DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label परीक्षा. Show all posts
Showing posts with label परीक्षा. Show all posts

Saturday, September 19, 2020

UP Board : 29 एवं 30 सितंबर को होगी कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट के लिए प्रयोगात्मक परीक्षाएं

UP Board : कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट की परीक्षा 29 एवं 30 सितंबर को होगी।

यूपी बोर्ड हाईस्कूल कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट परीक्षा के अर्ह परीक्षार्थियों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं 29 एवं 30 सितंबर को आयोजित की जाएंगी। 

सचिव दिव्यकांत शुक्ल की ओर से जारी सूचना के अनुसार हाईस्कूल कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट के लिए अर्ह छात्रों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं (आंतरिक मूल्यांकन) 29 एवं 30 सितंबर को जबकि इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट की परीक्षा के लिए अर्ह छात्रों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं 29 एवं 30 सितंबर को कराई जाएंगी। इसके बारे में सूचना क्षेत्रीय कार्यालयों को भेज दी गई है।


इंटरमीडिएट कम्पार्टमेंट परीक्षा :
इस साल उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इंटर के 35017 छात्र कम्पार्टमेंट परीक्षा देंगे। यूपी बोर्ड ने इस साल से इंटर के छात्र-छात्राओं के लिए यह सुविधा दी है। ये 35017 छात्र एक विषय में फेल हैं और कम्पार्टमेंट देकर पास हो सकते हैं।


10वीं में गणित में सबसे ज्यादा फेल : 
सबसे खराब रिजल्ट गणित का रहा, इसमें 27 प्रतिशत परीक्षार्थी फेल हुए हैं। वहीं प्रारंभिक गणित में 96.55 प्रतिशत परीक्षार्थियों को सफलता मिली है। संस्कृत का परिणाम भी खराब रहा। इस विषय में सिर्फ 62.50 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए हैं। अंग्रेजी में 19.49 तो विज्ञान में 19.60 प्रतिशत परीक्षार्थियों को असफलता हाथ लगी है। यूपी बोर्ड हाईस्कूल के काफी छात्र कम्पार्टमेंट परीक्षा में बैठेंगे।

Tuesday, September 15, 2020

UP Board Compartment Exam 2020 : तीन अक्टूबर को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर कंपार्टमेंट परीक्षा

UP Board Compartment Exam 2020 : तीन अक्टूबर को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर कंपार्टमेंट परीक्षा।

UP Board Compartment Exam 2020 यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा 2020 तीन अक्टूबर को दो पालियों में होगी।

प्रयागराज  : UP Board Compartment Exam 2020 : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा 2020 तीन अक्टूबर को दो पालियों में होगी। बहुप्रतीक्षित हाई स्कूल और इंटरमीडिएट इंप्रूवमेंट/कम्पार्टमेंट परीक्षा की तैयारी पूरी होते ही मंगलवार को यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने तारीख की घोषणा कर दी है। बोर्ड ने सभी जिलों से परीक्षा केंद्र बनाने के लिए प्रस्ताव मांगे थे। बोर्ड ने पांच अगस्त से 20 अगस्त के बीच कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए थे। कुल 33,344 छात्र-छात्राओं ने इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए आवेदन किया है। इनमें हाई स्कूल के लिए 15,839 और इंटरमीडिएट के लिए 17,505 छात्र-छात्राओं ने अप्लाई किया है।




यूपी बोर्ड ने 27 जून को हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 का घोषित किया था। परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने वाले कुल 33,344 परीक्षार्थियों ने इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए आवेदन किया था। हाईस्कूल में दो और इंटर में एक विषय में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थी इस परीक्षा को उत्तीर्ण करके पास हो सकेंगे। पहली बार इंटर के 35017 परीक्षार्थियों को कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने का मौका दिया गया लेकिन, ऑनलाइन आवेदन करने वालों की तादाद आधी ही है, बाकी परीक्षार्थियों ने इसमें रुचि नहीं दिखाई ।



बोर्ड प्रशासन हाईस्कूल के उन छात्र-छात्राओं को इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट के तहत और वे परीक्षार्थी जो एक विषय में अनुत्तीर्ण हैं कंपार्टमेंट परीक्षा का अवसर मिला, उनमें से 15,839 ने दोनों के लिए आवेदन किया है। इसी तरह से इंटर की परीक्षा में मानविकी, विज्ञान व कामर्स वर्ग के परीक्षार्थी किसी एक विषय में, कृषि भाग एक व दो में निर्धारित विषयों में किसी एक प्रश्नपत्र में और व्यावसायिक वर्ग के लिए निर्धारित ट्रेड विषय के किसी एक प्रश्नपत्र में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थी कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल हो सकता था। ऐसे परीक्षार्थियों की तादाद 35017 थी लेकिन, आवेदकों की संख्या महज 17,505 रही।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

ऑफलाइन के बाद अब 15 सितम्बर को दो पालियों में ऑनलाइन होगी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा

यूपीः पॉलीटेक्निक की ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा आज, अभ्यर्थी के पर्स और जेवर लाने पर पाबंदी

यूपीः पॉलीटेक्निक की ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा आज, अभ्यर्थी के पर्स और जेवर लाने पर पाबंदी।


पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए 15 सितंबर को ऑनलाइन परीक्षा होगी। दोनों पालियों में परीक्षा शुरू होने से पहले सभी कक्ष, कंप्यूटर, टेबल व कुर्सी को सैनिटाइज किया जाएगा। अभ्यर्थी को परीक्षा केंद्र में पर्स व जेवर लाने पर पाबंदी है। परीक्षा केंद्र में प्रवेश से पहले अभ्यर्थियों की थर्मल स्कैनिंग होगी। फिर सैनिटाइज किए जाएंगे। इसके बाद मेटल डिटेक्टर से जांच की जाएगी।




प्रदेश के 23 जिलों में होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा 2020 की ऑनलाइन परीक्षा के लिए 46,443 छात्र पंजीकृत हैं। राजधानी लखनऊ में परीक्षा के लिए 7,675 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया गया है। पहली पाली सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक और दूसरी पाली दोपहर 2:30 से शाम 5:30 बजे तक होगी। प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि कोविड-19 के मद्देनजर जारी गाइडलाइन के तहत अभ्यर्थियों को मास्क व सैनिटाइजर लाने के निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि अगर किसी अभ्यर्थी के प्रवेश पत्र में कोई त्रुटि है तो वह परीक्षा केंद्र पर डिस्क्रिपेंसी शीट भरकर सुधार करा सकता है। परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों को प्रवेश पत्र की दो कॉपी और स्वघोषणा पत्र भरकर लाने के निर्देश दिए गए हैं। अगर प्रवेश पत्र पर फोटो स्पष्ट नहीं है तो अभ्यर्थियों को दो कलर फोटो साथ लानी होगी। परीक्षा केंद्र पर उन्हें डेढ़ घंटा पहले पहुंचना होगा।

.......



ऑफलाइन के बाद अब 15 सितम्बर को दो पालियों में ऑनलाइन होगी पॉलीटेक्निक  प्रवेश परीक्षा।

लखनऊ : प्रदेश के निजी, राज्य व अनुदानित पॉलिटेक्निक संस्थानों में हुई ऑफलाइन संयुक्त प्रवेश परीक्षा-2020 के बाद अब विभाग ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा कराने की तैयारी कर रहा है। 15 सितंबर को दो पालियों में होने वाली प्रवेश परीक्षा प्रदेश के 23 जिलों में होगी। प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि परीक्षा की निगरानी के लिए प्रत्येक जिले में एक-एक जिला संयोजक और केंद्र पर दो-दो विभागीय अधिकारियों को पर्यवेक्षक बनाया गया है। स्कूल में बने कंप्यूटर सेंटर व निजी कंप्यूटर सेंटरों को केंद्र बनाया गया है। परीक्षा के पहले केंद्रों को सैनिटाइज किया गया है। सभी छात्रों को मास्क और सैनिटाइजर साथ लाने के निर्देश दिए गए हैं।


छात्रों को डेढ़ घंटा पहले पहुंचना होगा केंद्र पर : मंगलवार को सुबह 9:00 से 12:00 की प्रथम पाली में 115 और 2:30 से 5:30 तक शाम की पाली के लिए 116 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। छात्रों को तय समय से डेढ़ घंटा पहले केंद्र पर पहुंचना होगा। कुल पंजीकृत 46443 छात्रों में सुबह 22597 और शाम को 23846 छात्र बैठेंगे। वहीं, राजधानी में सुबह और शाम की पाली में 17-17 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। सुबह 3795 और शाम को 3880 छात्र परीक्षा देंगे।

यह लाना होगा साथ : यदि किसी छात्र के एडमिट कार्ड में नाम, अभिभावक का नाम, कैटेगरी आदि को लेकर त्रुटि है तो वह केंद्र पर डिस्क्रिपेंसी शीट भरकर सुधार करा सकता है। छात्रों को एडमिट कार्ड की दो कॉपी और साथ में एडमिट कार्ड के साथ दिए गए स्व घोषणा पत्र को भरकर भी लाना होगा। यदि एडमिट कार्ड में फोटो स्पष्ट नहीं है तो छात्रों को दो कलर फोटो भी लाने होंगे। परीक्षा खत्म होने के उपरांत छात्रों की लॉग डिटेल को सीडी के रूप में संबंधित जिले के डीएम के कारागार में सील पैक कर रखा जाएगा।

......

पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा : 35 प्रतिशत अभ्यर्थियों ने छोड़ दी परीक्षा, 75 जिलों में आज था एग्जाम।

लखनऊ : इंजीनियरिंग और फार्मेसी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए रविवार को प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। पहले जहां, इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए मारामारी रहती थी, इस बार अभ्यर्थी परीक्षा देने ही नहीं पहुंचे। राजधानी लखनऊ में 40 प्रतिशत ने यह परीक्षा छोड़ दी। वहीं, प्रदेश भर में 65 प्रतिशत अभ्यर्थी ही पेपर देने पहुंचे। 35 प्रतिशत तक अनुपस्थिति दर्ज की गई है।



बता दें, इस बार संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने प्रवेश परीक्षा के प्रारूप में बदलाव किया है। परीक्षा दो दिन कराई जा रही है। रविवार को इंजीनियरिंग और फार्मेसी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑफलाइन परीक्षा कराई गई। वहीं, आगामी मंगलवार को अन्य पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन परीक्षा कराई जाएगी।

राजधानी में पहली पाली में सुबह नौ से 12 बजे के बीच हुई परीक्षा के लिए कुल 22 केन्द्र बनाए गए थे। पहली पाली में करीब 8231 अभ्यर्थियों का शामिल होना प्रस्तावित था। लेकिन, 4955 ही पेपर देने पहुंचे।  कोरोना संक्रमण को देखते हुए परीक्षा केन्द्रों पर कई दावे किए गए थे। लेकिन, कुछ केन्द्रों पर स्थितियां ठीक नजर नहीं आई। लखनऊ पॉलीटेक्निकल कॉलेज में छात्रों को एक लाइन में खड़े होने की फोटो सामने आई हैं। इसमें, सोशल डिस्टेंसिंग नजर नहीं आ रही है।

उधर, प्रदेश के सभी 75 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। यहां, 2,78,145 अभ्यर्थियों का शामिल होना प्रस्तावित था। इसमें, करीब 65 प्रतिशत उपस्थित रहे। दूसरे पाली की परीक्षाएं चल रही हैं।  शाम की पाली के लिए 66,306 छात्र पंजीकृत हैं।



 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, September 13, 2020

कोरोना के चलते यूपी बोर्ड परीक्षा तैयारियों पर लगा ग्रहण

 कोरोना के चलते यूपी बोर्ड परीक्षा तैयारियों पर लगा ग्रहण

 
शैक्षिक सत्र आधा सत्र बीत रहा है, अभी कॉलेजों में प्रवेश चल रहा है। उत्तर प्रदेश माध्यमित शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) के 27 हजार से अधिक संबद्ध कॉलेजों में कक्षा 9 व 11 में पंजीकरण और हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के परीक्षा फार्म भरे जाने से इम्तिहान की तैयारियां अधर में हैं। वजह, परीक्षार्थियों की संख्या तय नहीं है। जुलाई माह से चल रहे प्रवेश में छात्र-छात्राओं की संख्या पिछले वर्षों की अपेक्षा काफी कम है। इसीलिए पंजीकरण की तारीखें दो बार बढ़ाई जा चुकी हैं, फिर भी तय नहीं है कि अपेक्षित छात्र-छात्राएं प्रवेश ले लेंगे। 


यूपी बोर्ड में हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं कराने का तय शेड्यूल रहा है। मुख्यालय में उसी के अनुसार वर्षभर कार्य चलता रहता है। सितंबर माह में आमतौर पर सभी कालेजों से आधारभूत सूचनाएं मांगी जाती रही हैं, ताकि उसी के अनुसार परीक्षा केंद्र निर्धारण किया जा सके। 2021 की परीक्षा के लिए अभी शुरुआत भी नहीं हो सकी है। यह जरूर है कि बोर्ड सचिव ने पिछले माह हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा कराने का अनुमानित माह घोषित किया है। उसके बाद से सारी प्रक्रिया ठप है। अक्टूबर में परीक्षा केंद्र निर्धारण नीति और नवंबर में केंद्र निर्धारण का कार्य पूरा होता रहा है।


अभी कंपार्टमेंट परीक्षा पर असमंजस : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा 2020 में एक विषय में अनुत्तीर्ण होने वाले परीक्षार्थियों की कंपार्टमेंट परीक्षा होनी है। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन लिए जा चुके हैं साथ ही शासन को परीक्षा तारीख तय करने के लिए प्रस्ताव भी भेजा गया है, अब तक तारीख का इंतजार हो रहा है।

तो दोगुने हो जाएंगे परीक्षा केंद्र : 2021 की हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा में यदि पिछले वर्ष की तरह ही परीक्षार्थी आवेदन करते हैं तो परीक्षा केंद्रों की तादाद दोगुनी हो जाएगी। शासन ने कुछ दिन पहले कोविड-19 को देखते हुए इस संबंध में सूचना मांगी थी। उसमें कहा गया कि पिछले वर्ष 7783 केंद्रों पर परीक्षा कराई गई थी, शारीरिक दूरी का अनुपालन करने में केंद्रों की संख्या दोगुनी करनी होगी।

इस माह के अंत तक पंजीकरण : यूपी बोर्ड प्रशासन फिलहाल कक्षा 9 से 12 तक प्रवेश व परीक्षा फार्म भरने में जुटा है। इस माह के अंत तक यह प्रक्रिया पूरी होने की उम्मीद है। उसके बाद ही परीक्षा की तैयारी शुरू होगी। वहीं, पढ़ाई ऑनलाइन कराई जा रही है।

Saturday, September 12, 2020

CBSE : कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी, क्लिक करके करें डाउनलोड

CBSE : कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी।

CBSE Compartment Admit Card 2020 Released : सीबीएसई बोर्ड (CBSE Board) ने 10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षाओं के लिए एडमिट कार्ड जारी किया गया है। सीबीएसई बोर्ड ने परीक्षाओं के लिए एडमिट कार्ड ऑफिशियल पोर्टल cbse.nic.in पर रिलीज किया है। ऐसे में जो भी परीक्षार्थी इस एग्जाम में शामिल होने वाले हैं, वे आधिकारिक पोर्टल पर लॉगइन करके कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके भी कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।


▪️ 👉🏻 यहां क्लिक करके डायरेक्ट एडमिट कार्ड करें डाउनलोड 👈🏻▪️


▪️👉🏻 ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के लिए यहां करें क्लिक 👈🏻▪️






10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने वाले छात्र-छात्राएं आधिकारिक पोर्टल cbse.nic.in पर जाएं। इसके बाद होमपेज पर दिए लिंक पर क्लिक करें, जिस पर लिखा हुआ है कि 10वीं और 12वीं कंपार्टमेंट परीक्षा के एडमिट कार्ड लिंक डाउनलोड करें लिखा हुआ है। अब आपके सामने एक नया पेज खुलकर आ जाएगा। इसके बाद आवेदन संख्या, रोल नंबर और उम्मीदवार का नाम एंटर करें। इसके बाद आपके सामने एडमिट कार्ड ओपन हो जाएगा। एडमिट कार्ड भविष्य के लिए प्रिंटआउट संभालकर रखें।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 12 व 15 सितम्बर को , 28 सितम्बर को आएगा परिणाम

पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 12 व 15 सितम्बर को , 28 सितम्बर को आएगा परिणाम


राज्य मुख्यालय : प्राविधिक शिक्षा परिषद से संबद्ध प्रदेश के 150 राजकीय, 19 अनुदानित एवं 1127 निजी पॉलीटेक्निक संस्थाओं की लगभग 2.40 लाख सीटों पर प्रवेश के लिए आफलाइन परीक्षा 12 सितंबर को सभी 75 जिलों में और आनलाइन परीक्षा 15 सितंबर को 23 जिलों में होगी। परीक्षा की तैयारियों के संबंध में अपर मुख्य सचिव प्राविधिक शिक्षा एस. राधा चौहान ने शुक्रवार को शासनादेश जारी किया। शासनादेश के अनुसार परीक्षा ग्रुप ए में उपलब्ध 1,53,934 सीटों पर प्रवेश के लिए आफलाइन परीक्षा 12 सितंबर को होगी, जिसमें 2,78,145 परीक्षार्थियों के शामिल होने की संभावना है।

 इस परीक्षा के लिए सभी 75 जिलों में 731 केंद्र बनाए गए हैं। यह परीक्षा सुबह 9 बजे से दोहपर 12 बजे तक होगी। इसी दिन परीक्षा ग्रुप ई-1 व ई-2 की प्रवेश परीक्षा अपराह्न 2.30 बजे से 5.30 बजे तक होगी, जिसमें 58758 सीटें हैं। यह परीक्षा 196 केंद्रों पर होगी। इसमें 66306 अभ्यर्थी शामिल होंगे। इसी तरह परीक्षा ग्रुप बी, सी, डी, एफ, जी, एच व आई के लिए आनलाइन परीक्षा 15 सितंबर को सुबह 9 बजे से 12 बजे तक होगी। इस परीक्षा ग्रुप में 16140 सीटें उपलब्ध हैं। परीक्षा में 22597 अभ्यर्थी शामिल होंगे। इसी दिन परीक्षा ग्रुप के-1 से 8 तक की आनलाइन परीक्षा अपराह्न 2.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक होगी।



 इस परीक्षा ग्रुप में 6140 अभ्यर्थी हैं और इसमें 22597 अभ्यर्थी हिस्सा लेंगे। परीक्षा में बायोमैट्रिक हाजिरी लगेगी इस वर्ष प्रत्येक अभ्यर्थी की परीक्षा के समय बायोमैट्रिक उपस्थिति (फेशियल रिकग्नीशन) दर्ज कराने की व्यवस्था की गई है। प्रवेश परीक्षा के प्रवेश पत्र परिषद की वेबसाइट पर उपलब्ध करा दिए गए हैं। परीक्षा केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के निर्देश भी दिए गए हैं। मानक से अधिक तापमान वाले अभ्यर्थियों को अलग कक्ष में परीक्षा देने की व्यवस्था की गई है। संयोजक व जोनल अधिकारी बनाए गए प्राविधिक शिक्षा विभाग ने 12 सितंबर को आफलाइन परीक्षा कराने के लिए सभी जिलों के लिए 75 जिला संयोजक और 251 जोनल अधिकारी बनाए गए हैं, जो परीक्षा का नियंत्रण करेंगे।

 इसके साथ ही विभागीय अधिकारियों को प्रत्येक केंद्र पर केंद्र अधिकारी तथा उड़ाका दल सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है। परीक्षा के बाद ओएमआर शीट की दूसरी प्रति सील्ड पैकेटों में कोषागार में रखी जाएगी।

28 को घोषित होगा परिणाम :  शासनादेश में कहा गया है कि प्रवेश परीक्षा का परिणाम 28 सितंबर को परिषद की वेबसाइट पर घोषित किया जाएगा। इसके बाद 30 सितंबर से आनलाइन काउंसलिंग शुरू होगी। अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए हेल्प सेंटर स्थापित किए गए हैं। इसका टोल फ्री नंबर 1800-180-6589 है। इसके अलावा 0522-2630678, 2630667 पर भी संपर्क किया जा सकता है।

.....



पॉलीटेक्निक : परीक्षा केंद्र पर छात्र सुधार सकेंगे प्रवेश पत्र की गलती, 12 सितम्बर को प्रस्तावित है पहली प्रवेश परीक्षा।

लखनऊ : प्रदेश के पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के साथ फार्मेसी के डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए 12 सितम्बर को परीक्षा होगी। राजधानी में इस परीक्षा के लिए करीब 34 केन्द्र बनाए गए हैं। यहां 12 हजार से ज्यादा अभ्यर्थी शामिल होंगे।



ऐसे अभ्यर्थी जिनके प्रवेश पत्र में किसी तरह की गलती हो गई है, उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है। परीक्षा केन्द्र पर सुधार करने का मौका मिलेगा। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि प्रवेश परीक्षा के दिन छात्रों को परीक्षा के डेढ़ घंटे पहले बुलाया गया है। सभी केन्द्रों पर सुधार के लिए एक प्रपत्र दिया है। इसमें अभ्यर्थी अपने पिता के नाम से लेकर जन्मतिथि तक में हुई गलती सुधार सकते हैं। नाम में सिर्फ स्पेलिंग ही सुधारी जा सकेगी। एसके वैश्य ने बताया कि अभ्यर्थियों को प्रवेश पत्र की प्रति लेकर जानाहोगा। एक प्रति में कोरोना के लक्षण होने के संबंध में स्वप्रमाणित प्रमाण पत्र देना होगा। ऐसे अभ्यर्थी जिनके प्रवेश पत्र की फोटो स्पष्ट नहीं है, उन्हें प्रवेश पत्र के साथ दो फोटो भी ले जानी होंगी।



अभ्यर्थी रखें ध्यान :  मास्क, सैनिटाइजर की शीशी, रुमाल और पानी की बोतल साथ ले जा सकते है। बोतल पारदर्शी होनी चाहिए। प्रवेश पत्र की दो कॉपी व स्वघोषणा पत्र भी साथ लाना होगा।

........





अगले साल से ऑनलाइन होगी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा, परिषद के सचिव ने की घोषणा।


उत्तर प्रदेश में 12 व 15 सितंबर को होगी पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा पहली बार ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में होगी।

लखनऊ, जेएनएन।  प्रदेशभर के पॉलिटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा इस बार ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से कराई जाएगी। ऑफलाइन मोड में 12 सितंबर को और ऑनलाइन मोड के तहत 15 सितंबर को परीक्षा होगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद का दावा है कि कोरोना संक्रमण से उपजे हालात को ध्यान में रखते हुए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि अगले वर्ष होने वाली पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा पूरी तरह ऑनलाइन माध्यम से ही कराई जाएगी।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि परिषद की वेबसाइट पर 5 सितंबर को अपलोड किया जा चुका है। परीक्षार्थी प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।बॉक्सदो पालियों में होगी परीक्षासचिव एसके वैश्य ने बताया कि परीक्षा के लिए प्रदेश भर में करीब 950 केंद्र बनाए गए हैं। इनमें अधिकांशत पॉलिटेक्निक संस्थान शामिल हैं।




12 सितंबर को होने वाली ऑफलाइन परीक्षा के तहत परीक्षार्थियों को संबंधित केंद्र पर समय से पहले पहुंचना होगा। पहली पाली की परीक्षा सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक और दूसरी पाली की परीक्षा 2:30 से 5:30 बजे के मध्य होगी। पहली पाली के अंतर्गत 3 वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में दाखिले की चाह रखने वाले अभ्यर्थी शामिल होंगे और दूसरी पाली में 2 वर्षीय फार्मेसी पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी शामिल होंगे। वहीं ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा 15 सितंबर को दो पालियों में होगी। इसके लिए प्रदेश भर के 21 जिलों में केंद्र बनाए गए हैं।


ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा में सुबह 9 से 12 के तहत ग्रुप बी सी डी एफ जी एच आई ग्रुप की परीक्षाएं होंगी। इसी तरह दूसरी पाली 2:30 से शाम 5:30 बजे तक होगी। इसके तहत के 1 से के 8 ग्रुप की प्रवेश परीक्षा होगी। ऑनलाइन परीक्षा के तहत दोनों पालियों में कुल 47175 परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे। वहीं ऑफलाइन परीक्षा के तहत करीब 344451 परीक्षार्थी शामिल होंगे।

ऑनलाइन परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी
47175- ऑफलाइन परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी: 344451-परीक्षा के लिए बनाए गए केंद्र : 927-परीक्षा के लिए लगाए गए जोनल अधिकारी: 251-कुल केंद्र व्यवस्थापक:927-ऑनलाइन परीक्षा का समय प्रातः 9 बजे से 12 बजे तक और शाम को 2:30 से 5:30 बजे तक-ऑफलाइन परीक्षा का समय प्रातः 9:00 से 12:00 तक और सायं 2:30 से 5:30 तक-कितने ग्रुपों की होगी परीक्षा:18-कितने जनपदों में होगी परीक्षा ऑफलाइन परीक्षा: 75 जनपद -ऑनलाइन परीक्षा: 24 जनपद

.......

पॉलीटेक्निक : ऑनलाइन परीक्षा के प्रवेश पत्र जारी, बनी हेल्पलाइन।

लखनऊ : प्रदेश के पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए होने वाली परीक्षाओं के प्रवेश पत्र जारी कर दिए गए। प्राविधिक शिक्षा परिषद ने ऑनलाइन परीक्षा के प्रवेश-पत्र सोमवार को वेबसाइट jeecup.nic.in पर उपलब्ध करा दिए हैं। यह परीक्षा 15 सितंबर को प्रस्तावित है।




छात्र अपने लॉगिन से प्रवेश-पत्र को डाउनलोड कर सकते हैं । जो छात्र अपना लॉगिन आईडी एवं पासवर्ड भूल गये हैं वे अपना विवरण भरकर भी प्रवेश -पत्र डाउनलोड कर सकेंगे प्रवेश पत्र के साथ स्वघोषणा -पत्र एवं निर्देश भी अभ्यर्थी डाउनलोड करें । स्वघोषणा पत्र की प्रति परीक्षा के समय केन्द्र पर अभ्यर्थी द्वारा जमा की जाएगी।

उधर 12 सितंबर को प्रस्तावित ऑनलाइन परीक्षा के प्रवेश पत्र बीती 5 सितंबर को ही जारी किए जा चुके हैं।

प्राविधिक शिक्षा परिषद विभिन्न डिप्लोमा इंजीनियरिंग (ग्रुप-ए), डिप्लोमा इन फार्मेसी (ग्रुप-ई 1& ई 2), पाठ्यक्रमों में शैक्षिक सत्र 2020- 21 में अभ्यर्थियों की प्रवेश परीक्षा शनिवार को होगी। पहली पाली में कुल 2,78,145 अभ्यर्थी एवं दूसरी पाली में 66,306 अभ्यर्थी परीक्षा में सम्मिलित हो रहे हैं।

इनको छोड़ कर शेष अन्य डिप्लोमा, पोस्ट डिप्लोमा , पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षा 15 सितंबर को प्रदेश के 24 जनपदों में होगी। यह सीबीटी ( कंप्यूटर आधारित टेस्ट ) ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा होगी। जानकारी के अनुसार परीक्षा में करीब 46 हजार अभ्यर्थी शामिल होंगे।




इस हेल्पलाइन पर मिलेगी मदद : जिन अभ्यर्थियों को किसी भी प्रकार की समस्या हो वे परिषद के टोल फ्री नंबर 18001806589 अथवा 0522-2630678 , 2630667 पर सम्पर्क कर अपनी समस्या का निवारण कर सकते हैं अथवा ईमेल jeecup help@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।

अभ्यर्थी रखें ध्यान :▪️परीक्षा के लिए अभ्यर्थी 1.30 घण्टा पूर्व परीक्षा केन्द्रों पर पहुंचेंगे।

▪️अभ्यर्थी अपने साथ परीक्षा केन्द्रों पर प्रवेश-पत्र, छोटा सैनिटाईजर , मास्क, पानी की बोतल व लेखन सामग्री लेकर आयेंगे।

▪️अभ्यर्थी को मोबाइल फोन, पर तथा किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को परीक्षा कक्ष में ले जाने की अनुमति नहीं है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, September 11, 2020

सरकार ने जारी की स्कूल और कॉलेजों की परीक्षाओं के लिए गाइडलाइन, रखना होगा इन बातों का ध्यान

सरकार ने जारी की स्कूल और कॉलेजों की परीक्षाओं के लिए गाइडलाइन, रखना होगा इन बातों का ध्यान।


सरकार ने जारी की स्कूल और कॉलेजों की परीक्षाओं के लिए गाइडलाइन, रखना होगा इन बातों का ध्यान।

देश में लगातार कोरोना के मामलों में इजाफा हो रहा है। भारत में अब तक  4,370,128 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। वहीं देश के सभी राज्यों ने ज्यादातर पाबंदियों को हटा दिया है।



इसी बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्कूल और कॉलेजों की परीक्षाओं को लेकर नई गाइडलाइन जारी कर दी। जिसमें परीक्षा के समय सावधानी के कई नियमों के बारे में बताया गया है।

मंत्रालय ने साफ किया है कि सभी को छींकते या खांसते समय मुंह ढंंकना होगा। साथ ही किसी भी जगह थूकने की इजाजत नहीं है। जो छात्र कोरोना से पीड़ित हैं उन भी विचार चल रहा है।



जो छात्र कंटेनमेंट जोन में हैं, उन पर परीक्षा एजेंसियां को विचार करने को कहा गया है जिसमें विश्वविद्यालय भी शामिल हैं। सभी स्टाफ के साथ परीक्षार्थियों को अपने स्वास्थ्य की जानकारी देनी पड़ सकती है।

साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि परीक्षार्थियों को इस बारे में जानकारी दे दी जाएगी, एडमिट कार्ड के साथ उन्हें पानी और सैनिटाइजर जैसी कौन सी वस्तुएं ले जाने की अनुमति होगी।

मंत्रालय ने कहा कि परीक्षार्थियों के साथ बड़ी संख्या में अभिवावक  भी आते हैं, वे लगातार वहीं रहते  हैं, उस दौरान सुरक्षा मानकों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होगा। उन्हें शारीरिक दूरी के साथ मास्क लगाना होगा।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी के मुताबिक भारत में कोरोना वायरस के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। इस के मद्देनजर भीड़ से बचने के लिए परीक्षाएं टुकड़ों में कराई जा सकती हैं।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, September 10, 2020

राजकीय और निजी पॉलीटेक्निक में दाखिले के लिए परीक्षा की डेट जारी, अभ्यर्थियों को इन बातों का रखना होगा ध्यान।

राजकीय और निजी पॉलीटेक्निक में दाखिले के लिए परीक्षा की डेट जारी, अभ्यर्थियों को इन बातों का रखना होगा ध्यान।

प्रदेश के राजकीय, अनुदानित और निजी पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा 12 और 15 सितंबर को होगी। 12 सितंबर को ऑफलाइन और 15 सितंबर को ऑनलाइन परीक्षा होगी। ऑफलाइन परीक्षा के लिए 5 सितंबर को प्रवेश पत्र जारी किए गए थे।





प्रदेश के 24 जिलों में 15 सितंबर को होने वाली ऑनलाइन परीक्षा के लिए सोमवार शाम प्रवेश पत्र जारी कर दिए गए। अभ्यर्थी वेबसाइट www.jeecup.nic.in से प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं। वहीं वेबसाइट पर प्रवेश परीक्षा से संबंधित सारे दिशा-निर्देश भी देख सकते हैं। अभ्यर्थियों को परीक्षा से डेढ़ घंटे पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचना होगा।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि सभी 75 जिलों में ऑफलाइन परीक्षा दो पालियों में होगी। पहली पाली के लिए 731 और दूसरी पाली के लिए 195 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। पहली पाली के लिए 2,78,145 अभ्यर्थी और दूसरी पाली के लिए 66,306 अभ्यर्थी पंजीकृत हैं।
वहीं, ऑनलाइन परीक्षा पहली पाली में 22597 अभ्यर्थी 115 केंद्रों पर और दूसरी पाली में 23846 अभ्यर्थी 116 केंद्रों पर देंगे। वैश्य ने बताया कि पहली बार दाखिले के लिए ऑनलाइन परीक्षा हो रही है। अगर यह प्रयोग सफल रहा तो अगले सत्र से पूरी प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन होगी।
परीक्षा संबंधी समस्या होने पर कंट्रोल रूम से करें संपर्क
वैश्य ने बताया कि प्रवेश परीक्षा संबंधी समस्या होने पर अभ्यर्थी टोल फ्री नंबर 1800 180 6589 और 0522-2630678, 2630667 पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा परिषद jeecuphelp@gmail.com पर ईमेल कर समस्या रख सकते हैं।


परीक्षार्थी इन बातों का रखें ध्यान

- परीक्षा से डेढ़ घंटे पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचना होगा। साथ ही सैनिटाइजर, पानी की बोतल, मास्क व लेखन सामग्री खुद लेकर आना होगा।
- परीक्षा केंद्र में मोबाइल फोन, पर्स, कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण व पाठ्यसामग्री लाने की अनुमति नहीं है।
-  परीक्षा केंद्र में प्रवेश के दौरान प्रत्येक अभ्यर्थी की थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। मानक ताप से अधिक होने पर अभ्यर्थियों को अलग कक्ष में परीक्षा देने के लिए बैठाया जाएगा।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, September 4, 2020

CBSE Compartment Exam Date 2020 : सीबीएसई कंपार्टमेंट परीक्षा 2020 का शेड्यूल जारी, देखें

CBSE Compartment Exam Date 2020 : सीबीएसई कंपार्टमेंट परीक्षा 2020 का शेड्यूल जारी, इस दिन से शुरू होगी परीक्षा।



CBSE : दसवीं- बारहवीं की कम्पार्टमेंट परीक्षाएं 22 सितम्बर से होंगी शुरू, देखें परीक्षा शेड्यूल।

नई दिल्ली : (सीबीएसई) ने शुक्रवार को कक्षा 10वीं- 12वीं की इंप्रूवमेंट कंपार्टमेंट परीक्षाओं की तिथियां जारी कर दी हैं। सीबीएसई 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षाएं 22 से 29 सितंबर तक और 10वीं की कंपार्टमेंट परीक्षाएं 22 से 28 सितंबर 2020 तक आयोजित की जाएंगी।

सीबीएसई ने इससे पहले सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि इम्प्रूपवमेंट, कंपार्टमेंट परीक्षा सितंबर के अंत तक आयोजित कराई जाएंगी। इस संबंध में अधिसूचना जारी की जाएगी।

घोषणा

▪️सीबीएसई ने परीक्षाओं की तिथियां घोषित कर दी

▪️इससे पहले सुप्रीम कोर्ट को भी दी थी परीक्षाओं की जानकारी

.....

CBSE Compartment Exam Date 2020 : सीबीएसई कंपार्टमेंट परीक्षा 2020 का शेड्यूल जारी, इस दिन से शुरू होगी परीक्षा।

CBSE Compartment Exam Date 2020: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कंपार्टमेंट परीक्षा का शेड्यूल जारी कर दिया है। बोर्ड ने कक्षा 10 और कक्षा 12 दोनों के लिए पूरी डेट शीट जारी कर दी है। इसके मुताबिक 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 22 सितंबर से शुरू हो रही हैं। बारहवीं के एग्जाम 22 से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेंगे, जबकि 10वीं की परीक्षाएं 22 सितंबर से 28 सितंबर तक कराए जाएंगे। ऐसे में जो भी छात्र-छात्राएं इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं, वे पूरा शेड्यूल बोर्ड की आधिकारिक साइट पर cbse.nic.in पर चेक कर सकते हैं। कक्षा 10 और कक्षा 12 दोनों के लिए परीक्षा सिर्फ एक शिफ्ट में आयोजित की जाएगी। इसके मुताबिक सुबह 10.30 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक एक ही पाली में आयोजित की जाएगी।

▪️ CBSE Compartment Exam Date 2020 : डेटशीट ऐसे कर पाएंगे डाउनलोड

10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षा की डेटशीट डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले उम्मीदवार CBSE की आधिकारिक साइट cbse.nic.in पर जाएं। यहां होम पेज पर उपलब्ध कक्षा 10 या कक्षा 12 लिंक के लिए सीबीएसई कम्पार्टमेंट परीक्षा तिथि 2020 पर क्लिक करें। अब आपके सामने एक नई पीडीएफ फाइल खुलेगी। उम्मीदवार यहां परीक्षा तिथियों की जांच कर सकते हैं और फ़ाइल डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा डेटशीट को डाउनलोड करके एग्जाम के लिए सुरक्षित रख भी सकते हैं।


हालांकि 10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षा को लेकर विरोध चल रहा है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। इस पर आज यानी कि 4 सितंबर को सुनवाई की थी। केस की सुनवाई जस्टिस एएम खानविलकर, दिनेश माहेश्वरी और संजीव खन्ना की बेंच ने की। बेंच ने सीबीएसई बोर्ड को 7 सितंबर तक इस मामले में प्रतिक्रिया दर्ज करने के लिए कहा है। साथ ही इस मामले को 10 सितंबर तक के लिए टाल दिया है। अब इस मामले पर अंतिम सुनवाई इस तारीख को होगी। इसके बाद ही निर्णय हो पाएगा कि परीक्षाएं होंगी या नहीं।

कक्षा -10 शेड्यूल






कक्षा-12 शेड्यूल









CBSE ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, सितंबर अंत तक हो सकती हैं 10वीं 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षाएं, बढ़ाएं जाएंगे परीक्षा केंद्र।

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सितंबर अंत तक कक्षा 10वीं और 12वीं की कंपार्टमेंट परीक्षाएं आयोजित कराई जा सकती हैं। बोर्ड ने यह भी बताया कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए परीक्षा केंद्रों को बढ़ाकर 1,278 कर दिया गया है। सीबीएसई ने यह बात तब कही जब शीर्ष अदालत कंपार्टमेंट परीक्षा रद्द करने की छात्रों की याचिका पर सुनवाई कर रही थी।






जस्टिस एएम खानविलकर की अध्यक्षता में तीन जजों की बेंच ने छात्रों की याचिका पर सीबीएसई बोर्ड को नोटिस जारी 7 सितंबर तक जवाब दाखिल करने को कहा है। सर्वोच्च न्यायालय ने सीबीएसई को अगली सुनवाई से पहले हलफनामा दायर करने को कहा है। साथ ही पूछा है कि वो कोविड-19 के समय कैसे परीक्षा आयोजित करना चाहता है। मामले की अगली सुनवाई 10 सितंबर को होगी।


CBSE : 10वीं और 12वीं परीक्षार्थी को इस बार पुनर्मूल्यांकन का दोहरा फायदा

सीबीएसई 10वीं में इस बार 1,50,198 स्टूडेंट्स और 12वीं के 87,651 स्टूडेंट्स की कंपार्टमेंट आई थी। कुछ दिनों पहले सीबीएसई ने ग्रेस मार्क्स देकर छात्रों को पास करने से साफ इनकार कर दिया था। बोर्ड ने कहा था कि जो छात्र एक और दो विषय में फेल हैं, उन्हें कंपार्टमेंटल परीक्षा देनी ही होगी।

कोर्ट में सीबीएसई का पक्ष रख रहे एडवोकेट रूपेश कुमार ने कहा कि कंपार्टमेंट परीक्षाएं सितंबर अंत तक हो सकती हैं और इसके लिए सभी जरूरी सावधानियां बरती जाएंगी। पिछले वर्ष जहां 575 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे, वहां इस बार 1278 परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा कराने के लिए एक कक्षा में सिर्फ 12 छात्रों को ही बैठाया जाएगा।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

परीक्षाओं के साथ विवि प्रवेश का काम भी रखें जारी, 30 सितंबर तक करानी है परीक्षाएं- यूजीसी

परीक्षाओं के साथ विवि प्रवेश का काम भी रखें जारी, 30 सितंबर तक करानी है परीक्षाएं- यूजीसी

 

नई दिल्ली: अनलॉक-4 आने के बाद शैक्षणिक संस्थानों के जल्द खुलने की उम्मीद के बीच विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों से इसकी तैयारी शुरू करने को कहा है। इसके तहत सितंबर में परीक्षाओं के साथ प्रवेश का काम भी पूरा करने को कहा है। यदि प्रवेश प्रक्रिया में ज्यादा वक्त लगने की संभावना है तो छात्रों को तदर्थ (प्रोविजनल) प्रवेश भी दिया जा सकता है जिसकी शेष प्रक्रिया बाद में पूरी हो सकेगी।


यूजीसी का मानना है कि प्रवेश प्रक्रिया यदि समय पर पूरी हो जाती है तो संस्थानों के खुलने के बाद तुरंत पढ़ाई शुरू हो सकेगी। यदि इसमें किसी तरह की देरी भी होती है तो छात्रों की ऑनलाइन सहित दूसरे माध्यमों से पढ़ाई शुरू कराई जा सकेगी। अभी प्रवेश प्रक्रिया अटके होने की वजह से इन छात्रों की पढ़ाई शुरू नहीं हो पा रही है। यूजीसी ने यह निर्देश उस समय दिया है जब सभी विश्वविद्यालयों को 30 सितंबर तक अपनी अंतिम वर्ष की परीक्षाएं करानी हैं।


 यूजीसी को बड़ी राहत इसलिए भी है क्योंकि वह पहले ही सभी विश्वविद्यालयों को 30 फीसद कोर्स की पढ़ाई ऑनलाइन कराने के निर्देश दे चुका है। ऐसे में संस्थानों के खुलने के बाद छात्रों को 70 फीसद कोर्स ही पढ़ाना होगा। यूजीसी ने यह निर्देश केंद्रीय विश्वविद्यालयों के साथ साथ राज्य विश्वविद्यालयों को भी दिया है। साथ ही इससे जुड़ी सभी तैयारियों का ब्योरा भी मांगा है।

डीएलएड (पूर्व बीटीसी) प्रशिक्षु परीक्षा और प्रोन्नत होने के बीच फंसे, निर्णय न आने से आजिज होकर दिया धरना

डीएलएड (पूर्व बीटीसी) प्रशिक्षु परीक्षा और  प्रोन्नत होने के बीच फंसे, निर्णय न आने से आजिज होकर दिया धरना

 

प्रयागराज : डीएलएड प्रशिक्षु परीक्षा और सेमेस्टर से प्रोन्नत होने के बीच फंसे हैं। निर्णय न होने से आजिज आकर प्रशिक्षुओं ने गुरुवार को परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर धरना दिया। संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष अभिषेक तिवारी के नेतृत्व में सैकड़ों प्रशिक्षुओं ने डीएलएड (पूर्व बीटीसी) के सेमेस्टर प्रमोट/ परीक्षा को लेकर हो रही विभागीय लापरवाही के विरोध में कार्यालय सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी प्रयागराज कार्यालय पर धरना दिया। धरना शांतिपूर्ण रहा और शारीरिक दूरी का पालन किया गया। 


प्रदेश अध्यक्ष तिवारी ने कहा कि डीएलएड 2018 बैच का सेमेस्टर लगभग आठ माह से लेट है, अभी तक तृतीय सेमेस्टर की परीक्षा नहीं हुई है चतुर्थ सेमेस्टर भी पूर्ण हुए दो माह का समय हो गया है और परीक्षा का कोई अता पता नहीं है इस प्रकार के सेमेस्टर प्रमोट/ परीक्षाओं को लेकर जल्द निर्णय लिया जाए और जब तक निर्णय नहीं लिया जाता तब तक हम लोग यहां से हटेंगे नहीं, जबकि प्रशिक्षण पूर्ण है।

JEECUP Admit Card 2020 : प्रवेश पत्र जारी, ग्रुप ए, ई1 और ई2 की यूपी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 के लिए यहाँ क्लिक करके प्रवेश पत्र कर सकेंगे डाउनलोड

JEECUP Admit Card 2020 : प्रवेश पत्र जारी, ग्रुप ए, ई1 और ई2 की यूपी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 के लिए इस लिंक से करें डाउनलोड।

JEECUP Admit Card 2020: आगामी 12 सिंतबर 2020 को आयोजित की जाने वाली ग्रुप ए, ग्रुप ई 1 और ग्रुप ई 2 के लिए उत्तर प्रदेश पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिया गया है। इन ग्रुप में यूपी पॉलीटेक्निक एंट्रेंस के लिए आवेदन किये उम्मीदवार, यूपीजेईईसी के ऑफिशियल पोर्टल jeecup.nic.in पर जाकर या नीचे दिये गये डायरेक्ट लिंक से एडमिट कार्ड को डाउनलोड कर सकते हैं। हॉल टिकट डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले उम्मीदवार JEECUP की आधिकारिक साइट jeecup.nic.in पर जाएं। यहां होम पेज पर उपलब्ध यूपी पॉलिटेक्निक एडमिट कार्ड लिंक पर क्लिक करें। अब आपके एक नया पेज खुलेगा, जहां उम्मीदवारों को लॉगिन डिटेल्स एंटर करना होगा। इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें और अब आपका एडमिट कार्ड स्क्रीन पर प्रदर्शित हो जाएगा। एडमिट कार्ड चेक करें फिर एग्जाम हॉल में प्रवेश के लिए कार्ड का प्रिंटआउट लेकर अपने पास सुरक्षित रख लें।



▪️👉🏻 ग्रुप ए के लिए यूपी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 प्रवेश पत्र डाउनलोड लिंक ▪️👈🏻


▪️ 👉🏻 ग्रुप ई1 और ई2 के लिए यूपी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 प्रवेश पत्र डाउनलोड लिंक▪️👈🏻






8 दिन पूर्व जारी होने थे एडमिट कार्ड

उत्तर प्रदेश ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन काउंसिल,(UPJEEC) पर जारी अपडेट के अनुसार परीक्षा की तिथि से 8 दिन पूर्व प्रवेश पत्र जारी किये जाने थे। इसी क्रम में ग्रुप ए, ग्रुप ई 1 और ग्रुप ई 2 के लिए एडमिट कार्ड आज यानी कि 4 सितंबर को पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 2020 के लिए एडमिट कार्ड जारी किये जाने थे। ऐसे में जिन परीक्षार्थियों ने इस एंट्रेंस एग्जाम के लिए अप्लाई किया है, वे यूपीजेईईसी के ऑफिशियल पोर्टल jeecup.nic.in पर जाकर कार्ड को डाउनलोड कर सकते हैं। दरअसल आधिकारिक साइट के अनुसार काउंसिल ने कहा था कि परीक्षा के आठ दिन पहले JEECUP Admit Card 2020 जारी कर दिए जाएंगे। अब ऐसे में परीक्षाएं 12 सितंबर 2020 से शुरू हो रही हैं, उसके आधार पर पूरी संभावना जताई जा रही है कि कल यानी कि 4 सितंबर को प्रवेश परीक्षा के लिए हॉल टिकट रिलीज किए जाएंगे। कार्ड जारी होने के बाद छात्र-छात्राएं नीचे दिए गए स्टेप्स को फाॅलो करके डाउनलोड कर सकते हैं।


बता दें कि यूपी पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा 12 सितंबर से शुरू होकर 15 सितंबर तक चलेगी। यह परीक्षा दो पालियों में आयोजित की जाएगी। सुबह 9 से दोपहर 12 बजे और दोपहर 2.30 से शाम 5.30 बजे तक। परीक्षा में 100 बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे। पेपर दो भाषाओं में होगा। पहला हिंदी और दूसरा इंग्लिश। वहीं यह परीक्षा ऑफलाइन माध्यम से यूपी के सभी जिलों में आयोजित की जाएगी। लेकिन हां कुछ चयनित जिलों में ऑनलाइन एग्जाम भी लिया जा सकता है। इस संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट का रुख कर सकते हैं।

......






JEECUP 2020: पहली बार ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में होगी पॉलिटेक्निक की संयुक्त प्रवेश परीक्षा।

उत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद का दावा परीक्षा की तैयारी हुई पूरी 12 सितंबर को ऑफलाइन और 15 सितंबर को होगी ऑनलाइन पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा।

लखनऊ :  प्रदेशभर के पॉलिटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा इस बार ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से कराई जाएगी। ऑफलाइन मोड में 12 सितंबर को और ऑनलाइन मोड के तहत 15 सितंबर को परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद का दावा है कि कोरोना संक्रमण से उपजे हालात को ध्यान में रखते हुए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि परीक्षार्थी परिषद की वेबसाइट से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं। सचिव एस के वैश्य ने बताया कि परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र पर डेढ़ घंटा पूर्व पहुंचना होगा और साथ में नेट से डाउनलोड किया हुआ प्रवेश पत्र, छोटा सेनीटाइजर, मास्क और पानी की बोतल लानी होगी। प्रवेश पत्र संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की वेबसाइटwww.jeecup.nic.in से परीक्षा के 1 सप्ताह पूर्व 5 सितंबर से डाउनलोड किया जा सकेगा।



दो पालियों में होगी परीक्षा

सचिव एसके वैश्य ने बताया कि परीक्षा के लिए प्रदेश भर में करीब 950 केंद्र बनाए गए हैं। इनमें अधिकांशत पॉलिटेक्निक संस्थान शामिल हैं। 12 सितंबर को होने वाली ऑफलाइन परीक्षा के तहत परीक्षार्थियों को संबंधित केंद्र पर समय से पहले पहुंचना होगा। पहली पाली की परीक्षा सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक और दूसरी पाली की परीक्षा 2:30 से 5:30 बजे के मध्य होगी। पहली पाली के अंतर्गत 3 वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में दाखिले की चाह रखने वाले अभ्यर्थी शामिल होंगे और दूसरी पाली में 2 वर्षीय फार्मेसी पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी शामिल होंगे। वहीं ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा 15 सितंबर को दो पारियों में होगी। इसके लिए प्रदेश भर के 21 जिलों में केंद्र बनाए गए हैं। ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा में सुबह 9 से 12 के तहत ग्रुप बी सी डी एफ जी एच आई ग्रुप की परीक्षाएं होंगी। इसी तरह दूसरी पाली 2:30 से शाम 5:30 बजे तक होगी। इसके तहत के 1 से के 8 ग्रुप की प्रवेश परीक्षा होगी। ऑनलाइन परीक्षा के तहत दोनों पालियों में कुल 46800 परीक्षार्थी सम्मिलित होंगे। वहीं 12 सितंबर को ऑफलाइन परीक्षा के तहत करीब 344451 परीक्षार्थी शामिल होंगे।




प्रदेश की पॉलीटेक्निक में 46105 सीटों पर होगा प्रवेश।


लखनऊ : राज्य मुख्यालय प्रदेश सरकार ने प्राविधिक शिक्षा विभाग के अधीन संचालित राजकीय एवं अनुदानित पॉलीटेक्निक संस्थाओं में शैक्षिक सत्र 2020-21 के लिए प्रवेश क्षमता का निर्धारण कर दिया है। इस सत्र में इन संस्थाओं के सभी पाठ्यक्रमों में 46105 सीटों पर प्रवेश होगा। प्राविधिक शिक्षा विभाग के विशेष सचिव सुनील कुमार चौधरी ने निदेशक प्राविधक शिक्षा को पत्र लिखकर यह जानकारी दी है। शासन ने कहा है कि संबंधित डिप्लोमा स्तरीय संस्थाओं के विभिन्न पाठ्यक्रमों में 46105 सीटों की प्रवेश क्षमता के आधार पर सूची में दिए गए विवरण के अनुसार ही प्रवेश लिया जाएगा।



सूची में सभी संस्थाओं को अलग-अलग आवंटित सीटों का की संख्या का विवरण दिया गया है। इन सीटों पर काउंसलिंग के पहले अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) से अनुमोदन की स्थिति संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव को अपने स्तर से देखनी होगी। प्राविधिक शिक्षा परिषद के सचिव से भी कहा गया है कि वे छात्रों का पंजीकरण करते समय एआईसीटीई से सीटों की मान्यता की पुष्टि कर लें।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, August 28, 2020

UGC की गाइडलाइंस पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर, कहा- विश्वविद्यालयों में फाइनल ईयर की परीक्षा के बिना नहीं किया जा सकता पास

UGC की गाइडलाइंस पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर, कहा- विश्वविद्यालयों में फाइनल ईयर की परीक्षा के बिना नहीं किया जा सकता पास।


देश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में स्नातक कोर्सेज की फाइनल ईयर परीक्षाओं को लेकर यूजीसी के दिशा-निर्देशों पर सुप्रीम कोर्ट ने भी मुहर लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि यूजीसी की अनुमति के बिना राज्य एग्जाम रद्द नहीं कर सकते। फाइनल ईयर की परीक्षाएं आयोजित किए बिना छात्रों को पास नहीं किया जा सकता। राज्यों को 30 सितंबर तक एग्जाम कराने होंगे। न्यायालय ने कहा कि जो राज्य 30 सितम्बर तक अंतिम वर्ष की परीक्षा कराने के इच्छुक नहीं हैं, उन्हें यूजीसी को इसकी जानकारी देनी होगी। शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में यूजीसी के 6 जुलाई के सर्कुलर को सही ठहराते हुए कहा कि  आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत राज्य महामारी को ध्यान में रखते हुए परीक्षा स्थगित कर सकते हैं लेकिन उन्हें यूजीसी के साथ सलाह मशविरा करके नई तिथियां तय करनी होंगी।



गौरतलब है कि यूजीसी ने छह जुलाई को देशभर के विश्वविद्यालयों को 30 सितंबर तक अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करने का निर्देश दिया था। उसने कहा था कि अगर परीक्षाएं नहीं हुईं तो छात्रों का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। यूजीसी की इस गाइडलाइंस को देश भर के कई छात्रों और संगठनों ने याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट में चुनौती थी। याचिकाओं में कहा गया था कि कोविड-19 महामारी के बीच परीक्षाएं करवाना छात्रों की सुरक्षा के लिए ठीक नहीं है। यूजीसी को परीक्षाएं रद्द कर छात्रों के पिछले प्रदर्शन और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर परिणाम घोषित करने चाहिए।




सुप्रीम कोर्ट ने 30 सितंबर तक फाइनल ईयर की परीक्षाएं कराने के यूजीसी के निर्देशों को चुनौती देनी वाली याचिकाओं पर 18 अगस्त को सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था।





इससे पहले यूजीसी ने शीर्ष अदालत को बताया था कि विश्वविद्यालयों एवं कॉलेजों को कोविड-19 महामारी के बीच फाइनल ईयर की परीक्षाएं 30 सितंबर तक आयोजित कराने के संबंध में छह जुलाई को जारी निर्देश कोई फरमान नहीं है, लेकिन परीक्षाओं को आयोजित किए बिना राज्य डिग्री प्रदान करने का निर्णय नहीं ले सकते। यूजीसी ने न्यायालय को बताया था कि यह निर्देश ''छात्रों के लाभ'' के लिए है क्योंकि विश्वविद्यालयों को स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों (पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज) के लिए प्रवेश शुरू करना है और राज्य प्राधिकार यूजीसी के दिशा-निर्देशों को नजरअंदाज नहीं सकते हैं।



- उच्चतम न्यायालय ने कहा कि जो राज्य 30 सितम्बर तक अंतिम वर्ष की परीक्षा कराने के इच्छुक नहीं हैं, उन्हें यूजीसी को इसकी जानकारी देनी होगी।

- सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि स्टूडेंट्स को प्रमोट करने के लिए राज्यों को एग्जाम अऩिवार्य रूप से कराने होंगे। कोर्ट ने कहा कि आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत राज्य महामारी को ध्यान में रखते हुए परीक्षा स्थगित कर सकते हैं और यूजीसी के साथ सलाह मशविरा करके नई तिथियां तय कर सकते हैं।

- सुप्रीम कोर्ट ने परीक्षा के खिलाफ याचिका खारिज की। कहा- यूजीसी की गाइडलाइंस के मुताबिक ही एग्जाम होंगे।

- यूजीसी ने छह जुलाई को देशभर के विश्वविद्यालयों को 30 सितंबर तक अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करने का निर्देश दिया था। उसने कहा था कि अगर परीक्षाएं नहीं हुईं तो छात्रों का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। यूजीसी की इस गाइडलाइंस को देश भर के कई छात्रों और संगठनों ने याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट में चुनौती थी। याचिकाओं में कहा गया था कोविड-19 महामारी के बीच परीक्षाएं करवाना छात्रों की सुरक्षा के लिए ठीक नहीं है। यूजीसी को परीक्षाएं रद्द कर छात्रों के पिछले प्रदर्शन और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर परिणाम घोषित करने चाहिए। शीर्ष न्यायालय में इस विषय को लेकर याचिका दायर करने वालों में युवा सेना भी शामिल है जो शिवसेना की युवा शाखा है। उसने महामारी के दौरान परीक्षाएं कराये जाने के यूजीसी के निर्देश पर सवाल उठाया है।

- दिल्ली, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश सहित कुछ राज्यों ने अंतिम वर्ष की परीक्षा सहित विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है। हालांकि यूजीसी इस बात पर कायम है कि अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को आयोजित किए बिना स्नातक करने वाले छात्रों को डिग्री नहीं दी जा सकती।
 
- दिल्ली, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश सहित कुछ राज्यों ने अंतिम वर्ष की परीक्षा सहित विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है।

- यूजीसी इस बात पर कायम है कि अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को आयोजित किए बिना स्नातक करने वाले छात्रों को डिग्री नहीं दी जा सकती।

- यूजीसी और केंद्र सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया तुषार मेहता ने आठ अगस्त को बताया कि राज्य सरकारें परीक्षाओं को रद्द नहीं कर सकती है। यह शक्ति यूजीसी के पास है।

......................





UGC, University Final Year Exam Guideline : यूजीसी फाइनल ईयर की परीक्षाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज नहीं सुनाएगा फैसला, जानें अपडेट।


UGC, University Final Year Exam Guideline : फाइनल ईयर की परीक्षाओं पर फैसले का इंतजार कर रहे हैं देश भर के लाखों परीक्षार्थियों के लिए जरूरी खबर है। लेटेस्ट अपडेट के मुताबिक संभावना जताई जा रही है कि सुप्रीम कोर्ट आज इस संबंध में फैसला नहीं सुनाएगा। दरअसल मामला आज लिस्ट में नहीं है। ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि अब कोर्ट इस संबंध में किसी और दिन फैसला सुना सकता है। देश भर में अंतिम वर्ष की परीक्षाएं होंगी या नहीं, इसे लेकर दायर याचिका पर 18 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई थी। पीठ ने अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया था और सभी पक्षों से तीन दिनों के भीतर लिखित रूप से अपनी अंतिम दलील दाखिल करने को कहा था। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के मामले में सुनवाई न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति आर. सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एम.आर. शाह की खण्डपीठ कर रही थी।




सुप्रीम कोर्ट की खण्डपीठ द्वारा सभी पक्षों को दिए गए समय सीमा समाप्त होने के बाद संभावना है कि अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के मामले में निर्णय आज, 26 अगस्त को सुनाया जा सकता है। इस संबंध में वरिष्ठ अधिवक्ता अलख आलोक श्रीवास्तव ने भी 24 अगस्त को ट्वीट करके जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई पूरी कर चुकी खण्डपीठ द्वारा 26 अगस्त 2020 को निर्णय सुनाया जा सकता है। उन्होंने यह भी बताया था कि वे माननीय उच्चतम न्यायालय को जल्द फैसला सुनाने के लिए अनुरोध भेजने की कोशिश कर रहे हैं।

बता दें कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) द्वारा 6 जुलाई, 2020 को देश भर के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में यूजी और पीजी पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को अनिवार्य रूप से 30 सितंबर, 2020 तक पूरा करने से सम्बन्धित सर्कुलर जारी किया गया था। उस समय से ही कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाएं कराने का विरोध किया जा रहा है। इसे लेकर देश भर के अलग-अलग संस्थानों के 31 छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसमें छात्रों द्वारा अंतिम वर्ष या सेमेस्टर की परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की गई थी। याचिका में छात्रों के रिजल्ट, उनके आंतरिक मूल्यांकन या पिछले प्रदर्शन के आधार पर तैयार किए जाने की मांग की गई थी।


नेता व अभिभावक भी कर रहे विरोध

अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को लेकर यूजीसी की गाइडलाइंस के आने के बाद से निरंतर इसका विरोध हो रहा है। स्टूडेंट्स, सोशल मीडिया व अन्य माध्यम से अंतिम वर्ष की परीक्षाओं पर यूजीसी की गाइडलाइंस का लगातार विरोध करते आ रहे हैं। अभिभावक समेत कई नेता भी यूजीसी के निर्णय का विरोध कर रहे हैं। बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री, दिल्ली के मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर अंतिम वर्ष की परीक्षा रद्द करने की मांग की थी। इसके अलावा, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी भी परीक्षा कराए जाने के यूजीसी के फैसले के विरोध में हैं। वहीं, शिवसेना की युवा शाखा ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर सितंबर तक परीक्षा कराए जाने के निर्णय को चुनौती दी थी।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

सीआईएससीई ने कंपार्टमेंट परीक्षा को लेकर नहीं दी कोई जानकारी, गत वर्ष ही लागू की थी योजना, एक साल बाद ही कंपार्टमेंट परीक्षा पर लग रहा है ग्रहण

एक साल बाद ही कंपार्टमेंट परीक्षा पर लग रहा है ग्रहण, सीआईएससीई ने कंपार्टमेंट परीक्षा को लेकर नहीं दी कोई जानकारी, गत वर्ष ही लागू की थी योजना।


काउंसिल फॉर दी इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशंस (सीआईएससीइ) के हाईस्कूल और इंटर कंपार्टमेंट परीक्षा का अभी कुछ अता पता नहीं है। परिषद ने इस संबंध में स्कूलों को कोई जानकारी उपलब्ध नहीं कराई है। एक तरफ सीबीएसई और यूपी बोर्ड में कंपार्टमेंट के लिए आवेदन प्रक्रिया चल रही है, वहीं सीआईएससीई ने किसी प्रकार की सूचना जारी नहीं की है। संबद्ध स्कूलों की माने तो इस बार परिषद के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा कराना संभव नहीं लग रहा है।




परिषद ने गत वर्ष से अपने छात्रों के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा की सुविधा लागू की थी। योजना के तहत 10वीं और 12वीं में फेल दो विषयों में छात्र परीक्षा दे सकते हैं। गत वर्ष जुलाई में परीक्षा आयोजित कर अगस्त के प्रथम सप्ताह में परिणाम भी जारी कर दिया गया था, लेकिन इस बार कंपार्टमेंट परीक्षा के संबंध में कोई सूचना जारी नहीं की है। जबकि 10 जुलाई को हाईस्कूल और इंटर बोर्ड परीक्षा का परिणाम जारी हो चुका है। डेढ़ महीने से ज्यादा का समय बीत चुका है परिषद ने अभी तक कंपार्टमेंट परीक्षा की बाबत दिशा निर्देश नहीं दिए हैं। स्कूलों की माने तो परिषद के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा कराना आसान नहीं लग रहा है। अभी आवेदन प्रक्रिया तक शुरू नहीं हुई। पहले आवेदन होगा फिर एडमिट कार्ड जारी कर परीक्षा कराई जाएगी। फिर परिणाम जारी किया जाएगा। ऐसे में नवंबर माह तक प्रक्रिया समाप्त होगी जो काफी लेट हो जाएगी। इन्हीं सब स्थितियों को देखकर स्कूल प्रशासन को इस बार कंपार्टमेंट की उम्मीद नहीं लग रही है।


कंपार्टमेंट परीक्षा ना कराने का यह भी हो सकता है कारण
स्कूल प्रशासन कंपार्टमेंट ना होने का एक कारण और मान रहा है। परिषद के नियम के अनुसार कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए पांच विषयों में परीक्षा देना अनिवार्य है जबकि इस बार कोरोना वायरस की वजह से परीक्षाएं बीच में स्थगित कर दी गई थी। बहुत कम छात्र है जो सभी पांच विषयों की परीक्षा दे पाए थे। ऐसे में जो छात्र पांच विषयों की परीक्षा नहीं दे पाए होंगे कंपार्टमेंट परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे और ऐसे छात्रों की संख्या ज्यादा होगी। इसलिए माना जा रहा है कि इस नियम के चलते भी परिषद कंपार्टमेंट परीक्षा नहीं करा पाएगा। सेंट जोसेफ कॉलेज के निदेशक अनिल अग्रवाल ने बताया कि अभी तक परिषद की तरफ से कंपार्टमेंट परीक्षा को लेकर कोई सूचना जारी नहीं की गई है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, August 23, 2020

यूपी बोर्ड : कक्षा 10 व 12 के बच्चे पहली बार देंगे प्री बोर्ड एग्जाम, पाठ्यक्रम भी 30% घटा

यूपी बोर्ड : कक्षा 10 व 12 के बच्चे पहली बार देंगे प्री बोर्ड एग्जाम, पाठ्यक्रम भी 30% घटा।




UP Board: 2021 की बोर्ड परीक्षा में सम्मिलित होने की तैयारी कर रहे 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को अनिवार्य रूप से प्री बोर्ड एग्जाम भी देना होगा। कोरोना काल में ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे बच्चों की तैयारियों परखने के उद्देश्य से सचिव ने शैक्षणिक पंचांग में फरवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह में प्री बोर्ड परीक्षा कराने के निर्देश दिए हैं।




सचिव दिव्यकान्त शुक्ल ने शनिवार को मीडिया को बताया कि विभिन्न कक्षाओं में आनलाइन या ऑफलाइन माध्यम से शिक्षण कार्य 31 जनवरी 2021 तक पूर्ण किया जाएगा। उसके बाद प्री बोर्ड परीक्षा (यह कान्सेप्ट प्रथम बार प्रयोग किया जा रहा है) आयोजन फरवरी 2021 के तृतीय एवं चतुर्थ सप्ताह में किया जाएगा। इससे पहले प्री बोर्ड परीक्षा की अनिवार्यता नहीं थी। कुछ स्कूल अपने स्तर पर बोर्ड परीक्षा से पहले बच्चों की तैयारी परखने के लिए परीक्षा कराते थे और उसके आधार पर आवश्यकता पड़ने पर एक्स्ट्रा क्लासेस चलाकर बच्चों की मुकम्मल तैयारी करवाते थे। लेकिन इस बार शैक्षणिक पंचांग में शामिल होने के बाद सभी स्कूलों को प्री बोर्ड परीक्षा कराना पड़ेगा। ये परीक्षा ऑनलाइन होगी या ऑफलाइन ये तो कोरोना महामारी से पैदा होने वाले हालात पर निर्भर करेगा।




कब क्या हुआ?

20 जुलाई को 9 से 12 तक के पाठ्यक्रम को लगभग 30 प्रतिशत संक्षिप्त करते हुए बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किया गया।
13 अगस्त को शैक्षिक पंचाग एवं शैक्षणिक क्रियाकलाप का माहवार एकेडमिक कैलेन्डर जारी किया गया।
18 अगस्त से विभिन्न कक्षाओं में ऑनलाइन/वर्चुअल स्कूल के माध्यम से शिक्षण कार्य प्रारम्भ।


ऑनलाइन शिक्षण की समय सारिणी
कक्षा---------------------प्रसारण-----------------प्रसारण समय-------------------पुनः प्रसारण (रिपीट)

9 व 11----------स्वयं प्रभा चैनल-22--------सुबह 11 से 1 बजे तक--------दोपहर बाद 4.30 से 6.30 बजे तक

10 व 12--------दूरदर्शन --------1 से 2 बजे तक,-----------------2.30 से 3, 3.30 से 5, 5.30 से 6.30 बजे तक





हर सप्ताह ऑनलाइन पढ़ाई की समीक्षा करेंगे सचिव दिव्यकांत शुक्ल : सचिव यूपी बोर्ड दिव्यकांत शुक्ल हर सप्ताह ऑनलाइन पढ़ाई की समीक्षा करेंगे। वर्चुअल स्कूल एवं ई-ज्ञान गंगा के माध्यम से जनपदों में छात्र-छात्राओं के पठन-पाठन की साप्ताहिक रिपोर्ट समस्त मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक से प्राप्त करना एवं उसके पर्यवेक्षण आदि का दायित्व भी शिक्षा सचिव को दिया गया है। छात्रों के मूल्यांकन के लिए प्रश्न बैंक तैयार करना, छात्रों का मूल्यांकन करना तथा उनके लिए पाठ्य-पुस्तकों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने की जिम्मेदारी भी सचिव को दी गई है।



10-12 विद्यालयों पर एक नोडल अफसर करेंगे निगरानी : ऑनलाइन पढ़ाई सुनिश्चित करने के लिए डीआईओएस आरएन विश्वकर्मा ने 10 से 12 स्कूलों पर एक नोडल अफसर की तैनाती की है। जिले के कुल 1057 राजकीय, सहायता प्राप्त एवं वित्तविहीन स्कूलों पर कुल 84 प्रधानाचार्य नोडल अफसर की जिम्मेदारी निभाएंगे। ये प्रधानाचार्य पठन-पाठन की साप्ताहिक समीक्षात्मक रिपोर्ट डीआईओएस को देंगे।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।