DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label परीक्षा. Show all posts
Showing posts with label परीक्षा. Show all posts

Sunday, May 9, 2021

कोरोना ने यूपी बोर्ड को दिखाया परीक्षा में सुधार का रास्ता

कोरोना ने यूपी बोर्ड को दिखाया परीक्षा में सुधार का रास्ता


 प्रयागराज : कोरोना की दूसरी लहर ने बड़ी संख्या में लोगों की सांसें छीन ली है और हजारों लोग बीमारी से जूझ रहे हैं। विकट दौर ने परीक्षार्थियों की संख्या के हिसाब से सबसे बड़े परीक्षा संस्थान यूपी बोर्ड में सुधार करने का रास्ता भी दिखाया है। इस समय परीक्षाएं होना संभव नहीं और सीबीएसई की तरह यूपी बोर्ड हाईस्कूल के छात्र-छात्रओं को प्रमोट करने की स्थिति में नहीं है। बोर्ड के पास विद्यालय स्तर पर होने वाली वर्षभर की परीक्षाओं का रिकॉर्ड नहीं है। बोर्ड के साथ शासन भी इसका रास्ता खोज रहा है।




असल में, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने अप्रैल माह में निर्णय लिया कि इस वर्ष हाईस्कूल की परीक्षा नहीं होगी, परीक्षार्थी अगली कक्षा में प्रमोट होंगे। इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इंटर के संबंध में फैसला होना है। सीबीएसई व यूपी बोर्ड का पाठ्यक्रम लगभग समान है लेकिन, दोनों की परीक्षा प्रणाली में अंतर बरकरार है। सीबीएसई में मासिक टेस्ट के अलावा छमाही व वार्षिक परीक्षा का पूरा रिकॉर्ड ऑनलाइन है। केंद्रीय बोर्ड छात्र-छात्रओं के प्रदर्शन के आधार पर हाईस्कूल में आसानी से प्रमोट कर सकता है।

Saturday, May 8, 2021

UP बोर्ड परीक्षा पर अभी भी असमंजस की स्थिति

UP बोर्ड परीक्षा पर अभी भी असमंजस की स्थिति


 
माध्यमिक शिक्षा विभाग 20 मई तक स्थगित हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति में है। विभाग के अधिकारी का कहना है कि संक्रमण की वर्तमान स्थिति में परीक्षा कराना संभव नहीं है। ऐसे में सीबीएसई की तर्ज पर हाई स्कूल की परीक्षा को रद्द कर इंटरमीडिएट परीक्षा ही आयोजित कराने का विचार है। 


विभाग के प्रमुख सचिव अनिल कुमार का कहना है कि ऐसा सुझाव आया है, लेकिन उस पर उप मुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री से मार्गदर्शन लेने के बाद ही निर्णय किया जाएगा।

Friday, May 7, 2021

कोरोना इफेक्ट: मई माह में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाएं स्थगित, यूजीसी ने विश्वविद्यालयों को लिखा पत्र

कोरोना इफेक्ट: मई माह में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाएं स्थगित, यूजीसी ने विश्वविद्यालयों को लिखा पत्र


यूजीसी ने मई माह में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। अब जून में समीक्षा बैठक के बाद ही इन परीक्षाओं के संबंध में कोई फैसला लिया जाएगा।


कोरोना संक्रमण की वर्तमान दर को मद्देनजर रखते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने मई माह में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। यूजीसी ने इस संबंध में सभी विश्वविद्यालयों और राज्यों को पत्र लिखकर मई माह में कोई भी ऑफलाइन परीक्षा आयोजिन न करने के निर्देश दिए हैं। पत्र में यह भी लिखा गया है कि जून में समीक्षा बैठक के बाद ही इन परीक्षाओं के संबंध में कोई फैसला लिया जाएगा।


यूजीसी ने लिखा, जैसा कि हम सभी जानते हैं कि देश के कई हिस्से कोविड-19 की दूसरी लहर का सामना कर रहे हैं। ऐसे समय में सभी के स्वास्थ्य का ध्यान रखना और सुरक्षा सुनिश्चित करना सबसे महत्वपूर्ण है। देश भर के संस्थान पहले से ही इस दिशा में हर संभव उपाय कर रहे हैं।


देश में कोरोना संक्रमण के मौजूदा हालातों को मद्देनजर रखते हुए, कैंपस में शारीरिक दूरी बनाए रखने और छात्रों, शिक्षकों व कर्मचारियों राहत प्रदान करने के लिए यह आवश्यक है कि उच्च शिक्षा संस्थान, मई 2021 में आयोजित होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं को स्थगित कर दें। 


हालांकि, कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए केंद्रीय/राज्य सरकार, शिक्षा मंत्रालय, या यूजीसी द्वारा जारी दिशा-निर्देशाें और स्थानीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए उच्च शिक्षा संस्थान, ऑनलाइन परीक्षाओं के संचालन के संबंध में उचित निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं।

इस संबंध में अगले महीने, उच्च शिक्षा संस्थान द्वारा स्थिति की देखते हुए उचित निर्णय लिया जा सकता है।

Monday, May 3, 2021

परीक्षाओं पर मांगी गई कार्ययोजना, उच्च शिक्षा निदेशालय ने जारी किया पत्र

परीक्षाओं पर मांगी गई कार्ययोजना, उच्च शिक्षा निदेशालय ने जारी किया पत्र


प्रयागराज कोविड के मद्देनजर राज्य विश्वविद्यालयों में भी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं, लेकिन परीक्षाओं के आयोजन पर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। इसके लिए उच्च शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के सभी राज्य विश्वविद्यालयों को पत्र जारी करते हुए परीक्षाओं को लेकन उनका अभिमत और कार्ययोजना मांगी है।


