DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label पॉलीटेक्निक. Show all posts
Showing posts with label पॉलीटेक्निक. Show all posts

Wednesday, August 12, 2020

पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा में कोविड प्रोटोकॉल का रखा जाएगा ध्यान, अधिक टेंप्रेचर वाले अभ्यर्थियों के लिए होगी अलग व्यवस्था

पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा में कोविड प्रोटोकॉल का रखा जाएगा ध्यान, अधिक टेंप्रेचर वाले अभ्यर्थियों के लिए होगी अलग व्यवस्था।

लखनऊ :  कोरोना संक्रमण के चलते अप्रैल से टल रही पॉलीटेक्निक की प्रवेश परीक्षा पुख्ता सुरक्षा बंदोबस्त के बीच 12 और 15 सितंबर को कराई जाएगी। करीब पौने चार लाख विद्यार्थियों के लिए राजधानी समेत प्रदेश के सभी जिलों में परीक्षा होगी। परीक्षा के दौरान कोरोना संक्रमण से सुरक्षा के लिए सभी अभ्यर्थियों से मास्क लगाने और सैनिटाइजर की छोटी बॉटल साथ में लेकर आने की गुजारिश की गई है। सभी केंद्रों पर भी इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। यही नहीं सभी परीक्षार्थियों का थर्मल स्कैनर से तापमान चेक किया जाएगा। 100 से ऊपर के अभ्यर्थियों को अगल कमरे में बैठाया जाएगा। शारीरिक दूरी का सख्ती से पालन किया जाएगा। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद केे सचिव एसके वैश्य ने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए बनाए गए सभी सरकारी मानकों का पालन कराया जाएगा। अधिक टेंप्रेचर होने पर अभ्यर्थियों को अलग कमरे में बैठाने की व्यवस्था होगी।


परीक्षा के एक सप्ताह पहले से डाउन लोड होंगे प्रवेश पत्र

प्रवेश परीक्षा तिथि से एक सप्ताह पहले संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की वेबसाइट jeecup.nic.in से प्रवेश पत्र डाउन लोड किया जा सकेगा। अभ्यर्थी अपने कोड के साथ प्रवेश पत्र डाउन लोड कर सकते हैं। प्रदेश में 142 राजकीय, 18 सहायता प्राप्त समेत 633 निजी पॉलीटेक्निक में करीब पौने दो लाख सीटों पर प्रवेश होगा।


इंजीनियरिंग और फार्मेसी होगी (ऑफलाइन)

12 सितंबर-इंजीनियरिंग ए ग्रुप - सुबह 9 से 12 फार्मेसी ई ग्रुप - दोपहर 2:30 से 5:30

अन्य ग्रुप और लेटरल एंट्री (ऑनलाइन)

15 सितंबर-अन्य ग्रुप (बी,सी, डी, एफ,जी, एच, आई)- सुबह 9 से 12 लेटरल एंट्री के ग्रुप (1 से 8 तक) - दोपहर 2:30 से 5:30


पॉलीटेक्निक शिक्षकों को वेतन के लाले

कोरोना संकट के चलते पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा नहीं हो सकी। इसी वजह से फीस भी जमा नहीं हुई। फीस से ही सहायता प्राप्त पॉलीटेक्निक संस्थानों के शिक्षकों और कर्मचारियों का वेतन निकलता है। अप्रैल में प्रवेश परीक्षा के साथ ही 20 जून से काउंसिलिंग केे साथ फीस जमा होनी शुरू हो जाती है। कोरोना संक्रमण के चलते प्रवेश परीक्षा सितंबर में होगी। अक्टूबर से काउंसिलिंग के साथ फीस जमा होगी। ऐसे में राजधानी की लखनऊ पॉलीटेक्निक और हीवेट पॉलीटेक्निक समेत प्रदेश की 18 पॉलीटेक्निक संस्थानों वेतन का संकट हो गया है। दो महीने से विद्यालय के दूसरे बजट से वेतन की व्यवस्था की गई, लेकिन अगस्त से संस्थानों के पास कोई बजट नहीं बचा है। ऐसे में उनके सामने वेतन का संकट खड़ा हो गया है। संस्थानों की अोर से निदेशक प्राविधिक शिक्षा मनोज कुमार से बजट की व्यवस्था कराने की मांग की गई है। संस्थानों की ओर से अनुदान की मांग की गई है।



........

