DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label पेयजल. Show all posts
Showing posts with label पेयजल. Show all posts

Thursday, July 4, 2019

फतेहपुर : जिले के 213 स्कूलों के हैंडपंप अभी भी खराब, स्कूल खुलने के तीसरे दिन भी नहीं सुधरी व्यवस्था, छात्र-छात्राओं को घरों से पानी लाने की है मजबूरी

फतेहपुर : जिले के 213 स्कूलों के हैंडपंप अभी भी खराब, स्कूल खुलने के तीसरे दिन भी नहीं सुधरी व्यवस्था, छात्र-छात्राओं को घरों से पानी लाने की है मजबूरी।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, November 2, 2018

चित्रकूट : भोजन स्कूल में, प्यास बुझाने तालाब जाते बच्चे, सालों से विद्यालय में पेयजल संकट, पांच वर्ष से शिक्षा विभाग सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित

भोजन स्कूल में, प्यास बुझाने तालाब जाते बच्चे


प्राथमिक विद्यालय गहोई पुरवा में सालों से पेयजल संकट , पांच वर्ष से शिक्षा विभाग सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित

अव्यवस्था


संवाद सहयोगी मानिकपुर (चित्रकूट) :जिले की मानिकपुर तहसील का पाठा इलाका अर्से से पेयजल संकट से जूझ रहा है। यहां एक परिषदीय स्कूल के दर्जनों नौनिहाल व शिक्षक भी इससे बेहाल हैं। क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय गहोई पुरवा में मिड डे मील स्कूल परिसर में करने के बाद प्यास बुझाने व बर्तन साफ करने के लिए बच्चों को कुछ दूर स्थित तालाब जाना पड़ता है। हैरत की बात यह है कि पांच साल से व्यवस्था देखने वाले जिम्मेदार सिर्फ चिट्ठी लिखने तक सीमित हैं। बीएसए ने बताया कि मामला संज्ञान में है। डीएम से अनुरोध करने पर जल निगम को हैंडपंप लगाने निर्देश दिए गए हैं।

मानिकपुर ब्लाक के ग्राम पंचायत चरदहा में गहोई पुरवा में तकरीबन छह साल पहले प्राथमिक विद्यालय भवन निर्माण के साथ पढ़ाई शुरू हुई थी। यहां पर शुरुआत से पेयजल का संकट था। साल दर साल बीतते गए लेकिन अब तक हालात नहीं बदले हैं। ग्रामीणों के मुताबिक विद्यालय में मिड डे मील बनाने के लिए एक किमी दूर से रसोइया पानी लाते हैं।

बच्चे अपने लिए पानी की व्यवस्था खुद करते हैं। रोजाना घरों से बोतल में पानी लेकर जाते हैं। किसी वजह से भूलने पर स्कूल के पास स्थित तालाब एक मात्र सहारा है। तकरीबन 50 बच्चे स्कूल में पंजीकृत हैं। यह प्रतिदिन भोजन करने के बाद पानी पीने, हाथ धोने व बर्तन साफ करने को तालाब जाते हैं। विद्यालय प्रधानाचार्य रणमति सिंह ने बताया कि ग्राम प्रधान समेत विभागीय अफसरों को कई बार जानकारी दी गई पर हल नहीं निकला। बीएसए प्रकाश सिंह ने बताया कि एक माह पहले जिलाधिकारी को जानकारी देकर समाधान कराने का अनुरोध किया था। जल निगम को हैंडपंप लगाने के लिए निर्देश जारी हो चुके हैं। जल्द हैंडपंप लगते ही व्यवस्था दुरुस्त हो जाएगी।

हो सकता बड़ा हादसा: बरसात में तालाब में पानी बढ़ जाता है। किनारे पर फिसल होने से किसी दिन पानी पीने या बर्तन धोते समय बच्चे तालाब में गिर सकते हैं। इससे बड़े हादसे को लेकर इन्कार नहीं किया जा सकता है। गांव के प्रधान और विभागीय अधिकारियों की अनदेखी बरकरार रही तो किसी दिन समस्या तय है। बच्चों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।तालाब में पानी पीने व बर्तन धोने पहुंचे प्राथमिक विद्यालय के बच्चे 