प्रो. राजेंद्र सिंह ( रज्जू भइया) राज्य विश्वविद्यालय में विषम सेमेस्टर की परीक्षाएं हो चुकी हैं, लेकिन कोविड संक्रमण तेजी से बढ़ने के कारण वार्षिक परीक्षाएं समय से शुरू नहीं कराई जा सकीं। ज्यादातर विश्वविद्यालयों की यही हालत है। विश्वविद्यालय प्रशासन के लिए यह तय करना मुश्किल हो गया है कि संक्रमण के इस दौर में परीक्षाएं कराएं या नहीं।


अगर परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं तो छात्र-छात्राओं पर संक्रमण का खतरा बढ़ जाएगा और परीक्षाओं में विलंब होता है तो अगला सत्र समय से शुरू कर पाना बड़ी चुनौती होगी।


फिलहाल राज्य विश्वविद्यालय प्रशासन को परीक्षाओं को लेकक अपना अभिमत उपलब्ध करना है । सहायक निदेशक उच्च शिक्षा संजय सिंह की ओर से प्रदेश के सभी राज्य विश्वविद्यालयों के कुलसचिवों को पत्र जारी कर कहा गया है कि शासन से प्राप्त निर्देशों के क्रम कोविड 19 के मद्देनजर विश्वविद्यालय वार्षिक परीक्षा / विभिन्न परीक्षाएं 2021 के संबंध में अपनी कार्ययोजना से अपने अभिमत सहित पूरी रिपोर्ट तत्काल शासन को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करे।

CBSE Board Exam 2021: एग्जाम के लिए रहें तैयार! सीबीएसई 12वीं क्लास का प्रश्न बैंक जारी, करें डाउनलोड

CBSE Board Exam 2021: एग्जाम के लिए रहें तैयार! सीबीएसई 12वीं क्लास का प्रश्न बैंक जारी, करें डाउनलोड


CBSE Class 12 Board Exam 2021: सीबीएसई बोर्ड ने 12वीं क्लास के सबजेक्ट वाइज क्वीश्चन बैंक अपलोड किए हैं। 12वीं की बोर्ड परीक्षा कोरोना वायरस के कारण स्थगित हुई थी।
    

● CBSE 12वीं क्लास का प्रश्न बैंक जारी।
● 01 जून को घोषित हो सकती है समीक्षा बैठक।
● 15 दिन पहले जारी होगी 12वीं बोर्ड एग्जाम की डेटशीट।




CBSE Class 12 Board Exam 2021 Latest Update: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कक्षा 12वीं बोर्ड परीक्षा सैंपल पेपर्स (CBSE Class 12 Sample papers) के बाद, प्रश्न बैंक (CBSE 12th Question Bank) भी जारी कर दिया है। स्टूडेंट्स सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना क्वीश्चयन बैंक चेक और डाउनलोड कर सकते हैं।


बोर्ड ने 12वीं क्लास के सबजेक्ट वाइज क्वीश्चन बैंक अपलोड किए हैं। स्टूडेंट्स अपने विषय की तैयारी करने के लिए सीबीएसई की वेबसाइट से सैंपल पेपर्स के साथ-साथ क्वीश्चन बैंक डाउनलोड कर सकते हैं। क्वीश्चन बैंक डाउनलोड करने का तरीका और डायरेक्ट लिंक नीचे दिया गया है।

ऐसे डाउनलोड करें CBSE Class 12 Question bank

● चरण 1: सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट cbseacademic.nic.in या cbse.nic.in पर जाएं।

● चरण 2: होम पेज पर, 'question bank' टैब पर जाएं और कक्षा 12 पर क्लिक करें।

● चरण 3: स्क्रीन पर एक नया पेज खुल जाएगा।

● चरण 4: उस विषय का चयन करें जिसका आप प्रश्न बैंक देखना चाहते हैं।

● चरण 5: पीडीएफ फाइल के साथ एक नया पेज दिखाई देगा।

● चरण 6: इसे डाउनलोड करें और एग्जाम की तैयारी करें।



सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम डेट
देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस (Covid 19) महामारी प्रकोप के कारण सीबीएसई ने 12वीं क्लास की बोर्ड परीक्षा 2021 को स्थगित कर दी थी। बोर्ड कोरोना वायरस की स्थिति पर समीक्षा बैठक के बाद 12वीं क्लास की रिवाइज्ड एग्जाम डेट जारी करेगा। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' (Education minister Ramesh Pokhriyal) के सुझाव के अनुसार, बोर्ड 1 जून 2021 को देश में कोविड -19 स्थिति पर समीक्षा के बाद नई बोर्ड परीक्षा तारीखों का ऐलान कर सकता है।


एग्जाम के लिए रहें तैयार
सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, बोर्ड एग्जाम से 15 दिन पहले 12वीं बोर्ड परीक्षा तारीखों का ऐलान कर सकता है। छात्रों को वेबसाइट पर नजर बनाए रखने की सलाह दी जाती है।




Saturday, May 1, 2021

यूपी बोर्ड परीक्षा अब जून के अंत तक ही संभव

यूपी बोर्ड परीक्षा अब जून के अंत तक ही संभव


लखनऊ। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा अब जून के अंत तक ही आयोजित हो सकेगी। संक्रमण को देखते हुए माध्यमिक शिक्षा विभाग सीबीएसई की तर्ज पर हाईस्कूल की परीक्षा रद्द कर इंटर बोर्ड की परीक्षाएं कराने पर भी विचार कर रहा है। हालांकि अंतिम निर्णय सीएम की मंजूरी के बाद ही होगा।

Thursday, April 29, 2021

UP Board Exam : यूपी बोर्ड के सचिव का ऑनलाइन संवाद, मूल्यांकन में नरमी बरतें, पूरी कॉपी को जरूर पढ़ें शिक्षक

UP Board Exam : यूपी बोर्ड के सचिव का ऑनलाइन संवाद,  मूल्यांकन में नरमी बरतें, पूरी कॉपी को जरूर पढ़ें शिक्षक


यूपी बोर्ड के सचिव ने प्रदेश के सभी जिलों के प्रधानाचार्यों विषय-विशेषज्ञों और डीआइओएस से संवाद में मूल्यांकन को लेकर जरूरी दिशा निर्देश दिए। इसके साथ ही परीक्षार्थियों के हित में अभी से निर्णय लेने की बात कही है।


