरटी (NCERT) की 12वीं कक्षा की इतिहास की किताब में मुगल शासकों का महिमामंडन करने पर बवाल शुरू हो गया है. राजस्थान के एक समाजसेवी दपिंदर सिंह ने एनसीईआरटी (NCERT) को लीगल नोटिस भेजा है. इस नोटिस में मुगलों की तारीफ में लिखी गईं भ्रामक बातों को हटाने की मांग की गई है. दपिंदर ने इस संबंध में NCERT को एक RTI भी भेजी थी जिस पर संस्था की तरफ से संतुष्ट करने वाला जवाब नहीं दिया गया.


दपिंदर के मुताबिक NCERT की 12वीं की इतिहास की पुस्तक 'थीम्स इन इंडियन हिस्ट्री पार्टी- 2' के पेज नंबर 234 में पर लिखा है मुगल बादशाहों ने युद्ध के दौरान हिंदू मंदिरों को ढहा दिया था. इसमें आगे लिखा है कि युद्ध खत्म होने के बाद मुगल बादशाहों, शाहजहां और औरंगजेब ने मंदिरों को फिर से बनाने के लिए ग्रांट जारी की थी. दपिंदर ने इन तथ्यों को वेरीफाई करने के लिए एक RTI डालकर NCERT से जवाब मांगा था. हालांकि इस RTI के जवाब में हेड ऑफ डिपार्टमेंट प्रो. गौरी श्रीवास्तव और पब्लिक इन्फोर्मेंशन डिपार्टमेंट ने फाइलों में इससे संबंधित कोई भी सूचना न होने का जवाब भेज दिया है.


एनसीईआरटी को भेजा लीगल नोटिस
इसके बाद समाजसेवी दपिंदर सिंह और उनके साथी संजीव विकल ने दिल्ली हाईकोर्ट के वकील कनक चौधरी के जरिए NCERT को लीगल नोटिस भेजकर किताब से ये भ्रामक तथ्य हटाने की मांग की है. दपिंदर सिंह का कहना है कि ऐसा लग रहा है कि बिना किसी आधार पर मुगल शासकों शाहजहां और औरंगजेब के महिमा मंडन के लिए पैरा जोड़ा गया है. इतिहास में वही बाते लिखी जाती है, जिसके तथ्य आपके पास रिकॉर्ड में हो, जबकि यह अविश्वसनीय रूप से घातक साक्ष्य प्रतीत हो रहे हैं.


संजीव विकल ने कहा कि कल्पना के आधार पर छात्रों को इतिहास पढ़ाया जा रहा है, एनसीईआरटी की पुस्तकों को विद्यालयी शिक्षा के लिए बेंचमार्क माना जाता है, सिविल सेवा जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में भी इन पुस्तकों से तैयारी करने की सलाह एक्पर्ट्स द्वारा दी जाती रही है. हमारी भविष्य की पीढ़ी को गलत दिशा में धकेलने की कोशिश की जा रही है जिसके घातक परिणाम हो सकते हैं।

Thursday, February 25, 2021

श्रावस्ती : फर्जी शिक्षक होने के शक पर सेवा समाप्ति से पूर्व पक्ष रखने का मौका, अंतिम नोटिस जारी

श्रावस्ती : फर्जी शिक्षक होने के शक पर सेवा समाप्ति से पूर्व पक्ष रखने का मौका, अंतिम नोटिस जारी


Sunday, February 7, 2021

पीलीभीत : परिषदीय स्कूलों से लगातार बिना सूचना के अनुपस्थित शिक्षकों को सेवा समाप्ति का नोटिस जारी

पीलीभीत : परिषदीय स्कूलों से लगातार बिना सूचना के अनुपस्थित शिक्षकों को सेवा समाप्ति का नोटिस जारी