अपने जनपद में पॉलीटेक्निक की प्रवेश परीक्षा दे सकेंगे छात्र।

लखनऊ : कोरोना संक्रमण को देखते हुए छात्र अब अपने ही जिले में पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा दे सकेंगे। पहले जो परीक्षा केंद्र निर्धारित किए गए थे, उन्हें निरस्त कर दिया गया है। पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए 12 और 15 सितंबर पंजीकरण कराया है।



संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए 3,90,894 छात्रों ने संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने बताया कि छात्रों को अब अपने जिले में ही प्रवेश परीक्षा देने की सुविधा दी जा रही है ताकि उन्हें दूरस्थ जगहों पर न भटकना पड़े। प्रवेश परीक्षा केंद्र बनाने की प्रक्रिया में राजकीय और सहायता प्राप्त पॉलिटेक्निक संस्थानों को प्राथमिकता दी जा रही है। प्रदेश में 150 राजकीय और 19 अनुदानित पॉलीटेक्निक संस्थान हैं। सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए इन केंद्रों पर काफी संख्या में छात्र प्रवेश परीक्षा में शामिल हो सकेंगे।

उन्होंने बताया कि जिला स्तर पर गठित कमेटी परीक्षा केंद्रों और छात्रों की संख्या की समीक्षा कर रही है। यदि किसी जिले में छात्र ज्यादा होंगे तो दूसरे निजी कॉलेजों में परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। इसके लिए निजी कॉलेजों से भी अनुमति पत्र मांगा जा रहा है। जिन पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन परीक्षा होगी, उनके लिए कंप्यूटर सेंटरों को परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। परीक्षा केंद्र निर्धारित होते ही एडमिट कार्ड ऑनलाइन अपलोड कर दिए जाएंगे।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, August 10, 2020

पॉलीटेक्निक के 3 लाख छात्रों की नहीं बढ़ेगी फीस, विभाग ने लिया फैसला

पॉलीटेक्निक के 3 लाख छात्रों की नहीं बढ़ेगी फीस

प्रदेश भर के राजकीय,अनुदानित और निजी पॉलीटेक्निक संस्थानों में पढ़ने वाले करीब 3 लाख छात्रों के लिए खुशखबरी है। प्राविधिक शिक्षा विभाग ने इस बार छात्रों की वार्षिक फीस नहीं बढ़ाने का फैसला लिया है।




प्राविधिक शिक्षा परिषद के सचिव संजीव सिंह ने बताया कि राजकीय पॉलीटेक्निक में छात्रों की फीस प्राविधिक शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से तय की जाती है। यह एक साल के लिए होती है। वर्तमान में यह 11326 रुपए है। वहीं, निजी संस्थानों में फीस बढ़ाने या पुनः निर्धारण करने का फैसला फीस नियमन समिति करती है। निजी संस्थानों के छात्रों को  करीब 30 हजार रुपए वार्षिक शुल्क जमा करना पड़ता है। इस बार उसमें भी किसी तरह की कोई बढ़ोतरी नहीं की है। 

फीस न बढ़ने की मांग कर रहे थे छात्र
पॉलीटेक्निक के छात्र मुहिम चलाकर सोशल मीडिया के माध्यम से लगातार मांग करते रहे हैं कि इस बार फीस न बढ़ाई जाए, क्योंकि लॉकडाउन के चलते उनके परिजनों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में फीस वृद्धि कर उन पर नया बोझ लादना सही नहीं होगा।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, July 30, 2020

पॉलीटेक्निक छात्र पिछली परीक्षाओं के अंकों के आधार पर होंगे प्रमोट

पॉलीटेक्निक छात्र पिछली परीक्षाओं के अंकों के आधार पर होंगे प्रमोट।

कानपुर। प्रदेश के पॉलीटेक्निक संस्थानों में दूसरे-चौथे वर्ष और सेमेस्टर के छात्र पिछली परीक्षाओं और असाइनमेंट के आधार पर प्रमोट किए जाएंगे। प्राविधिक शिक्षा निदेशालय द्वारा बनाई गई समिति ने छात्रों को प्रमोट करने के लिए रणनीति तैयार कर ली है। प्राविधिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि दूसरे और चौथे सेमेस्टर के छात्रों को सेशनल एग्जाम, असाइनमेंट के अंक और पिछले सेमेस्टर के 50% अंकों को कैरीओवर करते हुए प्रमोट किया जाएगा। अंतिम वर्ष, अंतिम सेमेस्टर में पढ़ रहे और विशेष बैंक पेपर देने वाले छात्र छात्राओं की परीक्षाएं सात सितंबर से 12 सितंबर के बीच होंगी।




