DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label बेसिक शिक्षा. Show all posts
Showing posts with label बेसिक शिक्षा. Show all posts

Saturday, March 6, 2021

बेसिक शिक्षा विभाग : अनियमितता में तीन सस्पेंड, एक को हटाया गया

बेसिक शिक्षा विभाग : अनियमितता में तीन सस्पेंड, एक को हटाया गया

बेसिक शिक्षा परिषद  के उप सचिव अनिल कुमार को निलंबित, बीएसए रहने के दौरान गड़बड़ियों पर फसें

 
फर्रुखाबाद में जिला बेसिक शिक्षा के पद पर तैनात रहने के दौरान सहायक अध्यापकों के चयन में बरती गईं गंभीर अनियमितताओं के लिए शासन ने सचिव, बेसिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज कार्यालय के उप सचिव अनिल कुमार को निलंबित कर दिया है।

कड़ें फैसलों के क्रम में जहां एक ओर पूर्व बेसिक शिक्षा परिषद सचिव रहे संजय सिन्हा पर निलबंन की गिरी गाज, वहीं कई अन्य शिक्षा अधिकारियों पर भी चली तलवार

फर्रुखाबाद के तत्कालीन बीएसए अनिल कुमार को सहायक अध्यापकों के चयन में की गई अनियमितता के आरोप में निलंबित किया गया है। अनिल वर्तमान में बेसिक शिक्षा परिषद के उप सचिव पद पर कार्यरत हैं। 





इसके अलाबा शासन के आदेशों का पालन न करने और प्रकरणों को अनावश्यक विलंब करने के आरोप में परिषद के शिक्षा निरीक्षण अनुभाग के पटल सहायक श्रवण श्रीवास्तव को निलंबित किया है।

Wednesday, March 3, 2021

परिषदीय शिक्षकों की गोपनीय आख्या में मनमाने पैरामीटर्स पर सरकार का घेरा, विधानसभा में उठी शासनादेश निरस्त करने की मांग

परिषदीय शिक्षकों की गोपनीय आख्या में मनमाने पैरामीटर्स पर सरकार का घेरा, विधानसभा में उठी शासनादेश निरस्त करने की मांग


परिषदीय शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्मावकाश में, छात्र और शिक्षक अनुपात होगा समायोजन का आधार

पदोन्‍नति पर ब्रेक से जूनियर विद्यालयों में रिक्त पद अधिक, जल्द पदोन्नति प्रक्रिया शुरू कराने का होगा प्रयास


परिषदीय शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्मावकाश में, स्कूलों में कायम होगा छात्र और शिक्षक अनुपात


सरकार का दावा, प्रदेश में एक भी परिषदीय विद्यालय शिक्षकविहीन नहीं


लखनऊ। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों का जिले के अंदर समायोजन ग्रीष्मावकाश के दौरान किया जाएगा। जिन स्कूलों में शिक्षकों की संख्या अनुपात से अधिक है वहां के अतिरिक्त शिक्षकों को दूसरे विद्यालयों में तैनात किया जाएगा। यह जानकारी मंगलवार को बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने विधानसभा में दी। 


उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में एक भी परिषदीय विद्यालय शिक्षकविहीन नहीं है। द्विवेदी बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी के प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पदों को लेकर उठाए गए सवाल का जवाब दे रहे थे। तिवारी ने कहा कि कई विद्यालयों में एक शिक्षक तो कहां शिक्षामित्र या अनुदेशक से संचालन कराया जा रहा है। इस पर मंत्री ने कहा कि शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्राथमिक स्कूलों के लिए 30 विद्यार्थियों पर एक शिक्षक (1:30) की तैनाती का प्रावधान है। लेकिन प्रदेश में यह औसत 1:36 का है। 


बेसिक शिक्षा मंत्री जी ने कहा-  बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च प्राथमिक विद्यालयों के लिए 1:35 के अनुपात का प्रावधान है, लेकिन प्रदेश में यह 1: 53 है। 


उन्होंने कहा कि सहायक अध्यापकों की पदोन्‍नति पर उच्च न्यायालय की रोक होने के कारण उच्च प्राथमिक विद्यालयों में रिक्त पद अधिक हैं। सरकार कोर्ट से मामले का निस्तारण कराने के लिए प्रयासरत है। 

Monday, March 1, 2021

आज से लौटेगी स्कूलों में रौनक : बच्चों के स्वागत की पूरी तैयारी, परिषदीय स्कूलों में 1 से 5 की कक्षाओं में पठन-पाठन शुरू होगा

आज से लौटेगी स्कूलों में रौनक बच्चों के स्वागत की पूरी तैयारी

मुख्यमंत्री के निर्देश पर परिषदीय स्कूलों में 1 से 5 की कक्षाओं में पठन-पाठन शुरू होगा


लखनऊ। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कारण करीब एक साल से बंद कक्षा 1 से 5 तक के स्कूलों में सोमवार को रौनक लौट आएगी। परिषदीय स्कूलों को कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए बच्चों के स्वागत के लिए सजाया गया है। विभाग ने स्कूलों में कक्षा 1 से 5 तक की कक्षाओं के संचालन के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं। कोरोना संक्रमण के कारण एक साल बाद खुलने  जा रहे हैं।


मार्च 2020 के दूसरे सप्ताह से परिषदीय स्कूलों का संचालन बंद कर दिया गया था। बेसिक शिक्षा विभाग ने 10 फरवरी 2021 से परिषदीय स्कूलों में कक्षा 6 से 8 तक की कक्षाओं का संचालन शुरू किया है। मुख्यमंत्री के निर्देश के तहत एक मार्च से परिषदीय स्कूलों में कक्षा 1 से 5 की कक्षाओं में पठन-पाठन शुरू किया जाएगा। विभाग ने एक साल बाद सोमवार को स्कूल पहुंचने पर बच्चों का भव्य स्वागत करने और विद्यालय में उत्सव का वातावरण सृजित करने के निर्देश दिए हैं। शनिवार और रविवार को शिक्षकों ने गांव-गांव में मुनादी कर बच्चों और अभिभावकों को स्कूल खुलने की सूचना दी। वहीं सोशल मीडिया केजरिये भी अभिभावकों को बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित किया गया। 

विद्यालयों को गुब्बारों, झंड़ियों, रंगोली से सजाया गया है। सोमवार को स्कूल पहुंचने पर टीका लगाकर बच्चों का स्वागत किया जाएगा। बच्चों की विद्यालय में रुचि पैदा करने के लिए खेल के आयोजन किए जाएंगे और बच्चों को मिड डे मील में उनकी पसंद का भोजन और नाश्ता दिया जाएगा। बच्चों से मिट्टी के खिलौने बनाने, उनकी पेंटिंग करना, पेपर क्राफ्ट की मदद की आकृतियां बनाना सिखाया जाएगा शिक्षकों को विद्यालय में बच्चों को साथ दोस्ताना व्यवहार करने के निर्देश दिए हैं।

Monday, February 22, 2021

जनपद के भीतर जल्द होगा शिक्षकों का स्थानांतरण, नगर क्षेत्र व ग्रामीण क्षेत्र का भी अंतर होगा समाप्त

जनपद के भीतर जल्द होगा शिक्षकों का स्थानांतरण, नगर क्षेत्र व ग्रामीण क्षेत्र का भी अंतर होगा समाप्त।


■ - कुशीनगर आए बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी जानकारी

■ - प्रदेश के 1194 जर्जर विद्यालयों के भवन ध्वस्त कराकर नया निर्माण होगा

■ - 400 करोड़ की लागत से उच्च प्राथमिक विद्यालयों में बनेंगे स्मार्ट क्लास


कसया (कुशीनगर)। बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में शिक्षकों के अंतर जनपदीय तबादले के बाद ग्रीष्मावकाश में जनपद के भीतर समायोजन किया जाएगा। प्रदेश के 1194 विद्यालयों के जर्जर भवन को ध्वस्त कराकर उनकी जगह नए भवन बनाए जाएंगे। इसके अलावा 400 करोड़ रुपये खर्चकर उच्च प्राथमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लास की स्थापना होगी।


ये बातें शनिवार को प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने कही। वे कुशीनगर स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। अपने व्यक्तिगत कार्य से आए मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अंतर जनपदीय स्थानांतरण के चलते स्कूलों में शिक्षक-अनुपात बिगड़ गया है। ग्रीष्मावकाश में अब जनपद के भीतर शिक्षक-अनुपात ठीक करने के लिए शिक्षकों का तबादला होगा। 


इसके लिए शिक्षकों से आवदेन लिए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अगले शैक्षणिक सत्र से कोई विद्यालय शिक्षक विहीन नहीं होगा। बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि अब नगर और देहात के अंतर को खत्म किया जाएगा। उन्होंने कुशीनगर में हुए विकास कार्यों पर खुशी जताते हुए कहा कि महापरिनिर्वाण स्थली कुशीनगर अब पहले से अधिक सुंदर दिख रही है।

प्राइमरी स्कूल खुलने पर टीका लगाकर बच्चों का होगा स्कूलों में स्वागत, सजाए जाएंगे परिषदीय स्कूल

प्राइमरी स्कूल खुलने पर टीका लगाकर बच्चों का होगा स्कूलों में स्वागत, सजाए जाएंगे परिषदीय स्कूल


कोरोना काल में करीब एक साल बाद खुल रहे कक्षा एक से पांचवीं तक के स्कूलों को बच्चों के स्वागत के लिए सजाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूलों में गुब्बारों, झालरों और अन्य सजावटी सामान से सजाने और बच्चों के लिए शौचालय व पीने के पानी के उचित प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं।


प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश में कक्षा एक से पांचवीं तक के विद्यालय एक मार्च से संचालित होंगे। कोरोना काल में एक साल बाद स्कूल आने वाले बच्चों को अच्छा माहौल देने के लिए स्कूलों को सजाया जाएगा। बेसिक शिक्षा विभाग ने स्कूलों में सजावट की तैयारियां शुरू की है।  बच्चों के स्वागत के लिए स्कूल की कक्षाओं व गेट को रंगीन गुब्बारों, फूलों व रंग बिरंगी झालरों से सजाया जाएगा।  टीका लगाकर बच्चों का स्कूल में स्वागत किया जाएगा।


स्कूलों में बच्चों के पीने के पानी के लिए पेयजल की उचित व्यवस्था की जाएगी। जानकारों की मानें तो शिक्षकों को कंपोजिट ग्रांट से रनिंग वाटर की व्यवस्था करना होगी। इसके अलावा लड़कियों के लिए शौचालय की अलग व्यवस्था की जाएगी। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता  ने बताया कि ऑपरेशन कायाकल्प के तहत स्कूलों का कायाकल्प किया जा रहा है। स्कूल भवनों व कक्षाओं की दीवारों को आकर्षक पेटिंग, स्लोगन  से सजाया गया है। स्कूलों को स्मार्ट क्लास व लाइब्रेरी से लैस किया गया है। अकेले लखनऊ के 1642 स्कूलों से करीब 100 स्कूल में स्मार्ट क्लास बनाए गए हैं।