Tuesday, January 5, 2021

लखनऊ : RTE के तहत दाखिला न देने वाले स्कूलों को नोटिस देने तक सीमित रह गया विभाग

लखनऊ : RTE के तहत दाखिला न देने वाले स्कूलों को नोटिस देने तक सीमित रह गया विभाग


■ निजी स्कूलों की मनमानी के वजह से सैकड़ों बच्चे पढ़ाई से वंचित

■ कार्रवाई के नाम पर होती है खानापूर्ति बच्चों के भविष्य से खिलवाड़


लखनऊ : सब पढ़ें सब बढ़ें। कोई पीछे न रहे। सभी को समान अवसर मिले। इसी उद्देश्य से शिक्षा के अधिकार (आरटीई) के तहत निजी स्कूलों को दुर्बल आय वर्ग के बच्चों का भी दाखिला लेना अनिवार्य किया गया, लेकिन उनकी मनमानी जारी है। स्कूल में प्रवेश न देने वाले ऐसे चार स्कूलों के खिलाफ नोटिस जारी की गई है। बड़ा सवाल यह है कि दाखिला न पाने वाले बच्चों का भविष्य का क्या होगा? क्या इन बच्चों को यह सत्र बिना पढ़ाई के ही समाप्त हो जाएगा। अब देखना यह कि शिक्षा विभाग हर बार की तरह मनमानी करने वाले स्कूलों के खिलाफ सिर्फ नोटिस जारी कर खानापूर्ति तक ही सीमित रहेगा या कार्रवाई भी करेगा।


30 अगस्त तक होना था बच्चों का प्रवेश : राजधानी समेत प्रदेश भर में आरटीई के तहत निजी स्कूलों में दाखिले के लिए इस बार तीसरे चरण में 17 जुलाई से 10 अगस्त 2020 तक आवेदन करना था। 11 से 12 अगस्त के बीच जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा आवेदन पत्र का सत्यापन कर उन्हें लॉक किया गया। विभाग की ओर से 14 अगस्त 2020 को लॉटरी निकाली गई और 30 अगस्त 2020 तक पात्र बच्चों का निजी स्कूलों में दाखिला सुनिश्चित कराया जाना था। मगर हर साल की तरह इस बार भी जिम्मेदार तमाम बच्चों को दाखिला दिलाने में नाकाम साबित हुए।


★ इन स्कूलों को जारी किया गया है नोटिस
●एलपीएस राजाजीपुरम
● सेंट जोसेफ राजाजीपुरम
● सीएमएस, स्टेशन रोड
● बाल विद्या मंदिर, चारबाग


शीतकालीन अवकाश के बाद सोमवार को स्कूल खुले हैं। आरटीइ के तहत जो बच्चा पात्र पाया जाएगा, उसका दाखिला लिया जाएगा। - ऋषि खन्ना, प्रवक्ता, सीएमएस

बच्चे का घर उस वार्ड में नहीं होगा, जिस वार्ड में स्कूल है। अगर विभाग ने नियमों में कोई बदलाव किया हो तो, उसे सार्वजनिक रूप से अवगत कराएं। हम पात्र बच्चे को दाखिला देने के लिए तैयार हैं। - अनिल अग्रवाल, प्रबंधक, सेंट जोसफ

अभी तक स्कूल बंद थे। जो भी पात्र बच्चे हैं, उनका दाखिला लिया जाएगा। - एसपी सिंह, प्रबंधक, एलपीएस


इस सत्र में अभी तक 8500 बच्चों को आरटीई के तहत दाखिला दिलाया गया है। जिन स्कूलों ने प्रवेश नहीं लिया है, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। सभी स्कूलों से नियमों का पालन कराया जाएगा। -दिनेश कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, लखनऊ

Saturday, September 19, 2020

Right to Education : तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल नहीं रहे सुधर, स्कूलों को नोटिस जारी, बीएसए ने दी चेतावनी

Right to Education : तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल नहीं रहे सुधर, स्कूलों को नोटिस जारी, बीएसए ने दी चेतावनी



Right to Education दाखिला न देने पर बेसिक शिक्षा विभाग ने जारी की सूची। बीएसए बोले नोटिस के बाद भी दाखिला न लेने वाले स्कूलों पर होगी कड़ी कार्रवाई। ...


लखनऊ । तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। बीते वर्षो की तरह इस बार भी तमाम निजी स्कूलों ने शिक्षा का अधिकार (आरटीई) के तहत दुर्बल आय वर्ग के बच्चों का दाखिला लेने में आनाकानी शुरू कर दी है। अभी तक दाखिला न लेने वाले करीब 21 स्कूलों को चिन्हित कर बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय नोटिस जारी की गई है। बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉक्टर दिनेश कुमार का कहना है कि ऐसे स्कूलों को चिन्हित कर लिया गया है अगर वह दाखिला नहीं देते हैं तो उनके खिलाफ सख्ती से पेश आया जाएगा।बहरहाल अब यह देखना है कि विभाग इन स्कूलों में बच्चों को दाखिला दिला पाता है या नहीं?