17 अगस्त से पांच सितंबर तक पॉलिटेक्निक संस्थानों में कक्षाएं चलेंगी। बचा पाठ्यक्रम पूरा कराने के साथ दूसरे व चौथे सेमेस्टर के छात्रों सेशनल एग्जाम और असाइनमेंट का काम पूरा कराया जाएगा।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Saturday, July 25, 2020

Polytechnic Entrance Exam 2020: पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा अब 12 और 15 सितंबर को


Polytechnic Entrance Exam 2020: पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा अब 12 और 15 सितंबर को



लखनऊ : पॉलिटेक्निक का नया सत्र 2020-21 अब नवंबर में शुरू होगा। पॉलिटेक्निक में दाखिले की प्रवेश परीक्षा और कॉउंसलिंग के बाद ही सत्र की शुरुआत होगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद में नवंबर में सत्र की शुरुआत का ऐलान किया है।

प्रवेश परीक्षा परिषद सचिव एसके वैश्य के मुताबिक पॉलिटेक्निक में दाखिले की प्रक्रिया के लिए प्रवेश परीक्षा की तिथि निर्धारित हो चुकी है। आने वाले 12 सितंबर को इंजीनियरिंग व फार्मेसी की प्रवेश परीक्षा होगी। इसके बाद 15 सितंबर को भी दो चरण में ऑनलाइन परीक्षाएं करायी जानी हैं। परीक्षा के 10 दिन बाद परीक्षा परिणाम घोषित किये जायेंगे जिसके बाद कॉउंसलिंग प्रक्रिया चलेगी।


पहली बार होगी ऑनलाइन कॉउंसलिंग
एसके वैश्य के मुताबिक कॉउंसलिंग प्रक्रिया पांच चरणों मे होनी है। इसमें 30 से 35 दिन का समय चाहिए। इसके बाद नवंबर में ही सत्र शुरू हो सकेगा। एसके वैश्य ने बताया कि इस बार कॉउंसलिंग के सभी चरण ऑनलाइन माध्यम से पूरे किये जाएंगे। छात्रों को शिक्षा फीस भी ऑनलाइन माध्यम से जमा करनी होगी।

राजकीय और सहायता प्राप्त विद्यालय होंगे केंद्र
पहली बार प्रवेश परीक्षा के लिए राजकीय और सहायता प्राप्त विद्यालय को केंद्र बनाया गया है। कोरोना संक्रमण के चलते प्रत्येक कक्षा में 24 छात्र ही परीक्षा दे सकेंगे। वहीं एहतियातन प्रवेश परीक्षा केंद्रों पर सैनिटाइज़र और थर्मामीटर भी रखे जाएंगे। प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर दो कक्षाएं आरक्षित भी रखी जाएंगी।


Polytechnic Entrance Exam 2020 कोरोना के मद्देनजर बढ़ाई गई तिथि पहले 19 और 25 जुलाई को होनी थी परीक्षा ।


लखनऊ || कोरोना संक्रमण के मद्देनजर शासन ने पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा की तिथि बढ़ा दी है। अब यह परीक्षा 12 और 15 सितंबर को होगी। पहले इसकी तिथि 19 और 25 जुलाई निर्धारित की गई थी। गुरुवार को यह जानकारी संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव एसके वैश्य ने दी। दो पालियों में होगी परीक्षा दोनों तिथियों में दो पालियों में परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। परीक्षा सूबे के 75 जिलों में ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से होगी। पूरे प्रदेश से करीब चार लाख विद्यार्थियों ने इसके लिए आवेदन किया है।


लॉकडाउन से बढ़ी प्रवेश परीक्षा की तिथि

गौरतलब हैै क‍ि पहले प्रवेश परीक्षा की तिथि पांच और छह जुलाई थी, लेक‍िन लॉकडाउन और बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण परिषद को यह तिथि बढ़ानी पड़ी थी। 20 मई को जारी हुए आदेश में परिषद ने प्रवेश परीक्षा की नई तिथि 19 और 25 जुलाई निर्धारित की थी, लेक‍िन एक बाद फ‍िर परीक्षा की त‍िथ‍ियोंं में बदलाव क‍िया गया है। 


