DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label पदोन्नति. Show all posts
Showing posts with label पदोन्नति. Show all posts

Saturday, March 20, 2021

प्रभारी प्रधानाध्यापकों ने पद छोड़ने की चेतावनी दी, सहायक के वेतन पर प्रधानाध्यापक का काम नहीं करेंगे

प्रभारी प्रधानाध्यापकों ने पद छोड़ने की चेतावनी दी, पदोन्नति न होने पर प्रभारी बीएसए को दिया ज्ञापन, कहा सहायक के वेतन पर प्रधानाध्यापक का काम नहीं करेंगे


बदायूं। पदोन्नति की मांग को लेकर शुक्रवार को परिषदीय विद्यालयों के प्रभारी प्रधानाध्यापकों ने प्रभारी बीएसए प्रवीन शुक्ला को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में चेतावनी दी गई है कि अगर उनको नियमानुसार जल्द पदोन्नत नहीं किया गया तो वह प्रधानाध्यापक का प्रभार छोड़ देंगे।


जिले के काफी संख्या में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापक का प्रभार सहायक अध्यापकों पर है। नियमानुसार तीन साल में पदोन्नति हो जानी चाहिए, लेकिन इससे भी ज्यादा समय बीत चुका है और पदोन्नति नहीं हुई है। प्रभारी बीएसए को दिए गए ज्ञापन में कहा गया है कि उनको वेतन सहायक अध्यापक का मिलता है जबकि उनसे काम प्रधानाध्यापक का लिया जा रहा है।


ज्ञापन में कहा गया है कि अगर उनको पदोन्नति नहीं दी गई तो वह सामूहिक इस्तीफा दे देंगे। ज्ञापन देने वालों में प्रशांत शर्मा, सुरजीत बाबू गुप्ता, नीलेश मौर्य, चक्रेश कुमार, नीलेश वर्मा, अकसद खां, मुगीस खान, अमीर अहमद, प्रेमपाल, शिवशंकर, विचित्रपाल आदि रहे। प्रभारी बीएसए डॉ. प्रवीन शुक्ला ने बताया कि प्रभारी प्रधानाध्यापकों की मांग शासन को भेजी जा रही हैं। संवाद

राजकीय कॉलेजों के 115 शिक्षकों को मिली पदोन्नति

राजकीय कॉलेजों के 115 शिक्षकों को मिली पदोन्नति


प्रयागराज : प्रदेश के राजकीय कॉलेजों में मुखिया पद पर शिक्षकों को तैनाती मिलना जारी है। शिक्षिकाओं के बाद अब शिक्षकों को भी तोहफा मिला है। 115 शिक्षकों को राजकीय हाईस्कूलों में प्रधानाध्यापक व राजकीय इंटर कॉलेजों में उप प्रधानाचार्य के पद पर तैनाती दी गई है। उनकी विभागीय पदोन्नति समिति (डीपीसी) पहले हुई थी और उन सभी से विकल्प मांगे गए थे। उसके बाद से पदस्थापन आदेश का इंतजार था। अपर शिक्षा निदेशक राजकीय अंजना गोयल ने आदेश जारी कर दिया है।


उत्तर प्रदेश शैक्षिक अध्यापन (अधीनस्थ राजपत्रित) सेवा नियमावली 1993 के अधीन चयन समिति की ओर से प्रवक्ता व एलटी ग्रेड (पुरुष शाखा) में कार्यरत शिक्षकों को मौलिक रूप से रिक्त पदों के सापेक्ष पदोन्नति दी गई थी। शिक्षा निदेशालय ने पदोन्नत होने वाले शिक्षकों से कालेजों का विकल्प मांगा था और उसे शिक्षा निदेशक माध्यमिक विनय कुमार पांडेय के यहां भेजा गया था। अपर शिक्षा निदेशक ने अब 115 शिक्षकों का पदस्थापन आदेश जारी कर दिया है। प्रवक्ता संवर्ग से पदोन्नति पाने वाले शिक्षकों की संख्या 17 है और 98 स्नातक शिक्षक यानी एलटी ग्रेड संवर्ग के पुरुष शिक्षकों को सभी उन जिलों के राजकीय कालेजों में तैनाती दी गई है, जहां पद रिक्त चल रहे थे। इनमें वाराणसी, कानपुर देहात, मथुरा, बांदा, शाहजहांपुर, बस्ती, लखीमपुर खीरी, मैनपुरी, इटावा, झांसी, मऊ, उन्नाव, सीतापुर, रामपुर, सहारनपुर, आगरा, जालौन, शामली, बदायूं, बहराइच, कन्नौज, मुरादाबाद, महोबा, संभल, सोनभद्र, हमीरपुर, चित्रकूट, ललितपुर, भदोही, फरुखाबाद, फिरोजाबाद, गाजीपुर, पीलीभीत, रायबरेली, गोरखपुर, मीरजापुर, फतेहपुर, अमरोहा, बिजनौर, प्रयागराज, अंबेडकर नगर, सुलतानपुर, अयोध्या, बाराबंकी आदि शामिल हैं।