 इन स्कूलों को जारी हुई नोटिस
एग्जान मोंटेसरी स्कूल कैंपवेल रोड,एविज कान्वेंट स्कूल गढ़ी पीर खां, बीएसडी एकेडमी बरौरा, सेंट्रल अकैडमी सेक्टर 4 विकास नगर, टाउन हॉल पब्लिक स्कूल ठाकुरगंज, लखनऊ पब्लिक स्कूल राजाजीपुरम, सिटी इंटरनेशनल स्कूल ठाकुरगंज, न्यू पब्लिक स्कूल देवपुर पारा, राजकुमार एकेडमी मेहंदीगंज, ग्रीनलैंड स्कूल गोमती नगर, दिल्ली पब्लिक स्कूल जानकीपुरम विस्तार, संस्कार पब्लिक स्कूल इंदिरा नगर, टिनी टॉय स्कूल अलीगंज, टाउन हॉल स्कूल सेक्टर के अलीगंज, कैरियर कान्वेंट स्कूल सेक्टर 5 विकास नगर।

Thursday, September 17, 2020

प्रयागराज : अनुपस्थित चल रहे 9 शिक्षकों को अंतिम चेतावनी, 24 सितंबर तक उपस्थित हों, नहीं तो सेवा समाप्त

प्रयागराज : अनुपस्थित चल रहे 9 शिक्षकों को अंतिम चेतावनी,  24 सितंबर तक उपस्थित हों, नहीं तो सेवा समाप्त


प्रयागराज। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जनपद के परिषदीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत नौ शिक्षकों को सेवा समाप्ति की चेतावनी जारी की है। बीएसए संजय कुमार कुशवाहा की ओर से बिना किसी सूचना के अध्यापक- अध्यापिकाओं को नोटिस भेजकर 24 सितंबर तक उनके कार्यालय में उपस्थित होकर जवाब देने को कहा है। 24 सितंबर को उनके कार्यालय में उपस्थित नहीं होने वाले शिक्षकों को सेवा समाप्ति की चेतावनी दी गई है। बीएसए की ओर से जारी नोटिस में कहा गया है कि उपस्थित नहीं होने पर यह माना जाएगा कि वह काम करने के इच्छुक नहीं हैं।


बीएसए की ओर से जिन शिक्षकों को नोटिस जारी की गई है उनमें प्राथमिक विद्यालय पहाड़पुर बहादुरपुर के अनुपम सिंह, प्राथमिक विद्यालय छतौना प्रतापपुर की सोनाली गुप्ता, प्राथमिक विद्यालय राजापुर धनूूपुर की आराधना वर्मा, प्राथमिक विद्यालय खिरिजपुर धनूपुर के प्रेम शंकर द्विवेदी, प्राथमिक विद्यालय ऊगापुर प्रतापपुर की प्रधानाध्यापक विद्या सिंह, प्राथमिक विद्यालय जगदीशपुर धनूपुर की अनीता, पूर्व माध्यमिक विद्यालय बहरैचा कोरांव के संजय कुमार पांडेय, प्राथमिक विद्यालय दुधरा जोकहाई कोरांव के नील कंडेश्वर, प्राथमिक विद्यालय भगतपुर कोरांव के व्योमकेश द्विदी का नाम शामिल है।

Saturday, September 12, 2020

हाथरस : जूनियर शिक्षक संघ ने बीएसए को दिया कानूनी नोटिस, बीएसए दफ्तर के बहिष्कार का एलान

हाथरस : जूनियर शिक्षक संघ ने बीएसए को दिया कानूनी नोटिस, बीएसए दफ्तर के बहिष्कार का एलान


उत्तर प्रदेश जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ ने अधिवक्ता के माध्यम से बीएसए को नोटिस दिया है। इसमें बीएसए पर मनमानी करने का आरोप लगाया गया है। बीएसए दफ्तर का बहिष्कार करने की बात भी शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने पत्र में कही है।


