DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label प्रशिक्षण. Show all posts
Showing posts with label प्रशिक्षण. Show all posts

Monday, May 10, 2021

न प्रशिक्षण, न सुरक्षा : कोविड सेंटरों पर शिक्षकों की ड्यूटी पर उठाए सवाल

न प्रशिक्षण, न सुरक्षा : कोविड सेंटरों पर शिक्षकों की ड्यूटी पर उठाए सवाल


सहारनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व एमएलसी हेम सिंह पुंडीर ने मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री एवम अपर सचिव माध्यमिक शिक्षा को पत्र भेजकर कोविड सेंटरों पर शिक्षकों की ड्यूटी न लगाने की मांग की है।

मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री एवम अपर सचिव को भेजे पत्र में हेम सिंह पुंडीर ने कहा कि शिक्षकों को न तो कोरोना से लड़ने का कोई प्रशिक्षण ही है और न ही उनकी सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम ही हैं अतः उनकी कोविड केंद्रों पर ड्यूटी लगाने का अर्थ उन्हें मौत के मुह में धकेलना होगा।


 हेम सिंह पुंडीर ने पत्र में कहा कि चुनाव व मतगणना की ड्यूटी के बाद 2000 से अधिक शिक्षक व कर्मचारी मौत का शिकार हो चुके हैं तथा इस प्रकार की ड्यूटी से शिक्षकों के मानवाधिकारों का न सिर्फ हनन हो रहा है वरन! उनकी जान खतरे में पड़ गई है।

Tuesday, April 27, 2021

बहराइच : शिक्षक संगठन का बड़ा आरोप, चुनाव प्रशिक्षण में लापरवाही के कारण कार्मिक हुए कोरोना संक्रमित

बहराइच : शिक्षक संगठन का बड़ा आरोप, चुनाव प्रशिक्षण में लापरवाही के कारण कार्मिक हुए कोरोना संक्रमित।



बहराइच। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने कार्मिकों के प्रशिक्षण के दौरान जिला प्रशासन की ओर से लापरवाही बरतने व उसके कारण शिक्षकों के कोरोना संक्रमित होने का गंभीर आरोप लगाया है।

शिक्षक संघ की ओर से डीएम को भेजे गए पत्र में आरोप लगाया गया कि प्रशिक्षण के दौरान 4-4 शिक्षकों को 6 फुट की एक ही बेंच पर बिठाया गया । इसके साथ ही इसके पीछे लगी बेंच को को भी बस 1 फुट की दूरी पर रखा गया । 


यही नहीं प्रशिक्षण की निगरानी आला अधिकारी करते रहे, लेकिन किसी ने भी सोशल डिस्टेंसिंग के पालन पर ध्यान नहीं दिया। जिसके चलते कई जिले के सैकड़ों शिक्षक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। यही नहीं कई ऐसे शिक्षक भी है ।

Sunday, April 25, 2021

शिक्षक सीखेंगे डिजिटल तकनीक, सीबीएसई आईबीएम के सहयोग से करेगा प्रशिक्षित

Teachers CBSE  IBM digital
शिक्षक सीखेंगे डिजिटल तकनीक, सीबीएसई आईबीएम के सहयोग से करेगा प्रशिक्षित

देशभर से 200 कंप्यूटर साइंस शिक्षक, आईटी शिक्षक व एआई पढ़ाने वाले किए जाएंगे प्रशिक्षित


केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने डिजिटल तकनीक के महत्व को समझते हुए शिक्षकों को ट्रेंड करने की दिशा में कदम बढ़ाया है। सीबीएसई आईबीएम के सहयोग से देशभर के 200 कंप्यूटर साइंस, आईटी व एआई(आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस) पढ़ाने वाले शिक्षकों को प्रशिक्षित करने जा रहा है। द ग्लोबल टीचर्स अकादमी फॉर डिजिटल टेक्नॉलाजी सीबीएसई की एक पहल है। इसका उदेश्य एआई शिक्षकों व मेंटर का एक ऐसा समूह बनाना है जो कि स्कूलों में एआई शिक्षा को बढ़ा सकते हैं। 



बोर्ड का मानना है कि यह शिक्षक स्कूली छात्रों के बीच 21वीं सदी की तकनीकों का प्रसार करेंगे। इसके लिए शिक्षकों को 26 अप्रैल से 25 मई तक ऑनलाइन प्रशिक्षित किया जाएगा। यह ट्रेंड शिक्षक सीबीएसई व आईबीएम के सहयोग से अगले छ: माह में दस हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे। यह शिक्षक छात्रों को उनकेएआई प्रोजेक्ट्स में भी मदद करेंगे। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में लाइव सेशन, हैंड्स ऑन सेशन आयोजित किए जाएंगे। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में शिक्षकों को वैश्विक स्तर की काफी तकनीकों को सीखने व समझने का मौका मिलेगा। जिनका इस्तेमाल वह शिक्षण में भी कर सकेंगे। 