अविलंब ग्रहण करें कार्यभार

अपर निदेशक का निर्देश है कि शिक्षक वर्तमान पद के प्रभार से अवमुक्त होकर पदोन्नत पद पर अविलंब कार्यभार ग्रहण करें। पदोन्नति स्वीकार न होने की दशा में अपनी असहमति की सूचना मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक के माध्यम से 15 दिन में शिक्षा निदेशालय प्रयागराज को उपलब्ध कराएं।

Friday, March 5, 2021

राजकीय माध्यमिक शिक्षकों को पदस्थापन आदेश का इंतजार, प्रधानाचार्य पद के लिए छह माह पहले हुई थी डीपीसी

राजकीय माध्यमिक शिक्षकों को पदस्थापन आदेश का इंतजार, प्रधानाचार्य पद के लिए छह माह पहले हुई थी डीपीसी


प्रयागराज : प्रदेश के राजकीय माध्यमिक कॉलेजों में तैनात शिक्षकों को पदोन्नत पद दिए जाने के लिए उनसे कॉलेजों का विकल्प लिया जा रहा है। इसमें पुरुष संवर्ग की तैनाती होनी है, जबकि महिला संवर्ग की पदोन्नति भी छह माह पहले हो चुकी है और पदस्थापन के लिए विकल्प भी मांगा गया। लेकिन, अब तक आदेश जारी नहीं हुआ है। इससे शिक्षिकाओं में नाराजगी है। निदेशालय की ओर से कहा गया है कि प्रकरण माध्यमिक शिक्षा निदेशक स्तर पर लंबित है, जल्द ही आदेश जारी होगा।


राजकीय माध्यमिक कॉलेजों में तैनात शिक्षिकाओं का प्रधानाध्यापक पद के लिए लगभग छह माह पहले विभागीय पदोन्नति कमेटी की बैठक हुई थी, इसमें अर्ह शिक्षिकाओं को पदोन्नत करके उनसे लगभग दो माह पहले पदस्थापन के लिए कॉलेजों का विकल्प मांगा गया था। अब तक महिला संवर्ग का पदस्थापन आदेश नहीं हुआ। शिक्षिकाएं इसकी राह देख रही हैं। अब पुरुष संवर्ग से विकल्प मांगने पर उनमें नाराजगी भी है।

इसी तरह से एलटी (पुरुष संवर्ग) से प्रवक्ता के लिए पदोन्नति अब तक नहीं हो पायी है। इसको लेकर एलटी (पुरुष संवर्ग) के शिक्षकों में नाराजगी है। ऐसे ही एलटी (महिला) की प्रवक्ता के लिए हंिदूी सहित कई विषयों की डीपीसी होनी है। शिक्षा निदेशालय की ओर से कहा गया है कि शिक्षिकाओं से लिए विकल्प को निदेशक माध्यमिक शिक्षा से अनुमोदन को भेजा है वहां जल्द आदेश निर्गत हो सकते हैं। साथ ही एलटी ग्रेड शिक्षकों को पदोन्नति दिलाने के लिए उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग से संपर्क बना है। तारीख तय होते ही प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

Thursday, March 4, 2021

पदोन्नति की धीमी गति से नाराज हैं माध्यमिक शिक्षक

पदोन्नति की धीमी गति से नाराज हैं माध्यमिक शिक्षक 


लखनऊ। उत्तर प्रदेश राजकीय माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष पारसनाथ पांडेय ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापकों (एलटी ग्रेड) और प्रवकताओं को समय पर पदोन्नति नहीं मिलने से शिक्षकों में नाराजगी है।