परीक्षा शेड्यूल 
ग्रुप-ए (तीन वर्षीय डिप्लोमा ऑनलाइन परीक्षा), 12 सितंबर, सुबह नौ से दोपहर 12:00 बजे तक। -
ग्रुप-ई-वन, ई-टू (डिप्लोमा इन फार्मेसी ऑफलाइन परीक्षा), 12 सितंबर, दोपहर 02:30 बजे से शाम 05:30 बजे तक।
ग्रुप-बी, सी, डी, एफ, जी, एच और आई (ऑनलाइन परीक्षा), 15 सितंबर, सुबह नौ बजे से दोपहर 12:00 बजे तक।
ग्रुप-के वन से के-आठ (ऑनलाइन परीक्षा), 15 सितंबर, दोपहर 02:30 बजे से शाम 05:30 बजे तक।  

पॉलीटेक्निक में 10 परीक्षा केंद्र डिबार, 15 को चेतावनी, देखें डिबार एवं चेतावनी मिलने वाले केंद्रों की सूची

पॉलीटेक्निक में 10 परीक्षा केंद्र डिबार, 15 को चेतावनी, देखें डिबार एवं चेतावनी मिलने वाले केंद्रों की सूची।

लखनऊ। प्राविधिक शिक्षा विभाग ने 10 परीक्षा केंद्रों पर एक साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। 15 संस्थाओं को कड़ी चेतावनी दी है। प्राविधिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई परिषद की परीक्षा समिति की बैठक में यह फैसला किया गया। बैठक में समिति द्वारा विषय सेमेस्टर परीक्षा दिसंबर, 2019 की परीक्षा की सीसीटीवी फुटेज की जांच और संबंधित संस्थाओं के स्पष्टीकरण के परीक्षण के बाद यह सहमति बनी है।




परिषद के सचिव संजीव कुमार सिंह ने बताया कि इन परीक्षा केंद्रों के केंद्र अधीक्षक व कक्ष निरीक्षकों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की सिफारिश की गई है। इनकी संबद्धता पर विचार के लिए प्रकरण संबद्धता समिति को भेजने का भी निर्णय लिया गया है। जिन संस्थाओं को चेतावनी जारी की गई है समिति उन संस्थाओं के सीसीटीवी और वायस रिकॉर्डर का फिर से परीक्षण करेगी। इसके बाद ही इन्हें दोबारा परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा।

प्राविधिक शिक्षा परिषद की परीक्षा समिति की बैठक में फैसला,
संस्थाओं की संबद्धता पर विचार के लिए संबद्धता समिति को भेजा गया प्रकरण।

ये केंद्र है डिबार : डिबार होने वाली संस्थाओं में आजाद पॉलीटेक्निक भरतीपुर पलहना आजमगढ़, मां वैष्णव मां शारदा पॉलिटेक्निक खोरमपुर बेलड आजमगढ़, इंदु प्रकाश पॉलीटेक्निक कॉलेज हलधरपुर मऊ, बाबा रामदल सूरजदेव पॉलिटेक्निक कॉलेज रसड़ा बलिया, इंदिरा गांधी कॉलेज ऑफ फार्मेसी सुमरी मऊ, ऋषि राम नरेश टेक्निकल इंस्टीट्यूट मोलनापुर मऊ, श्री सहदेव पौधारिया पॉलिटेक्निक कॉलेज रसड़ा बलिया, बाबा विश्वनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी अमनावे फूलपुर आजमगढ़, एसएनएसके इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी गाजीपुर और डॉ. विजय इस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन एंड टेक्नोलॉजी वाराणसी शामिल हैं।

इन्हें मिली चेतावनी : आजमगढ़ के रुद्रा पॉलीटेक्निक गौरा,
एमएसजी पॉलिटेक्निक कॉलेज जबलपुर खरैला, मां शारदा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालाजी गहजी, काशी चंद्रदेव यादव प्राविधिक शिक्षण संस्थान बिल्हौर सदर, बैजनाथ राम नरेश कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी और स्वामी सहजानंद पॉलिटेक्निक बिलरिया। गाजीपुर के लाला इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड रूरल टेक्नोलॉजी जखनिया, काशीनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालाजी सानंदनगर, लुटावन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल एंड मैनेजमेंट जैतपुर, काशीनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ पॉलिटेक्निक नारायणपुर, ठाकुर तेजबहादुर सिंह इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी करम, सत्य देव इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी गांधीपुरम् बोरसिया। इसी तरह बलिया के श्रीमती फुलहेरा स्मारक कॉलेज ऑफ पॉलीटेक्निक कमला और मऊ के मां भगवान कुंवर इंस्टीट्यूट ऑफ पॉलिटेक्निक शामिल हैं।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, July 20, 2020

पॉलीटेक्निक में दूसरे व चौथे सेमेस्टर के छात्र होंगे प्रमोट, पॉलीटेक्निक : पहली बार मिलेगा ग्रेड सुधारने का मौका

पॉलीटेक्निक में दूसरे व चौथे सेमेस्टर के छात्र होंगे प्रमोट


पॉलीटेक्निक : सवा दो लाख छात्र प्रमोट किए जाएंगे


पॉलीटेक्निक : पहली बार मिलेगा ग्रेड सुधारने का मौका

पॉलीटेक्निक से जुड़े सवा दो लाख छात्र इस बार प्रमोट किये जायेंगे। इसमें इंजीनियरिंग के दूसरे व तीसरे सेमेस्टर एवं फार्मेसी के प्रथम वर्ष के छात्र शामिल हैं। इनकी परीक्षाएं नहीं होंगी। कोरोना के चलते प्राविधिक शिक्षा परिषद ने यह फैसला लिया है। इंजीनियरिंग के अंतिम सेमेस्टर और फार्मेसी के दूसरे वर्ष के कुल 67,580 छात्रों की परीक्षाएं होंगी। इनकी परीक्षाएं सितंबर में प्रस्तावित हैं


प्रदेश भर के पॉलीटेक्निक संस्थानों में छात्रों के प्रमोट होने या परीक्षा कराए जाने को लेकर चल रही ऊहापोह खत्म हो गई। कोरोना काल में अंतिम सेमेस्टर और वर्ष के छात्र-छात्राओं को परीक्षा देनी होगी जबकि दूसरे और चौथे सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को प्रमोट किया जाएगा। विशेष सचिव ने इस बारे में निर्देश जारी कर दिए हैं।


प्राविधिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि परीक्षा, प्रमोट करने और कक्षाओं को लेकर असमंजस दूर हो गया है। कक्षाएं चलाकर पाठ्यक्रम पूरा कराने, उसके बाद छात्रों की परीक्षाएं और असाइनमेंट आदि जमा कराने के निर्देश दिए हैं। उनके मुताबिक 17 अगस्त से पांच सितंबर तक कक्षाएं चलाकर पाठ्यक्रम पूरा कराने की बात कही गई है। अंतिम वर्ष और सेमेस्टर की परीक्षाओं को सात सितंबर से 12 सितंबर के मध्य कराने की तैयारी है।

31 जुलाई तक जमा करना होगा प्रोजेक्ट

निदेशक ने बताया कि सभी सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को 31 जुलाई तक ऑनलाइन प्रोजेक्ट पूरा करना होगा। दूसरे, चौथे और अंतिम सेमेस्टर/वर्ष की प्रायोगिक परीक्षाओं को एक सितंबर से पांच सितंबर तक पूरा कराया जाना है। दूसरे और चौथे सेमेस्टर के छात्रों के लिए 17 अगस्त से पांच सितंबर के बीच सेशनल परीक्षा और असाइनमेंट का आंतरिक मूल्याकंन कराने की बात कही गई है,


पहले और तीसरे सेमेस्टर के रिजल्ट के 50 प्रतिशत अंकों को कैरीओवर करते हुए सभी विषयों में पास कर अगले सेमेस्टर प्रमोट किया जाएगा। नया दाखिला पाने वाले पहले सेमेस्टर के छात्रों का एक सितंबर और प्रमोट होकर अगले सेमेस्टर (तीसरे और पांचवें) में जाने वाले छात्र-छात्राओं का शैक्षणिक सत्र 15 सितंबर से शुरू होगा।


पॉलीटेक्निक के छात्रों को ग्रेड सुधारने के लिए एक मौका देने की पहल की जा रही है। इसके लिए निदेशालय स्तर पर प्रस्ताव बनाया जा रहा है। प्राविधिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने बताया कि कई बार मेधावी छात्र किसी कारणवश परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं। इसका असर उनके डिप्लोमा पर पड़ता है। इसलिए प्रस्ताव बनाया गया है। जो छात्र अपने ग्रेड से संतुष्ट नहीं हैं, वे अगले सत्र के अंत में परीक्षा में भाग लेकर इसे सधार सकते हैं। बता दें कि विश्वविद्यालयों में छ तरह ग्रेड सुधारने के नियम लागू हैं। पॉलीटेक्निक संस्थानों के लिए यह पहला मौका होगा। साथ ही पॉलीटेक्निक अंतिम वर्ष के छात्रों को छोड़कर अन्य छात्रों को प्रमोट करने के लिए मानक तय करने के लिए सात सदस्यीय कमेटी बनाई गई है।