कार्यक्रम को पूरा करने वाले शिक्षकों को आईबीएम प्रोफेशनल बैज प्रदान किया जाएगा। इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने के लिए बोर्ड ने किसी प्रकार की फीस नहीं रखी है। आप यह खबर प्राइमरी का मास्टर डॉट इन पर पढ़ रहे हैं।  हिस्सा लेने के लिए बोर्ड ने एक लिंक उपलब्ध कराया है, जिसके माध्यम से शिक्षक 25 अप्रैल से पहले पंजीकृत हो सकते हैं। 

Saturday, April 17, 2021

ऑफलाइन प्रशिक्षण पर फिर लगी रोक

ऑफलाइन प्रशिक्षण पर फिर लगी रोक



प्रयागराज : बेसिक शिक्षा विभाग ने ऑफलाइन प्रशिक्षण अगले आदेश तक बंद कर दिए हैं। शिक्षक संकुल और बीआरसी पर प्रधानाध्यापकों की विभागीय बैठकें भी ऑनलाइन कराई जाएंगी।



स्कूल शिक्षा महानिदेशक की तरफ से जारी निर्देश में कहा कि बैठक जूम एप या फिर वीडियो कालिग करेंगेा। यदि ऑनलाइन बैठकें नहीं हों तो लोगों की संख्या बहुत सीमित रखी जाएगी।

Friday, April 16, 2021

हर जिले में 10 प्राथमिक स्कूल और 40 माध्यमिक स्कूलों को आपदा प्रबंधन हेतु किया जाना है प्रशिक्षित

हर जिले में 10 प्राथमिक स्कूल और 40 माध्यमिक स्कूलों को आपदा  प्रबंधन हेतु किया जाना है प्रशिक्षित


लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षकों और छात्रों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन के लिए टाइम्स सेंटर ऑफ लर्निंग (टीसीएलएल ) की नियुक्ति की है। इस कार्यक्रम के तहत उत्तर प्रदेश के 75 जिलों के 3750 स्कूलों में प्रशिक्षण और मॉक ड्रिल संचालित किया जाएगा। हर जिले में 50 स्कूलों को प्रशिक्षित किया जाना है जिसमें 10 प्राथमिक स्कूल और 40 माध्यमिक स्कूल शामिल हैं।


हर स्कूल के प्रधानाचार्य अपने-अपने स्कूलों में शिक्षकों की संख्या तय करेंगे। शिक्षकों के साथ-साथ विभिन्न कक्षाओं के 50 छात्र प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेंगे। इस कार्यक्रम के माध्यम से टीसीएलएल द्वारा 187500 शिक्षकों और छात्रों को प्रशिक्षित किया जाएगा। टीसीएलएल एनडीएमए / एनडीआईएम और एसडीएमए के दिशानिर्देशों के अनुसार स्कूली निर्देश और नियमावली का भी एक मसौदा तैयार करेगा। टीसीएलएल प्राथमिक और माध्यमिक छात्रों के लिए एक अलग प्रशिक्षण मैनुअल का मसौदा भी तैयार करेगा और भाग लेने वाले हर छात्र को इसकी एक कॉपी दी जाएगी। 


उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष, लेफ्टिनेंट जनरल आर. पी. शाही (एवीएसएम) ने कहा कि किसी आपदा के परिणामों को कम करने की प्रभावी योजना 'सभी खतरनाक हैं' के दृष्टिकोण और सभी संभावित सम्मिलित लोगों के साथ संयुक्त परामर्श से निकलेगी। पहले से योजना बनाकर और जितनी हो सके उतनी स्वास्थ्य और सुरक्षा परिवर्तनीयाताओं की प्रत्याशा में स्कूल यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि संकट के दिन निर्णय न केवल त्वरित और प्रभावकारी ढंग से लिए जाएँ, बल्कि वे सही भी हों और आपदा के लिए पूर्व योजना पर व्यतीत समय से स्वतः प्रतिक्रिया आनी चाहिए, ताकि जब कोई घटना घटित हो तब स्कूल उसे रोकने और नियंत्रित करने में बेहतर रूप से सक्षम हो सके। हमें विश्वास है कि टाइम्स सेंटर ऑफ लर्निंग हमारी प्रशिक्षण पहल में मदद करने में सक्षम होगा।


 टाइम्स प्रोफेशनल लर्निंग के सीईओ अनीश श्रीकृष्ण ने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा कि, हमारा कोर्स आपदा स्थितियों में योजना के तरीकों, तैयारियों और आघात के रोगियों का प्रबंधन सिखाता है। व्याख्यान और इंटरैक्टिव परिदृश्यों के माध्यम से छात्रों और शिक्षकों को घटना कमांड शब्दावली, आपदा के सिद्धांत, चोट के पैटर्न और समर्थन के लिए संपत्ति की उपलब्धता के बारे में पता चलता है। टाइम्स सेंटर ऑफ लर्निंग ने एनडीएमए / एनडीआईएम और एसडीएमए के दिशानिर्देशों के अनुसार पाठ्यक्रम को सावधानीपूर्वक तैयार किया है ।

Tuesday, April 6, 2021

विभागीय ऑफलाइन ट्रेनिंग बनी करोना कैरियर, सीतापुर के बेहटा विकासखंड में ऑफलाइन ट्रेनिंग के सभी सन्दर्भदाता निकले कोरोना पॉजिटिव, 60 कार्मिको की जांच का हुआ आदेश।

विभागीय ऑफलाइन ट्रेनिंग बनी करोना कैरियर, सीतापुर के बेहटा विकासखंड में ऑफलाइन ट्रेनिंग के सभी सन्दर्भदाता निकले कोरोना पॉजिटिव। 

●  बेहटा कार्यरत 240 कार्मिक संदेह के घेरे में।

●  60 कार्मिको की जांच का हुआ आदेश।


Sunday, April 4, 2021

प्रशिक्षणों में उलझ कर रह गए परिषदीय शिक्षक, संख्या अधिक होने से सबक जा रहे भूल

प्रशिक्षणों में उलझ कर रह गए परिषदीय शिक्षक, संख्या अधिक होने से सबक जा रहे भूल


कानपुर। पिछले कई माह में परिषदीय शिक्षकों को इतनी अधिक ट्रेनिंग दे दी गई हैं कि अब शिक्षण के दौरान इनकों लागू करना एवं इनके सबक को याद रखना शिक्षकों के लिए काफी मुश्किल होने लगा है। नाम न छापने की शर्त पर शिक्षकों ने बताया कि इतने अधिक ऑनलाइन व ऑफलाइन प्रशिक्षण सत्रों का लगातार जारी रखना समझ से परे है प्रशिक्षण से हासिल किये गये सबक को कक्षा में कैसे लागू किया जाये अब इसकी चुनौती है। बेसिक शिक्षा विभाग ने पिछले वर्ष मार्च में निष्ठा नामक पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरूआत की थी। बीआरसी में आयोजित हुये इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान ही कोरोना वायरस के प्रसार के चलते प्रशिक्षण कार्यक्रम स्थगित हो गया।


इसके बाद विभाग ने इस प्रशिक्षण को ऑनलाइन मोड में करते हुये 18 माड्यूल पर आधारित कर दिया। प्रत्येक माड्यूल तीन से चार घंटे का था। निर्धारित समय में इन 18 माड्यूल की ऑनलाइन ट्रेनिंग करने के बाद शिक्षकों को अन्य 25 ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रमों को पूरा करने का दायित्व सौंपा गया। प्रत्येक प्रशिक्षण कार्यक्रम को पूरा करने के लिए समय भी नियत किया गया। लगभग हर हफ्ते दो प्रशिक्षण पूरा करने का लक्ष्य दिया गया।


 कुछ महीनों में ही दर्जनों प्रशिक्षण कार्यक्रम ज्वाइन करने के बाद शिवाकों ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है कि आखिर इन प्रशिक्षणों से सीखे गये सबक को शिक्षण प्रक्रिया में लागू तो करने दिया जाये विभाग ने विद्यालय नेतृत्व व समेकित शिक्षा समेत अन्य ऑफलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किये हैं। आगामी 31 मार्च तक इन ट्रेनिंग सत्रों को पूरा करने की अवधि निर्धारित की गई है। अब इसे 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया गया है। 


विभाग ने ऑनलाइन ट्रेनिंग के अलावा नियमित अंतराल पर यू-ट्यूब सत्रों का भी आयोजन कर शिक्षकों को सेशन पूरे कराये गये। मार्च आते ही ऑफलाइन ट्रेनिंग का दौर भी जारी हुआ। कई ब्लॉकों में आधारशिला क्रियान्वयन, प्रिंट रिच व समृद्ध माड्यूल तथा एनसीईआरटी आधारित प्रशिक्षण सत्रों का भी दौर जारी था लेकिन होली अवकाश के चलते फिलहाल इन प्रशिक्षणों को स्थगित कर दिया गया है।

Saturday, April 3, 2021

पंचायत निर्वाचन, उत्तर प्रदेश की चुनावी ड्यूटी हेतु मददगार निर्देशिका : करें डाउनलोड

पंचायत चुनाव संबंधी प्रश्नोत्तरी के जरिये करिये अपना ज्ञानवर्धन, करें पुस्तिका डाउनलोड

पंचायत चुनाव संबंधी प्रश्नोत्तरी के जरिये करिये अपना ज्ञानवर्धन, करें पुस्तिका डाउनलोड।