 पांडेय ने कहा कि प्रदेश के राजकीय इंटर कॉलेजों में प्रवक्ता संवर्ग में 50 प्रतिशत पद लोक सेवा आयोग के जरिये और 50 प्रतिशत पद सहायक अध्यापकों की पदोन्‍नति से भरने का प्रावधान है। एलटी संवर्ग से प्रवक्ता संवर्ग में 2008 से प्रमोशन नहीं होने के कारण प्रदेश के लगभग सभी इंटर कॉलेज में प्रवकताओं के पद खाली हैं।


 उन्होंने कहा कि आयोग के जरिये समय-समय पर सीधी भर्ती में तो चयन होता रहा है, लेकिन प्रमोशन के पद नहीं भरने से पुरुष संवर्ग में प्रवक्ता के 1800 से अधिक और महिला संवर्ग में प्रवक्ता के 1200 पद रिक्त हैं।

Wednesday, March 3, 2021

परिषदीय शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्मावकाश में, छात्र और शिक्षक अनुपात होगा समायोजन का आधार

पदोन्‍नति पर ब्रेक से जूनियर विद्यालयों में रिक्त पद अधिक, जल्द पदोन्नति प्रक्रिया शुरू कराने का होगा प्रयास


परिषदीय शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्मावकाश में, स्कूलों में कायम होगा छात्र और शिक्षक अनुपात


सरकार का दावा, प्रदेश में एक भी परिषदीय विद्यालय शिक्षकविहीन नहीं


लखनऊ। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों का जिले के अंदर समायोजन ग्रीष्मावकाश के दौरान किया जाएगा। जिन स्कूलों में शिक्षकों की संख्या अनुपात से अधिक है वहां के अतिरिक्त शिक्षकों को दूसरे विद्यालयों में तैनात किया जाएगा। यह जानकारी मंगलवार को बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने विधानसभा में दी। 


उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में एक भी परिषदीय विद्यालय शिक्षकविहीन नहीं है। द्विवेदी बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी के प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पदों को लेकर उठाए गए सवाल का जवाब दे रहे थे। तिवारी ने कहा कि कई विद्यालयों में एक शिक्षक तो कहां शिक्षामित्र या अनुदेशक से संचालन कराया जा रहा है। इस पर मंत्री ने कहा कि शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्राथमिक स्कूलों के लिए 30 विद्यार्थियों पर एक शिक्षक (1:30) की तैनाती का प्रावधान है। लेकिन प्रदेश में यह औसत 1:36 का है। 


बेसिक शिक्षा मंत्री जी ने कहा-  बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च प्राथमिक विद्यालयों के लिए 1:35 के अनुपात का प्रावधान है, लेकिन प्रदेश में यह 1: 53 है। 


उन्होंने कहा कि सहायक अध्यापकों की पदोन्‍नति पर उच्च न्यायालय की रोक होने के कारण उच्च प्राथमिक विद्यालयों में रिक्त पद अधिक हैं। सरकार कोर्ट से मामले का निस्तारण कराने के लिए प्रयासरत है। 

Tuesday, March 2, 2021

परिषदीय विद्यालयों में रिक्त पदों पर पदोन्नति का मामला पहुंचा विधान सभा, पदोन्नति पर मांगी गयी सूचना

परिषदीय विद्यालयों में रिक्त पदों पर पदोन्नति का मामला पहुंचा विधान सभा, पदोन्नति पर मांगी गयी सूचना



Sunday, February 21, 2021

पदोन्नति न मिलने की हताशा में कार्यवाहक / प्रभारी प्रधानाध्यापक का पद छोड़ने लगे बेसिक शिक्षक

पदोन्नति न मिलने की हताशा में कार्यवाहक / प्रभारी प्रधानाध्यापक का पद छोड़ने लगे बेसिक शिक्षक