जूनियर हाईस्कूल (पूर्व माध्यमिक) शिक्षक संघ के अध्यक्ष रामवीर सिंह एवं महामंत्री अनिल कुमार ने सिविल कोर्ट के अधिवक्ता रमेशचंद्र शर्मा के माध्यम से बीएसए को नोटिस दिया है, जिसमें मनमानी का आरोप लगाते हुए कहा गया है कि शिक्षक संघ के किसी भी प्रत्यावेदन का संज्ञान नहीं लिया जा रहा। नोटिस में अन्य आरोप भी लगाए हैं। संघ के पदाधिकारियों ने अध्यापकों को जानबूझकर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने एवं शिक्षक संघ के प्रति अनुचित व्यवहार करने के कारण कार्यालय का बहिष्कार करने की भी बात कही है।


 नोटिस के बारे में मुझे जानकारी नहीं है। सिविल कोर्ट के नोटिस का निर्णय पर कोई असर नहीं पड़ेगा। अगर जूनियर संगठन ने मेरे नोटिस का कोई तर्क संगत जवाब नहीं दिया तो इनके खिलाफ और सख्त कार्रवाई होगी। -मनोज कुमार मिश्र, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हाथरस।

Monday, September 7, 2020

हरदोई : लापरवाह बीईओ से बीएसए ने किया जवाब-तलब

सुरसा ब्लॉक के लापरवाह बीईओ से जवाब-तलब

हरदोई  : बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में व्यवस्थाएं सुधारने के लिए तैनात किए गए खंड शिक्षा अधिकारी अपने दायित्वों का पालन करने में घोर लापरवाही बरत रहे हैं। इससे बेलगाम शिक्षक व कर्मचारी मनमानी करके अव्यवस्था फैलाए हैं। इसकी एक झलक शनिवार को स्कूलों के औचक निरीक्षण के दौरान बीएसए ने खुद देखी। नाराजगी जताई। बीईओ से स्पष्टीकरण मांगा। वहीं एक अनुचर का वेतन रोकने के निर्देश दिए।



शनिवार को सुबह 11 बजे बीएसए हेमन्तराव अचानक बीआरसी सुरसा में पहुंच गए। जमीनी हकीकत का निरीक्षण किया तो कमियां देखकर दंग रह गए। अनुचार कुसुमा देवी 21 अगस्त से बिना किसी सूचना के अनुपस्थित पाई गईं। बीआरसी परिसर में चौतरफा गंदगी फैली मिली। छानबीन करने पर पता चला कि प्राथमिक विद्यालय एवं उच्च प्राथकिम स्कूल तुर्तीपुर, उच्च प्राथमिक स्कूल फर्दापुर, प्राथमिक विद्यालय सुरसा, प्राइमरी स्कूल ओदरा में कार्यरत अध्यापकों ने बालक व बालिकाओ को दो-दो सेट मुफ्त ड्रेस वितरण के लिए कपड़ा के संबंध में निविदा में 9 अगस्त की तिथि प्रकाशित कराई। जबकि इस दिन रविवार था।

बीएसए का कहना है कि खंड शिक्षा अभिकारी भगवान राव को निर्देश दिए गए हैं कि वे उक्त कमियों के संबंध में अपना स्पष्टीकरण समुचित साक्ष्यों के साथ तीन दिन के अंदर बीएसए कार्यालय में दें। ऐसा प्रतीत होता है कि बीईओ की लापरवाहीपूर्ण पर्यवेक्षण के कारण उपरोक्त विज्ञप्ति निविदा खोलने का दिन गलत तरीके से रविवार अंकित किया गया। ऐसा करके टेंडर के नियमों का पालन नहीं किया गया। इस मामले में अभी तक बीईओ ने कोई उचित कार्रवाई नहीं की। न ही उन्हें मामले की जानकारी दी। जिलाधिकारी को भी निरीक्षण आख्या भेजी गई है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, July 28, 2020

प्रयागराज : बिना सुरक्षा मानक के कंप्यूटर अनुदेशकों की कोरोना जांच केंद्र पर लगी ड्यूटी, सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने पर ड्यूटी नहीं पहुंचे अनुदेशको को बीएसए ने नोटिस जारी कर किया जवाब तलब

प्रयागराज : बिना सुरक्षा मानक के कंप्यूटर अनुदेशकों की कोरोना जांच केंद्र पर लगी ड्यूटी, सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने पर ड्यूटी नहीं पहुंचे अनुदेशको को बीएसए ने नोटिस जारी कर किया जवाब तलब।

परिषदीय विद्यालयों के अस्थाई कंप्यूटर अनुदेशकों को बेसिक शिक्षा अधिकारी ने सुरक्षा मानकों को पूरा किए बिना केपी कॉलेज स्थित कोरोना जांच केंद्र पर ड्यूटी लगा दी। कोराना के भय के चलते मात्र 7000 रुपये के मानदेय पर काम करने वाले कंप्यूटर अनुदेशक ड्यूटी पर नहीं पहुंचे तो बेसिक शिक्षा अधिकारी ने इनके खिलाफ नोटिस जारी करके जवाब तलब किया है। कोरोना जांच केंद्र पर ड्यूटी पर लगाए गए अनुदेशकों का कहना है कि उनके लिए सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। अनुदेशकों ने जांच केंद्र पर ड्यूटी के लिए पीपीई किट की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की है।





बीएसए की ओर से 12 कंप्यूटर अनुदेशकों को नोटिस भेजकर जुलाई महीने का मानदेय रोके जाने और तीन दिन के भीतर जवाब देने को कहा गया है। बीएसए की ओर से इन कंप्यूटर अनुदेशकों की ड्यूटी कोरोना जांच केंद्र पर डाटा फीडिंग के लिए लगाई गई थी। ड्यूट पर नहीं आने वाले अनुदेशकों को भेजी नोटिस में बीएसए ने कहा है कि उनके नहीं आने से कोरोना की जांच में बांधा पड़ी। बीएसए ने इन अनुदेशकों से तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा है नहीं तो उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।
इस संबंध में उच्च प्राथमिक अनुदेशक कल्याण समिति के जिलाध्यक्ष भोलानाथ पांडेय का कहना है कि अनुदेशकों ने कभी किसी विभागीय आदेश की अवहेलना नहीं की है। उनका कहना है कि बिना पीपीई किट और कोरोना से बचाव का प्रशिक्षण दिए बिना कोविड-19 की डाटा फीडिंग में लगा दिया गया। डाटा फीडिंग के बगल में ही कोरोना की जांच चल रही है, ऐसी स्थिति में किसी अनुदेशक के साथ दुर्घटना हो जाती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा, उनके परिवार की चिंता के बारे में अधिकारी आश्वासन दें तो अनुदेशक अपनी जिम्मेदारी पूरी करने के लिए तैयार हैं।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, March 17, 2020

रामपुर : आजम के स्कूल को मान्यता देने में बाबू निलंबित, बीएसए को नोटिस

रामपुर : आजम के स्कूल को मान्यता देने में बाबू निलंबित, बीएसए को नोटिस।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, March 1, 2020

फिरोजाबाद : शिक्षिका के डांस मामले में 11 शिक्षकों को नोटिस, निष्ठा कार्यक्रम के दौरान गाने पर डांस का वीडियो हुआ था वायरल

फिरोजाबाद : शिक्षिका के डांस मामले में 11 शिक्षकों को नोटिस, निष्ठा कार्यक्रम के दौरान गाने पर डांस का वीडियो हुआ था वायरल।









फिरोजाबाद : 'निष्ठा' के प्रशिक्षण कार्यक्रम में सजी महफ़िल, शिक्षिकाओं ने किया 'डांस डेमो', वीडियो हुआ वायरल।








 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, February 18, 2020

फतेहपुर : बोर्ड परीक्षा ड्यूटी न करने वाले 273 वित्तविहीन शिक्षकों को नोटिस, तीन दिन में जवाब न मिलने पर दर्ज होगी रिपोर्ट

फतेहपुर : बोर्ड परीक्षा ड्यूटी न करने वाले 273 वित्तविहीन शिक्षकों को नोटिस, तीन दिन में जवाब न मिलने पर दर्ज होगी रिपोर्ट।











 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, December 19, 2019

महराजगंज : नियुक्ति अनियमितता के आरोप में दो शिक्षकों के विरुद्ध बीएसए ने जारी किया सेवा समाप्ति का नोटिस

महराजगंज : नियुक्ति अनियमितता के आरोप में दो शिक्षकों के विरुद्ध बीएसए ने जारी किया सेवा समाप्ति का नोटिस।

Tuesday, December 17, 2019

मैनपुरी : रसोइया की सेवा समाप्त, शिक्षामित्र व अनुदेशक को सेवा समाप्ति का नोटिस, जातीय भेदभाव व छात्रों से एमडीएम बनवाने का मामला

मैनपुरी : रसोइया की सेवा समाप्त, शिक्षामित्र व अनुदेशक को सेवा समाप्ति का नोटिस, जातीय भेदभाव व छात्रों से एमडीएम बनवाने का मामला।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, December 4, 2019

प्रतापगढ़ : राज्यपाल से सम्मानित प्रधानाध्यापक को बीएसए ने किया निलंबित, शिक्षा की गुणवत्ता खराब होने पर बीईओ को दिया नोटिस

प्रतापगढ़ : राज्यपाल से सम्मानित प्रधानाध्यापक को बीएसए ने किया निलंबित, गुणवत्ता खराब होने पर बीईओ को दिया नोटिस।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, November 5, 2019

फतेहपुर : 48 शिक्षकों की सेवा पुस्तिका गायब, एक लिपिक का वेतन रोका तो दूसरे को थमाया नोटिस, डिप्टी बीएसए ने कार्रवाई की दी चेतावनी

फतेहपुर : 48 शिक्षकों की सेवा पुस्तिका गायब, एक लिपिक का वेतन रोका तो दूसरे को थमाया नोटिस, डिप्टी बीएसए ने कार्रवाई की दी चेतावनी।


जागरण संवाददाता, फतेहपुर : खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय मुख्यालय में तैनात दो लिपिकों को शिक्षक-शिक्षिकाओं की सेवा पुस्तिका न मिलने पर नोटिस थमा दी गई है।

वरिष्ठ लिपिक श्वेता त्रिपाठी पर आरोप है कि देवमई ब्लाक के तमाम शिक्षक-शिक्षिकाओं की सेवा पुस्तिका नहीं मिल रही हैं। भेजी गई नोटिस में यह आरोप लगा है कि जिस वक्त काम देखा जा रहा था तभी से सेवा पुस्तिकाओं का अता पता नहीं है। ऐसी में तीन दिन के अंदर सेवा पुस्तिका खोजकर कार्यालय को सौंपें।

वहीं लिपिक विनय कुमार सिंह को थमाई गई नोटिस में सेवा पुस्तिकाओं के गुम होने, प्रत्येक कार्यदिवस में खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय में बैठकर काम करने के निर्देश दिए गए थे। दोनों की काम आदेश के बाद नहीं किए जा रहे हैं। सेवा पुस्तिकाएं खोजकर खंड शिक्षाधिकारी को प्राप्त कराई जाएं और खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय में बैठकर कार्य संपादित किया जाए। खंड शिक्षाधिकारी मुख्यालय राकेश कुमार सचान ने लिपिक का वेतन अवरुद्ध कर दिया है।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, October 15, 2019

एटा : फर्जी डिग्री धारी 119 शिक्षकों की उल्टी गिनती शुरू, नोटिस जारी, साक्ष्य सहित मौखिक पक्ष रखने का शिक्षकों को मिलेगा मौका

एटा : फर्जी डिग्री धारी 119 शिक्षकों की उल्टी गिनती शुरू, नोटिस जारी, साक्ष्य सहित मौखिक पक्ष रखने का शिक्षकों को मिलेगा मौका।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, September 8, 2019

कन्नौज : 30 शिक्षकों को बर्खास्तगी का नोटिस, एसआईटी से कराई गई जांच में फर्जीवाड़ा का हुआ था खुलासा

कन्नौज : 30 शिक्षकों को बर्खास्तगी का नोटिस, एसआईटी से कराई गई जांच में फर्जीवाड़ा का हुआ था खुलासा।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

इटावा : 49 शिक्षकों को बर्खास्तगी की नोटिस, अभिलेखों में संदेह मिलने पर बर्खास्तगी की लटकी तलवार

इटावा : 49 शिक्षकों को बर्खास्तगी की नोटिस, अभिलेखों में संदेह मिलने पर बर्खास्तगी की लटकी तलवार।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।