Tuesday, July 3, 2018

देवरिया : तीन ब्लॉकों के 100 स्कूलों में लगेंगे सोलर आरओ , डीएम के निर्देश पर बीएसए कार्यालय ने यूपी नेडा को भेजी दूषित पेयजल समस्या से जूझ रहे स्कूलों की सूची

देवरिया : तीन ब्लॉकों के 100 स्कूलों में लगेंगे सोलर आरओ , डीएम के निर्देश पर बीएसए कार्यालय ने यूपी नेडा को भेजी दूषित पेयजल समस्या से जूझ रहे स्कूलों की सूची

Monday, February 19, 2018

फतेहपुर : आंकड़ों से अलग है हकीकत, तमाम भर्तियों के बाद भी शिक्षकों की है कमी, मूलभूत सुविधाओं के लिए भी जूझ रहे स्कूल

फतेहपुर : आंकड़ों से अलग है हकीकत, तमाम भर्तियों के बाद भी शिक्षकों की है कमी, मूलभूत सुविधाओं के लिए भी जूझ रहे स्कूल।


Wednesday, November 8, 2017

सभी जीजीआइसी में 30 नवंबर तक लगाएं आरओ मशीन, कोर्ट ने पांच दिसंबर को प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा से मांगी कार्यवाही रिपोर्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश के सभी राजकीय बालिका इंटर कालेज (जीजीआइसी) में 30 नवंबर तक शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए आरओ मशीन लगाने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने पांच दिसंबर को प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा से कार्यवाही रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने कहा है कि अभी तक लगे 151 आरओ का सर्वे कर उसके क्रियाशील होने और वार्षिक देखरेख का इंतजाम किया जाए।



यह आदेश न्यायमूर्ति अरुण टंडन तथा न्यायमूर्ति राजीव जोशी की खंडपीठ ने विनोद कुमार की जनहित याचिका पर दिया है। अपर महाधिवक्ता अजीत कुमार सिंह ने कोर्ट को बताया कि सरकार ने बालिका इंटर कालेजों में आरओ मशीन लगाने के लिए लगभग डेढ़ करोड़ रुपये की स्वीकृति दी है। शिक्षा निदेशक के अनुमोदन से जिला विद्यालय निरीक्षक को आरओ मशीन स्थानीय स्तर पर खरीद के लिए अधिकृत किया गया है। बताया कि प्रदेश में 361 राजकीय बालिका इंटर कॉलेज हैं जिसमें से 151 स्कूलों में मशीन लगा दी गई है। शेष 210 कॉलेजों में शीघ्र ही मशीन लगा दी जाएगी। याचिका पर अधिवक्ता कामेंदर सिंह ने बहस की। 1याचिका में सभी राजकीय बालिका इंटर कालेज में शौचालय, विद्युत आपूर्ति व शुद्ध पेयजल मुहैया कराने की मांग की गई है। कोर्ट में अपर मुख्य सचिव ने हलफनामा दाखिल कर अब तक उठाए गए कदम की जानकारी दी। कोर्ट ने कार्ययोजना तैयार कर आदेश का अनुपालन कर पांच दिसंबर को हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है।’>>प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा से पांच दिसंबर को कार्यवाही रिपोर्ट तलब1’>>सरकार की तरफ से रखा गया पक्ष 151 विद्यालयों में लग चुकी है मशीन

Tuesday, August 29, 2017

महराजगंज : बीएसए ने जलजमाव वाले विद्यालयों के पेयजल में क्लोरीन और प्रांगण में ब्लीचिंग पाउडर का प्रयोग करने का दिया निर्देश

महराजगंज : जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश प्रसाद शुक्ल ने परिषदीय व कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में शिक्षक-शिक्षिकाओं को निर्देशित किया है वे उन विद्यालयों में ब्लीचिंग व क्लोरीन का प्रयोग करें जहां जलजमाव हो गया था। उन्होंने कहा कि जिन विद्यालयों में जलजमाव हुआ था , उनमें स्थापित इंडिया मार्का हैंडपंप में पानी की शुद्धता के लिए क्लोरीन की गोली का प्रयोग किया जाए। साथ ही परिसर में ब्लीचिंग पाउडर का भी छिड़काव सुनिश्चित कराया जाए। क्लोरीन की गोली का प्रयोग नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक के परामर्श के अनुसार किया जाए।