प्रयागराज : 12 साल से प्रमोशन न मिलने से हताश शिक्षकों ने कार्यवाहक प्रधानाध्यापक पद से इस्तीफा देना शुरू कर दिया है। पूर्व माध्यमिक विद्यालय लक्षन का पूरा मेजा की कार्यवाहक प्रधानाध्यापिका परमजीत कौर ने खंड शिक्षाधिकारी को पद से इस्तीफा भेजते हुए सहायक अध्यापिका के पद पर कार्य करने की इच्छा जताई है। उनका कहना है कि प्रधानाध्यापक का वेतन न मिलने से वह इंचार्ज हेडमास्टर के पद से इस्तीफा दे रहीं हैं।


प्रयागराज में 9 फरवरी 2009 के बाद नियुक्त शिक्षकों का प्रमोशन नहीं हुआ है। जिसके चलते सैकड़ों प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय कार्यवाहक प्रधानाध्यापकों के सहारे चल रहा है। अफसर वरिष्ठता के आधार पर शिक्षकों को कार्यवाहक की जिम्मेदारी सौंप दे रहे हैं, भले ही उनकी इच्छा हो या नहीं। सरकार की सभी योजनाओं का क्रियान्वयन करने के साथ ही स्कूल में सफाई से लेकर बच्चों के प्रवेश, शिक्षकों की उपस्थिति आदि खुद देखना पड़ता है।


बच्चों के खाते में मिड-डे-मील की कन्वर्जन कास्ट पहुंचाने से लेकर यूनिफॉर्म सिलाने और जूता, मोजा, बैग, किताबें बांटने का काम प्रधानाध्यापक का है। कार्यवाहक को प्रधानाध्यापक का वेतन न मिलने से बड़ी संख्या में शिक्षक इस जिम्मेदारी को उठाना नहीं चाहते।


इनका कहना है

शिक्षक को दंड तो कार्यवाहक प्रधानाध्यापक का मिलता है लेकिन वेतन या अन्य कोई लाभ उस पद का नहीं दिया जाता। जबकि माध्यमिक विद्यालयों में कार्यवाहक प्रधानाचार्य को इंक्रीमेंट तक मिलता है। जो शिक्षक कार्यवाहक पद छोड़ने का निर्णय ले रहे हैं, वह स्वागत योग्य है। - देवेन्द्र श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष प्राथमिक शिक्षक संघ

Sunday, February 14, 2021

प्रमोशन न होने से नाराज हैं बेसिक शिक्षक, प्रमोशन नहीं होने पर प्रभारी पद छोड़ने की तैयारी

पडरौना : प्रमोशन न होने से नाराज हैं बेसिक शिक्षक, प्रमोशन नहीं होने पर प्रभारी पद छोड़ने की तैयारी

जिले में एक हजार से अधिक अध्यापक प्रभारी हेडमास्टर के तौर पर कर रहे हैं कार्य


पडरौना । जिले में एक हजार से अधिक अध्यापक प्रभारी हेडमास्टर के तौर पर कार्य कर रहे हैं। प्रमोशन के लिए ये शिक्षक कई बार आंदोलन कर चुके हैं। शुक्रवार की रात में 10 बजे तक शिक्षकों ने धरना दिया था। इन शिक्षकों ने प्रमोशन नहीं होने पर प्रभारी पद छोड़ने की बात कही है।

टेट मोर्चा से जुड़े शिक्षकों का कहना है कि जिले में प्राथमिक और संविलयन समेत कुल 2464 विद्यालय संचालित हैं। इन विद्यालयों में तैनात सहायक अध्यापकों की शिक्षा विभाग की तरफ से कई वर्षों से वरिष्ठता सूची जारी नहीं हुई है । विद्यालयों में रिक्त प्रधानाध्यापकों का कार्यभार वहां तैनात वरिष्ठ अध्यापकों को सौंप दिया जाता है। अंतर जनपदीय तबादला के चलते कई स्कूलों में कार्यरत प्रभारी हेडमास्टर का पद भी रिक्त हो गया है। 


शिक्षक नेताओं का कहना है कि अस्थाई व्यवस्था अल्पकाल के लिए तो ठीक है, लेकिन बिना प्रमोशन पाए ही शिक्षकों से अतिरिक्त कार्य लिया जाना उचित नहीं है। उन्होंने आंदोलन की चेतावनी भी दी।


इस संबंध में बीएसए विमलेश कुमार ने बताया कि शिक्षक संगठनों की मांग पर बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव से मार्ग दर्शन मांगा गया है । उनके तरफ से मिले निर्देश के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