कानपुर  ।  कोरोना महामारी के बीच यह कोशिश होनी चाहिए कि, मूल्यांकन के दौरान परीक्षार्थियों के साथ नरमी रखें। हिंदी का विशेष ध्यान रखते हुए, अगर परीक्षार्थी ने वर्तनी की कोई गलती नहीं की तो उसे अंक दें। पिछले वर्ष हिंदी में फेल होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या सबसे ज्यादा थी। इसलिए इस सत्र में सावधानी के साथ मूल्यांकन करें। यूूपी बोर्ड सचिव डॉ.दिव्यकांत शुक्ला ने यह चर्चा, प्रदेश के हर जिले के प्रधानाचार्यों, विषय- विशेषज्ञों व डीआइओएस से की।


दरअसल, कुछ दिनों पहले यूपी बोर्ड परीक्षा की स्कीम जारी हो गई थी। आठ मई से परीक्षाएं शुरू होनी थीं। हालांकि अचानक से कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ा और परीक्षाएं टाल दी गईं। अब परीक्षाओं पर 20 मई के बाद फैसला होगा। अगर परीक्षाएं होंगी तो मूल्यांकन भी होगा। कोरोन महामारी की इस दूसरी लहर में मूल्यांकन के दौरान परीक्षार्थियों के हित में काफी हद तक फैसला लेने की हिदायत शिक्षकों को अभी से दी गई है।


यूपी बोर्ड सचिव के साथ मूल्यांकन को लेकर हुए ऑनलाइन संवाद में शामिल हुए चाचा नेहरू इंटर कॉलेज गोविंद नगर के प्रधानाचार्य डॉ.अनवेश सिंह ने बताया कि इस सत्र में मूल्यांकन के दौरान यह भी जानकारी दी गई, कि परीक्षार्थी की पूरी कॉपी को पढ़ना है। ऐसा न हो, कि पहले पेज पर ही भद्दा लेखन देखकर उसे शून्य अंक दे दिए जाएं। उन्होंने कहा, कि इस सत्र के मूल्यांकन में परीक्षकों को बहुत अधिक सावधानी के साथ कॉपियां जांचनी होंगी और परीक्षार्थी के प्रति नरम व्यवहार रखते हुए मूल्यांकन कार्य करना होगा।

Friday, April 23, 2021

CBSE ने परीक्षा पैटर्न में किया बदलाव

सीबीएसई ने परीक्षा पैटर्न में किया बदलाव

CBSE Exam 2021: सीबीएसई कक्षा 9 से 12वीं तक की असेसमेंट और इवैल्युएशन प्रक्रिया में हुआ बदलाव


CBSE Changes  Assessment, Evaluation for 2021-22: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) के तहत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) सत्र 2021-22 से कक्षा 9 से 12वीं तक के लिए असेसमेंट और इवैल्युएशन में बदलाव किया है। सीबीएसई की ओर से इवैल्युएशन को लेकर हाल में जारी किए गए नोटिस के अनुसार, सीबीएसई का यह कदम प्रतिस्पर्धा आधारित शिक्षा (CBE) को बल देना है। इस संबंध में सीबीएसई ने अपनी वेबसाइट cbseacademic.nic.in पर विस्तृत नोटिस जारी किया है।

नोटिस के अनुसार, सीबीएसई की कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं में अधिक प्रतिस्पर्धा (competency) आधारित प्रश्नों को शामिल किया जाएगा। इसी प्रकार से कक्षा 9 और 11 की परीक्षाओं में भी प्रतिस्पर्धा आधारित अधिक प्रश्न शामिल होंगे। इसका मकसद होगा कि वास्तविक जीवन या आसामान्य परिस्थिति भी प्रश्नपत्र का हिस्सा हो।

सीबीएसई से मान्यता प्राप्त स्कूलों के सभी प्रमुखों को मिले पत्र के अनुसार, सीबीएसई ने यह बदलाव आगामी नए शैक्षिक सत्र के लिए किया है। परीक्षा में प्रश्नों का यह नया पैटर्न कक्षा 9 और 10 में 30 फीसदी होगा जबकि कक्षा 11 और 12 में 20 फीसदी होगा। 

कक्षा 11 और 12 में 20 फीसदी प्रतिस्पर्धा आधारित प्रश्न होंगे, नए सत्र में 20 फीसदी प्रश्न विकल्पीय और 60 फीसदी प्रश्न शॉर्ट एंड लॉन्ग आंसर वाले होगे। हालांकि परीक्षा का समय और ओवरऑल मार्क्स में कोई बदलाव नहीं होगा।


नई दिल्ली: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सत्र 2021-22 से परीक्षा पैटर्न में बदलाव किया है। बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक अब कक्षा नौवीं से 12वीं की वार्षिक और बोर्ड परीक्षाओं के प्रश्न पत्रों में बदलाव किया जाएगा। छात्रों से योग्यता आधारित प्रश्न अधिक पूछे जाएंगे। ऐसे प्रश्नों को तरजीह दी जाएगी, जो वास्तविक जीवन से जुड़े हुए होंगे। इससे छात्रों में रचनात्मक सोच विकसित होगी।


बोर्ड के मुताबिक नौवीं और 10वीं में लगभग 30 फीसद बहुविकल्पीय, केस-आधारित और सोर्स आधारित इंटीग्रेटेड सवाल पूछे जाएंगे। 20 फीसद सवाल वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे और 50 फीसद लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न होंगे। कक्षा 11 और 12 में 20 फीसद योग्यता आधारित प्रश्न होंगे। सीबीएसई ने यह बदलाव विद्यार्थियों के हित में नई शिक्षा नीति के आलोक में किया है। योग्यता आधारित प्रश्न पूछे जाने छात्रों की बौद्धिक क्षमता का आकलन हो सकेगा। विद्यार्थियों को आगे चलकर यह पैटर्न लाभदायक हो सकता है।


● पाठ्यक्रम को रटने की जगह छात्रों में रचनात्मक सोच होगी विकसित
● कक्षा नौ से बारह की वार्षिक व बोर्ड परीक्षाओं के पेपर में बदलाव

ये हुए बदलाव


★ कक्षा 11 और 12


■ मौजूदा पैटर्न (2020-21)
● बहुविकल्पीय प्रश्न के साथ वस्तुनिष्ठ प्रश्न (20 फीसद)
● केस-आधारित और सोर्स आधारित प्रश्न (10 फीसद)
● लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न-(70 फीसद)


■ संशोधित पैटर्न (2021-22)
● 20 फीसद योग्यता आधारित प्रश्न होंगे। इसमें बहुविकल्पीय, केस-आधारित और सोर्स आधारित प्रश्न होंगे।
● 20 फीसद वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे।
● शेष 60 फीसद प्रश्न लघु और दीर्घ उत्तरीय होंगे।



★ कक्षा 9 और 10


■ मौजूदा संरचना (2020-21)
● बहुविकल्पीय प्रश्न के साथ वस्तुनिष्ठ प्रश्न (20 फीसद)
● केस-आधारित और सोर्स आधारित प्रश्न (20 फीसद)
● लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न-(60 फीसद)


■ संशोधित (2021-22)
● 30 फीसद प्रश्न योग्यता आधारित प्रश्न होंगे। इसमें बहुविकल्पीय, केस- आधारित और सोर्स आधारित प्रश्न होंगे।
● 20 फीसद वस्तुनिष्ठ प्रश्न होंगे।
● 50 फीसद लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न होंगे।

Wednesday, April 21, 2021

आईसीएसई : 10वीं बोर्ड परीक्षा निरस्त

आईसीएसई : 10वीं बोर्ड परीक्षा निरस्त


नई दिल्ली। काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) ने भी दसवीं की बोर्ड परीक्षाएं निरस्त कर दी हैं। ये परीक्षाएं 4 मई से होनी थीं। 12वीं की परीक्षाएं 16 अप्रैल को जारी सर्कुलर के मुताबिक ही ऑफलाइन मोड में होंगी। इसका शेड्यूल बाद में जारी किया जाएगा। 10वीं के परिणाम के लिए मानदंड की जानकारी बाद में दी जाएगी।


आइसीएसई ने भी टालीं बोर्ड परीक्षाएं : आइसीएसई ने भी चार मई से प्रस्तावित 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। इनकी नई तारीखों का एलान स्थिति की समीक्षा के बाद जून के पहले हफ्ते में किया जाएगा। आइसीएसई के सचिव गैरी अराथून ने बताया कि 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं बाद में कराई जाएंगी। वहीं 10वीं के छात्रों को बाद में परीक्षा में बैठने या न बैठने का विकल्प मिलेगा।

Saturday, April 17, 2021

JNVST Exam 2021 : जवाहर नवोदय विद्यालय की छठी कक्षा में प्रवेश के लिए होने वाली परीक्षा टली

JNVST Exam 2021 : जवाहर नवोदय विद्यालय की छठी कक्षा में प्रवेश के लिए होने वाली परीक्षा टली


JNVST 2021 : जवाहर नवोदय विद्यालय ( जेएनवी ) की छठी कक्षा में दाखिले के लिए होने वाले जवाहर नवोदय विद्यालय सेलेक्शन टेस्ट ( जेएनवीएसटी - JNVST ) 2021 को स्थगित कर दिया गया है। जवाहर नवोदय स्कूलों की छठी कक्षा में दाखिले के लिए यह प्रवेश परीक्षा 1 माह बाद 16 मई को होने वाली थी। नवोदय विद्यालय समिति ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट navodaya.gov.in पर नोटिस जारी कर इस फैसले की सूचना दी है। समिति ने कहा है कि नई डेट की सूचना एग्जाम डेट से कम से कम 15 दिन पहले दी जाएगी। 



आपको बता दें कि जेएनवीएसटी 2021 परीक्षा मिजोरम, मेघालय और नागालैंड को छोड़कर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए प्रवेश परीक्षा 16 मई को आयोजित की जानी थी।

प्रदेश के सभी शिक्षा बोर्डो की परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित

प्रदेश के सभी शिक्षा बोर्डो की परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित


लखनऊ: सीबीएसई व यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षाओं के बाद अब प्रदेश के सभी शिक्षा बोर्डो की परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित कर दी गई हैं। मुख्यमंत्री ने 15 अप्रैल को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित करने का निर्देश दिया था। उसी क्रम में शासन ने प्रदेश के अन्य बोर्डो की हर प्रकार की परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित कर दी हैं। आइसीएसई बोर्ड, माध्यमिक संस्कृत शिक्षा बोर्ड व मदरसा बोर्ड में गृह व आंतरिक परीक्षाएं भी अब नहीं हो सकेंगी।




मांग : बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए लागू करें ऑनलाइन परीक्षा का विकल्प

मांग : बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए लागू करें ऑनलाइन परीक्षा का विकल्प


प्रयागराज कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने दसवीं एवं बारहवीं की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित करदी हैं। परीक्षाएं स्थगित करने के निर्णय से परेशान अभिभावकों, शिक्षकों, प्रधानाचार्यों एवं छात्रों ने ऑनलाइन परीक्षा का विकल्प देने की मांग की है। परीक्षार्थियों की मांग है कि जिस प्रकार इलाहाबाद विश्वविद्यालय सहित दूसरे संस्थान अपनी कॉपी देकर छात्रों को परीक्षा में शामिल कर रहे हैं, उसी तरीके से सीबीएसई और यूपी बोर्ड भी बच्चों की ऑनलाइन कॉपी जमा करने की व्यवस्था कर परीक्षा करा सकते हैं। 


ऑनलाइन परीक्षा में जिन छात्रों को कॉपी जमा करने में समस्या हो उसके लिए क्षेत्र के किसी विद्यालय को नोडल सेंटर बनाकर ऑनलाइन कॉपी जमा करने की व्यवस्था की जा सकती है। ऑनलाइन विकल्प के तौर पर छात्रों को ई-मेल पर कॉपी जमा करने की सुविधा दी जा सकती है। ऐसे में छात्रों का कुछ मूल्यांकन तो हो सकेगा। पूरे सालभर पढ़ाई करने के बाद जब छात्रों का परीक्षा से मूल्यांकन होगा तो उन्हें अपने बारे में पता चलेगा राजकीय इंटर कॉलेज के डॉ. प्रभाकर त्रिपाठी का कहना है कि जब ऑफलाइन परीक्षा का विकल्प न हो तो छात्रों का मूल्यांकन ऑनलाइन किया जाए। 


छात्रों को कॉपी देकर उसे ऑनलाइन जमा करने की व्यवस्था करके परीक्षा कराई जा सकती है। अभिभावक डॉ. लक्ष्मण चतुर्वेदी का कहना है कि अब ऑनलाइन परीक्षा ही एकमात्र विकल्प है। इसे सीबीएसई एवं यूपी बोर्ड दोनों को अपनाना चाहिए। काउंसलर डॉ. मनु भट्ट का कहना है कि परीक्षा रद्द नहीं करनी चाहिए। दसवीं के छात्रों का ऑनलाइन असेसमेंट करके उन्हें नंबर देने चाहिए। बारहवीं के अंक कॅरियर में निर्णायक होते हैं, ऐसे में परीक्षा जरूरी है। छात्रों के लिए बोर्ड की वेबसाइट पर प्रश्नपत्र उपलब्ध कराए जाएं। छात्रों से कॉपी में उत्तर लिखवाकर उसका मूल्यांकन कराया जाए।

Friday, April 16, 2021

यूपी बोर्ड में परीक्षार्थियों को प्रमोट करने का आधार नहीं तो इसके आसार भी नहीं

यूपी बोर्ड में परीक्षार्थियों को प्रमोट करने का आधार नहीं तो  आसार भी नहीं


 लखनऊ: यूपी बोर्ड में परीक्षार्थियों को प्रमोट करने के आसार नहीं हैं। बोर्ड प्रशासन इस पर मंथन जरूर कर रहा है, लेकिन उसे फिलहाल ऐसा कोई आधार नहीं मिल रहा जिस पर वह छात्र-छात्रओं को अगली कक्षा में प्रोन्नत कर सके।


ज्ञात हो कि बुधवार को सीबीएसई ने चार मई से होने वाली हाईस्कूल व इंटर परीक्षाओं के संबंध में बड़ा निर्णय लिया। हाईस्कूल की परीक्षा रद हो गई, उनके परीक्षार्थी अगली कक्षा में प्रमोट होंगे। वहीं, इंटर के संबंध में एक जून को निर्णय लिया जाएगा। भले ही इन दिनों सीबीएसई व यूपी बोर्ड का पाठ्यक्रम लगभग समान हो गया है लेकिन, दोनों की परीक्षा प्रणाली में बड़ा अंतर है। 


सीबीएसई में जहां मासिक टेस्ट के अलावा छमाही व वार्षिक परीक्षा का पूरा रिकॉर्ड ऑनलाइन है। इससे केंद्रीय बोर्ड छात्र-छात्रओं के प्रदर्शन के आधार पर हाईस्कूल में प्रमोट आसानी से कर सकता है। इसके उलट यूपी बोर्ड में कक्षा नौ तक का रिकॉर्ड बोर्ड मुख्यालय पर नहीं भेजा जाता, मासिक टेस्ट होते नहीं और छमाही का रिजल्ट भी सभी स्कूल नहीं देते। इधर प्री बोर्ड यानी हाईस्कूल व इंटर परीक्षा से पहले स्कूल स्तर की परीक्षा कराने पर जोर दिया गया। इस बार फरवरी में इम्तिहान हुए भी हैं लेकिन, उसका रिकॉर्ड भी बोर्ड के पास नहीं है। 


यूपी बोर्ड में अधिकांश कालेज वित्तविहीन हैं, जबकि राजकीय व अशासकीय कालेज एक तिहाई ही हैं। अब यदि बोर्ड जिलों से नौवीं और प्री बोर्ड का रिकॉर्ड मांगे तो स्थिति असहज हो सकती है। सीबीएसई के निर्णय के बाद से इस ओर मंथन जरूर हुआ, लेकिन प्रमोट करने का निर्णय का आधार नहीं मिल रहा।

Thursday, April 15, 2021

आदेश जारी : यूपी में विश्वविद्यालय, महाविद्यालय व उच्च शिक्षण संस्थान की परीक्षाएं स्थगित, शिक्षण कार्य होगा ऑनलाइन

UP University Exam 2021 : यूपी के सभी विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं 15 मई तक टलीं, आदेश जारी

आदेश जारी : यूपी में विश्वविद्यालय, महाविद्यालय व उच्च शिक्षण संस्थान की परीक्षाएं स्थगित, शिक्षण कार्य होगा ऑनलाइन


उत्तर प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं 15 मई तक स्थगित कर दीं गई हैं। बरेली के एमजेपी रुहेलखंड विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के ऑनलाइन संबोधन के दौरान गुरुवार को डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने यह जानकारी दी। उन्होंने यह भी कहा कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं को भी 20 मई तक के लिए स्थगित किया जा रहा है। प्रदेश में अब कक्षा एक से लेकर 12 तक के सभी स्कूल व कॉलेज 15 मई तक बंद रहेंगे। 


मेरठ में मेडिकल और सेमेस्टर की परीक्षा भी स्थगित
कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने अब सेमेस्टर और मेडिकल की परीक्षा भी स्थगित कर दी है। अगले आदेश तक अब कोई भी परीक्षा नहीं होगी। इससे पहले वार्षिक मुख्य परीक्षाएं स्थगित की जा चुकी हैं। विश्वविद्यालय ने गुरुवार को यह निर्णय लिया। ये परीक्षाएं 16 अप्रैल से होने वाली थीं। इनमें एमबीबीएस, बीबीए, बीडीएस जैसे कोर्स के छात्र हैं। अब दोबारा से स्थिति की समीक्षा करने के बाद परीक्षा का नया कार्यक्रम जारी किया जाएगा।


उत्तर प्रदेश में बुधवार को कोरोना के 20,510 नए मामले सामने आए जिसमें अकेले लखनऊ में 5,433 संक्रमण के केस आए। राज्य में अभी भी 1,11,835 एक्टिव केस हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री ऑफिस के कुछ अधिकारी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए।


आपको बता दें कि यूपी बोर्ड की परीक्षाएं दूसरी बार टालीं गई हैं। प्रदेश में इससे पहले पंचायत चुनाव के कारण यूपी बोर्ड की परीक्षाओं को टाला गया था। यूपी बोर्ड की परीक्षाओं का आयोजन पहले 24 अप्रैल से होना था। इसके बाद पंचायत चुनाव के कारण एग्जाम टाइम टेबल आगे बढ़ाया गया था और परीक्षाएं 8 मई से निर्धारित की गई थीं। अब कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इसे फिर से टालना पड़ा है।

UP Board 10th 12th Exam 2021 : यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं भी 20 मई तक स्थगित

UP Board 10th 12th Exam 2021 : यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं भी 20 मई तक स्थगित


UP Board 10th 12th Exam 2021: कोरोना संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने हाईस्कूल और इंटर की बोर्ड परीक्षाएं 20 मई तक स्थगित कर दी हैं। यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं भी 15 मई तक टाल दी गई हैं। रुहेलखण्ड यूनिवर्सिटी दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में फैसला लिया गया है।



इससे पहले उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने बुधवार को कहा था कि यूपी बोर्ड की तारीखों पर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना पीक का आकलन समय-समय पर किया जा रहा है। हमारे 19 अधिकारी जो बोर्ड परीक्षाओं से संबंधित हैं, इनमें से 17 अधिकारी संक्रमित हैं। 


हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षाएं एक साथ 8 मई से शुरू होनी थीं। 10वीं की परीक्षा 12 कार्य दिवसों में सम्पन्न होकर 25 मई को समाप्त होनी थी जबकि 12वीं की परीक्षा 15 कार्य दिवसों में सम्पन्न होकर 28 मई को समाप्त होनी थी। लेकिन अब बोर्ड हालात की समीक्षा करने के बाद नया टाइम टेबल जारी करेगा।

■ 2021 की परीक्षा के लिए पंजीकृत छात्र छात्राएं
★ हाईस्कूल 
● 1674022 बालक
● 1320290 बालिकाएं
● योग 2994312 

★ इंटरमीडिएट
● 1473771 बालक
● 1135730 बालिकाएं
● योग - 2609501

महायोग: 5603813


यूपी बोर्ड से पहले सीबीएसई, छत्‍तीसगढ़ बोर्ड, पंजाब बोर्ड, राजस्थान बोर्ड, महाराष्ट्र बोर्ड, एमपी बोर्ड भी कोरोना के कारण अपनी परीक्षाएं स्थगित कर चुके हैं। सीबीएसई ने 10वीं की परीक्षा रद्द कर इंटरनल असेसमेंट के आधार पर रिजल्ट निकालने का फैसला किया है।

जानें, कैसे बिना परीक्षा तैयार किया जाएगा CBSE का 10वीं का रिजल्ट


जानें, कैसे बिना परीक्षा तैयार किया जाएगा CBSE का 10वीं का रिजल्ट


CBSE 10th Exam 2021 : देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के चलते सीबीएसई ने 4 मई से शुरू होने वाली 10वीं कक्षा की परीक्षा रद्द कर दी है। 12वीं की परीक्षा टाल दी गई है। 1 जून को स्थिति की समीक्षा करने के बाद 12वीं के नए शेड्यूल पर फैसला लिया जाएगा। शिक्षा मंत्रालय ने कहा है कि 10वीं कक्षा का रिजल्ट सीबीएसई द्वारा तैयार की गई एक वैकल्पिक पद्धति से जारी किया जाएगा। जल्द ही बोर्ड मूल्यांकन का फॉर्मूला तैयार करेगा। अगर कोई छात्र इस पद्धति से दिए गए मार्क्स से असंतुष्ट होता है तो उसे बाद में मौका दिया जाएगा। हालात ठीक होने पर परीक्षा कराई जाएगी जिसमें ऐसे छात्र अपने मार्क्स सुधार सकते हैं। 

पिछले साल नहीं हुए थे कई पेपर, ये था रिजल्ट का फॉर्मूला
पिछले साल कोरोना के चलते सीबीएसई को बीच में ही परीक्षाएं रोकनी पड़ी थीं। 10वीं 12वीं के कई पेपर नहीं हो सके थे। सीबीएसई 10वीं कक्षा के कई पेपर बच गए थे लेकिन मुख्य विषयों की श्रेणी में नहीं आने के कारण ये पेपर नहीं कराए गए थे। 10वीं 12वीं के शेष बचे कुल 83 विषयों के पेपरों में से 29 मुख्य विषयों की ही परीक्षाएं ली गईं थीं। शेष 54 विषयों का ग्रेडिंग से मूल्यांकन किया गया था। इंटरनल असेसमेंट, प्रोजेक्ट वर्क और असाइनमेंट वर्क के आधार पर इन पेपरो का रिजल्ट जारी हुआ था। संभव है कि सीबीएसई इस वर्ष 10वीं का रिजल्ट इंटरनल असेसमेंट, प्रोजेक्ट वर्क और असाइनमेंट वर्क के आधार पर जारी कर सकती है। 


पिछले वर्ष 10वीं कक्षा में 91.46 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए थे। मेरिट लिस्ट नहीं जारी की गई थी। कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को देखते हुए बोर्ड ने 12वीं और 10वीं दोनों कक्षाओं के टॉपरों का ऐलान नहीं किया था। 


इसके अलावा पिछले वर्ष सीबीएसई स्कूलों में कक्षा 9वीं और 11वीं के छात्रों को भी इंटरनल असेसमेंट, टेस्ट, प्रोजेक्ट वर्क के आधार पर पास कर दिया गया था। 


सीबीएसई से पहले छत्‍तीसगढ़ बोर्ड, पंजाब बोर्ड और एमपी बोर्ड भी कोरोना के कारण अपनी परीक्षाएं स्थगित कर चुके हैं।

Wednesday, April 14, 2021

CBSE exam 2021: सीबीएसई 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित और 10वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने ट्वीट कर दी जानकारी

CBSE exam 2021: सीबीएसई 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित और 10वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द, देखें अधिकृत नोटिफिकेशन


The Ministry of Education on April 14 decided to cancel CBSE board exams for Class 10 and postpone Class 12.

 Results of Class 10 examination will be prepared on the basis of an objective criterion to be developed by the Board. Class 12th exams will be held later, the situation will be reviewed on June 1 by the Board.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं। इसके अलावा 10वीं के एग्जाम फिलहाल कैंसिल कर दिए गए हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। 12वीं की मई और जून में होने वाली परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया, अब इनकी तारीख एक जून के बाद तय की जाएगी। 10वीं के स्टूडेंट्स का रिजल्ट बोर्ड द्वारा तैयार किए गए ऑब्जेएक्टिव क्राइटिया द्वारा तैयार किया जाएगा।


सीबीएसई 12वीं की परीक्षाएं की आगे की तारीख स्थिति को देखते हुए तय की जाएगी। परीक्षाएं शुरू होने से पहले 15 दिन पहले बताया जाएगा।


आज सीबीएसई परीक्षाओं को लेकर पीएम मोदी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक में यह फैसला लिया गया है।   आपको बता दें कि कल ही दिल्ली में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परीक्षाओं को रद्द किए जाने की मांग की थी। अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार से परीक्षा रद्द करने की अपील करते हुए कहा कि परीक्षा केंद्र वायरस के संक्रमण को फैलने में सहायक साबित हो सकते हैं। इसी बीच पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी केंद्र को पत्र लिखकर 10वीं, 12वीं बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित किए जाने की अपील की थी। 

आपको बता दें कि कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र ने भी राज्य बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर मई के आखिर या जून में कराने का फैसला लिया है। इसके अलावा मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (MPBSE) ने कक्षा 10, 12 परीक्षाएं आगे के लिए टाल दी हैं।  एमपी बोर्ड 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं 30 अप्रैल से शुरू होनी थी। एमपी स्कूल एजुकेशन विभाग जल्द ही नई तारीखों की घोषणा करेगा।  


सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक चलनी थी. सीबीएसई की इन बोर्ड परीक्षाओं की शुरुआत 4 मई से होनी थी. 6 मई को दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए इंग्लिश की परीक्षा आयोजित की जानी थी.


नई दिल्ली: देशभर में कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को आगे बढ़ा दिया गया है.


सीबीएसई की परीक्षाओं को रद्द करने या आगे बढ़ाने को लेकर उठ रही मांगों के मद्देनजर पीएम मोदी ने आज शिक्षा मंत्रालय के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की थी. इसी बैठक में फैसले के बाद ही शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने परीक्षाओं को ..... करने की घोषणा की है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित कई नेताओं ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरों के मद्देनजर सीबीएसई परीक्षाओं को रद्द करने की मांग की थी.


कब होनी थी CBSE बोर्ड परीक्षाएं
दसवीं और बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं की डेटशीट पहले ही जारी की जा चुकी है. बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक चलनी थी. वहीं 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट 15 जुलाई तक घोषित करने का एलान किया गया था. सीबीएसई की इन बोर्ड परीक्षाओं की शुरुआत 4 मई से होनी थी. सीबीएसई द्वारा जारी की गई डेटशीट के मुताबिक 6 मई को दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए इंग्लिश की परीक्षा आयोजित की जानी थी. 10 मई को हिंदी ,11 मई को उर्दू, 15 को विज्ञान, 20 को होम साइंस, 21 मई को गणित और 27 मई को सामाजिक विज्ञान की परीक्षा ली जानी थी.

CBSE exam 2021: सीबीएसई 10वीं, 12वीं की परीक्षाओं के टलने के आसार, परीक्षा रद्द करने का नहीं है विचार


CBSE exam 2021: सीबीएसई 10वीं, 12वीं की परीक्षाओं के टलने के आसार, परीक्षा रद्द करने का नहीं है विचार


केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को लेकर स्टूडेंट्स में असंमजस की स्थिति बनी हुई है। दरअसल सीबीएसई परीक्षाओं के एडमिट कार्ड एक महीने पहले जारी हो जाते हैं, लेकिन अभी तक परीक्षाओं के एडमिट कार्ड जारी नहीं किए गए हैं, जबकि परीक्षाएं 4 मई से शुरू होनी हैं। वहीं दूसरी तरफ कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए अधिकतर राज्यों की बोर्ड परीक्षाएं टाली जा रही हैं, यही वजह है कि स्टूडेंट्स को लग रहा है कि बोर्ड परीक्षाएं भी टाली जा सकती हैं।

  

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक शिक्षा विभाग और सीबीएसई के अधिकारी परीक्षाओं को टालने पर विचार कर रहे हैं, लेकिन परीक्षाएं रद्द करने को बोर्ड की कोई योजना नहीं है। कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र, एमपी ने परीक्षाएं आगे के लिए टाल दी हैं।


आपको बता दें कि कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र ने भी राज्य बोर्ड परीक्षाएं स्थगित कर मई के आखिर या जून में कराने का फैसला लिया है। वहीं यूपी बोर्ड ने भी 24 अप्रैल से होने वाली परीक्षाओं को पंचायत चुनाव और कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्थगित कर दिया है। इसके अलावा मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (MPBSE) ने कक्षा 10, 12 परीक्षाएं आगे के लिए टाल दी हैं।  एमपी बोर्ड 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं 30 अप्रैल से शुरू होनी थी। एमपी स्कूल एजुकेशन विभाग जल्द ही नई तारीखों की घोषणा करेगा।  


टलने के आसार
सीबीएसई डेटशीट के मुताबिक 10वीं कक्षा की परीक्षा चार मई से सात जून के बीच होगी और 12वीं कक्षा की परीक्षा चार मई से 15 जून के बीच आयोजित की जाएंगी। आपको बता दें कि देशभर में स्कूल खुलने के बाद से स्टूडेंट्स और शिक्षक कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं। आपको बता दें कि देशभर से लाखों स्टूडेंट्स इन बोर्ड परीक्षाओं में शमिल होते हैं। सोशल मीडिया पर पहले से ही स्टूडेंट्स और पैरेंट्स परीक्षाएं रद्द करने की मांग कर रहे हैं। 

केजरीवाल ने भी की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने की अपील, बोले- हॉटस्पॉट बन सकते हैं एग्जाम हॉल

केजरीवाल ने भी की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने की अपील, बोले- हॉटस्पॉट बन सकते हैं एग्जाम हॉल


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर केंद्र सरकार से 10वीं और 12वीं की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि बच्चों की सुरक्षा जरूरी है। सीबीएसई की परीक्षा के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि सीबीएसई की परीक्षाओं में इस बार दिल्ली के 6 लाख बच्चे बैठेंगे और 1 लाख टीचर भी शामिल होंगे। अगर उनकी सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए तो परीक्षा केंद्र बड़े हॉटस्पॉट बन सकते हैं। 


केजरीवाल ने कहा कि मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि सीबीएसई की परीक्षाओं को रद्द किया जाए। बोर्ड परीक्षाएं आयोजित कराने से कोरोना वायरस का संक्रमण व्यापक स्तर पर फैल सकता है, असेसमेंट के वैकल्पिक तरीकों को खोजा जा सकता है। छात्रों को ऑनलाइन परीक्षा या इंटरनल असेसमेंट के आधार पर अगली कक्षाओं में भेजा जा सकता है।

नवोदय विद्यालय में कक्षा 6 के लिए 16 मई को प्रस्तावित चयन परीक्षा हेतु प्रवेश पत्र जारी

नवोदय विद्यालय में कक्षा 6 के लिए 16 मई को प्रस्तावित चयन परीक्षा हेतु प्रवेश पत्र जारी

जानिए कैसे डाउनलोड करें नवोदय विद्यालय  कक्षा 6 की प्रवेश परीक्षा हेतु प्रवेश पत्र 


NVS Admit Card 2021, JNVST 2021 Date: मिजोरम, मेघालय और नागालैंड को छोड़कर सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में कक्षा 6 में दाखिला लेने के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा (JNVST) 2021 का आयोजन 16 मई को होगा।

    

● NVS ने जारी किए कक्षा 6 के एडमिट कार्ड।

● मई और जून में होगी JNVST 2021 परीक्षा।

● एक बार स्थगित हो चुके हैं एंट्रेस टेस्ट एग्जाम।


NVS Admit Card 2021, JNVST 2021 Date: नवोदय विद्यालय समिति (Navodaya Vidyalaya) ने कक्षा 6 में एडमिशन के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय सिलेक्शन टेस्ट (JNVST) 2021 के एंट्रेस एडमिट कार्ड जारी कर दिए हैं। जिन्होंने, JNVST 2021 के लिए रजिस्ट्रेशन किया था वे अब अपना हॉल टिकट नवोदय विद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट navodaya.gov.in से डाउनलोड कर सकते हैं। एडमिट कार्ड डाउनलोड करने के लिए डायरेक्ट लिंक नीचे दिया गया है।

कब होगी परीक्षा (JNVST 2021 Exam Date)

नवोदय विद्यालय समिति ने 16 मई 2021 को मिजोरम, मेघालय और नागालैंड को छोड़कर सभी राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के लिए कक्षा 6 में दाखिला लेने के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा (JNVST) 2021 का आयोजन करने का फैसला लिया है। जबकि मिजोरम, मेघालय, और नागालैंड राज्यों में JNVST 2021 एग्जाम 19 जून 2021 को आयोजित किया जाएगा। इससे पहले, नवोदय कक्षा 6 प्रवेश परीक्षा 10 अप्रैल को आयोजित की जाने वाली थी, लेकिन प्रशासनिक कारणों से इसे स्थगित करना पड़ा।


कैसे डाउनलोड करें JNVST Admit Card 2021

चरण 1: आधिकारिक वेबसाइट navodaya.gov.in पर जाएं।

चरण 2: होम पेज पर, फ्लैश हो रहे 'Click here to download the Admit Card for class VI JNVST 2021' लिंक पर क्लिक करें।

चरण 3: नया पेज खुल जाएगा, कैंडिडेट्स कॉर्नर में 'Download Admit Card' पर क्लिक करें।

चरण 4: नए पेज पर पहुंच जाएंगे, यहां मांगी गई जरूरी डीटेल्स जैसे रजिस्ट्रेशन नंबर जन्म तिथि आदि भरें।

चरण 5: JNVST एडमिट कार्ड खुलेगा।

चरण 6: इसे डाउनलोड करें और आगे के लिए प्रिंट आउट लेकर अपने पास रखें।


इन बातों रखें ध्यान

अगर किसी छात्र के JNVST 2021 एडमिट कार्ड में कोई गड़बड़ी या गलती है तो उसे खुद ठीक न करें। ऐसी स्थिति में एग्जामिनेशन बोर्ड से संपर्क करना चाहिए। ध्यान रहे, एग्जाम के दिन जेएनवीएसटी 6 वीं कक्षा के एडमिट कार्ड 2021 को ले जाना न भूलें, इसके बिना एग्जाम सेंटर में एंट्री नहीं दी जाएगी।