Thursday, February 4, 2021

कुशीनगर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट का संशोधित पत्र जारी

कुशीनगर : पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी


👉 संशोधित पत्र जारी। 

Tuesday, February 2, 2021

जालौन : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

जालौन  : पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

प्रयागराज : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

प्रयागराज : पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी




बिजनौर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

बिजनौर : पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी



कानपुर देहात : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

कानपुर देहात  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी





अमेठी : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

अमेठी  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी


Monday, February 1, 2021

गौतमबुद्धनगर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

 गौतमबुद्धनगर  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी




सीतापुर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

 सीतापुर  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी


यूपी : शिक्षकों की सैलरी के बदलेंगे नियम, परफॉर्मेंस से जोड़ी जाएगी वेतन वृद्धि व प्रोन्नति

यूपी : शिक्षकों की सैलरी के बदलेंगे नियम, परफॉर्मेंस से जोड़ी जाएगी वेतन वृद्धि व प्रोन्नति



अब शिक्षकों की वेतनवृद्धि व प्रोन्नति या अन्य लाभों को उनके प्रदर्शन से जोड़ा जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत इसे यूपी की कार्ययोजना में शामिल किया गया है। शिक्षकों को आईआईएम, आईआईटी, बनारस हिन्दू विवि जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा। वहीं ओडीओपी को व्यावसायिक शिक्षा में शामिल किया जाएगा। कक्षा नौ से 12 तक व्यावसायिक ट्रेड की पढ़ाई अनिवार्य की जाएगी।


2022-23 से न्यूनतम 100 स्कूल प्रधानाध्यापकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। ये मास्टर रिसोर्स पर्सन के रूप में काम करेंगे। इसके अलावा हर वर्ष शिक्षकों को 50 घण्टे का प्रशिक्षण देने की योजना है। शिक्षकों को स्वतंत्र रूप से काम करने के लिए राज्य स्तर से समयसारिणी या अन्य चीजें भेजने पर रोक लगाने को भी कार्ययोजना में शामिल किया गया है ताकि हर स्कूल के प्रमुख अपनी जिम्मेदारी निभाना सीख सकें। इसके अलावा राज्य स्तर पर नवाचार इकाई भी बनाई जाएगी जहां नवाचारों को संकलित किया जाएगा। मंडलीय शिक्षा अधिकारी को इसकी जिम्मेदारी सौँपी जाएगी। नवाचार करने वाले शिक्षक मास्टर रिसोर्स पर्सन के रूप में काम करेंगे। 


ओडीओपी पढ़ाया जाएगा ट्रेड के रूप में
ओडओपी के तहत चयनित उत्पाद से संबंधित कौशल स्कूल में पढ़ाया जाएगा। कक्षा 9-10 में दो और कक्षा 11-12 में एक व्यावसायिक ट्रेड पढ़ाना अनिवार्य होगा। 2022-2023 से व्यावसायिक शिक्षा कार्यक्रम सभी स्कूलों में चलाया जाएगा। कक्षा 9 के पाठ्यक्रम में इसे शामिल किया जाएगा। 2024-25 तक 50 फीसदी छात्र-छात्राओं को व्यावसायिक शिक्षा दी जाएगी। पहले चरण में सरकारी स्कूलों में इसे लागू किया जाएगा। 


कॅरिअर काउंसिलिंग से होगी पहचान
हर सत्र में दो से तीन बार कॅरिअर काउंसिलिंग का आयोजन किया जाएगा। इसमें क्षेत्रीय रोजगार संस्थाओं व पीपीपी के आधार पर संस्थाओं को अनुबंधित किया जाएगा। इसमें प्रतिभाशाली बच्चों की पहचान कर चिह्नित कर उनकी रुचि व कौशल क्षमता के आधार पर संबंधित ट्रेड का प्रशिक्षण देने और उचित संस्था के चयन में मार्गदर्शन देगी। प्रतिभाशाली बच्चों की पहचान कर उन्हें अलग से दिग्दर्शन दिया जाएगा। 2022-23 से इसे सभी स्कूलों में लागू किया जाएगा। 

Sunday, January 31, 2021

बुलंदशहर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

बुलंदशहर  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी


बांदा : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

बांदा  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी


कन्नौज : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

कन्नौज  :  पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी